तुम्हारी याद यों आए

26 जुलाई 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (284 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम्हारी याद यों आए

तुम्हारी याद यों आए... यादों के कितने ही रूप हो सकते हैं – कितने ही रंग हो सकते हैं... और आवश्यक नहीं कि हर पल किसी व्यक्ति या वस्तु या जीव की याद ही व्यक्ति को आती रहती हो... व्यक्ति का मन इतना चंचल होता है कि सभी अपनों के मध्य रहते हुए भी न जाने किस अनजान अदेखे की याद उसे उद्वेलित कर जाती है... इन्हीं उलझी सुलझी यादों को अनेक प्रकार के उपमानों के द्वारा वर्णित करने का प्रयास प्रस्तुत रचना में है... वो कभी किसी ऐसी रूपसी जैसी हो सकती हैं जो स्व्रर्णकलश लिए चली आ रही हो... कभी भोर की प्रथम किरण सरीखी हो सकती हैं – जो अभी अभी किसी पहाड़ी के पीछे से निकल कर आई हो... इसी प्रकार के कुछ उलझे सुलझे से भाव यादों के लिए प्रदर्शित करने का प्रयास सुधी पाठकों और दर्शकों के समक्ष प्रस्तुत है... पूरी रचना सुनने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके वीडियो देखें... धन्यवाद... कात्यायनी...

https://youtu.be/vd3leUXsFt4


अगला लेख: यात्री मार्ग और लक्ष्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2020
आप सभी को रक्षा बन्धन के पर्व की बड़ी उत्सुकतासे प्रतीक्षा होगी | आगामी तीन अगस्त को रक्षा बन्धन का उल्लासमय प्रेममय पर्व है | सभीको बहुत बहुत बधाई | पूर्णिमा तिथि का आगमन दो अगस्त को रात्रि साढ़े नौ बजे के लगभग होगा इसलिएव्रत की पूर्णिमा तो दो अगस्त को ही होगी | लेकिन नारियली पूर्णिमा उदया तिथि मेंमा
30 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
कमलपत्र पर गिरी हुई जल की कुछ बूँदें...गर्मी के बाद आरम्भिक वर्षा में जल की अमृत बूँदें धरा सोख लेती है... परिणामतःचारों ओर हरीतिमा फैल जाती है... लेकिन धरा को देखिये, मेघों से अमृतजल का दान लेती है... साराउपवन हरा भरा हो जाता है... पर पतझड़ के आते ही धरा उसकी ओर झुक जाती है और उपवन कीहरियाली सूख जात
18 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
मैंने देखा, और मैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, और मैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ...प्रेम खटखटाता रहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपने ऊहापोह में...तभी कहा किसी ने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खोलो या ना खोलो / द्वार टूटेगा, और प्रेम आएगा
08 अगस्त 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
श्री कृष्ण जन्म महोत्सवमंगलवार 11 अगस्त को प्रातः नौ बजकर सात मिनट के लगभग बालव करण और वृद्धि योग मेंभाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि का आरम्भ हो रहा है जो बारह अगस्त को प्रातः ग्यारहबजकर सोलह मिनट तक रहेगी | इस प्रकार ग्यारह अगस्त को स्मार्तों की श्री कृष्णजन्माष्टमी है और बारह अगस्त को वैष्णवों की श्री क
08 अगस्त 2020
19 जुलाई 2020
अभावों और पीड़ा को गान बना देने वाले प्रेम और विरहके साधक, बादलों से सलाम लेने वाले,विभावरी, आसावरी और अंतर्ध्वनि के गायक पद्मभूषणश्री गोपालदास नीरज – जिनके गीतों, ग़ज़लों, दोहों के एक एक शब्द में – एक एक छन्द में मानों एक नशा सा भरा हुआ है...जो कभी दार्शनिक अन्दाज़ में कहते हैं... “नींद भी खुली नथी कि
19 जुलाई 2020
06 अगस्त 2020
कल पाँच अगस्त को सारा विश्व के महान घटनाका साक्षी बना... और ये घटना थी श्री राम जन्म भूमि अयोध्या में राम मन्दिर भूमिपूजन... हम सभी वास्तव में बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हमारे माननीय प्रधान मंत्री जीने सनातन महानुभावों की साक्षी में कल जो वहाँ भूमि पूजन किया हम सबको अपने अपनेनिवास से ही उस यज्ञ में सम्
06 अगस्त 2020
28 जुलाई 2020
यादो के अनेकरूप होते हैं, अनेकों भाव और अनेकों रंग होते हैं...अपनी पिछली रचना "तुम्हारी याद यों आए" में यादों को इसी प्रकार के कुछउपमानों के साथ चित्रित करने प्रयास था, आज की रचना "ऐसे यादतुम्हारी आए, सूर्य डूब जाने पर जैसे अलबेली संध्या अलसाए..." में भी इसी प्रकार का प्रयास किया गया है... सुधी श्रो
28 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
अपनी भूलों से घबराएँ नहीं, उनसे शिक्षालेंहमारे पास किसी समस्या से त्रस्त होकर कंसल्टेशन के लिए जो लोग आते हैं तोकई बार वे प्रश्न कर बैठते हैं कि डॉ पूर्णिमा, हमने तो जीवन में कभी कोईभूल नहीं की – कभी कोई अपराध नहीं किया – फिर हमारे साथ ऐसा क्यों हो रहा है ? कलभी कुछ ऐसा ही हुआ | किन्हीं सज्जन से फोन
13 जुलाई 2020
09 अगस्त 2020
हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतरझाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप मेंविराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिसदिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रहजाएगी... कुछ
09 अगस्त 2020
16 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x