जिंदगी को जिओ पर संजीदगी से....

14 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (458 बार पढ़ा जा चुका है)

जिंदगी जिओ पर संजीदगी से…….


आजकल हम सब देखते हैं कि ज्यादातर लोगों में उत्साह और जोश की कमी दिखाई देती है। जिंदगी को लेकर काफी चिंतित, हताश, निराश और नकारात्मकता से भरे हुए होते हैं। ऐसे लोंगों में जीवन इच्छा की कमी सिर्फ जीवन में एक दो बार मिली असफलता के कारण आ जाती है। फिर ये हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाते हैं। जहाँ एक तरफ दूसरे लोग जो जीवन के प्रति कुछ अलग नजरिया रखते हैं वे आपाधापी में लगे होते हैं। उनका मानना होता है कि जिंदगी तो सिर्फ चलने का नाम है। इसलिए चलते रहो सुबह शाम। अकेलेपन का जीवन जीने वाले लोंगों से आग्रह है कि वे भी जीवन के प्रति अपनी नजरिया बदलें और ये मान लें कि जीवन एक संघर्ष है और उन्हें सतत संघर्ष करना है। ये संघर्ष आजीवन करना है तबतक करना है जबतक मंजिल नहीं मिल जाती है। कहने का तात्पर्य यह है कि जिंदगी को जिओ तो संजीदगी के साथ….।

'जिंदगी जिओ तो जिंदादिली के साथ,

मुर्दा दिल क्या खाक जिया करते हैं...।'

सच में जिंदादिली के साथ जिंदगी को जीने का मजा ही कुछ और है। यहाँ जिंदादिली का मतलब जोश, उमंग, उत्साह, मनोकामना, आशावादिता और हर रोज देखे गए नये सपनों के साथ है। जबकि मुर्दादिल का तात्पर्य उन लोंगों से है जो घोर निराशा, अवसाद और नकारात्मकता से भरे हुए हैं जिनके जीवन से उत्साह और अरमान नदारद हो चुका है। जो अपने आपको लोंगों से अलग कर लिए हैं और अकेलेपन का जीवन जी रहे हैं। आओ इस बात को हम और गहराई से समझते हैं। प्रायः हम देखते हैं कि फिल्मों में नायक-नायिका अर्थात अभिनेता और अभिनेत्री होते हैं। कई बार फ़िल्म में बताया जाता है कि दोनों में से कोई एक किसी गम्भीर बीमारी से ग्रस्त होता है, जो लाइलाज होता है। चिकित्सक बता देता है कि बस अब कुछ चंद दिनों के मेहमान हैं। ऐसे में जिंदगी के प्रति सहसा नजरिया बदल जाता है और उस बीमार व्यक्ति की सारी इच्छाएँ, अरमान और सपनें पूरी करने की कोशिश की जाती है। सोचो जरा हमें पता चलता है कि बस यह जीवन अब अल्पकालिक है तो जिंदगी को कितनी संजीदगी से ले लेते हैं और खुलकर जीते हैं। इतना तो मैं दावे के साथ कहता हूँ कि जिसने भी जिंदगी को करीब से देखा है या फिर जीवन के रहस्य को भलीभाँति समझ लिया है वह हमेशा अपना जीवन खुलकर संजीदगी के साथ जीता है।

'गर जिंदा भी रहे तो यह जवानी फिर कहाँ…

यदि जवानी भी रही तो वो रवानी फिर कहाँ..।'

जिंदगी हमेशा एक जैसी नहीं होती है। जिस तरह जन्म से लेकर मृत्यु तक का सफर ही जीवन है। इस दौरान शैशवावस्था, बाल्यावस्था, किशोरावस्था, युवावस्था और वृद्धावस्था का आगमन होता है। यही एक सुनिश्चित क्रम है। ये बात और है कि इस मृत्युलोक में जीवन में भी अनिश्चितता है जो कि अपने आप में अपवाद है और जो अपवाद है उसे दरकिनार कर देते हैं। हम बात कर रहे थे जिंदगी की कि हर काल और अवस्था की अपनी एक खूबसूरती है और उस खूबसूरती को महससू करना ही जिंदगी की संजीदगी है। वह पड़ाव या अवस्था पार करने के बाद आप उसे दुबारा नहीं जी पाओगे फिर वह यादों में ही कैद रह जाता है ठीक फोटोफ्रेम की तस्वीर की तरह। सोचो जरा आज को खोने या व्यर्थ गंवाने के मतलब क्या है…? यदि हम कल जिंदा भी रहते हैं तो स्वाभाविक रूप से पहले वाली जवानी नहीं होगी और यदि जवानी भी रही तो उसमें पूर्ववत रवानी अर्थात जोश, उमंग, उत्साह नहीं होगा। जो भी जीना है वर्तमान में जीना है। आज में जीना है। आज ही वर्तमान है और सही मायने में यही हमारा है जिस पर थोड़ा अधिकार है। इसलिए इसे खुलकर संजीदगी के साथ जिओ।

'कहते हैं अगले पल का ठिकाना नहीं है,

पर सदियों की तैयारी किए बैठे हैं….।'

पहले ही बताया कि जीवन अनिश्चितता से भरा हुआ है। अगले पल में क्या होगा इसका कोई ठिकाना नहीं है पर मनुष्य सदियों की तैयारी करता है। वो भी वर्तमान में कष्ट झेलकर, पेट काटकर, अरमानों को मचलकर और इच्छाओं का शमन कर के। क्या ये उचित है….? आप पलभर के लिए अपने सीनें पर हाथ रखकरअपने आप से पूछिए। बेशक जवाब मिलेगा कि कितने बड़े मूर्ख और बेवकूफ हैं।

'सच हम नहीं सच तुम नहीं,

सच है सतत संघर्ष ही….।'

बिल्कुल सत्य बात कही गई है कि लगातार संघर्ष करते रहना ही जीवन की सच्चाई है। बेशक जीवन में किसी को कम संघर्ष करना पड़ता है तो किसी को अधिक। पर संघर्ष के बाद ही मिली सफलता में परमसुख और आनंद की प्राप्ति होती है। जो दुःख नहीं झेलते हैं उन्हें सुख की परिभाषा या आनंद की अनुभूति हो ही नहीं सकती है। फिलहाल मनुष्य के हाथ में जो है उसे करना चाहिए और उसी के साथ जिंदगी को संजीदगी से जीना चाहिए।

अंत में यही कहूँगा कि ➖

'जिंदगी है जीने का नाम, इसे जिओ सुबह -शाम…

हरे कृष्णा हरे राम…... हरे कृष्णा हरे राम…….।'


➖प्रा. अशोक सिंह….✒️

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



आप बहुत ही अच्छे लेखक है , आपका लिखा हुआ कबीले तारीफ है

आलोक सिन्हा
14 अगस्त 2020

बिलकुल सच कहा आपने | यदि सबका यह दृष्टि कोंण हो जाये तो बहुत सी समस्यायें तो स्वयं सुलझ जाएँ |

अशोक सिंह
14 अगस्त 2020

धन्यवाद व साधुवाद बंधु👍

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अगस्त 2020
यादों की ज़ंजीर रात्रि का दूसरा प्रहर बीत चुका था, किन्तु विभु आँखें बंद किये करवटें बदलता रहा। एकाकी जीवन में वर्षों के कठोर श्रम,असाध्य रोग और अपनों के तिरस्कार ने उसकी खुशियों पर वर्षों पूर्व वक्र-दृष्टि क्या डाली कि वह पुनः इस दर्द से उभर नहीं सका है। फ़िर भी इन बुझी हुई आशाओं,टूटे हुये हृद
06 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
09 अगस्त 2020
मै
मैं सड़क …अरे साहबकोरोना महामारी के कारणफुर्सत मिलीआपबीती सुनाने कामौका मिला।सदियों से सेवाव्रतीदिन-रात सजग तैनातसीनें पर सरपट दौड़ती गाड़ियों का अत्याचार।हाँ साहब.. 'अत्याचार'तेजगति से बेतहाशाचीखती - चिल्लातीभागती गाड़ियाँ..।क्षमता से अधिकबोझ लादे…आवश्यकता से अधिकरफ़्तार में भागती गाड़ियाँ...।मेरे चिथड़े
09 अगस्त 2020
16 अगस्त 2020
ऐसा भी दिन आएगा कभी सोचा न था….सृष्टि के आदि से लेकर आजतक न कभी ऐसा हुआ था और शायद न कभी होगा….। जो लोग हमारे आसपास 80 वर्ष से अधिक आयु वाले जीवित बुजुर्ग हैं, आप दस मिनिट का समय निकालकर उनके पास बैठ जाइए और कोरोना की बात छेड़ दीजिए। आप देखेंगे कि आपका दस मिनिट का समय कैसे दो से तीन घंटे में बदल गया
16 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
पर्यूषण पर्वभाद्रपद कृष्ण एकादशी – जिसे अजा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है – यानी15 अगस्त से आरम्भ हुएश्वेताम्बर जैन मतावलम्बियों के अष्ट दिवसीय पर्यूषण पर्व का कल सम्वत्सरी के साथसमापन हो चुका है और आज भाद्रपदशुक्ल पञ्चमी से दिगम्बर जैन समुदाय के दश दिवसीय पर्यूषण पर्व का आरम्भ हो रहा है| जैन पर्
23 अगस्त 2020
28 अगस्त 2020
श्रद्धाऔर भक्ति का पर्व श्राद्ध पर्वभाद्रपदशुक्ल चतुर्दशी यानी पहली सितम्बर को क्षमावाणी – अपने द्वारा जाने अनजाने किये गएछोटे से अपराध के लिए भी हृदय से क्षमायाचना तथा दूसरे के पहाड़ से अपराध को भी हृदयसे क्षमा कर देना – के साथ जैन मतावलम्बियों के दशलाक्षण पर्व का समापन होगा |वास्तव में कितनी उदात्त
28 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
श्री कृष्ण जन्माष्टमीआज और कल पूरा देश जन साधारण को कर्म, ज्ञान, भक्ति, आत्मा आदि की व्याख्या समझानेवाले युग प्रवर्तक परम पुरुष भगवान् श्री कृष्ण का 5247वाँ जन्मदिनमनाने जा रहा है | आज स्मार्तों (गृहस्थ लोग, जो श्रुति स्मृतियों में विश्वास रखते हैं तथापञ्चदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश और माँ पार्व
11 अगस्त 2020
02 अगस्त 2020
जी
जीवित हो अगर, तो जियो जीभरकर...जीते तो सभी हैं पर सभी का जीवन जीना सार्थक नहीं है। कुछ लोग तो जिये जा रहे हैं बस यों ही… उन्हें खुद को नहीं पता है कि वे क्यों जी रहे हैं? क्या उनका जीवन जीना सही मायनें में जीवन है। आओ सबसे पहले हम जीवन को समझे और इसकी आवश्यकता को। जिससे कि हम कह सकें कि जीवित हो अगर
02 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
07 अगस्त 2020
मे
मेहतर….साहबअक्सर मैंने देखा हैअपने आस-पासबिल्डिंग परिसर व कालोनियों मेंकाम करते मेहतर परडाँट फटकार सुनातेलोंगों कोजिलालत करतेमारते भर नहींपार कर देते हैं सारी हदेंथप्पड़ रसीद करने में भी नहीं हिचकते।सच साहबकिसी और पर नहींबस उसी मेहतर परजो साफ करता हैउनकी गंदगीबीड़ी सिगरेट की ठुंठेंबियर शराब की खाली बो
07 अगस्त 2020
18 अगस्त 2020
सा
सांत्वना देते हुए.....चिंटू बच्चा…..सुनकर बहुत दुःख हुआ….दो मिनट के लिए तो आँखों के आगे अँधेरा सा छा गया…कहने के लिए कुछ बचा ही नहीं….क्या कहूँ… क्या बोलूँ….. कुछ समझ में नहीं आ रहा है।हिम्मत से काम लेना… घरवालों का ध्यान रखना।ईश्वर की लीला समझना सबके बस की बात नहीं…इतना ही समझ जायें तो फिर इंसान दर
18 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
15 अगस्त 2020
अब नहीं रहा.....NO more...ईश्वर की लीला ईश्वर ही जानें..देता है तो जी भर देता हैलेता है तो कमर तोड़ देता हैपरीक्षा भी लेता है तो कितना कठिन, दुष्कर, प्राणघातकसबकुछ छीन लेता है- प्राण तकजिसने सबकुछ झेलाकभी कुछ न बोलाउफ़ तक न कियासँभलने का समय आया तोउसी के साथ इतना बड़ा अन्यायआखिर क्यों...?क्या इस क्यों.
15 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x