नीली जूती वाली लड़की

30 जुलाई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (338 बार पढ़ा जा चुका है)

नीली जूती वाली लड़की

समुंदर की विशाल लहरें विशाखा के पैरों से टकरा रही थी वो समुंदर के और भीतर चली जा रही थी। जैसे कि अपना सारा दुख दर्द वो पानी से कह देना चाहती हो। आज वो पूरी तरह भय मुक्त हो चुकी थी। तभी विष्णु की आवाज आई। ये विशाल लहरें तुम्हें निगल जाएंगी क्या इसका आभास नहीं तुम्हें। कौन सा हम इस दुनिया में जीवन- भर रहने को आए है, जो इतना डर कर रहना।

विष्णु ने कहा लगता है तुम्हे दर्शनशास्त्र सूझ रहा है.”

वैसे आपका शुभनाम

विष्णु चेन्नई से आया हूं.”

तुम्हारा हिंदी बोलने का लहजा देखकर लगा ही।वैसे मैं भी महाराष्ट्रीयन हूं तो हिंदी समझ लेती हूं लेकिन थोड़ा लिखने पढ़ने में मुश्किल होती है.”

बात करते-करते दोनों किनारे को छोड़कर रेत से घिरे एक छोटे से पत्थर के पास बैठ गए।वैसे मेरी आदत है अंजान लड़कों से बात नहीं करने की लेकिन तुम भले लड़के लगते हो।

यूं ही गुफ़्तगू करते करते विष्णु की निगाह विशाखा के लिबास पर पड़ी एक लंबा सा स्कर्ट पहना हुआ था उसने, उसके साथ मैचिंग के ब्लू जूते और ब्लू मोजे।

मैं यही रेलवे में नौकरी करता हूं.”

और मैं केमेस्ट्री पढ़ाती हूं एक स्कूल में.”

थोड़ी देर गुफ़्तगू करने के बाद विशाखा ने ढलते सूरज की ओर देखा जो मानो विदा लेने को बेकरार था और शायद उसे भी घर जाने को कह रहा था।

थोड़ी देर बात वो घर पहुंची तो देखा उसकी मां एक प्लास्टिक सर्जन से बात कर रही थी

हां काला धब्बा है बिल्कुल पैर के बीचो बीच

क्या कहा आपने ठीक हो सकता है.”

जितनी फ़ीस बताई हमको मंजूर है.”

परसो का अपाइनमेंट लिख लिजिए.

दूसरे दिन फिर विशाखा समुंदर किनारे टहलने के लिए आई, विष्णु की निगाह फिर उसके नीले जूतों पर पड़ी जिसमें उसके पैर बिल्कुल दिखाई दे नहीं रहे थे जो कि समुद्र की लहरों से पूरी तरह भीग जाया करते थे।

उसने सोचा वजह पूछ लें हर बार नीले जूते और मोजे ही क्यों चप्पल या सेंडल क्यों नहीं ?

फिर उसे लगा लड़कियां ना जाने किस बात का कब बुरा मान जाए तो चलो छोड़ ही दिया जाए इस बात को।

विशाखा गोरे रंग की मध्यम कद और घुंघराले बालों वाली साधारण नैन नक्श वाली लड़की थी। उसकी उम्र 28 साल थी।

विष्णु भी करीब उसकी ही उम्र का था जो कि स्थानीय निवासी नहीं था और मुंबई आए हुए उसे करीब 6 महीने ही हुए थे तो उसके चिर परिचित यहां थोड़े कम ही थे। ऐसे में वो विशाखा से शहर की कई अपरिचित बातें जानने लगा था और सलाह लेने लगा।

एक दिन विशाखा समुद्र किनारे टहलने आई ही नहीं, ये उन दिनों की बात है जब सभी मोबाईल फोन नहीं रखा करते थे।

मतलब कि लैंडलाईन से ही काम चला लेते थे जो कि उसके और विष्णु के घर पर था.उसने नंबर भी मांगा नहीं क्या पता उसके घर के लोगों को अच्छा लगता या नहीं उसका फोन करना, विशाखा ने भी विष्णु का नंबर नहीं मांगा, खैर उसके और विष्णु के बीच दोस्ती से आगे बात बढ़ पाई ही नहीं।

विशाखा कुछ दिनों बाद समुंदर किनारे आई और विष्णु को ढूंढने लगी लेकिन उसका ट्रान्सफर वापस हैदराबाद हो गया।

उन दोनों को मिले हुए 15 साल हो चुके थे। अचानक एक दिन एक औरत अपने 10 साल के लड़के के साथ विष्णु से पूछने लगी हैदराबाद से मुंबई जाने वाली ट्रेन को कितना वक्त है ?

क्योंकि विष्णु रेलवे में ही काम करता था तो उसे शक हुआ, वो बोली क्या तुम विष्णु हो?”

विष्णु ने कहा हां आप कौन ?”

विशाखा शादी के बाद काफी मोटी हो गई थी तो थोड़ा पहचानने में मुश्किल हुई।

हां मैं विष्णु हूं.”

मैं विशाखा समुद्र किनारे मिली थी तुमको.”

ओह नीली जूती वाली उसके मुंह से निकल गया।

वो हंसने लगी कहने लगी मेरे पैर पर केमेस्ट्री लैब में केमिकल फैल गया था.

जिसकी वजह से काला धब्बा बन गया तो मैं हमेशा जूते और मोजे पहनकर रहती थी।

तो क्या हुआ? विष्णु ने कहा।

क्योंकि लड़की के पैरों से समृद्धी का परिचय होता है तो लड़के वालों की मां उसके पैर देखती थी जिसमें वो काला दाग भी दिख जाता तो बात वहीं आकर रुक जाती थी।

इस वजह से उसे अपने माता पिता के ताने सुनने पड़ते थे साथ ही रिश्तेदार भी उसको लेकर कड़वी बातें करते थे।

एक दिन तंग आकर उसकी मां ने उसके पैर की प्लासटिक सर्जरी करवा कर वो दाग ही हटवा दिया।

कुछ महीनों बाद उसकी शादी फ़िजिक्स एक प्रोफ़ेसर से हो गई।

थोड़ी ही देर में ट्रेन आ गई उसने इशारे से कहा कि वो जो अगली स्टेशन पर बुक स्टॉल से पेपर खरीद रहे है वो उसके पति है, और वो तेजी से उसकी तरफ बढ़ी, दोंनो पति पत्नी और उसका बेटा ट्रेन में सवार होकर चल दिए।

जाती हुई ट्रेन को देखकर विष्णु के दिल में ख़्याल आया कि कितनी छोटी छोटी बात को लेकर परेशान हो जाते है लोग। चांद में भी तो दाग है तो क्या वो खूबसूरत नहीं होता है ?

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।


koshishmerikalamki.blogspot.com: नीली जूती वाली लड़की

https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/07/blog-post_29.html

नीली जूती वाली लड़की

अगला लेख: कोरोना संकट के वक्त हिलती आर्थिक स्थिती चिंताजनक।



धन्यवाद

आलोक सिन्हा
01 अगस्त 2020

बहुत अच्छी व रोचक कहानी है | इस तरह के अंध विशवास मैंने भी अपने समाज में देखे हैं |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2020
एक बार कि बात है एक कस्बे में पति औरपत्नी रहते थे, दोनों की उम्र 25 साल थी वो दोनों ही विवाह के लिए मानसिक रुप सेतैयार नहीं थे हालांकि दोनों की पढ़ाई पूरी हो चुकी थी। दोनों ही सजातीय थे औरदोनों के परिवार एक ही गांव में रहते थे तो उनके परिवा
19 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज
13 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज
13 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
बैंक से रिटायर हुए गोयल सा को तीन महीने हो गए था. वजन पहले ही ज्यादा था अब मशीन में चेक करते हैं तो पता लग रहा है की और बढ़ रहा है. बकौल पत्नी के 'सारा दिन खाते रहते हो और बिस्तर पर पड़े टीवी देखते रहते हो तो वजन कैसे घटेगा?' इस तरह के शब्द चुभते थे इसलिए बड़ी हिम्मत करके सा
01 अगस्त 2020
25 जुलाई 2020
ही
हर व्यक्ति अपनी जीवन का हीरो स्वयं होता है जीवन में कठिनाइयां न हो तो इंसान कि परख नहीं हो सकती अगर हम मुश्किलों से डर जाए और घबरा कर भाग्य को दोष देने लगें तो इससे उत्थान कैसे संभव है रावण के बिना राम राम न होते बिना कंस के आतंक के कृष्ण कृष्ण न होते
25 जुलाई 2020
06 अगस्त 2020
वी
काफी सालों पुरानी बातहै उत्कर्ष नगर में एक 20 वर्षीय वीणावादक के काफी चर्चे थे। वैसे तो वो एक मिट्टीसे बने छोटे घर में रहता था बहुत ज्यादा आय नहीं थी उसकी, लेकिन काफी प्रतिभाशालीथा, इसी वजह इसे कई धनाड्य घरों से वीणावादन के आमंत्रण मिला करते थे तो उसकागुजारा चल जाया करता
06 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x