इस्लामिक गणराज्य ईरान अपने में एक पहेली है

28 जुलाई 2020   |  शोभा भारद्वाज   (363 बार पढ़ा जा चुका है)

इस्लामिक गणराज्य ईरान अपने में एक पहेली है

इस्लामिक गणराज्य ईरान अपने में एक पहेली है

डॉ शोभा भारद्वाज

इस्लामिक गणराज्य ईरान अपने में एक पहेली है इस मुल्क को वही समझ सकते हैं जो लम्बे समय तक वहाँ रहें हैं जिनका जनता से सम्पर्क रहा है ईरान अपने में ही पहेली है सत्ता पर पूरी ईरान को समझना आसान नहीं है वहाँ सत्ता पर मौलानाओ पूरी तरह कब्जा कर लिया जबकि ईरानी क्रान्ति जन क्रान्ति थी जिसमें स्टूडेंट्स ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया था वहाँ के लोग कहते ते मुल्लाओं ने हमारा आंदोलन चुरा लिया जबकि क्रान्ति का उद्देश्य प्रजातांत्रिक व्यवस्था की स्थापना करना था ईरान में बकायदा चुनाव होते हैं परिवार का एक आदमी सबका वोट दे आता है | उम्मीदवार मौलानाओं के गुट का होता है उन्हें मौड्रेट कह लीजिये या कट्टर पंथी उनका उद्देश्य मिडिल ईस्ट में शिया प्रभावित क्षेत्रों में अपना प्रभाव बढ़ाना विरोध होने पर विद्रोहियों की मदद करना , शियाओं का परचम लहराना है |

उनके पास धर्म के नाम पर शहादत देने के लिए पासदाराने इंकलाब ( ईरान में क्रान्ति दूतों का समूह ) शहादत के लिए तैयार रहते थे उनका नारा था इमाम फरमान दो फरमान दो इनका इंचार्ज स्वर्गीय जनरल सुलेमानी ईरानी गुप्त अभियानों के संचालक थे मक्का में एक अलग गेट की मांग भी ईरान द्वारा की गयी | इस्लामिक सरकार की विदेश नीति अपने देश के हितों का ध्यान रखती है मौका देख का नीति बदलती रहती है ईरान ईराक युद्ध के समय नारे लगते थे जंग -जंग ता फिरोजी ( जंग तब तक चलेगी जब तक जीत हासिल नहीं होती )लेकिन जब स्वर्गीय आयतुल्ला इमाम खुमैनी ने देखा जीतना आसान नहीं है उन्होंने सुलह की पेशकश कर जंग रोक दी ईरान टीवी में अपने संदेश में उन्होंने कहा जंग रोकना ‘जहर मार खोर्दम’( विष पान करने जैसा है |

ईरान की हार का कारण इराक द्वारा तेहरान पर चलाई जाने वाली कोरियन मिसाईल की दहशत थी |ईरान किसी भी कीमत पर परमाणु शक्ति सम्पन्न देश बनना चाहता है तभी फिरोजी(जीत ) हासिल होगी मौलानाओं का मुस्कराता चेहरा मीठी जुबान झुक - झुक कर मी बक्षी ( माफ़ कीजिएगा ) खस्ता न बाशी ( आराम से थको नहीं )दिल जीत लेता है लखनऊ में कहते है पहलेआप पहले आप में गाड़ी निकल गयी ऐसा नजारा ईरान में आम है | लेकिन आँख बदलने में मौलानाओं का जबाब नहीं है उन्हें प्रभावित करना आसान नहीं है उनका उद्देश्य है’ अपना देश पहले , स्वदेशी ‘निर्माण उनके अपने लोग करें वह विदेशियों को तभी तक सहते हैं जब तक उनकी मजबूरी है ईरान में शाह के समय विदेशों से दवाईयों का आयात होता था खांसी का कफ सिर्प स्विट्जरलैंड से आता था मौलाना आये सब बंद कर दिया उनके अपने पासदारों ने दवाई कम्पनियाँ बना ली | मौलाना फूक - फूक कर कदम रखते हैं चीन को अल्पकालीन लाभ जरुर हो सकता है दीर्घकालीन नहीं ईरान में चीन कभी पैर पसार नहीं सकेगा अब जिस दिन समझ आयेगा चीन से फायदा नहीं है तेहरान एवं बड़े -बड़े शहरों में विशाल जलूस निकलेंगे चीन के विरोध में नारे लगेंगे मर्गबा शैतान चायना ( चीन मुर्दाबाद ) मौलानाओं ने अमरीका से टक्कर ली है चीन भी सम्भल -सम्भल कर चलेगा ईरान के लोग भारत को अपना हितेषी समझते हैं ईरान में कई वर्ष तक रहने वाले जानते हैं यहाँ की विदेश नीति भारत से मैत्री की है फिर भी कश्मीर के अलगाववादियों से सहानुभूति है संसद द्वारा धारा 370 ,35 a को समाप्त करना ईरान के मौलानों को पसंद नहीं आया ईरान टीवी के लिए कश्मीर सम्बन्धित कुछ प्रोग्राम बनवाये थे | ईरान पाकिस्तान के भी करीब है ईरान परमाणु तकनीक के लिए उनसे संबंध रखता हैं जब वहां शिया मारे जाते हैं बस विरोध प्रकट करते हैं | ईरान के मौलाना जिनपिंग की काट हैं उन्होंने पूरे ईरान में पत्ता भी फड़कने नहीं दिया जरा सा विरोध का स्वर उठता है उसे वहीं दबा जाता है यदि चीन समझता है ईरान में वह पैर फैला सकेगा मुश्किल है ईरान को अपनी विदेश नीति में परिवर्तन कर चीन की तरफ झुकना पड़ा कारण अमेरिका बराक ओबामा द्वारा किया परमाणु समझौता ट्रम्प सरकार द्वारा रद्द करना ,भारत की अमेरिका के प्रति झुकाव की विदेश नीति ने ईरान को कुछ समय के लिए दूरकर दिया


अगला लेख: चीन ईरान के बढ़ते सम्बन्ध , कारण ट्रम्प सरकार द्वारा लगाये आर्थिक प्रतिबन्ध



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2020
यह कैसा नियम है ?(ईद मुबारक के अवसर पर संसमरण)डॉ शोभा भारद्वाज विदेश में रहने वाले भारतीयों एवं पाकिस्तानियों के बीच अच्छे सम्बन्ध बन जाते है कारण भाषा एक से सुख दुःख | ईरान के प्रांत खुर्दिस्तान की राजधानी सनंदाज में पठान डाक्टर हुनरगुल उनकी पत्नी सूफिया के साथ
01 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
26 जुलाई 2020
ची
सोवियत रूस ने अपनी मिसाइलें क्यूबा में तैनात कर दी थीं। इसकी वजह से तेरह दिन के लिए (16 – 28 अक्टूबर 1962) तक जो तनाव रहा उसे “क्यूबन मिसाइल क्राइसिस” कहा जाता है। ये वो बहाना था, जो सुनाकर सोवियत रूस ने नेहरु को मदद भेजने से इनकार कर दिया था। नेहरु शायद इसी मदद के भरोसे बैठे थे जब चीन ने हमला किया
26 जुलाई 2020
03 अगस्त 2020
भादों का त्यौहार राखी भाई बहन का प्यार राखी डॉ शोभा भारद्वाज राखी रेशम की डोरी ,उपहारों का लेन दें या भाई का कमिटमेंट हर पर्व के साथ कोई न कोई याद जुडी रहती है | हम परिवार समेत कई वर्ष विदेश में रहे हैं जब भी राखी का त्यौहार आया यदि भारत से राखी समय से पू
03 अगस्त 2020
06 अगस्त 2020
दास्ताने जम्मू ,कश्मीर लद्दाख की पार्ट -1 5 अगस्त 2019 संसद द्वारा पारित कानून द्वारा धारा 370 ,35 a की समाप्ति पार्ट -2 डॉ शोभा भारद्वाज कश्मीर समस्या नेहरू जी की भूल लार्ड माउंटबेटन की देन थी विश्व युद्ध समाप्त होने के बाद मित्रराष्ट्रों एवं कम्यूनिस्ट ब्लाक के बीच शीत युद्ध की शुरूआत हो गया काश
06 अगस्त 2020
18 जुलाई 2020
ममता का कर्ज उसने चुका दिया ?डॉ शोभा भारद्वाज मैं इस संसमरण का निष्कर्ष नहीं निकाल सकी कुछ वर्ष पुरानी बात है मुस्लिम समाज के रोजे चल रहे थे ईद को अभी एक हफ्ता शेष था इन दिनों बाजारों की रौनक निराली होती हैं महिलाओं बच्चों के नये डिजाइन के रेडीमेड कपड़े आर्टिफिशियल ज्वेलरी चूड़ियां झूमर और न जाने क्
18 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x