युवाओं के साथ होता छल

08 अगस्त 2020   |  nishu ghanghoriya   (438 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत देश युध्द का नहीं बुध्द का देश है, सबसे ज्यादा 65% युवा भारत मे है, लेकिन इन युवाओं का अच्छा मागृदशर्शक न होने के कारण इस देश के युवा बेरोजगारी का आलम लेकर जीवन गुजार रहे हैं इनके अपने सपने है जो ये अपनी मेहनत और लगन से पूरा तो करना चाहते हैं इन युवाओं में न केवल जोश है बल्कि होश के साथ कार्य करना भी जानते हैं परंतु हमारी सरकार जिन्हें हम अपना पृतिनिधीयो को भेजते हैं वो भी इन सवालों से अछुते है इस समय जब हर घर में एक रोजगार की जरूरत है उसके बारे में न सोचते हुये सरकार मदिरो का निर्माण करने में व्यस्त है हम इस कोरोना काल मे भी नहीं समझ पाये कि हमें किस वस्तु की जरूरत है और किस की नहीं "कालृमाकृस ने अपनी पुस्तक मेनीफेसृटो में लिखा है कि' उठो मजदूरों, तुम्हारे पास तुम्हारी बेडियो तोड़ने के अलावा कोई रास्ता नहीं है" वही बात युवाओं पर लागू होती हैं " जागो युवाओं तुम्हारे पास बेरोजगारी खत्म करने के अलावा कोई रास्ता नहीं!

अगला लेख: 18 +



tarun chadokar
19 अगस्त 2020

that's true unemployment is the main drawback in our country

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
1
19 अगस्त 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x