Sketches from life: ज़ोहरा सहगल को श्रद्धांजलि

29 सितम्बर 2020   |  हर्ष वर्धन जोग   (402 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन, हँसी और एनर्जी से भरपूर अभिनेत्री ज़ोहरा सहगल अब नहीं रहीं ।
वे 102 साल की थीं ।

ज़ोहरा सहगल का शरारत और मुस्कराहट भरा चेहरा देख कर मन अब भी खिल जाता है । 2007 में ज़ोहरा सहगल ने 'चीनी कम' में अमिताभ बच्चन की माँ का रोल किया । ज़ोहरा सहगल के सौंवे जन्मदिन पर अमिताभ बच्चन ने उन्हे एनर्जी से भरी सौ साल की बच्ची कहा था ।

ज़ोहरा सहगल का जन्म 27 अप्रैल 1912 को सहारनपुर में हुआ और उनका पूरा नाम था साहिबज़ादी ज़ोहरा बेगम मुमताज़ुल्ला खान । वे अपने माता पिता की सात संतानों में से तीसरी थीं । लाहौर में ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने इंग्लैंड में अभिनय और जर्मनी में बैले की ट्रेनिंग ली । वहाँ उनकी मुलाक़ात उदय शंकर से हुई और उन्होंने भारत में काम देने का वादा किया ।

उदय शंकर की नाट्य एकाडमी, अलमोड़ा में कुछ समय ज़ोहरा टीचर रहीं और वहाँ उनकी मुलाक़ात कामेेश्वर नाथ सहगल से हुई ( जो उम्र में आठ साल छोटे थे ) । पारिवारिक ना नुकुर के बाद 14 अगस्त 1942 ने दोनों ने शादी कर ली ।

1945 में ज़ोहरा ने पृथ्वी थियेटर में काम करना शुरू किया और चौदह सालों तक वहां काम किया । 1959 में कामेश्वर सहगल के निधन के बाद वे दिल्ली आ गईं और कुछ समय तक नाट्य एकाडमी चलाई । 1964 में उन्होंने ब्रिटिश टीवी में काम किया और उसके बाद वहाँ कई फ़िल्मों व टीवी सीरियल में भी काम किया ।

1990 में भारत आने के बाद कई फ़िल्मों और स्टेज शो में काम किया । इनमें 2007 की 'चीनी कम' और 'साँवरिया ' भी शामिल हैं । पृथ्वी राज कपूर से लेकर रनबीर कपूर तक चार पीढ़ियों के साथ ज़ोहरा ने काम किया । ज़ोहरा को कई पुरस्कार मिले जैसे की :

संगीत नाटक एकादमी पुरस्कार - 1963

पद्म श्री - 1998

कालिदास सम्मान - 2001

पद्म भूषण - 2002

संगीत नाटक एकादमी फेलोशिप - 2004

पद्म विभूषण - 2010

टीवी के एक इंटरव्यू में ज़ोहरा ने कहा की वो हमेशा अपने को एक छोटी सी लड़की मानती थी और ख़ुद से कहती थी की Common girl you can do it! कितना बढ़िया मोटीवेशन है सभी के लिए । जीने का फ़लसफ़ा कितना आसान कर दिया सबके लिए और ख़ास तौर पर वरिष्ठ लोगों के लिए ।

अपने समय से आगे ही चलीं ज़ोहरा । अंतर-धार्मिक विवाह, डाँस और नाटकों में देश विदेश में भाग लेना सभी कुछ लीक से हट कर था । इसके अलावा एक और दिलेरी भरी बात कही जो की हम में से बहुत कम लोग कह पाएँगे : If they tell you I am dead, I want you to give a big laugh.

भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे ।

Sketches from life: ज़ोहरा सहगल को श्रद्धांजलि

https://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/07/blog-post_12.html

अगला लेख: Sketches from life: देर कर दी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 सितम्बर 2020
गीता औरदेहान्तरप्राप्तिश्राद्ध पक्ष में श्रद्धा के प्रतीक श्राद्ध पर्व काआयोजन प्रायः हर हिन्दू परिवार में होता है | पितृविसर्जनीअमावस्या के साथ इसका समापन होता है और तभी से माँ दुर्गा की उपासना के साथ त्यौहारोंकी श्रृंखला आरम्भ हो जाती है – नवरात्र पर्व, विजयादशमी,शरद पूर्णिमा आदि करते करते माँ लक्
24 सितम्बर 2020
15 सितम्बर 2020
संस्कृत साहित्य में हिमालय- भारतीयसंस्कृति का प्रतीककुछदिवस पूर्व “हिमालय - अदम्य साधना की सिद्धि का प्रतीक” शीर्षक से एक लेख सुधीजनोंके समक्ष प्रस्तुत किया था | आप सभी से प्राप्त प्रोत्साहन के कारण आज उसी लेख कोकुछ विस्तार देने का प्रयास रहे हैं जिसका भाव यही है कि ह
15 सितम्बर 2020
03 अक्तूबर 2020
बैंक में नौकरी लगे मनोहर को अभी ज्यादा दिन नहीं हुए थे. इम्तिहान देकर नौकरी लगी तो अपना गाँव कसेरू खेड़ा छोड़ कर कनॉट प्लेस पहुँच गए. कहाँ हरे भरे खेत और गाय भैंस का दूध और कहाँ ये कंक्रीट जंगल और चाय और कॉफ़ी. पर फिर भी कनॉट प्लेस की इमारतें, बड़े बड़े सुंदर शोरूम, रेस्तरां व
03 अक्तूबर 2020
23 सितम्बर 2020
भारत में उन पेंशनर की संख्या कितनी है जो अपने पूर्व एम्प्लायर से पेंशन लेते हैं? कुल मिला के कितने लोग नौकरी के बाद पेंशन ले रहे हैं? ये आंकड़े इन्टरनेट में खोजने की कोशिश की पर पता नहीं लग पाया. यूरोपियन यूनियन की एक साईट में 2005 से 2050 तक के आंकड़े और भविष्य के ग्राफ वग
23 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x