थोड़ी सी बेवफ़ाई

27 जुलाई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (2551 बार पढ़ा जा चुका है)

थोड़ी सी बेवफ़ाई

23 साल की शालिनी अपनी नई जॉब को पाकर बेहद ख़ुश थी चलो कि अब उसे अपनी पॉकेट मनी के लिए अपने घरवालों के सामने हाथ तो नहीं फैलाना पड़ेगा। साथ ही वो अपने पैशन को भी फॉलो कर सकेगी।

3 महीने की इंटर्नशिप के बाद उसकी छोटे से युट्यूब चैनल में जॉब पक्की हो गई । शुरु- शुरु में सब ठीक चला लेकिन जैसे ही दिन गुज़रते गए उसके उस चैनल के संपादक से बनना कम हो गया।

वजह था उसका नारीवादी लेखन जो पितृसत्तामक सोच रखने वाले संपादक को पसंद नहीं आ रहा था।

एक दिन उसने एक वीडियो में बताया कि कैसे हमारा समाज एक पुरुष की बेवफ़ाई को उसका अधिकार समझता आया है और यही काम यदि एक महिला करे तो किस तरह से लोग उसके चरित्र पर लांछन लगाने लगते है।

तभी संपादक ने बड़े ही मिठास भरे स्वर में कहा

इसमें नया क्या है पहले भी बहु विवाह होता था वो तो कानून बनने के बाद सब एक पत्नी रखने लगे।

लेकिन कुछ भी नहीं बदला है आज भी लोग अपनी पत्नी के अलावा पराई औरत से रिश्ता रखते है। ये एक पुरुष का अधिकार है इसका मतलब ये नहीं कि उसका अपनी पत्नी के लिए प्यार कम हो गया है.”

जो सदियों पहले होता आया है क्या हर उस बात को आप सही मानते है चाहे वो बाल विवाह हो या सति प्रथा हो जवाब दीजिए ?”

तुम बात का बतंगड़ मत बनाओ अगर एक आदमी अपनी पत्नी अंधेरे में रखते हुए धोखा दे भी दे तो उसका क्या बिगड़ेगा ?”

शालिनी ने सोचा शायद ये महोदय आधुनिक विचारों वाले होगे शायद इसलिए ऐसे विचार होंगे।

तभी शालिनी तपाक से बोली अगर यही काम एक औरत करे तो भी शायद कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा ?”

संपादक ने कहा निश्चित ही उस महिला का चाल चलन खराब होगा.”

शालिनी संपादक महोदय का दोहरा मानदंड देखकर काफी हैरान हुई।

वो मन ही मन सोचने लगी कि एक तरफ लोग पुरुषों के लिए अति उदार दृष्टिकोण रखते है तो वही महिलाओं के लिए अति संकीर्ण।

वहां कुछ दिन काम करने के बाद शालिनी ने दूसरी कंपनी ज्वाइन कर लगी।

जैसे जैसे उसकी उम्र बढ़ती गई उसे समझ में आने लगा कि यह एक इंसान की सोच नहीं समाज में स्त्री और पुरुष के चरित्र को लेकर दोहरा रवैया रखना आम बात है। क्या जिस तरह एक स्त्री अपनी इच्छाओं पर नियंत्रण रख सकती है क्या पुरुष नहीं सकता है ?शायद ही वजह है कि हमारे समाज में महिलाओं के शोषण के मामले दिन ब दिन बढ़ रहे है। अश्लील साहित्य और सिनेमा पुरुष मानसिकता को कलुषित कर रहा है जिन्हें हर महिला आयटम नज़र आती है।

फिर भी अपने आस- पास उसने कई ऐसे पुरुषों को देखा कि जो अपने साथी के लिए वफ़ादार थे। जो बेवफ़ा थे उसके पीछे भी शायद कोई वजह रही हो लेकिन केवल स्त्री को ही चरित्र के पैमाने पर नापना कहीं ना कहीं समाज की सदियों पुरानी मानसिकता का परिचय देता है जो दीमक की तरह नारी समानता की किताब को खोखला कर रही है।

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।

शिल्पा रोंघे

koshishmerikalamki.blogspot.com: थोड़ी सी बेवफाई

https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/07/blog-post_27.html

थोड़ी सी बेवफ़ाई

अगला लेख: कोरोना संकट के वक्त हिलती आर्थिक स्थिती चिंताजनक।



आलोक सिन्हा
27 जुलाई 2020

शिल्पा जी बहुत अच्छा लेख है | मैंने भी समाज की इस संकीर्ण मानसिकता को अपनी कई कहानियों में उभारने का प्रयत्न किया है | बहुत बहुत बधाई , शुभ कामनाएं |

प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2020
बैंक से रिटायर हुए गोयल सा को तीन महीने हो गए था. वजन पहले ही ज्यादा था अब मशीन में चेक करते हैं तो पता लग रहा है की और बढ़ रहा है. बकौल पत्नी के 'सारा दिन खाते रहते हो और बिस्तर पर पड़े टीवी देखते रहते हो तो वजन कैसे घटेगा?' इस तरह के शब्द चुभते थे इसलिए बड़ी हिम्मत करके सा
01 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
समुंदर की विशाल लहरें विशाखा के पैरों से टकरा रही थीवो समुंदर के और भीतर चली जा रही थी। जैसे कि अपना सारा दुख दर्द वो पानी से कहदेना चाहती हो। आज वो पूरी तरह भय मुक्त हो चुकी थी। तभी विष्णु की आवाज आई। येविशाल लहरें तुम्हें निगल जाएंगी क्या इसका आभास नहीं तुम्हें। कौन सा
30 जुलाई 2020
25 जुलाई 2020
ही
हर व्यक्ति अपनी जीवन का हीरो स्वयं होता है जीवन में कठिनाइयां न हो तो इंसान कि परख नहीं हो सकती अगर हम मुश्किलों से डर जाए और घबरा कर भाग्य को दोष देने लगें तो इससे उत्थान कैसे संभव है रावण के बिना राम राम न होते बिना कंस के आतंक के कृष्ण कृष्ण न होते
25 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज
13 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x