सावन के झूले

22 जुलाई 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (319 बार पढ़ा जा चुका है)

सावन के झूले

सावन के झूले

कल हरियाली तीज – जिसे मधुश्रवा तीज भी कहा जाता है – का उमंगपूर्ण त्यौहार है, जिसे उत्तर भारत में सभी महिलाएँ बड़े उत्साह से मनाती हैं और आम या नीम की डालियों पर पड़े झूलों में पेंग बढ़ाती अपनी महत्त्वकांक्षाओं की ऊँचाईयों का स्पर्श करने का प्रयास करती हैं | सर्वप्रथम, सभी को सावन की मस्ती में भीगे हरियाली तीज के मधुर पर्व की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ... हम सभी ऊपर नीचे जाते आते झूलों की पेंगों के साथ ही अपने मनोरथों और महत्त्वाकांक्षाओं को इतनी ऊँचाईयों तक पहुँचाएँ जहाँ पहुँच कर उनके पूर्ण होने में कोई सन्देह न रह जाए...

https://youtu.be/ixIBOgP195c

अगला लेख: यात्री मार्ग और लक्ष्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2020
सफलताप्राप्ति के लिए क्या करेंअक्सर लोग इस बात पर मार्गदर्शन के लिए आते हैं कि उन्हें अपने कार्यों मेंसफलता प्राप्त नहीं होती, क्या करें इसके लिए ? कई बार लोग कहते हैं किहमारी जन्मपत्री देखकर कोई उपाय बताइये | हम उन सबसे यही कहते हैं कि भाईजन्मपत्री अपनी जगह है, प्रयास तो आपको स्वयं ही करना होगा |अन
19 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
कमलपत्र पर गिरी हुई जल की कुछ बूँदें...गर्मी के बाद आरम्भिक वर्षा में जल की अमृत बूँदें धरा सोख लेती है... परिणामतःचारों ओर हरीतिमा फैल जाती है... लेकिन धरा को देखिये, मेघों से अमृतजल का दान लेती है... साराउपवन हरा भरा हो जाता है... पर पतझड़ के आते ही धरा उसकी ओर झुक जाती है और उपवन कीहरियाली सूख जात
18 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
आप सभी को रक्षा बन्धन के पर्व की बड़ी उत्सुकतासे प्रतीक्षा होगी | आगामी तीन अगस्त को रक्षा बन्धन का उल्लासमय प्रेममय पर्व है | सभीको बहुत बहुत बधाई | पूर्णिमा तिथि का आगमन दो अगस्त को रात्रि साढ़े नौ बजे के लगभग होगा इसलिएव्रत की पूर्णिमा तो दो अगस्त को ही होगी | लेकिन नारियली पूर्णिमा उदया तिथि मेंमा
30 जुलाई 2020
10 जुलाई 2020
पावस की सुषमा है छाई ||सजे कसुम्भी साड़ी सर पर, इन्द्रधनुष पर शर साधे थिरक रही है घटा साँवरी बिजली की पायल बाँधे |घन का मन्द्र मृदंग गरजता, रिमझिम रिमझिम की शहनाई ||पूरा सुनने के लिए क्लिककरें...https://youtu.be/zRVx57amQzs
10 जुलाई 2020
10 जुलाई 2020
पावस की सुषमा है छाई ||सजे कसुम्भी साड़ी सर पर, इन्द्रधनुष पर शर साधे थिरक रही है घटा साँवरी बिजली की पायल बाँधे |घन का मन्द्र मृदंग गरजता, रिमझिम रिमझिम की शहनाई ||पूरा सुनने के लिए क्लिककरें...https://youtu.be/zRVx57amQzs
10 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
यादो के अनेकरूप होते हैं, अनेकों भाव और अनेकों रंग होते हैं...अपनी पिछली रचना "तुम्हारी याद यों आए" में यादों को इसी प्रकार के कुछउपमानों के साथ चित्रित करने प्रयास था, आज की रचना "ऐसे यादतुम्हारी आए, सूर्य डूब जाने पर जैसे अलबेली संध्या अलसाए..." में भी इसी प्रकार का प्रयास किया गया है... सुधी श्रो
28 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
अभावों और पीड़ा को गान बना देने वाले प्रेम और विरहके साधक, बादलों से सलाम लेने वाले,विभावरी, आसावरी और अंतर्ध्वनि के गायक पद्मभूषणश्री गोपालदास नीरज – जिनके गीतों, ग़ज़लों, दोहों के एक एक शब्द में – एक एक छन्द में मानों एक नशा सा भरा हुआ है...जो कभी दार्शनिक अन्दाज़ में कहते हैं... “नींद भी खुली नथी कि
19 जुलाई 2020
02 अगस्त 2020
अयोध्या में राम !भगवान राम तुलसी हृदय में बसते राम , तुलसी हृदय में राम।सब में रमते हैं श्री राम, जो हैं तुलसी के राम।तुलसी ने काशी रहकर रामायण रचते ।रामचरित्र मानस को भजते श्री राम राम तुलसी जपते ।तुलसी के थे राम और,राम जी के तुलसी।श्री राम के साथ राम, भक्त हनुमान नेगुणगान गाया ! कहते हैं संकटम
02 अगस्त 2020
16 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x