बरखा का मौसम

22 अगस्त 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (295 बार पढ़ा जा चुका है)

बरखा का मौसम

पिछले कुछ दिनों से बरखा रानी लगातार अपना मादक नृत्य दिखा दिखा कर रसिक जनों को लुभा रही हैं... और पर्वतीय क्षेत्रों में तो वास्तव में ग़ज़ब का मतवाला मौसम बना हुआ है... तन और मन को अमृत रस में भिगोतीं रिमझिम फुहारें... हरित परिधान में लिपटी प्रेयसि वसुंधरा से लिपट उसका चुम्बन लेते ऊदे कारे मेघ... एक ओर अपनी वंशी पर सन सनननन का गान सुनाते पवन देव... तो दूसरी ओर झीन झुन झीन झुन का इकतारा बजाती झींगुरों की टोली... और कभी समवेत स्वर में सामवेद का गान करते दादुर... साथ में टिम टिम टिमकाते अन्धकार में प्रकाश की कुछ किरणें बिखराते झींगुरों की बारात... क्या कुछ उत्सव धरा आकाश मिलकर मना रहे हैं कि वास्तव में मन मचला जाता है और गा उठता है... ये बरखा का मौसम सजीला सजीला... पूरी रचना सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्यायनी...

https://youtu.be/QDu8F4B4NhQ

अगला लेख: श्राद्ध पक्ष में पाँच ग्रास निकालने का महत्त्व



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2020
श्री कृष्ण जन्म महोत्सवमंगलवार 11 अगस्त को प्रातः नौ बजकर सात मिनट के लगभग बालव करण और वृद्धि योग मेंभाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि का आरम्भ हो रहा है जो बारह अगस्त को प्रातः ग्यारहबजकर सोलह मिनट तक रहेगी | इस प्रकार ग्यारह अगस्त को स्मार्तों की श्री कृष्णजन्माष्टमी है और बारह अगस्त को वैष्णवों की श्री क
08 अगस्त 2020
09 अगस्त 2020
हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतरझाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप मेंविराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिसदिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रहजाएगी... कुछ
09 अगस्त 2020
28 अगस्त 2020
श्रद्धाऔर भक्ति का पर्व श्राद्ध पर्वभाद्रपदशुक्ल चतुर्दशी यानी पहली सितम्बर को क्षमावाणी – अपने द्वारा जाने अनजाने किये गएछोटे से अपराध के लिए भी हृदय से क्षमायाचना तथा दूसरे के पहाड़ से अपराध को भी हृदयसे क्षमा कर देना – के साथ जैन मतावलम्बियों के दशलाक्षण पर्व का समापन होगा |वास्तव में कितनी उदात्त
28 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
सप्तक के स्वरों की स्थापना सर्वप्रथम महर्षि भरत के द्वारा मानी जातीहै | वे अपने सप्त स्वरों को षड़्ज ग्रामिकस्वर कहते थे | षड़्जग्राम से मध्यम ग्राम और मध्यम ग्राम से पुनः षड़्ज ग्राम में आने के लिये उन्हें दोस्वर स्थानों को और मान्यता देनी पड़ी, जिन्हें ‘अंतर गांधार’ और ‘काकली निषाद’ कहा गया | महर्
27 अगस्त 2020
20 अगस्त 2020
कालिदास सदा सम सामयिकआषाढ़शुक्ल प्रतिपदा – जो की इस वर्ष 21 जून को थी – को महाकवि कालिदास के जन्मदिवस के रूप में कुछ लोग मानते हैं| अभी पिछले दिनों एक मित्र इसी विषय पर चर्चा कर रहे थे कि कोरोना संकट के कारणमहाकवि की जयन्ती नहीं मनाई जा सकी | मैं कालिदासकी अध्येता हूँ और वे हमारे प्रिय कवि हैं, सो उन
20 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
पर्यूषण पर्वभाद्रपद कृष्ण एकादशी – जिसे अजा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है – यानी15 अगस्त से आरम्भ हुएश्वेताम्बर जैन मतावलम्बियों के अष्ट दिवसीय पर्यूषण पर्व का कल सम्वत्सरी के साथसमापन हो चुका है और आज भाद्रपदशुक्ल पञ्चमी से दिगम्बर जैन समुदाय के दश दिवसीय पर्यूषण पर्व का आरम्भ हो रहा है| जैन पर्
23 अगस्त 2020
25 अगस्त 2020
बिना पतवार ओ माँझीउम्र की नैया चलती जाए... भव सागर की लहरों में हिचकोले खाती उम्र की नैया निरन्तरआगे बढ़ती जाती है... अपना गन्तव्य पर पहुँच कर ही रहती है... कितनी तूफ़ान आएँ...पर ये बढ़ती ही जाती है... कुछ इसी तरह के उलझे सुलझे से विचार आज की इस रचना मेंहैं... सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्याय
25 अगस्त 2020
26 अगस्त 2020
पर्यूषण पर्व चल रहे हैं, और आज भाद्रपद शुक्ल अष्टमी को भगवान श्री कृष्ण की परा शक्ति श्री राधा जी का जन्मदिवस राधा अष्टमी भी है – सर्वप्रथम सभी को श्री राधाअष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ...गीता गायक भगवान श्री कृष्ण... पर्यूषण पर्व के
26 अगस्त 2020
25 अगस्त 2020
बिना पतवार ओ माँझीउम्र की नैया चलती जाए... भव सागर की लहरों में हिचकोले खाती उम्र की नैया निरन्तरआगे बढ़ती जाती है... अपना गन्तव्य पर पहुँच कर ही रहती है... कितनी तूफ़ान आएँ...पर ये बढ़ती ही जाती है... कुछ इसी तरह के उलझे सुलझे से विचार आज की इस रचना मेंहैं... सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्याय
25 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
अलौकिकचरित्र के महामानव श्रीकृष्णमित्रों, आज हम सब भगवान श्रीकृष्ण का जन्ममहोत्सव मना रहे हैं | तो सबसे पहले तो सभी को इस महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ | आज कहीं लोगव्रत उपवास आदि का पालन कर रहे होंगे, कहीं भगवान कृष्ण की लीलाओं को प्रदर्शित करती आकर्षक झाँकियाँ सजाईजाएँगी तो कहीं भगवान की लीलाओं का
11 अगस्त 2020
04 सितम्बर 2020
कुछ महीने पहले स्कूल की एक कॉपी मिली...उंगलियां पन्ने पलटने को हुई।दफ़्तर को देर हो रही थी,उंगलियों से कहा फिर कभी सही...कॉपी ने कहा ज़रा ठहर कर तो देख लो,9वीं क्लास की चौथी बेंच से झांक लो!"फिर कभी सही"आज याद आया तो देखा...कॉपी रूठ कर फिर से खो गई...#ज़हन
04 सितम्बर 2020
09 अगस्त 2020
हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतरझाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप मेंविराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिसदिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रहजाएगी... कुछ
09 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x