इश्क़ में बहने लगा

05 सितम्बर 2020   |  विवेक भारद्वाज   (433 बार पढ़ा जा चुका है)

वो मुझे कहने लगा

तेरे इश्क़ में बहने लगा

वक़्त की बात है फिर तुझसे हुई मुलाक़ात हैं

कर लेंगे हम आहिस्ता आहिस्ता तुझ पर भी भरोसा अब जो उसका आश खोने लगा

हम है तेरे लिए बेशक ग़ैर है

मगर हमें तो आज भी भरोसा है

जैसे चाँद को तारों से इश्क़ होने लगा

अगला लेख: खुदको बदल पाओगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अगस्त 2020
बिना पतवार ओ माँझीउम्र की नैया चलती जाए... भव सागर की लहरों में हिचकोले खाती उम्र की नैया निरन्तरआगे बढ़ती जाती है... अपना गन्तव्य पर पहुँच कर ही रहती है... कितनी तूफ़ान आएँ...पर ये बढ़ती ही जाती है... कुछ इसी तरह के उलझे सुलझे से विचार आज की इस रचना मेंहैं... सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्याय
25 अगस्त 2020
05 सितम्बर 2020
गै
जा मिल कर उनसे मोहब्बत की बातेंतु ख़ुश है उसके साथ तो तेरा क्या करे हम बात तुझे ऐहशास क्या होगा मेरे दिल पर जो बिता वो विश्वास क्या होगा किसी को मत तड़पा इतना डर मुझे लगता है कही तुझे हुआ तो वो अवकाश क्या होगा
05 सितम्बर 2020
07 सितम्बर 2020
तु
कल मिलने आइ वो,मेरा पसंदीदा पकवान लाई वो।हम दोनो बहुत सारी बातें किये,उसकी और मेरे नयन ने भी मुलाक़ातें किए।अचानक से पूछी मुझसे.ये बताओ, मुझमे और इश्क़ में क्या अंतर हैं?मैंने कहाँ, तुझमें और तेरे इश्क़ में अंतर है इतना,तु ख़्वाब है और वो है सपना।अब वो नाराज़ हो गईं,रोते-रोते मेरे हाई कँधो पर सो गईं
07 सितम्बर 2020
04 सितम्बर 2020
आँ
देखो ना आँखों में लाली छाई हैं।रातों में जगा हूँ फिर से तुम्हारी याद आइ हैं।
04 सितम्बर 2020
05 सितम्बर 2020
गै
जा मिल कर उनसे मोहब्बत की बातेंतु ख़ुश है उसके साथ तो तेरा क्या करे हम बात तुझे ऐहशास क्या होगा मेरे दिल पर जो बिता वो विश्वास क्या होगा किसी को मत तड़पा इतना डर मुझे लगता है कही तुझे हुआ तो वो अवकाश क्या होगा
05 सितम्बर 2020
26 अगस्त 2020
★☆★☆कविता लॉक डाउन☆★☆★नित दिन तन्द्रा है "लॉक डाउन" अति भारीउठ कर हटात् एक कविता लिखने की पारीआज बैठेगा न कोई मुखिया न है कोई पटवारीशांति छाई चहुँदिसी न गहमा-गहमी, मारा-मारीड्युटी अॉन-लाइन हीं है करनी, आजादी हैदेर सबेरे तक सबको जी भर आज सोना हैआज न खोना कुछ, सिर्फ- पाना हीं पाना हैप्यार-मुहब्बत का
26 अगस्त 2020
05 सितम्बर 2020
ना
लोग कहते हैं तुम नाम क्यूँ नहीं लेते...!!!मैंने कहा छोड़ो यारों मैंने उन्हें छोड़ दिया इससे ज़्यादा और क्या इल्ज़ाम देते...!!!
05 सितम्बर 2020
07 सितम्बर 2020
तु
कल मिलने आइ वो,मेरा पसंदीदा पकवान लाई वो।हम दोनो बहुत सारी बातें किये,उसकी और मेरे नयन ने भी मुलाक़ातें किए।अचानक से पूछी मुझसे.ये बताओ, मुझमे और इश्क़ में क्या अंतर हैं?मैंने कहाँ, तुझमें और तेरे इश्क़ में अंतर है इतना,तु ख़्वाब है और वो है सपना।अब वो नाराज़ हो गईं,रोते-रोते मेरे हाई कँधो पर सो गईं
07 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x