एक औरत बहुत महँगे कपड़े में अपने मनोचिकित्सक के पास गई

23 अगस्त 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (301 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रेरणादायक कहानी


एक औरत बहुत महँगे कपड़े में अपने मनोचिकित्सक के पास गई.


वह बोली, "डॉ साहब ! मुझे लगता है कि मेरा पूरा जीवन बेकार है, उसका कोई अर्थ नहीं है। क्या आप मेरी खुशियाँ ढूँढने में मदद करेंगें?"


मनोचिकित्सक ने एक बूढ़ी औरत को बुलाया जो वहाँ साफ़-सफाई का काम करती थी और उस अमीर औरत से बोला - "मैं इस बूढी औरत से तुम्हें यह बताने के लिए कहूँगा कि कैसे उसने अपने जीवन में खुशियाँ ढूँढी। मैं चाहता हूँ कि आप उसे ध्यान से सुनें।"


तब उस बूढ़ी औरत ने अपना झाड़ू नीचे रखा, कुर्सी पर बैठ गई और बताने लगी - "मेरे पति की मलेरिया से मृत्यु हो गई और उसके 3 महीने बाद ही मेरे बेटे की भी सड़क हादसे में मौत हो गई।


मेरे पास कोई नहीं था। मेरे जीवन में कुछ नहीं बचा था। मैं सो नहीं पाती थी, खा नहीं पाती थी, मैंने मुस्कुराना बंद कर दिया था।"


मैं स्वयं के जीवन को समाप्त करने की तरकीबें सोचने लगी थी।


तब एक दिन,एक छोटा बिल्ली का बच्चा मेरे पीछे लग गया जब मैं काम से घर आ रही थी। बाहर बहुत ठंड थी इसलिए मैंने उस बच्चे को अंदर आने दिया। उस बिल्ली के बच्चे के लिए थोड़े से दूध का इंतजाम किया और वह सारी प्लेट सफाचट कर गया। फिर वह मेरे पैरों से लिपट गया और चाटने लगा।"


"उस दिन बहुत महीनों बाद मैं मुस्कुराई। तब मैंने सोचा यदि इस बिल्ली के बच्चे की सहायता करने से मुझे ख़ुशी मिल सकती है, तो हो सकता है कि दूसरों के लिए कुछ करके मुझे और भी ख़ुशी मिले।


इसलिए अगले दिन मैं अपने पड़ोसी, जो कि बीमार था,के लिए कुछ बिस्किट्स बना कर ले गई।"


"हर दिन मैं कुछ नया और कुछ ऐसा करती थी जिससे दूसरों को ख़ुशी मिले और उन्हें खुश देख कर मुझे ख़ुशी मिलती थी।"


"आज,मैंने खुशियाँ ढूँढी हैं, दूसरों को ख़ुशी देकर।"

यह सुन कर वह अमीर औरत रोने लगी।


उसके पास वह सब था जो वह पैसे से खरीद सकती थी। लेकिन उसने वह चीज खो दी थी जो पैसे से नहीं खरीदी जा सकती।


मित्रों! हमारा जीवन इस बात पर निर्भर नहीं करता कि हम कितने खुश हैं अपितु इस बात पर निर्भर करता है कि हमारी वजह से कितने लोग खुश हैं।मित्रों! हमारा जीवन इस बात पर निर्भर नहीं करता कि हम कितने खुश हैं अपितु इस बात पर निर्भर करता है कि हमारी वजह से कितने लोग खुश हैं।मित्रों! हमारा जीवन इस बात पर निर्भर नहीं करता कि हम कितने खुश हैं अपितु इस बात पर निर्भर करता है कि हमारी वजह से कितने लोग खुश हैं।


तो आईये आज शुभारम्भ करें इस संकल्प के साथ कि आज हम भी किसी न किसी की खुशी का कारण बनें।


अगला लेख: पेरियार ललई सिंह यादव की जयंती समारोह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अगस्त 2020
हक न सही जीने की आजादी दो।देश की कोहनूर है बेटियाँ, इन्हें चुराया नही जाता।घर की शान है बेटियाँ बचाया और पढ़ाया जाता।वक्त आने पर बेटी किसी और के लिए सजाई जाती।एक और दुनियाँ बसाने के लिए दुल्हन बनाई जाती ।चीख़-चित्कार के झमेलों में क्यो फसाई जाती है बेटीयाँ?नूर और हूर होने के बावजूद क्यो छेड़ी जाती है ब
13 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
अजय विश्कर्मा तहसील अध्यक्ष मेजा के उपस्थिति में मनोज कुमार बिन्दतहसील उपाध्यक्ष मेजा प्रधानमंत्री जन कल्याणकारी योजना के पद से सम्मनित किया गया जिसमे संदीप कुमार मिश्रा कोतहसील मंत्री मेजा औरसंजीव उपाध्याय जी कोमहा मंत्री मेजा के पद से सम्मनित किया गया।
27 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅विधार्थी जीवन 🧑‍💻👨‍🎓🙇‍♂ में समय का ⏰महत्व👇👇👇समय की सही किमत ⏱ पहचानने वाला ही सफलता का सितारा 🌟बनाता है। विधार्थी जीवन के गुजरते हर क्षण 🕰करोड़ों हीरों 💎💎💎 से भी अधिक मूल्यवान होते हैं ‼️ क्योंकि ये जीवन में सुख, शान्ति और सफलता 🏆🥇प्रदान करने वाले होते है
23 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
जी
🌹🙏जीवन बदलने वाली कहानी🙏🌹पिता और पुत्र साथ-साथ टहलने निकले,वे दूर खेतों 🌾🌿की तरफ निकल आये, तभी पुत्र 👱 ने देखा कि रास्ते में, पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते 👞👟🥾उतरे पड़े हैं, जो ...संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर 👳‍♀ के थे.पुत्र को मजाक 🧐सूझा. उसने पिता से कहा क्यों न आज की श
23 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
नौकरानी********** समीप के देवी मंदिर में कोलाहल मचा हुआ था। मुहल्ले की सुहागिन महिलाएँ पौ फटते ही पूजा का थाल सजाये घरों से निकल पड़ी थीं। उनके पीछे- पीछे बच्चे भी दौड़ पड़े थे। उधर,आकाँक्षा इन सबसे से अंजान सिर झुकाए नित्य की तरह घर के बाहर गली में मार्निंग वॉक कर रही थी । वह भूल चुकी थी कि
27 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅विधार्थी जीवन 🧑‍💻👨‍🎓🙇‍♂ में समय का ⏰महत्व👇👇👇समय की सही किमत ⏱ पहचानने वाला ही सफलता का सितारा 🌟बनाता है। विधार्थी जीवन के गुजरते हर क्षण 🕰करोड़ों हीरों 💎💎💎 से भी अधिक मूल्यवान होते हैं ‼️ क्योंकि ये जीवन में सुख, शान्ति और सफलता 🏆🥇प्रदान करने वाले होते है
23 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
जी
🌹🙏जीवन बदलने वाली कहानी🙏🌹पिता और पुत्र साथ-साथ टहलने निकले,वे दूर खेतों 🌾🌿की तरफ निकल आये, तभी पुत्र 👱 ने देखा कि रास्ते में, पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते 👞👟🥾उतरे पड़े हैं, जो ...संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर 👳‍♀ के थे.पुत्र को मजाक 🧐सूझा. उसने पिता से कहा क्यों न आज की श
23 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x