भाद्रपद पूर्णिमा का महत्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 सितम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

भाद्रपद पूर्णिमा का महत्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में जल का बहुत बड़ा महत्व है | बिना जल के जीवन की संकल्पना भी नहीं की जा सकती | जिस प्रकार जीवन में जल का महत्व है उसी प्रकार बारह महीनों में भाद्रपद मास का भी बहुत बड़ा महत्व है क्योंकि जल वर्षा का मुख्य समय भाद्रपद मास ही है | वर्ष की बारह महीनों में यदि भाद्रपद मास में जल वर्षा न हो तो मनुष्य अन्न का उत्पादन नहीं कर सकता और यदि अन्न का उत्पादन नहीं होगा तो मानव जीवन संकट में आ जाएगा | अनेकों व्रत / पर्व / त्योहार स्वयं में समेटे भाद्रपद मास का आज समापन हो रहा है | आज भाद्रपद मास शुक्ल के पक्ष की पूर्णिमा है | पूर्णिमा अर्थात पूर्ण हो गया | भाद्रपद मास की पूर्णिमा का हमारे धर्म ग्रंथों में बहुत ही महत्व है | यदि मनुष्य जीवन भर कोई व्रत नहीं कर सकता तो वह भाद्रपद मास की पूर्णिमा को व्रत रह करके पुण्य अर्जित कर सकता है | संसार में मनुष्य अनेकों प्रकार से भगवान के विग्रहों का पूजन करता है भगवान के उसी विग्रह में एक है सत्यनारायण भगवान | जीवन भर यदि कुछ ना कर पाए तो भाद्रपद मास की पूर्णिमा को सत्यनारायण व्रत कथा का अनुष्ठान भक्ति श्रद्धा के साथ कर लिया जाता है तो मानो को वर्ष भर के व्रतों का फल प्राप्त हो जाता है | आज का दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण क्योंकि आज से ही अपने पितरों के लिए श्राद्घ प्रारंभ हो जाता है , पूर्णिमा के श्राद्ध से ही पितरों का तर्पण प्रारंभ करके मनुष्य अपने पितरों के प्रति जलांजलि एवं श्रद्धांजलि अर्पित करता है | वर्ष का कोई भी दिन महत्वहीन नहीं है बस आवश्यकता है उसके विषय में जानकारी होने की | सनातन धर्म में प्रत्येक दिन के लिए कोई न कोई व्रत अनुष्ठान का विधान रचा गया है परंतु हम इन्हें जान नहीं पाते क्योंकि आज मनुष्य के पास इतना समय ही नहीं बचा है कि वह अपने धर्म कर्म के विषय में जानने का प्रयास करें | भगवान की माया में भ्रमित होकर मनुष्य रोटी कपड़ा मकान तक ही सीमित रह गया है | यही कारण है कि आज अनेकों दिव्य व्रत पर्व अपनी पहचान खोते चले जा रहे है |*


*आज भाद्रपद मास की पूर्णिमा के दिन मनुष्य को प्रातः काल उठकर स्नान ध्यान से निवृत्त होकर के अपने घर में भगवान श्री सत्यनारायण स्वामी का पूजन करना चाहिए | क्योंकि ऐसी मान्यता है कि आज के ही दिन प्रथम बार इस भूमंडल पर सत्यनारायण भगवान के व्रत का प्रसार हुआ था , इसलिए आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है | भगवान श्री सत्यनारायण स्वामी के पूजन के साथ ही उमा महेश्वर एवं मैया लक्ष्मी का पूजन भी प्रत्येक मनुष्य को आज के दिन करना चाहिए | अनेकों लोग यह भी कहते हैं कि जब आज से श्राद्ध शुरू हो गया है तो भगवान सत्यनारायण स्वामी का पूजन कैसे किया जा सकता है ?? ऐसे सभी लोगों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि हमारे पूर्वजों ने जो भी विधान रचा है वह मानव मात्र के कल्याण के लिए है , और सत्यनारायण व्रत कथा की बात यदि की जाय तो उसके माहात्म्य में स्पष्ट लिखा हुआ है कि "यस्मिन् कस्मिन दिने मर्त्यो भक्ति श्रद्धा समन्वित:" अर्थात किसी भी महीने के किसी भी दिन भगवान सत्यनारायण स्वामी का पूजन भक्ति श्रद्धा के साथ किया जा सकता है | परंतु कुछ लोग श्राद्ध पक्ष को अशुभ मानते हैं जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए | यदि धार्मिक विषयों पर कोई वार्ता करनी है तो सर्वप्रथम अपने धर्म ग्रंथों का अध्ययन करके उसके विषय में ज्ञान प्राप्त करना चाहिए क्योंकि व्यर्थ की चर्चा करने से भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है | विद्वानों को ऐसा करने से बचना चाहिए | आज भाद्रपद मास की पूर्णिमा के साथ ही की भाद्रपद मास का समापन हो रहा है अर्थात मानव मात्र को जीवन प्रदान करने वाली बरसात का समापन हो रहा है | यह इस बात का द्योतक है कि यह सृष्टि सतत् गतिमान है | इस सृष्टि में कभी भी कुछ भी एक समान नहीं रहता है परिवर्तन होते रहना ही सृष्टि का नियम है | आज जिस भाद्रपद मास का समापन हो रहा है अगले वर्ष वह पुन: आ जायेगा परंतु मनुष्य का बीता हुआ समय वापस नहीं लौटता ` इसलिए जो भी करना हो आज करें कल के लिए न छोड़ा जाय |*


*भाद्रपद मास का वर्णन कर पाना सम्भव नहीं है ! जिस प्रकार जन्म देने वाले माता पिता की महिमा अवर्णनीय है उसी प्रकार जल वर्षा के स्रोत के रूप में मानव मात्र को जीवन प्रदान करने वाले इस दिव्य माह का भी नहीं किया जा सकता |*

अगला लेख: शिक्षक दिवस :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 सितम्बर 2020
*अाश्विन कृष्ण पक्ष में पितरों के प्रति श्रद्धास्वरूप मनाया जाने वाला पितृपक्ष अपनी संपूर्णता की ओर अग्रसर है , इसलिए इस के विधान के विषय में प्रत्येक जनमानस को अवश्य जानना चाहिए | प्रायः लोग पितृपक्ष में अपने पितरों के लिए तर्पण एवं ब्राह्मण भोजन करा के पितरों के प्रति अपनी श्रद्धा समर्पित करते है
16 सितम्बर 2020
11 सितम्बर 2020
*मानव जीवन देवता , दानव , यक्ष , गंधर्व आदि सबसे ही श्रेष्ठ कहा गया है | इस मानव जीवन को सभी योनियों में श्रेष्ठ इसलिए कहा गया है क्योंकि मनुष्य के समान कोई दूसरी योनि है ही नहीं | यह दुर्लभ मानव शरीर हमें माता-पिता के सहयोग से प्राप्त होता है यदि माता-पिता का सहयोग ना होता तो शायद यह दुर्लभ मानव
11 सितम्बर 2020
24 अगस्त 2020
*भारत देश पुरातन काल में विश्व गुरु कहा जाता था क्योंकि हमारे देश में सनातन धर्म के माध्यम से मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों मान्यताएं एवं विधान बनाए गए थे | विश्व का कोई भी ऐसा देश नहीं होगा जिसने भारत की इन मान्यताओं एवं विधानों से शिक्षा न ग्रहण की हो | विश्व गुरु होने के साथ-साथ हमारा देश भा
24 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य जाने अनजाने में अनेक प्रकार के पाप एवं पुण्य किया करता है , जिसका फल उसको प्राप्त ही होता है | सनातन धर्म में ऐसे सभी पापों के प्रायश्चित के लिए विधान बनाये गये है | इस संसार में मनुष्य जीवन भर समस्याओं से जूझता रहता है यह सनातन धर्म की ही दिव्यता है कि यहां प्रत्
23 अगस्त 2020
26 अगस्त 2020
*परमात्मा ने ऐसी सृष्टि बनाई है कि इसमें बिना प्रकृति के परमपुरुष भी कुछ नहीं कर सकता है | देवों के देव महादेव शिव भी बिना शक्ति शव हो जाते हैं | जीवन में नारी शक्ति का बड़ा महत्त्व है | मर्यादापुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की शक्ति के रूप में यदि सीता जी का अवतार न हुआ होता तो शायद उनको इतनी प्रसिद्धि न
26 अगस्त 2020
29 अगस्त 2020
*ईश्वर के द्वारा बनाई गयी यह सृष्टि बहुत ही रहस्यमय है | यहां पग पग पर एक नया रहस्य दिखाई पड़ता है | मनुष्य ने अपने बुद्धि बल से अनेक रहस्यों को उजागर भी किया है | ईश्वर के द्वारा प्राप्त विवेक से मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा गया है | सृष्टि के समस्त रहस्य खोजने के लिए तत्पर मनुष्य स्वयं के रहस्य क
29 अगस्त 2020
13 सितम्बर 2020
*आदिकाल से सनातन धर्म में पाप एवं पुण्य को बहुत महत्त्व दिया गया है | सत्कमों को पुण्यदायक एवं कदाचारण-दुराचरण को पापों का जनक माना जाता रहा है | हमारे धर्मग्रन्थ मानवमात्र को पापकर्मों से बचने की शिक्षा देते हैं ताकि मनुष्य को मरणोपरांत नर्कलोक की यातना न भुगतना पड़े | कहने का तात्पर्य है कि मनुष्य
13 सितम्बर 2020
11 सितम्बर 2020
*इस संसार को कर्म प्रधान कहा गया है | जो जैसा कर्म करता है उसको वैसा ही फल प्राप्त होता है यहां तक कि मृत्यु के बाद कर्म की भूमिका के कारण ही जीव को अनेक गतियां प्राप्त होती है | अपने कर्म के अनुसार मृत्यु के उपरांत कोई देवता , कोई पितर , कोई प्रेत , कोई हाथी / चींटी या वृक्ष आदि बन जाता है | ऐसे म
11 सितम्बर 2020
25 अगस्त 2020
*हमारा देश भारत एवं हमारी भारतीय संस्कृति इतनी दिव्य है जिसका वर्णन कर पाना असंभव है | हमारे पूर्वज महापुरुषों ने मानव मात्र के कल्याण के लिए इतने नियम एवं विधान बता दिए हैं जिसे करने के बाद मनुष्य को और कुछ करने की आवश्यकता ही नहीं हैं | जीवन के प्रत्येक अंग , जीवन
25 अगस्त 2020
23 अगस्त 2020
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य जाने अनजाने में अनेक प्रकार के पाप एवं पुण्य किया करता है , जिसका फल उसको प्राप्त ही होता है | सनातन धर्म में ऐसे सभी पापों के प्रायश्चित के लिए विधान बनाये गये है | इस संसार में मनुष्य जीवन भर समस्याओं से जूझता रहता है यह सनातन धर्म की ही दिव्यता है कि यहां प्रत्
23 अगस्त 2020
25 अगस्त 2020
*हमारा देश भारत एवं हमारी भारतीय संस्कृति इतनी दिव्य है जिसका वर्णन कर पाना असंभव है | हमारे पूर्वज महापुरुषों ने मानव मात्र के कल्याण के लिए इतने नियम एवं विधान बता दिए हैं जिसे करने के बाद मनुष्य को और कुछ करने की आवश्यकता ही नहीं हैं | जीवन के प्रत्येक अंग , जीवन
25 अगस्त 2020
24 अगस्त 2020
*भारत देश पुरातन काल में विश्व गुरु कहा जाता था क्योंकि हमारे देश में सनातन धर्म के माध्यम से मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों मान्यताएं एवं विधान बनाए गए थे | विश्व का कोई भी ऐसा देश नहीं होगा जिसने भारत की इन मान्यताओं एवं विधानों से शिक्षा न ग्रहण की हो | विश्व गुरु होने के साथ-साथ हमारा देश भा
24 अगस्त 2020
31 अगस्त 2020
*इस संसार में आने के बाद जीव अनेकों प्रकार के बंधनों में जकड़ जाता है | गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा है " भूमि परत भा ढाबर पानी ! जिमि जीवहिं माया लपटानी !!" कहने का मतलब है कि जीव को माया चारों ओर से घेर लेती है , जिस के बंधन से जीव जीवन भर नहीं निकल पाता है | ईश्वर प्राप्ति का लक
31 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x