तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……

01 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (290 बार पढ़ा जा चुका है)

तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……


आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि उसका मन पर नियंत्रण नहीं है। जबकि इस दुनिया में जीते जी हमारा मन ही जीवन की सफलता को तय करता है। इसीलिए तो कहा जाता है कि मन के हारे हार है और मन के जीते जीत।

जो इंसान अपने मन को नियंत्रित कर लेता है, उसकी आवश्यकताएँ सिमट जाती हैं। जो मन को नियंत्रित नहीं कर पाता है उसकी अवस्था ठीक इसके विपरीत होती है। उसकी आवश्यकताएँ निरंतर जारी रहती हैं अर्थात कभी पूरी नहीं होती है। कहने का तात्पर्य यह है कि मन को वश में कर लेने से ही सुखद अनुभूति होती है। किसी भी तरह का तनाव नहीं रहता है। उदाहरण के लिए कोई इंसान बेहद गरीबी में भी पूरा जीवन स्वस्थ शरीर के साथ गहरे आनंद में डूबे रहकर गुजार लेता है, तो गरीबी बुरी नहीं कहलाएगी। दरअसल उसने अपने मन को नियंत्रित कर लिया और सीमित संसाधनों से ही संतुष्ट रहा और जीवन के आनंद का अनुभव तनावमुक्त रहकर कर पाया।

आप मेरी बात से पूरी तरह सहमत नहीं होंगें, मुझे पता है। चलिए और अच्छी तरह से समझने के लिए सिक्के के दूसरे पहलू को भी देखते हैं अर्थात एक दूसरा उदाहरण लेते हैं जिससे कि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके। एक दूसरा व्यक्ति भरपूर पैसा होते हुए अर्थात खरबपति होते हुए भी अस्वस्थ शरीर के साथ तनावपूर्ण जीवन जिए तो इसमें किसका दोष है। खरबों रुपये किस काम के जब इंसान स्वेच्छा से भोजन न करसके, उसका स्वाद न ले सके। उसके पैसे तो व्यर्थ ही होंगें जब वह एक गिलास दूध भी नहीं पी सकता। ऐसे में उसके पास संसाधनों की कमी नहीं होती है। सुख सुविधा के सारे उपकरण उपलब्ध होते हैं पर जीवन को आनंद की अनुभूति कराने वाला मन अशांत और तनावग्रस्त होता है। अतः अस्वस्थ और तनावग्रस्त होने के कारण ही जीवन में आनंद नहीं होता है।

इंसान का मन ही उसका स्वास्थ्य तय करता है, वही इंसान को तनावों से मुक्त जीवन देता है। इसलिए इंसान को पैसे के पीछे या भौतिक सुख प्रदान करने वाले संसाधनों व उपकरणों के पीछे नहीं भागना चाहिए। उसे तो बस अपने मन को अच्छा रखने पर विशेष ध्यान देना चाहिए जिससे कि वह स्वस्थ और तनावमुक्त श्रेष्ठ जीवन का आनंद ले सके।

➖ प्रा. अशोक सिंह

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 अगस्त 2020
अब नहीं रहा.....NO more...ईश्वर की लीला ईश्वर ही जानें..देता है तो जी भर देता हैलेता है तो कमर तोड़ देता हैपरीक्षा भी लेता है तो कितना कठिन, दुष्कर, प्राणघातकसबकुछ छीन लेता है- प्राण तकजिसने सबकुछ झेलाकभी कुछ न बोलाउफ़ तक न कियासँभलने का समय आया तोउसी के साथ इतना बड़ा अन्यायआखिर क्यों...?क्या इस क्यों.
15 अगस्त 2020
31 जुलाई 2020
क्
क्या मृत्यु से डरना चाहिए……?अगर हम बात मृत्यु की करते हैं तो अनायास आँखों के सामने किसी देखे हुए मृतक व्यक्ति के शव का चित्र उभरकर आ जाता है। मन भी न चाहते हुए शोकाकुल हो उठता है। आखिर ऐसी मनस्थिति के पीछे क्या वजह हो सकती है…? जबकि आज के परिवेश में घर के अंदर भी हमें दिन में ही ऐसी लाशों को देखने क
31 जुलाई 2020
09 अगस्त 2020
मै
मैं सड़क …अरे साहबकोरोना महामारी के कारणफुर्सत मिलीआपबीती सुनाने कामौका मिला।सदियों से सेवाव्रतीदिन-रात सजग तैनातसीनें पर सरपट दौड़ती गाड़ियों का अत्याचार।हाँ साहब.. 'अत्याचार'तेजगति से बेतहाशाचीखती - चिल्लातीभागती गाड़ियाँ..।क्षमता से अधिकबोझ लादे…आवश्यकता से अधिकरफ़्तार में भागती गाड़ियाँ...।मेरे चिथड़े
09 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
28 जुलाई 2020
को
कोरोना देव की कृपाजीवन का नाहीं कौनों ठिकानामरै के चाहिय बस कौनों बहाना बुढ़न ठेलन का बाटै आना जानाजवनकेउ का नाहीं बाटै ठिकानारोग ब्याधि का बाटै ताना बानाफैलल बा भाई वायरस कोरोनाझटके पटके में होला रोना धोनाकितना मरि गयेन बिना कोरोनामेहर माई बाप के बाटै भाई रोनाअस्पताल वाले पैसा लूटत बानाभागल भागल बीर
28 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
अजी ये क्या हुआ…?होली रास नहीं आयाकोरोना काल जो आयामहामारी साथ वो लायाअपना भी हुआ परायाबीपी धक धक धड़कायाछींक जो जोर से आया…तापमान तन का बढ़ायाऐंठन बदन में लायाथरथर काँपे पूरी कायाछूटे लोभ मोह मायादुश्मन लागे पूरा भायापूरा विश्व थरथराया……नाम दिया महामारीजिससे डरे दुनिया सारीचीन की चाल सभी पे भारीबौखला
23 जुलाई 2020
11 अगस्त 2020
अलौकिकचरित्र के महामानव श्रीकृष्णमित्रों, आज हम सब भगवान श्रीकृष्ण का जन्ममहोत्सव मना रहे हैं | तो सबसे पहले तो सभी को इस महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ | आज कहीं लोगव्रत उपवास आदि का पालन कर रहे होंगे, कहीं भगवान कृष्ण की लीलाओं को प्रदर्शित करती आकर्षक झाँकियाँ सजाईजाएँगी तो कहीं भगवान की लीलाओं का
11 अगस्त 2020
21 जुलाई 2020
यह फूल इस सृष्टि का अनमोल उपहार है। कितना सुंदर, मनमोहक और आकर्षक है। वास्तव में प्रकृति की दी हुई हर चीज सुंदर होती है। जिसमें फूलों की तो बात ही कुछ और होती है। रंग विरंगे फूल अपने रंग रूप और सुगंध को फैला देते हैं। जिससे प्रकृति के रूप सौंदर्य में और अधिक निखार आ जाता है। जबकि इन फूलों का जीवन स
21 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
02 अगस्त 2020
जी
जीवित हो अगर, तो जियो जीभरकर...जीते तो सभी हैं पर सभी का जीवन जीना सार्थक नहीं है। कुछ लोग तो जिये जा रहे हैं बस यों ही… उन्हें खुद को नहीं पता है कि वे क्यों जी रहे हैं? क्या उनका जीवन जीना सही मायनें में जीवन है। आओ सबसे पहले हम जीवन को समझे और इसकी आवश्यकता को। जिससे कि हम कह सकें कि जीवित हो अगर
02 अगस्त 2020
19 जुलाई 2020
हि
नई पाठ्यपुस्तक युवकभारती और बारहवीं के छात्रहालही में जहाँ एकतरफ पूरा विश्व कोरोना महामारी अर्थात कोविड-19 से त्रस्त है वहीं महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक मंडल पुणे द्वारा बारहवीं कक्षा के लिए हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में नई पाठ्यपुस्तक हिंदी युवक भारती प्रकाशित की गई है। ऐसे जटिल समय मे
19 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x