हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ४२

04 अक्तूबर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (420 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ४२

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *बयालीसवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*इकतालीसवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*राम दुआरे तुम रखवारे !*

*होत न आज्ञा बिनु पैसारे !!*


अब आगे :----


*सब सुख लहै तुम्हारी सरना !*

*तुम रक्षक काहू को डरना !!*

*---------------------------*


*सब सुख लहै तुम्हारी सरना*

*--------------------------*


*तुलसीदास जी महाराज* ने मात्र सुख न लिख करके *सब सुख* लिखा है | *सब सुखों* से क्या अभिप्राय हो सकता है ? संसार में *सुखों* की भी गिनती हो सकती है क्या ?? मेरा तो मानना है कि *सुखों* की गिनती करने की आवश्यकता ही नहीं है , क्योंकि अंततोगत्वा सभी *सुखों* का आधार तो मन ही है , परिस्थितियां तो सुख दुख में निमित्त मात्र होती हैं व वह भी एक ही स्वरूप में भी सभी को एक समान सुख दुख नहीं देती | मन की स्थिति ऐसी हो जाय कि वह दुखी हो ही नहीं | जीव को भक्तिपूर्ण आत्माराम की स्थिति यदि मिल जाती है तो वह किस वस्तु के लिए दुखी होगा ? वैसे सुख-दुखों का वर्णन तीन भागों में बांटकर किया जाता है :- *दैहिक दैविक भौतिक* | इन सभी दुखों को दूर करने में *हनुमान जी* समर्थ हैं ` किसी चक्रवर्ती सम्राट का प्रिय सेवक या मित्र भी अपने उस प्रभाव और राजा की शक्ति सीमा तक प्रजा का कष्ट दूर कर सकता है तो अनंत कोटि ब्रम्हांड नायक *श्री राम जी* के कृपा पात्र स्वयं समर्थ साक्षात शंकर के अवतार *हनुमान जी* की कृपा से सभी सुखों का निवास आश्चर्य की बात नहीं हो सकती | *हनुमान जी* महाराज भक्ति के आचार्य हैं | भक्ति मिल जाने पर दुख रह ही नहीं सकता | दुख या संकट की परिभाषा तो *हनुमान जी* ने स्वयं बता दिया है :--


*कह हनुमंत बिपति प्रभु सोई !*

*जब तब सुमिरन भजन न होई !!*


*सब सुख खानि भगत तैं मांगी*


इस प्रकार कहा गया कि तुम्हारी शरण में सभी प्रकार के सुख प्राप्त हो जाते हैं |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*तुम रक्षक काहू को डरना*

*------------------------*


अभी ऊपर *शरण* की बात कही गई है | *शरण* कोई भी किसी भय से त्राण पाने के लिए प्राप्त करता है | भयभीत को त्राण वही मिल पाता है जहां *रक्षक* या शरणदाता की शक्ति से शरणागत आश्वस्त हो कि मुझे यहां भय नहीं है | *रक्षक* में रक्षा की सामर्थ्य व इच्छा दोनों आवश्यक है | *हनुमानजी* में दोनों बातें हैं | *हनुमान जी* से बल में कोई जीत नहीं सकता | वह अजेय हैं | यहां तक कि वे *अतुलितबलधामम्* अर्थात उनमें अतुलित बल है अर्थात इनके बल की कोई सीमा नहीं है | आज तक इस सृष्टि में कोई भी इनके बल को नाप नहीं सका है | ऐसा अतुलित बलवान जिसकी *रक्षा करें* उसके सामने भला कौन आ सकता है | सुग्रीव कितना भयभीत था ! बाली के भय से त्रस्त रहता था श्री राम लक्ष्मण को जब आते देखा तो भी पता लगाने के लिए सामने *हनुमान जी* को ही भेजा | अब तक *हनुमान जी* की रक्षा में ही सुग्रीव सुरक्षित थे अब रामजी ने सारा भार स्वयं अपने ऊपर ले लिया और सुग्रीव से कहा :---


*सखा सोच त्यागहुँ बल मोरे !*

*सब विधि घटब काज मैं तोरे !!*


*रामजी के बल* के बारे में सुग्रीव आश्वस्त नहीं था अतः राम जी को भी :- *दुंदुभि अस्थि ताल दिखराये* श्री राम जी जानते थे कि भय मुक्त हुए बिना *रक्षक की शक्ति* के प्रति आश्वस्त होना कठिन है | जिस परीक्षा से वह *राम जी* की शक्ति के प्रति आश्वस्त हो सकता था उसे करने में क्या आपत्ति हो सकती थी ! अतः :-- *बिनु प्रयास रघुनाथ ढहाये*


*हनुमान जी* के बल के प्रति तो सभी आश्वस्त हैं कि शरणागत वत्सलता का स्वभाव भी उनका अपना सिद्धांत है | अपने स्वामी के सिद्धांत को सेवक दृढ़ ही करने की इच्छा रखता है | स्वामी *श्री राम जी* ने विभीषण की शरणागति प्रसंग पर खुले रूप से घोषणा की थी कि :- विभीषण *शरण* में आया है तो उसे प्राणों की भांति रखूंगा :-

*जो सभीत आवा सरनाई !*

*रखिहहुँ ताहि प्रान की नांईं !!*

जहां यह बात अपने लिए थी वहां सब के लिए भी एक सिद्धांत प्रतिपादित किया कि :--


*सरनागत कहुँ जे तजहिं निज अनहित अनुमानि !*

*तें नर पांवर पापमय तिन्हहिं विलोकत हानि !!*


तो फिर *हनुमान जी* शरणागत को भला कैसे त्याग कर सकते हैं | आवश्यकता तो शरण में आने की है | अतः *हनुमान जी* के इस स्वभाव एवं अतुलित शक्ति प्रति विश्वास स्थापित करने के लिए *गोस्वामी तुलसीदास जी महाराज* ने स्पष्ट लिख दिया कि यदि प्राणी आपकी *शरण* प्राप्त कर लेता है तो *तुम रक्षक काहू को डरना* |


*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग १७



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सत्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*सोलहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*राम दूत*अब आगे:---*अतुलित बल धामा
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *आठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*सातवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"सुमिरौं पवन कुमार"*अब आगे:----*"बल ब
23 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौबीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तेईसवें भाग* में आपने पढ़ा :*हाथ वज्र औ ध्वजा विराजेे**काँधे मूँज
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बाईसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इक्कीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कंचन वर्ण विराज सुवेशा*अब आगे :----
29 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *ग्यारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*दसवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *हर
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *दसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*नवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *हरहुँ*अ
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तेरहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बारहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*चौपाई* का भाव :-अब आगे :--- *जय हनु
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सातवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छठवें भाग* में आपने पढ़ा :---*"बुद
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*ग्यारहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सोलहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पन्द्रहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय कपीश तिहुँ लोक उजागर*अब आगे :
23 सितम्बर 2020
21 सितम्बर 2020
*सृष्टि में परमात्मा अनेक जीवों की रचना की है , छोटे से छोटे एवं बड़े से बड़े जीवो की रचना करके परमात्मा ने इस सुंदर सृष्टि को सजाया है | परमात्मा की कोई रचना व्यर्थ नहीं की जा सकती है | कभी कभी मनुष्य को यह लगता है कि परमात्मा ने आखिर इतने जीवों की रचना क्यों की | इस सृष्टि में जितने भी जीव हैं अप
21 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पन्द्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौदहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान ज्ञान गुण सागर*अब आगे
23 सितम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x