जीवित हो अगर, तो जियो जीभरकर...

02 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (357 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवित हो अगर, तो जियो जीभरकर...


जीते तो सभी हैं पर सभी का जीवन जीना सार्थक नहीं है। कुछ लोग तो जिये जा रहे हैं बस यों ही… उन्हें खुद को नहीं पता है कि वे क्यों जी रहे हैं? क्या उनका जीवन जीना सही मायनें में जीवन है। आओ सबसे पहले हम जीवन को समझे और इसकी आवश्यकता को। जिससे कि हम कह सकें कि जीवित हो अगर तो जिओ जमकर…

जीवन जिंदादिली का नाम है मुरदादिल क्या खाक जीते हैं...।आओ इसे समझने के लिए आगे बढ़ते हैं।

वैसे तो गौतम बुद्ध से जुड़ी हुई कई कथाएं हैं, जो हमें जीवन के बहुत गहरे संदेश देती हैं। ऐसी ही एक कथा है बुद्ध और गौतमी की। बुद्ध के समय में श्रावस्ती नगरी में एक कृशा गौतमी नामक महिला रहती थी। उसका एक बेटा था, जो अचानक बीमार होकर मर गया। कुछ समय पहले ही उसके पति का भी देहांत हुआ था। उस पर जैसे दुख का पहाड़ टूट पड़ा। पति की मृत्यु के बाद वह बेटे के आसरे ही जी रही थी।

गौतम बुद्ध उसी नगर के पास रुके हुए थे। लोगों ने महिला को समझाया – रोओ मत, इतना दुखी मत हो।

तुम बच्चे को बुद्ध के पास क्यों नहीं ले जाती। वे बहुत दयालु हैं। वह इसे फिर से जीवित कर देंगे।

महिला बच्चे के शव के साथ भागी-भागी बुद्ध के पास पहुंची।

बुद्ध ने महिला की ओर देखा। उन्होंने उसे बच्चे को अपने सामने ही लिटाने को कहा।

‘हां, मैं इसे जीवित कर दूंगा, लेकिन तुम्हें एक शर्त पूरी करनी होगी,’ बुद्ध बोले।

महिला बोली – ‘बच्चे के लिए मैं अपनी जान भी देने को तैयार हूं।’

बुद्ध बोले – ‘यह एक छोटी-सी शर्त है। मैं कभी बड़ी मांग नहीं करता। तुम बस बगल के गांव में जाओ और कहीं से सरसों के कुछ दाने ले आओ। बस एक बात याद रखना। सरसों के दाने ऐसे घर से आने चाहिए, जहां कभी किसी की मृत्यु नहीं हुई हो।’

महिला अपने बच्चे के दुख में पगलाई हुई थी। वह बुद्ध की बात को समझ नहीं पाई कि कोई ऐसा घर नहीं हो सकता, जहां कभी किसी की मृत्यु ही नहीं हुई हो।

वह दौड़ी-दौड़ी गांव पहुंची। वह जानती थी कि हर घर में सरसों थी, क्योंकि गांव के सभी लोगों ने फसल के रूप में उसी की खेती की थी।

उसने कई द्वार खटखटाए। लोगों ने उसकी कहानी सुनकर कहा – ‘बस सरसों के कुछ दाने? हम बैलगाड़ी भरकर सरसों दे सकते हैं, लेकिन तुम्हारी शर्त पूरी नहीं हो सकती। हमारे घर में कई लोगों की मृत्यु हुई है, हमारे सरसों के दाने तुम्हारे किसी काम के नहीं।’

जब रात हुई, तो महिला को होश आया। उसने हर घर का दरवाजा खटखटाया था। धीरे-धीरे उसे समझ आया कि मृत्यु तो होनी ही है। सभी को मरना पड़ता है। इससे बचने का कोई रास्ता नहीं।

जब वह बुद्ध के पास लौटकर आई, तो वह पूरी तरह बदल चुकी थी।

बुद्ध के पास उसका बच्चा जमीन पर लेटा हुआ था और बुद्ध इंतजार कर रहे थे।

बुद्ध ने महिला से पूछा – ‘सरसों के दाने कहां हैं।’

महिला हंसी और बुद्ध के चरणों में गिर गई।

‘मुझे भी अपने रास्ते पर ले चलो, क्योंकि मैं तुम्हारा संदेश समझ चुकी हूं। हर व्यक्ति को मरना होता है। आज मेरा बेटा मरा है। कुछ समय पहले मेरे पति का देहांत हुआ था। कल मैं भी नहीं रहूंगी। मैं मरने से पहले मृत्यु के पार निकलना चाहती हूं। अब मैं अपने बेटे को दोबारा जीवित नहीं करना चाहती। मैं अब खुद कभी नष्ट नहीं होने वाले जीवन का साक्षात्कार करना चाहती हूं।’

बुद्ध बोले – ‘तुम्हें भेजने का उद्देश्य ही यही था कि तुम जाग जाओ।’

और बुद्ध ने कुशा गौतमी को दीक्षित करना स्वीकार किया।


बुद्ध और गौतमी की कथा हमें अपनी मृत्यु को याद करने का मौका देती है। वह हमें याद दिलाती है कि हम भी इस पृथ्वी पर हमेशा के लिए जीवित नहीं रहने वाले। यह जो चारों ओर प्रकृति की सुंदर छटा बिखरी हुई है, पक्षियों का संगीत फैला हुआ है, सूर्योदय और सूर्यास्त के रंग दिखने को मिलते हैं और यह जो रिश्तों का प्रेम है, मां के प्यार की खुशबू, बच्चों का स्नेह, दोस्तों की यारी, यह सब एक दिन खोने वाला है। इसीलिए क्या अच्छा न होगा कि हम अपने जीवन के हर पल को जागते हुए जिएं, सब कुछ महसूस करते हुए जिएं। बेहोशी में जीवन न गुजार दें। अपने अभिमान, अहंकार, पद, पैसे और ताकत की दौड़ में ही न रहें। प्रेम, दया और करुणा से भरकर हर पल को पूरी गहराई में जीते हुए इस कीमती जीवन को गुजारें। मृत्यु से भयभीत होने की जरूरत नहीं। जिसे आना ही है, उससे भयभीत क्यों होना। लेकिन जीवन तो हमें ठीक से जीना आना चाहिए। याद रखें कि जीवन हमेशा मौजूदा पल में घटित होता है, इसलिए ज्यादा से ज्यादा इस पल में रहने का अभ्यास करें। यह कहना जितना आसान है, करना उतना ही कठिन, क्योंकि मन पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं। बुद्ध ने इसी मन को साधने के लिए छह साल तक ध्यान किया था। लेकिन ज्ञान पाने के बाद उन्होंने किसी भी अति को गलत बताया। जीवन अतियों के बीच के रास्ते पर है। हम अगर रोज थोड़ा-थोड़ा समय ध्यान और योग को दें, तो वह भी पर्याप्त होगा। वह धीरे-धीरे हमारे जीवन को रूपांतरित कर देगा।

बेशक जीवन को रूपांतरित कर देगा पर इसके लिए हमें समय के साथ चलना होगा। जैसे कि वर्तमान समय में कोरोना महामारी का विश्वव्यापी प्रकोप है और ऐसे में बचाव के जो भी सुझाव दिए जा रहे हैं हमें न सिर्फ उनका जीवन में स्वागत करना है बल्कि आत्मसात भी करना है। जैसे हिदायत दी गई कि मास्क पहनना है, सोसियल डिस्टेंसिंग को अपनाना है, हाथ को साबुन से नियमित रूप से धोना है, सेनिटाइजर का प्रयोग करना है और अनावश्यक लोंगों के सम्पर्क में आने से बचना है। यही तो समय के साथ जीवन जीने का सही तरीका है। इससे ही हमारा जीवन लाभान्वित होता है और विकास की ओर उन्मुख होता है।

समझदार और विद्वान जनों ने कहा है कि "जैसी चले बयार पीठि तब तैसी दीजै…" अर्थात समय की नजाकत को देखते हुए हमें आवश्यक परिवर्तन को स्वीकार करना चाहिए।


➖ प्रा. अशोक सिंह

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
09 अगस्त 2020
मै
मैं सड़क …अरे साहबकोरोना महामारी के कारणफुर्सत मिलीआपबीती सुनाने कामौका मिला।सदियों से सेवाव्रतीदिन-रात सजग तैनातसीनें पर सरपट दौड़ती गाड़ियों का अत्याचार।हाँ साहब.. 'अत्याचार'तेजगति से बेतहाशाचीखती - चिल्लातीभागती गाड़ियाँ..।क्षमता से अधिकबोझ लादे…आवश्यकता से अधिकरफ़्तार में भागती गाड़ियाँ...।मेरे चिथड़े
09 अगस्त 2020
13 अगस्त 2020
माँ का रुदन************** अरे ! ये कैसा रुदन है..? स्वतंत्रता दिवस पर्व पर उल्लासपूर्ण वातावरण में देशभक्ति के गीत गुनगुनाते हुये चिरौरीलाल शहीद उद्यान से निकला ही था कि किसी स्त्री के सिसकने की आवाज़ से उसके कदम ठिठक गये थे। ऐसे खुशनुमा माहौल में रुदन का स्वर सुन च
13 अगस्त 2020
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
11 अगस्त 2020
श्री कृष्ण जन्माष्टमीआज और कल पूरा देश जन साधारण को कर्म, ज्ञान, भक्ति, आत्मा आदि की व्याख्या समझानेवाले युग प्रवर्तक परम पुरुष भगवान् श्री कृष्ण का 5247वाँ जन्मदिनमनाने जा रहा है | आज स्मार्तों (गृहस्थ लोग, जो श्रुति स्मृतियों में विश्वास रखते हैं तथापञ्चदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश और माँ पार्व
11 अगस्त 2020
19 जुलाई 2020
हि
नई पाठ्यपुस्तक युवकभारती और बारहवीं के छात्रहालही में जहाँ एकतरफ पूरा विश्व कोरोना महामारी अर्थात कोविड-19 से त्रस्त है वहीं महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक मंडल पुणे द्वारा बारहवीं कक्षा के लिए हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में नई पाठ्यपुस्तक हिंदी युवक भारती प्रकाशित की गई है। ऐसे जटिल समय मे
19 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
यह फूल इस सृष्टि का अनमोल उपहार है। कितना सुंदर, मनमोहक और आकर्षक है। वास्तव में प्रकृति की दी हुई हर चीज सुंदर होती है। जिसमें फूलों की तो बात ही कुछ और होती है। रंग विरंगे फूल अपने रंग रूप और सुगंध को फैला देते हैं। जिससे प्रकृति के रूप सौंदर्य में और अधिक निखार आ जाता है। जबकि इन फूलों का जीवन स
21 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
अजी ये क्या हुआ…?होली रास नहीं आयाकोरोना काल जो आयामहामारी साथ वो लायाअपना भी हुआ परायाबीपी धक धक धड़कायाछींक जो जोर से आया…तापमान तन का बढ़ायाऐंठन बदन में लायाथरथर काँपे पूरी कायाछूटे लोभ मोह मायादुश्मन लागे पूरा भायापूरा विश्व थरथराया……नाम दिया महामारीजिससे डरे दुनिया सारीचीन की चाल सभी पे भारीबौखला
23 जुलाई 2020
31 जुलाई 2020
क्
क्या मृत्यु से डरना चाहिए……?अगर हम बात मृत्यु की करते हैं तो अनायास आँखों के सामने किसी देखे हुए मृतक व्यक्ति के शव का चित्र उभरकर आ जाता है। मन भी न चाहते हुए शोकाकुल हो उठता है। आखिर ऐसी मनस्थिति के पीछे क्या वजह हो सकती है…? जबकि आज के परिवेश में घर के अंदर भी हमें दिन में ही ऐसी लाशों को देखने क
31 जुलाई 2020
20 जुलाई 2020
जीवन क्या है..? या मृत्यु क्या है..? क्या कभी आपने इसे समझने की चेष्टा की है..? नहीं, जरूरत ही नहीं पड़ी। मनुष्य ऐसा ही है.. तो क्या सोच गलत है...जी बिल्कुल नहीं, ये तो मनुष्यगत स्वभाव है। जरा उनके बारे में सोचिए जिन्होंने हमें ज्ञान की बाते
20 जुलाई 2020
29 जुलाई 2020
बप्पा को लाना हमारी जिम्मेदारी है...अबकी बरस तो कोरोना महामारी हैउत्सव मनाना तो हमारी लाचारी हैरस्में निभाना तो हमारी वफादारी हैबप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है।अबकी बरस हम बप्पा को भी लायेंगेंसादगी से हम सब उत्सव भी मनायेंगेंसामाजिक दूरियाँ हम सब अपनायेंगेंमास्क सेनिटाइजर प्रयोग में लायेंगें।दू
29 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
को
पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी
24 जुलाई 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x