कोरोना महामारी और बकरीद पर्व

24 जुलाई 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (1605 बार पढ़ा जा चुका है)

पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी आई है। इस आर्थिक सुस्ती से कुर्बानी के बकरों का बाजार भी ठंडा पड़ा है। बिक्री न होने से व्यापारियों में भी उत्साह नहीं है। शारीरिक दूरी कायम रखने के प्रतिबंध के चलते बकरा मंडियों में सन्नाटा पसरा है। भले ही कुछ व्यापारी बकरों के साथ मुस्लिम इलाकों की गलियों में घूम रहे हैं कि शायद उनके बकरे बिक जायें लेकिन उन्हें खरीदार कम ही मिल रहे हैं। कोरोना के चलते इस बार कुर्बानी के लिए बकरों का बाजार भी नहीं लगेगा। स्लाटर हाउस पर रोक के चलते लोग अपने घरों में ही कुर्बानी की रस्म अदा करेंगे। ऐसे में बकरों का बाजार इस बार काफी ठंडा रहेगा।

वर्तमान परिस्थितियों को मद्देनजर रखते हुए प्रशासन ने पहले ही बकरीद पर्व को लेकर दिशानिर्देश जारी कर दिया है। बेशक इन निर्देशों से कुछ लोग खुश हैं तो वहीं कुछ लोंगों में बकरीद पर्व को लेकर नाराजगी भी है। खैर यह सब तो चलता ही रहता है हर कोई संतुष्ट नहीं हो सकता। पर आम लोंगों में भी इतनी समझ होनी चाहिए कि इस संबंध में किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया जा रहा है। जो भी निर्देश जारी किए जा रहे हैं वे सभी हमारी भलाई के लिए हैं। हमें इसका स्वागत करना चाहिए और पूरा सहयोग करना चाहिए। परम्परा, संस्कृति और धार्मिक अनुष्ठान के लिए पूरा जीवन पड़ा हुआ है। 'जी है तो जहां है' पहले इस कथन को चरितार्थ करना है। आगे हिंदुओं के भी त्यौहार आ रहे हैं उसके लिए भी पाबंदी रहेगी और जो भी पर्व मनाया जाएगा वह प्रशासन के दिशानिर्देश के अनुसार ही होगा। फिलहाल बकरीद के संबंध में जारी किया गया निर्देश इस प्रकार है ➖

⏺️नमाज मस्जिदों, ईदगाहों या सार्वजनिक जगहों पर अता ना करें।

⏺️नमाज अपने - अपने घरों में ही अता करें।

⏺️कुर्बानी के लिए जानवर की खरीदी ऑनलाइन या फोन से करें, इसके लिए बाज़ार या मंडी में ना जाएं।


बहुत ही अहम बात यह है कि कंटेनमेंट जोन्स में ईद के लिए प्रतिबंधों में कोई ढील नहीं दी गई है और लोगों को त्योहार के दिन सार्वजनिक स्थानों पर एकत्र नहीं होना चाहिए। स्वास्थ्य विभाग, पुलिस और स्थानीय प्रशासन द्वारा घोषित सभी दिशानिर्देशों का निष्ठापूर्वक पालन किया जाना चाहिए।

अतः कोविड-19 की लड़ाई में जनमानस को प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ना होगा। इसमें सभी धर्म और समुदाय के लोंगों का सहयोग अपेक्षित है। सभी का साथ मिलने पर हम कोविड-19 को मात देने में अवश्य कामियाब होंगें।


➖ प्रा. अशोक सिंह

अगला लेख: जय बोलो प्रभु श्री राम की



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जुलाई 2020
बप्पा को लाना हमारी जिम्मेदारी है...अबकी बरस तो कोरोना महामारी हैउत्सव मनाना तो हमारी लाचारी हैरस्में निभाना तो हमारी वफादारी हैबप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है।अबकी बरस हम बप्पा को भी लायेंगेंसादगी से हम सब उत्सव भी मनायेंगेंसामाजिक दूरियाँ हम सब अपनायेंगेंमास्क सेनिटाइजर प्रयोग में लायेंगें।दू
29 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
हि
नई पाठ्यपुस्तक युवकभारती और बारहवीं के छात्रहालही में जहाँ एकतरफ पूरा विश्व कोरोना महामारी अर्थात कोविड-19 से त्रस्त है वहीं महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक मंडल पुणे द्वारा बारहवीं कक्षा के लिए हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में नई पाठ्यपुस्तक हिंदी युवक भारती प्रकाशित की गई है। ऐसे जटिल समय मे
19 जुलाई 2020
06 अगस्त 2020
यादों की ज़ंजीर रात्रि का दूसरा प्रहर बीत चुका था, किन्तु विभु आँखें बंद किये करवटें बदलता रहा। एकाकी जीवन में वर्षों के कठोर श्रम,असाध्य रोग और अपनों के तिरस्कार ने उसकी खुशियों पर वर्षों पूर्व वक्र-दृष्टि क्या डाली कि वह पुनः इस दर्द से उभर नहीं सका है। फ़िर भी इन बुझी हुई आशाओं,टूटे हुये हृद
06 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
17 जुलाई 2020
"सत्याग्रही हिंदी और विकास "हिंदी बढती लो बिंदी चढती और हमें सिखाती |समूह बना बोलियाँ मिलाती औ बाजार बढ़ाती ||हिंदी पर बात हो, भाषा पर विचार हो ऐसे में बाल गंगाधर तिलक को कौन भूल सकता है | उनहोंने कहा है कि-'मैं उन लोगों में से हूँ जिनका विचार है और जो चाहते हैं कि हिंदी ही राष्ट्र भाषा हो सकती है
17 जुलाई 2020
05 अगस्त 2020
जय बोलो प्रभु श्री राम कीजय बोलो प्रभु श्री राम कीअयोध्या नगरी दिव्य धाम कीपावन नगरी के उस महिमा कीतुलसीदास जी के गरिमा कीजो जन्म भूमि कहलाता हैत्रेतायुग से जिसका नाता हैसुनि रामराज्य मन भाता है।जय बोलो प्रभु श्री राम कीअयोध्या नगरी दिव्य धाम कीजग के पालनहारी श्री रामबिगड़ी सबके बनाते कामभ्राता भरत क
05 अगस्त 2020
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
एक बार कि बात है एक कस्बे में पति औरपत्नी रहते थे, दोनों की उम्र 25 साल थी वो दोनों ही विवाह के लिए मानसिक रुप सेतैयार नहीं थे हालांकि दोनों की पढ़ाई पूरी हो चुकी थी। दोनों ही सजातीय थे औरदोनों के परिवार एक ही गांव में रहते थे तो उनके परिवा
19 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
आत्माराम उसके घर का रास्ता बनारस की जिस प्रमुख मंडी से होकर गुजरता था। वहाँ यदि जेब में पैसे हों तो गल्ला-दूध , घी-तेल, फल-सब्जी, मेवा-मिष्ठान सभी खाद्य सामग्रियाँ उपलब्ध थीं।लेकिन, इन्हीं बड़ी-बड़ी दुकानों के मध्य यदि उसकी निगाहें किसी ओर उठती,तो वह सड़क के नुक्कड़ पर स्थित विश्वनाथ साव की कचौड़
01 अगस्त 2020
21 जुलाई 2020
यह फूल इस सृष्टि का अनमोल उपहार है। कितना सुंदर, मनमोहक और आकर्षक है। वास्तव में प्रकृति की दी हुई हर चीज सुंदर होती है। जिसमें फूलों की तो बात ही कुछ और होती है। रंग विरंगे फूल अपने रंग रूप और सुगंध को फैला देते हैं। जिससे प्रकृति के रूप सौंदर्य में और अधिक निखार आ जाता है। जबकि इन फूलों का जीवन स
21 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
वक्त अच्छा हो तो….कोरोना काल में अंतर्मन ने पूछा -इस दुनिया में तुम्हारा अपना कौन है..?सवाल सुनते हीएक विचार मन में कौंधामाँ-बाप, भाई-बहन, पत्नी…बेटा - बेटी या फिर मित्र..किसे कहूँ अपना..?यदि वक़्त अच्छा हो तोजो अदृश्य हैसर्वशक्तिमान हैसर्वव्यापी हैवो भी अपना है तब सब कुछ ठीक है।वक़्त अच्छा हो तोमाँ-ब
08 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x