कैसी हो शिक्षा नीति ?

17 अगस्त 2020   |  Arun choudhary(sir)   (404 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वतंत्र भारत में आजादी के बाद कई बार शिक्षा के क्षेत्र में बदलाव किए गए । लेकिन एक भी बार उसे अमलीजामा नहीं पहनाया गया। इन सभी नीतियों में जोअमूल चुल परिवर्तन हुए वो हमारे देश के विद्वानों ने किए,लेकिन वास्तविकता की धरातल पे लागू नही हो पाए।आखिर ऐसा क्यों ? क्यों हम इन परिवर्तनों को देश में पूरी तरह से लागू नहीं कर पा रहे? इन सबके लिए आश्यकता है कड़ी इच्छा शक्ति की,और वह हमारे राजनेताओं ,अधिकारियों ,कर्मचारियों,शिक्षकों तथा पालकों में सर्वथा अभाव जन्य है।लॉर्ड मैकाले की दी गई पद्धति आज भी सिर चढ़ के बोल रही।आखिर कब तक हम इसे अपने सीने से चिपका के रखेंगे? समय के साथ परिवर्तन जरूरी है,जो राजनैतिक इच्छा शक्ति से ही संभव है।इसकी शुरुआत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के द्वारा हो चुकी है।प्रारंभिक शिक्षा सबसे अधिक महत्वपूर्ण है,जो हमारे बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए जरूरी है।अंग्रेजी की रटटामार प्रणाली से दूर आधारभूत ज्ञान ,नैतिक ज्ञान,शारीरिक शिक्षा ये सारी विधाएं हमारी अपनी मातृभाषा में शीघ्रातिशीघ्र विद्यार्थियों द्वारा आत्मसात होगी।इस तरह वास्तविक रूप से बच्चे जीवन आवश्यक ज्ञान प्राप्त कर सकेेंगे। उस ज्ञान का अपने जीवन में सदुपयोग कर पाएंगे।माध्यमिक शिक्षा के क्षेत्र में मुख्य परिवर्तन यह किया गया कि बालक अपनी रुचि अनुसार अतिरिक्त विषय चुन कर रोजगारोन्मुख ज्ञान पाने की शुरुआत कर देगा।आज विश्व में कम्यूटर कोडिंग का ज्ञान बहुत जरूरी है,उसे नई प्रणाली में शामिल किया जा रहा है।अभी तक की शिक्षा प्रणाली में अंक प्राप्त करने के लिए बहुत सारे व्यर्थ के विषयों या अध्यायों का अध्ययन करवाया जाता था।अब इस प्रणाली में अनावश्यक विषयों या अध्यायों का विलोपन कर दिया जाएगा ,इससे विद्यार्थियों पर जीवन में कोई भी काम ना आने वाला बोझ खत्म हो जाएगा।

एक खास परिवर्तन यह कि आप बीच में ही किसी विषय को छोड़ कर अन्य विषय में उपाधि ले सकते है।और आप बाद में छोड़े गए विषय के आगे का अध्ययन कर उसकी उपाधि भी प्राप्त कर सकते है।इस प्रकार पूर्व में की गई पढ़ाई व्यर्थ नहीं होगी।रिसर्च के लिए एम फिल की डिग्री जरूरी नहीं होगी ,जो व्यर्थ ही समय खर्च करती थी।

लेकिन इन सभी संशोधनों को लागू करने के लिए मूल रूप से शिक्षकों का सहयोग जरूरी है।खास तौर पे सरकारी विद्यालयों के अध्यापकों को इसमें सहभागी बन कर देश को एक नई दिशा की ओर मोड़ना होगा।अभी बहुत सारी डिग्रियां केवल दिखावे के लिए ही है,जो युवकों को रोजगार नहीं दे पाती केवल पढ़ालिखा बेरोजगार बना देती है।जरूरत है ऐसी शिक्षा नीति की जिसके द्वारा नौकरी करने वालों के साथ साथ स्वव्यवसाय खड़ा कर दूसरों को रोजगार देने वाले भी उत्पन्न कर सके।

आज हमारे देश में इंजीनियरिंग कॉलेजों की बाढ़ आ गई है जो केवल इंजीनियर नाम के लिए तैयार करते है,जो छोटी छोटी क्वेश्चन बैंक्स पढ़ कर पास हो जाते है।जबकि इंजीनियर लायक ज्ञान उन्हें नाममात्र का होता है।और खड़ी कर देते है कई बेरोजगार इंजीनियरों की फौज।हमें इन सबसे निजात पानी होगी।शिक्षा का व्यवसायिकरण छोड़कर गुणवत्ता पर फोकस रखना होगा,ताकि ऐसी पीढ़ी तैयार हो जो नैतिक ,शारीरिक,प्रायोगिक,और सामान्य मूल ज्ञान से परिपूर्ण हो।इसमें पालकों को भी सहभागी बनना होगा ,बच्चों को अंकों की होड़ से और किताबी ज्ञान से दूर वास्तविकता की धरातल पे खड़ा करना होगा।साम ,दाम, दण्ड ,भेद के द्वारा अपने बच्चों को केवल किताबी ज्ञान देकर आगे बढ़ाना उनकी ज़िंदगी के साथ धोखा देना है।

अगला लेख: रेत पे उकेरी आकृति



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2020
नीट एग्जाम में एडमिशन लेने का और तैयारी करने का तरीका। NIT University ki complete jankariदोस्तो क्या आप nit university के बारे में जानते हो ? अगर नही जानते हो तो आप इस पोस्ट में india nit university के विषय में जानोगे। पिछली post में हम nit के बारे में कम्पलीट जानकारी दे च
23 अगस्त 2020
26 अगस्त 2020
भगवान में रखते है सभी विश्वास,अपनी अपनी आस्था; कुछ साकार तो कुछ निराकार ,लेकिन रखते है अपनी अपनी आस्था।कुछ आस्थाओं पर चोट करते है, दुःख की घड़ी में वही ईश्वर से आस करते है;कुछ सुख आने पर आस्थाओं पर,दुष्टों के साथ मिल कर अट्टहास करते है;आने वाले कष्ट उन सभी दुष्टों को,ईश्वर
26 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
झूठा सम्मान पाने के लिए ,मैंने कभी चरित्र की इमारत नहीं खड़ी की; लोगों को दिखाने के लिए, मैंने कभी चरित्र की खांट नहीं बुनी;धन कमाने के लिए,मैंने
11 अगस्त 2020
17 अगस्त 2020
ज़
ज़िन्दगी का सफर ,बहुत रोमांच भरा है;इसमें सुख और दुख दोनों का सामना है;मजा इसी में है यारों कि दुख के बाद सुख का आमना है।ज़िन्दगी के हर लम्हे को हसीन पलों में कैद कर लो;दुख के समय इन्हे याद कर , पारी उसकी समेट लो।ज़िन्दगी जिंदादिली से जियो यारों,अपने साथ बीते हसीन पलों को क्यों खो दो।
17 अगस्त 2020
08 अगस्त 2020
ख़
ये खामोशियां,ये खामोशियां,बहुत कुछ कह गई ;ये खामोशियां।गुस्से के बाद की खामोशियां ,क्या क्या कहती है;कोई जान ना पाता,क्या कह रही है ये खामोशियां।दो अनजान मिलें तो कुछ कहती है खामोशियां;बहुत कुछ आंखें बयां
08 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
कब तक तुम मुंह मोडोगे, आखिर सच्चाई से ; कब तक मुंह छुपाओगे ,सच्चाई जानने वालों से।झूठे ख्वाबों के ढेर पर बैठ,कब तक खुशफहमी पालेंगे;नकली खुशियों के ये ढेर,यूं ही जल्दी से बिखर जाएंगे।वास्तविकता आधार पर टिकी है,गलतफहमी ना पालों;बनावटी बातों का आधार नहीं, कोई खुशफहमी ना पालों
27 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x