क्रोध और अहंकार

25 सितम्बर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (414 बार पढ़ा जा चुका है)

क्रोध और अहंकार

हम अक्सर दूसरों को उपदेश देते हैं कि हमें अपने अहंकार को नष्ट करना चाहिए, हमें अपने क्रोध पर विजय प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए | सही बात है, ऐसा होना चाहिए यदि जीवन में सुख और शान्ति की अभिलाषा है | लेकिन हम इन आदर्शों को स्वयं के जीवन में कितना उतार पाते हैं सोचने वाली बात यह है | देखा जाए तो कर्मशील रहने के लिए अहं यानी मैं का भाव तथा अन्याय का विरोध करने के लिए क्रोध का भाव आवश्यक है, किन्तु मनुष्य को इनके वश में नहीं हो जाना चाहिए... कुछ इसी प्रकार के उलझे सुलझे से भावों के साथ प्रस्तुत है बचपन में सुनी एक कहानी... क्रोध और अहंकार... सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्यायनी...

https://youtu.be/OcmZgS1rUL0

अगला लेख: मैडम जी कहानी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 सितम्बर 2020
संस्कृत साहित्य में हिमालय- भारतीयसंस्कृति का प्रतीककुछदिवस पूर्व “हिमालय - अदम्य साधना की सिद्धि का प्रतीक” शीर्षक से एक लेख सुधीजनोंके समक्ष प्रस्तुत किया था | आप सभी से प्राप्त प्रोत्साहन के कारण आज उसी लेख कोकुछ विस्तार देने का प्रयास रहे हैं जिसका भाव यही है कि ह
15 सितम्बर 2020
14 सितम्बर 2020
कन्या शिक्षा को बढ़ावा देने की जरुरत है - अनिल विश्वकर्मा मुम्बई - प्रेमा देवी एजुकेशनल ट्रस्ट के चेयरमैन अनिल विश्वकर्मा पिछले कई वर्षो से शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे है अपनी संस्था के माध्यम से वह नालासोपारा और पालघर जिले के अंतर्गत आने वाले सभी स्लम में अपनी संस्था '' प्रेमा देवी एजुकेशनल ट्र
14 सितम्बर 2020
16 सितम्बर 2020
पितृविसर्जनी अमावस्या – महालयाकल यानी 17 सितम्बर को भाद्रपदअमावस्या है – पितृपक्ष की अमावस्या – पन्द्रह दिवसीय पितृपक्ष के उत्सव का अन्तिमश्राद्ध - आज रात्रि 7:58 के लगभग साध्ययोग और चतुष्पद करण में अमावस्या तिथि का आगमन होगा जो कल सायं साढ़े चार बजे तकविद्यमान रहेगी | “उत्सव” इसलिए क्योंकि ये पन्द्र
16 सितम्बर 2020
19 सितम्बर 2020
"श्रीराम मंदिर निर्माण और क्षेत्रीय विकास"श्री राम मंदिर निर्माण शुरु हो गया । राम मंदिर निर्माण के साथ-साथ अयोध्या के विकास पर भी सरकार प्रतिबद्ध है।अयोध्या नगरी में देश का बड़ा आध्यात्मिक केंद्र बने और धार्मिक पर्यटन स्थलों की योजना पर सरकार कार्य कर रही है।काव्य प्रभाकर के रचयिता जगन्नाथ प्रसाद
19 सितम्बर 2020
13 सितम्बर 2020
अल बेरुनी प्राचीन काल में भारतीय उपमहाद्वीप में ज्ञान, विज्ञान, व्यापार, धर्म और अध्यात्म का बहुत विकास हुआ. इस विकास की ख़बरें मौखिक रूप में व्यापारियों के माध्यम से फारस, ग्रीस, रोम तक पहुँच जाती थी. इसकी वजह से व्यापारी, पर्यटक, बौद्ध भिक्खु तो आते ही थे बहुत से हमलावर
13 सितम्बर 2020
04 अक्तूबर 2020
मेरा अन्तर इतना विशाल समुद्र से गहरा / आकाश से ऊँचा /धरती सा विस्तृत जितना चाहे भर लो इसको / रहता हैफिर भी रिक्त ही अनगिन भावों का घर है ये मेराअन्तर कभी बस जाती हैं इसमें आकर अनगिनतीआकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता है मुझे विश्वास औरसाहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं है कोई सीमा इस मन की...पूरी रचना सुन
04 अक्तूबर 2020
23 सितम्बर 2020
मा
मानव जीवन का परम लाभ?--------------------------------य एकोsवर्णो बहुधा शक्ति योगाद्व्नाननेकन्निहितार्थों दधाति|वि चैति चांते विश्वमादौ स देव :स नो बुदध्या शुभया सन्युनक्तु |सृष्टि के आरंभ मेनम जो एक और निर्विशेष होकर भी अपनी शक्ति के द्वारा विना किसी प्रयोजन के ही नाना प्रकार के अनेकों वर्ण (विशेष
23 सितम्बर 2020
02 अक्तूबर 2020
आज दो अक्टूबर है - राष्ट्रपिता महात्मागाँधी और जय जवान जय किसान का नारा देने वाले श्री लाल बहादुर शास्त्री जी काजन्मदिवस... गाँधी जी और शास्त्री जी दोनों ही मौन के समर्थक और साधक थे... बापूके तो कहना था मौन एक ईश्वरीय अनुकम्पा है, उससे मुझे आन्तरिक आनन्द प्राप्त होता है...वास्तव में सब कुछ मौन हो नि
02 अक्तूबर 2020
27 सितम्बर 2020
आज Daughter’s day है, यानी बिटिया दिवस... सर्वप्रथम सभी को Daughter’s day की बधाई... आज एक बार अपनी उलझी सुलझी सी बातों के साथ आपके सामने हैं...हमारी आज की रचना का शीर्षक है तू कभी न दुर्बल हो सकती... अपनी आज की रचनाप्रस्तुत करें उससे पहले दो बातें... हमारी प्रकृति वास्तव में नारी रूपा है...जाने कित
27 सितम्बर 2020
21 सितम्बर 2020
अभी दो तीन पूर्व हमारी एक मित्र के देवर जी का स्वर्गवास हो गया... असमय...शायद कोरोना के कारण... सोचने को विवश हो गए कि एक महामारी ने सभी को हरा दिया...ऐसे में जीवन को क्या समझें...? हम सभी जानते हैं जीवन मरणशील है... जो जन्माहै... एक न एक दिन उसे जाना ही होगा... इसीलिए जीवन सत्य भी है और असत्य भी...
21 सितम्बर 2020
24 सितम्बर 2020
गीता औरदेहान्तरप्राप्तिश्राद्ध पक्ष में श्रद्धा के प्रतीक श्राद्ध पर्व काआयोजन प्रायः हर हिन्दू परिवार में होता है | पितृविसर्जनीअमावस्या के साथ इसका समापन होता है और तभी से माँ दुर्गा की उपासना के साथ त्यौहारोंकी श्रृंखला आरम्भ हो जाती है – नवरात्र पर्व, विजयादशमी,शरद पूर्णिमा आदि करते करते माँ लक्
24 सितम्बर 2020
03 अक्तूबर 2020
वक्री मंगल का मीन राशि में गोचरकल चार अक्तूबर अधिक आश्विन कृष्णतृतीया को प्रातः दस बजकर आठ मिनट के लगभग वणिज करण और हर्षण योग में वक्री होकर भूमिसुतमंगल का गोचर अपनी स्वयं की मेष राशि से अपने मित्र ग्रह गुरु की मीन राशि में रेवतीनक्षत्र पर होगा | चौदह नवम्बर को प्रातः लगभग छह बजकर दस मिनट से मंगल पु
03 अक्तूबर 2020
23 सितम्बर 2020
भारत में उन पेंशनर की संख्या कितनी है जो अपने पूर्व एम्प्लायर से पेंशन लेते हैं? कुल मिला के कितने लोग नौकरी के बाद पेंशन ले रहे हैं? ये आंकड़े इन्टरनेट में खोजने की कोशिश की पर पता नहीं लग पाया. यूरोपियन यूनियन की एक साईट में 2005 से 2050 तक के आंकड़े और भविष्य के ग्राफ वग
23 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x