कोरोना और यमराज की चिंता

22 जुलाई 2020   |  हरीश भट्ट   (432 बार पढ़ा जा चुका है)

कोरोना और यमराज की चिंता

कोरोना वायरस की धमाकेदार पारी नॉन स्टॉप चल रही है. नीम-हकीम और ताबीज वाले बाबाओं की तो छोड़िए पूरा का पूरा मेडिकल साइंस पसीने से तरबतर है. कोरोना को क्लीन बोल्ड करना तो दूर की बात फिलहाल तो बाउंड्री पर लपकने के भी कोई आसार नजर नहीं आ रहे है. नीचे वाले हो या ऊपरवाला सभी लॉकडाउन है. यमराज बोले, सुनो चित्रगुप्त जब यहां पर हर कैटेगरी के इंसान आते हैं तो आजकल तुम अपना रजिस्टर कंप्लीट क्यों नहीं करते हो. चित्रगुप्त जिनका दिमाग पहले से ही भन्ना रखा था बोले, मालिक रजिस्टर में एंट्री क्या खाक करूं. धरती पर कोरोना वायरस की स्पीड का अंदाजा ही नहीं लग रहा है. यहां पर तो हाउसफुल के बोर्ड टांगने का भी समय नहीं है और आप कह रहे हैं कि रजिस्टर में एंट्री कर दो. क्या आप नहीं जानते कि धरती पर जब तक किसी इंसान की मृत्यु होने पर उसका क्रिया-कर्म धार्मिक रीति-रिवाजों से पूर्ण नहीं होता है तब तक उसकी आत्मा वहीं पर भटकती रहती है. तब ऐसे में मैं कैसे पता लगा सकता हूं कि किसको कहां पर एंट्री देनी है. हे भगवान एक बात और है आप इसको इंसान की भूल कहो या प्रकृति की चालाकियां. कोरोना के रूप में उस वायरस का जन्म हो गया है जिससे पूरी धरती कांप रही है. वरना तो आप जानते ही हैं इंसान की इच्छाओं की कोई सीमा नहीं होती. इंसानी दिमाग ही था जिसने चांद और मंगल पर भी अपने कदम रख दिए, आकाश में कुलांचे भरता है, समुद्र की गहराई नापता है. आज यही इच्छाशक्ति एक वायरस से लड़ने में नाकाम साबित हो रही है. गुस्से में बोले यमराज, चित्रगुप्त तुमसे काम नहीं होता तो क्या नई भर्ती शुरू कर दूं. चित्रगुप्त कांपते स्वर में बोले नहीं अन्नदाता ऐसा मत कहिए, सुना है कि कोरोना को एक बाबा जी ने बाउंड्री पर लपक लिया था, लेकिन अंपायर ने बाबा जी को दर्शक करार दे दिया. फिर भी आप चिंता मत करिए, बहुत जल्दी शुभ संदेश मिलने वाले हैं कि कोरोना क्लीन बोल्ड हो गया है. यही इंसानी दिल और दिमाग की खूबसूरती है कि वह निराश हो सकता है लेकिन हार नहीं मानता. आप नहीं जानते कि जब-जब मेडिकल साइंस अपने पर आई है तब-तब आपको और मुझे एक इंसान को भी लाने के लिए कितना इंतजार करना पड़ता है. वह तो बस थोड़ा सा इंसानी स्वभाव है कि हर काम में जल्दी बाजी. यमराज बोले ठीक है चित्रगुप्त मैं कोई नई भर्ती नहीं शुरू करता हूं और पृथ्वी वासियों को आशीर्वाद देता हूं कि वह बहुत जल्द कोरोना को क्लीन बोल्ड कर देंगे. हमारे यहां भी हाउसफुल का बोर्ड लगाने की जरूरत ना पड़ेगी और तुम भी आराम से अपना काम कर सको.

अगला लेख: कोरोना का कहर और आपसी व्यवहार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x