देखने का नजरिया* !!

29 अगस्त 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (340 बार पढ़ा जा चुका है)

देखने का नजरिया* !!



!! *देखने का नजरिया* !!

-----------------------------------------------


एक दिन एक अमीर व्यक्ति अपने बेटे को एक गाँव की यात्रा पर ले गया | वह अपने बेटे को यह बताना चाहता था वे कितने अमीर और भाग्यशाली है जबकि गाँवों के लोग कितने गरीब है | उन्होंने कुछ दिन एक गरीब के खेत पर बिताए और फिर अपने घर वापस लौट गए | घर लौटते वक्त रास्ते में उस अमीर व्यक्ति ने अपने बेटे को पूछा – “तुमने देखा लोग कितने गरीब है और वे कैसा जीवन जीते है?? बेटे ने कहा – “हां मैंने देखा। “हमारे पास एक कुता है और उनके पास चार है”।


“हमारे पास एक छोटा सा स्वीमिंग पूल है और उनके पास एक पूरी नदी है” “हमारे पास रात को जलाने के लिए विदेशों से मंगाई हुई कुछ महँगी लालटेन है और उनके पास रात को चमकने वाले अरबों तारें है” “हम अपना खाना बाज़ार से खरीदते है जबकि वे अपना खाना खुद अपने खेत में उगाते है। हमारा एक छोटा सा परिवार है जिसमें पांच लोग है, जबकि उनका पूरा गाँव, उनका परिवार है।


“हमारे पास खुली हवा में घूमने के लिए एक छोटा सा गार्डन है और उनके पास पूरी धरती है जो कभी समाप्त नहीं होती” “हमारी रक्षा करने के लिए हमारे घर के चारों तरफ बड़ी बड़ी दीवारें है और उनकी रक्षा करने के लिए उनके पास अच्छे-अच्छे दोस्त है” अपने बेटे की बाते सुनकर अमीर व्यक्ति कुछ बोल नहीं पा रहा था | बेटे ने अपनी बात समाप्त करते हुए कहा – “धन्यवाद पिताजी, मुझे यह बताने के लिए की हम कितने गरीब है।


*शिक्षा*:-

उपर्युक्त कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती हैं कि व्यक्ति जैसा सोचता हैं, उसे सब कुछ वैसा ही नजर आता हैं। सब अपने देखने के नजरिये पर ही निर्भर करता हैं।


अगला लेख: पेरियार ललई सिंह यादव की जयंती समारोह



लाजवाब कहानी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2020
जी
🌹🙏जीवन बदलने वाली कहानी🙏🌹पिता और पुत्र साथ-साथ टहलने निकले,वे दूर खेतों 🌾🌿की तरफ निकल आये, तभी पुत्र 👱 ने देखा कि रास्ते में, पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते 👞👟🥾उतरे पड़े हैं, जो ...संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर 👳‍♀ के थे.पुत्र को मजाक 🧐सूझा. उसने पिता से कहा क्यों न आज की श
23 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
प्रेरणादायक कहानी एक औरत बहुत महँगे कपड़े में अपने मनोचिकित्सक के पास गई. वह बोली, "डॉ साहब ! मुझे लगता है कि मेरा पूरा जीवन बेकार है, उसका कोई अर्थ नहीं है। क्या आप मेरी खुशियाँ ढूँढने में मदद करेंगें?"मनोचिकित्सक ने एक बूढ़ी औरत को बुलाया जो वहाँ साफ़-सफाई का काम करती थी और उस अमीर औ
23 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
अजय विश्कर्मा तहसील अध्यक्ष मेजा के उपस्थिति में मनोज कुमार बिन्दतहसील उपाध्यक्ष मेजा प्रधानमंत्री जन कल्याणकारी योजना के पद से सम्मनित किया गया जिसमे संदीप कुमार मिश्रा कोतहसील मंत्री मेजा औरसंजीव उपाध्याय जी कोमहा मंत्री मेजा के पद से सम्मनित किया गया।
27 अगस्त 2020
07 सितम्बर 2020
मोक्ष*****(जीवन के रंग) बचपन से ही वह सुनता आ रहा है कि जैसा कर्म करोगे-वैसा फल मिलेगा , किन्तु अब जाकर इस निष्कर्ष पर पहुँचा है कि पाप-पुण्य की परिभाषा सदैव एक-सी नहीं होती है। बहुधा उदारमना व्यक्ति को भी कर्म की इसी पाठशाला में ऐसा भयावह दंड मिलता है कि उसकी अंतर्रात्मा यह कह चीत्कार कर उठती है
07 सितम्बर 2020
01 सितम्बर 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /प्रयागराज /मेजा/लोहड़ी आज पीपल्स पार्टी ऑफ इंडिया डेमोक्रेटिक के तत्वावधान में आज मेजा विधनसभा के लोहड़ी जिला कार्यालय पर पेरियार ललई सिंह यादव की जयंती मनाई गई।जिसकी अध्यक्षता जिला अध्यक्ष मा. रोहित लाल पटेल जी ने किया कार्यक्रम का संचालन मा.जगत बहादुर यादव प्रदेश उपाध्यक्ष जी ने क
01 सितम्बर 2020
23 अगस्त 2020
जी
🌹🙏जीवन बदलने वाली कहानी🙏🌹पिता और पुत्र साथ-साथ टहलने निकले,वे दूर खेतों 🌾🌿की तरफ निकल आये, तभी पुत्र 👱 ने देखा कि रास्ते में, पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते 👞👟🥾उतरे पड़े हैं, जो ...संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर 👳‍♀ के थे.पुत्र को मजाक 🧐सूझा. उसने पिता से कहा क्यों न आज की श
23 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x