मेहनत की कमाई

22 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (297 बार पढ़ा जा चुका है)



मेहनत की कमाई


एक सेठ थे। उनकी कोठी के बाहर सड़क के किनारे एक मोची बैठता था जो जूते मरम्मत करने के दौरान बीच -बीच में भजन या कोई गीत गुनगुनाता रहता था, लेकिन सेठ जी का ध्यान कभी मोची के गानों पर नहीं गया। एक बार सेठ जी बीमार पड़ गए। बिस्तर पकड़ लिया । घर में अकेले पड़े थे तो उन्हें मोची के भजन सुनाई पड़े। भजन सुनते -सुनते उनका मन अपने रोग की तरफ से हटकर मोची के गाने की तरफ चला गया। इससे सेठ जी को बहुत आराम मिला। उन्हें महसूस हुआ कि उनका दर्द कम हो गया है।

एक दिन उन्होंने मोची को बुलाकर कहा, 'भाई तुम तो बहुत अच्छा गाते हो।' मेरा रोग बड़े-बड़े डॉक्टरो से ठीक नहीं हो रहा था,लेकिन तुम्हारा भजन सुनकर ठीक होने लगा है। उन्होंने मोची को पचास रूपये दिए। रूपये पाकर मोची बहुत खुश हुआ। लेकिन उसका मन काम में नहीं लगा। भजन गाना वह भूल ही गया। रात को घर गया तो उसे नींद नहीं आई। वह सोचने लगा कि इस पचास रूपये का क्या करूँ,कहाँ संभाल कर रखूँ। मोची की दशा देखकर उसके ग्राहक भी उस पर नाराज होने लगे, क्योंकि वह ठीक से काम नहीं करता था। उधर भजन बंद होने से सेठ जी की हालत फिर बिगड़ने लगी। उनका पूरा ध्यान रोग की तरफ चला गया।

एक दिन सेठ जी ने सोचा कि मोची को बुलाकर पूछेंगे कि उसने गाना बंद क्यों कर दिया।अगले ही दिन मोची आ पहुंचा और बोला,'सेठ जी ,आप अपना पैसा अपने पास रख लीजिये। मैं इसे नहीं लूँगा।' सेठ जी ने पूछा,'क्यों, क्या किसी ने कुछ कहा तुमसे?' मोची बोला,' किसी ने कुछ नहीं कहा ,लेकिन इस रूपये ने मेरा जीना हराम कर दिया। न रात को नींद आती है और न दिन को चैन रहता है। मेरा भजन गाना भी छूट गया। अपनी मेहनत की कमाई में जो सुख है वह पराये धन में नहीं है। आपके रूपये ने तो परमात्मा से भी नाता तुड़वा दिया। इसीलिये इसे वापस कर रहा हूँ।'

अगला लेख: सबसे कीमती चीज



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जुलाई 2020
घा
आज का प्रेरक प्रसंगघास, बकरी और भेड़िया *एक बार की बात है एक मल्लाह के पास घास का ढेर, एक बकरी और एक भेड़िया होता है। उसे इन तीनो को नदी के उस पार लेकर जाना होता है।पर नाव छोटी होने के कारण वह एक बार में किसी एक चीज को ही अपने साथ ले जा सकता है।अब अगर वह अपने साथ भेड़िया को ले जाता तो बकरी घास खा जाती।
07 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
दो
*आज का प्रेरक प्रसंग* *!! दो शब्द !!*---------------------------------------------बहुत समय पहले की बात है, एक प्रसिद्द गुरु अपने मठ में शिक्षा दिया करते थे। पर यहाँ शिक्षा देना का तरीका कुछ अलग था, गुरु का मानना था कि सच्चा ज्ञान मौन रह कर ही आ सकता है; और इसलिए मठ में मौन रहने का नियम
19 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
दिनेश शर्मा की सुबह सुबह की राम राम सब दोस्तो , बुजुर्गों बच्चों को । जो लोग वक़्त बेवक़्त हर रोज़ यहाँ वहाँ पूरे देश में जब चाहे मनमर्जी से लॉक डाउन लगाने और बढ़ाने की प्रस्तावना देते हैं वो सब सरकारी अमले के लोग है जिनकी पूरी पूरी तनख्वाहें हर महीने की एक तारीख को उनके खाते में पहुंच जाती है । जिन लोग
15 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
26 जुलाई 2020
ची
सोवियत रूस ने अपनी मिसाइलें क्यूबा में तैनात कर दी थीं। इसकी वजह से तेरह दिन के लिए (16 – 28 अक्टूबर 1962) तक जो तनाव रहा उसे “क्यूबन मिसाइल क्राइसिस” कहा जाता है। ये वो बहाना था, जो सुनाकर सोवियत रूस ने नेहरु को मदद भेजने से इनकार कर दिया था। नेहरु शायद इसी मदद के भरोसे बैठे थे जब चीन ने हमला किया
26 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /प्रयागराज पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक द्वारा,आज की गांव की चौपाल जिला प्रयागराज की बारा विधानसभा क्षेत्र के कौंधियारा ब्लॉक की पिपरहट्टा गांव में संपन्न हुई।गांव में मजदूरों की समस्या पर विचार रखते हुए "पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक"! के प्रदेश अध्यक्ष माननीय आर के व
08 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
बि
आज का विज्ञान बिजली का बल्ब टूटने पर आवाज क्यों करता है - Why Does the Sound of the Electric Bulb Breaks_**दरअसल जब बल्ब को बनाया जाता है तो उसके अन्दर की सारी वायु निकालकर शून्य कर दिया जाता है और जब बल्ब टूटता है तो वाहर की वायु उस शून्य स्थान को भरने के लिए तेजी से अन्दर प्रवेश करती है यही कारण
07 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
सभी महिलाओं को समर्पित============================बेटा घर में घुसते ही बोला ~ मम्मी, कुछ खाने को दे दो, बहुत भूख लगी है.यह सुनते ही मैंने कहा ~ बोला था ना, ले जा कुछ कॉलेज. सब्जी तो बना ही रखी थी.बेटा बोला ~ मम्मी, अपना ज्ञान ना ... अपने पास रखा करो. अभी जो कहा है, वो कर दो बस, और हाँ, रात में ढंग क
24 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x