जीवन बदलने वाली कहानी

23 अगस्त 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (293 बार पढ़ा जा चुका है)

🌹🙏जीवन बदलने वाली कहानी🙏🌹



पिता और पुत्र साथ-साथ टहलने निकले,वे दूर खेतों 🌾🌿की तरफ निकल आये, तभी पुत्र 👱 ने देखा कि रास्ते में, पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते 👞👟🥾उतरे पड़े हैं, जो ...संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर 👳‍♀ के थे.


पुत्र को मजाक 🧐सूझा. उसने पिता से कहा क्यों न आज की शाम को थोड़ी शरारत से यादगार 😃 बनायें,आखिर ... मस्ती ही तो आनन्द का सही स्रोत है. पिता ने असमंजस से बेटे की ओर देखा.🤨


पुत्र बोला ~ हम ये जूते👞👟🥾 कहीं छुपा कर झाड़ियों🌲 के पीछे छुप जाएं.जब वो मजदूर इन्हें यहाँ नहीं पाकर घबराएगा तो बड़ा मजा😂 आएगा.उसकी तलब देखने लायक होगी, और इसका आनन्द ☺️मैं जीवन भर याद रखूंगा.



पिता, पुत्र की बात को सुन गम्भीर 🤫हुये और बोले " बेटा ! किसी गरीब और कमजोर के साथ उसकी जरूरत की वस्तु के साथ इस तरह का भद्दा मजाक कभी न करना ❌. जिन चीजों की तुम्हारी नजरों में कोई कीमत नहीं,वो उस गरीब के लिये बेशकीमती हैं. तुम्हें ये शाम यादगार ही बनानी है,✅



तो आओ .. आज हम इन जूतों👞👟🥾 में कुछ सिक्के 💰💷डाल दें और छुप कर 👀 देखें कि ... इसका मजदूर👳‍♀ पर क्या प्रभाव पड़ता है.पिता ने ऐसा ही किया और दोनों पास की ऊँची झाड़ियों 🌲🌿में छुप गए.


मजदूर 👳‍♀ जल्द ही अपना काम ख़त्म कर जूतों 👞👟🥾की जगह पर आ गया. उसने जैसे ही एक पैर 👢 जूते में डाले उसे किसी कठोर चीज का आभास हुआ 😲, उसने जल्दी से जूते हाथ में लिए और देखा कि ...अन्दर कुछ सिक्के 💰💷 पड़े थे.


उसे बड़ा आश्चर्य हुआ और वो सिक्के हाथ में लेकर बड़े गौर से 🧐उन्हें देखने लगा.फिर वह इधर-उधर देखने लगा कि उसका मददगार 🤝शख्स कौन है ?


दूर-दूर तक कोई नज़र👀 नहीं आया, तो उसने सिक्के अपनी जेब में डाल लिए. अब उसने दूसरा जूता उठाया, उसमें भी सिक्के पड़े थे.


मजदूर भाव विभोर ☺️हो गया.

वो घुटनो के बल जमीन पर बैठ ...आसमान की तरफ देख फूट-फूट कर रोने लगा 😭. वह हाथ जोड़ 🙏 बोला


हे भगवान् 🙏 ! आज आप ही ☝️ किसी रूप में यहाँ आये थे, समय पर प्राप्त इस सहायता के लिए आपका और आपके माध्यम से जिसने भी ये मदद दी,उसका लाख-लाख धन्यवाद 🙌🙏.आपकी सहायता और दयालुता के कारण आज मेरी बीमार पत्नी 🤒🤧🤕को दवा और भूखे बच्चों 👦को रोटी🍜🥪 मिल सकेगी.तुम बहुत दयालु हो प्रभु ! आपका कोटि-कोटि धन्यवाद.🙏☺️


मजदूर की बातें सुन ... बेटे की आँखें 👁भर आयीं.😥😩


पिता 👨‍🦳ने पुत्र👱 को सीने से लगाते हुयेे कहा क्या तुम्हारी मजाक मजे वाली बात से जो आनन्द तुम्हें जीवन भर याद रहता उसकी तुलना में इस गरीब के आँसू😢 और दिए हुये आशीर्वाद🤚 तुम्हें जीवन पर्यंत जो आनन्द देंगे वो उससे कम है, क्या ❓


बेटे ने कहा पिताजी .. आज आपसे मुझे जो सीखने ✍🙇 को मिला है, उसके आनंद ☺️ को मैं अपने अंदर तक अनुभव कर रहा हूँ. अंदर में एक अजीब सा सुकून☺️ है.


आज के प्राप्त सुख 🤗और आनन्द को मैं जीवन भर नहीं भूलूँगा. आज मैं उन शब्दों का मतलब समझ गया जिन्हें मैं पहले कभी नहीं समझ पाया था.आज तक मैं मजा और मस्ती-मजाक को ही वास्तविक आनन्द समझता था, पर आज मैं समझ गया हूँ कि लेने की अपेक्षा देना कहीं अधिक आनंददायी है। ✅



अगला लेख: पेरियार ललई सिंह यादव की जयंती समारोह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अगस्त 2020
एक कहानी - वो काटा“मेम आठ मार्च में दो महीनेसे भी कम का समय बचा है, हमें अपनी रिहर्सल वगैरा शुरू कर देनी चाहिए…”डॉ सुजाता International Women’s Day के प्रोग्राम की बात कर रही थीं |‘जी डॉ, आप फ़िक्र मत कीजिए, आराम से हो जाएगा… आप बस अगले हफ्ते एक मीटिंग बुला लीजिये, बात करते हैं सबसे…” मोबाइल पर बात क
30 अगस्त 2020
02 सितम्बर 2020
दू
जिंदगी लंबी नहीं बड़ी हों कमी न हो जिंदगी में प्यार की घड़ी सांचा प्रेम हों तो मूरत बोले माटी की, दूरी ने कर दिया, तुझे और भी करीब तेरा ख्याल आकर ना जाए तो क्या करें। तुझसे दूर होकर, ऐसे वक्त गुजर रहा है, कि बिन होंठ हिले, मैंने तुझे पुकारा है। जब तेरे दिल में एहसास ही ना बचा मेरा तो मेरे होने या ना
02 सितम्बर 2020
23 अगस्त 2020
प्रेरणादायक कहानी एक औरत बहुत महँगे कपड़े में अपने मनोचिकित्सक के पास गई. वह बोली, "डॉ साहब ! मुझे लगता है कि मेरा पूरा जीवन बेकार है, उसका कोई अर्थ नहीं है। क्या आप मेरी खुशियाँ ढूँढने में मदद करेंगें?"मनोचिकित्सक ने एक बूढ़ी औरत को बुलाया जो वहाँ साफ़-सफाई का काम करती थी और उस अमीर औ
23 अगस्त 2020
01 सितम्बर 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /प्रयागराज /मेजा/लोहड़ी आज पीपल्स पार्टी ऑफ इंडिया डेमोक्रेटिक के तत्वावधान में आज मेजा विधनसभा के लोहड़ी जिला कार्यालय पर पेरियार ललई सिंह यादव की जयंती मनाई गई।जिसकी अध्यक्षता जिला अध्यक्ष मा. रोहित लाल पटेल जी ने किया कार्यक्रम का संचालन मा.जगत बहादुर यादव प्रदेश उपाध्यक्ष जी ने क
01 सितम्बर 2020
23 अगस्त 2020
प्रेरणादायक कहानी एक औरत बहुत महँगे कपड़े में अपने मनोचिकित्सक के पास गई. वह बोली, "डॉ साहब ! मुझे लगता है कि मेरा पूरा जीवन बेकार है, उसका कोई अर्थ नहीं है। क्या आप मेरी खुशियाँ ढूँढने में मदद करेंगें?"मनोचिकित्सक ने एक बूढ़ी औरत को बुलाया जो वहाँ साफ़-सफाई का काम करती थी और उस अमीर औ
23 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /मेजा/ पटिया मौके पर पहुँच कर -वरिष्ठ समाज सेवी संदीप कुमार मिश्रा ने किया घायल बच्चे की मददराशिद अली 6 वर्ष पिता मोहर्रम अली जो कि अपने घर से खेत की तरफ जा रहा था. उतने में बाइक सवार से टक्कर होने से गम्भीर रूप से सर में काफी चोट आयी तुरंत सी.एच. सी. रामनगर ले आया गया तुरंत एस. आर
27 अगस्त 2020
07 सितम्बर 2020
मोक्ष*****(जीवन के रंग) बचपन से ही वह सुनता आ रहा है कि जैसा कर्म करोगे-वैसा फल मिलेगा , किन्तु अब जाकर इस निष्कर्ष पर पहुँचा है कि पाप-पुण्य की परिभाषा सदैव एक-सी नहीं होती है। बहुधा उदारमना व्यक्ति को भी कर्म की इसी पाठशाला में ऐसा भयावह दंड मिलता है कि उसकी अंतर्रात्मा यह कह चीत्कार कर उठती है
07 सितम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x