हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ४८

04 अक्तूबर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (447 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ४८

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *अड़तालीसवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*सैंतालीसवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*सब पर राम तपस्वी राजा !*

*तिनके काज सकल तुम साजा !!*

*------------------------------*


अब आगे :-----


*और मनोरथ जो कोई लावे !*

*तासु अमित जीवन फल पावे !!*

*-----------------------------*


*और*

*----*



*और* अर्थात रामजी के अतिरिक्त अन्य कोई अन्य भी कोई अपना मनोरथ लेकर आये से अभिप्राय है कि केवल राम जी के ही कार्य *हनुमान जी* ने नहीं बनाये बल्कि अन्य भी कोई यदि *हनुमान जी* से कुछ मांगता है तो *हनुमान जी* देने में संकोच नहीं करते | यहां *और* शब्द में कितनी उदारता है कि कोई *और* में जो कोई भी साथ रखकर दर्शाया गया है कि कोई *और* वर्ग , जाति विशेष की पाबंदी नहीं | *और* में सुर , नर , मुनि , दीन , राजा , रंक कोई भी हो सकता है | *हनुमान जी* में यह गुण क्यों ना हो क्योंकि वह *शंकर जी* के अवतार हैं अवढरदानी *भगवान शंकर* भी वरदान देते समय यह नहीं देखते थे कि यह देवता है राक्षस | रावण जैसे राक्षस को भी उन्होंने वरदान देने में संकोच नहीं किया , फिर *हनुमान जी* भी इस उदारता के स्वभाव का त्याग कैसे कर सकते हैं ?? अतः *तुलसीदास जी महाराज* ने *रामचंद्र के काज संवारे* या *तिन के काज सकल तुम साजा* कहने के तुरंत बाद यह भाव प्रकट कर दिया कि कोई भी अपना मनोरथ लेकर *हनुमान जी* के पास उपस्थित हो सकता है | राम जी की महत्ता *सब पर राम* कहकर उनके कार्य संवारने से कोई यह न समझ बैठे कि *हनुमान जी* तो बड़े *तपस्वियों एवं राजाओं* के ही कार्य संवारते हैं | दीन - हीन , रंक की वहां जाकर क्या सुनवाई होगी ? अतः यहां *और* शब्द लिखकर उनकी उदारता बताई कि कोई भी वहां अपना *मनोरथ* रख सकता है | वहां बड़े - छोटे का कोई भेद नहीं | *श्री राम जी* की बात कह देने से संदेह हो सकता था कि *रामजी* ने जब लीला की तो उसे तो *हनुमान जी* ने सजा दिया पर *रामजी* ने अपनी लीला का संवरण तो त्रेतायुग में ही कर लिया तो अब *हनुमान जी* की प्रार्थना करने से क्या मिलने वाला है ?? इस संदेह का निवारण करते हुए यही कहना चाहूंगा कि *राम जी* ने भले ही न लीला का संवरण कर लिया हो पर *हनुमान जी* तो *चिरंजीवी* हैं | *राम जी* के परमधाम जाने के बाद *हनुमान जी* के पास तो एक ही कार्य रह गया है दीन दुखियों का दुख हरण करना | कुछ लोग इस पर प्रश्न उठा सकते हैं *हनुमान जी* तो निरंतर *रामजी* के ध्यान में लीन रहते हैं उनको जगत से क्या तात्पर्य है ? जो कि वह लोगों के दुखों पर ध्यान दें ? इसके समाधान में यह कहा जा सकता है *भगवान राम* की आज्ञा ही ऐसी है कि मेरी लीला संवरणोपरांत तुम सज्जनों का दुख दूर करोगे , तथा *दूसरी बात* यह है कि *हनुमान जी* तो अनन्य भक्त हैं उनकी दृष्टि में सृष्टि भी भगवान का लीला विलास ही है इसके अतिरिक्त और कुछ नहीं | इसलिए तो मर्यादा के पोषण हेतु भगवान के विराट स्वरूप सृष्टि की सेवा में भी *राम जी* की ही सेवा मानते हैं , अन्य सभी जीवो को इसमें व्यक्त करते हुए कहा *और मनोरथ जो कोई लावे* का आशय यह है कि जो कोई भी *हनुमान जी* की शरण में आएगा वह खाली हाथ या निराश होकर नहीं लौटेगा |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*और मनोरथ*

*------------*


इसका अभिप्राय यह है कि आपने एक *मनोरथ* तो *हनुमान जी* से पूरा करवा लिया पर आप बार-बार *हनुमान जी* से अपना *मनोरथ* कैसे पूरा कराया जाए ? इस संकोच को दूर कर देना चाहिए | यही भाव लेकर *तुलसीदास जी महाराज* ने यह लिखा कि भक्तों को *हनुमान जी* के पास बार-बार अपना *मनोरथ* रखने में संकोच नहीं करना चाहिए | यदि आपकी कोई कामना पूरी हो गई है उसके बाद *और कोई मनोरथ* है तो उसे भी निसंकोच *हनुमान जी* के समक्ष रखना चाहिए और उसे *हनुमान जी* पूरा भी करते हैं यही तो *हनुमान जी* की अतिशय उदारता एवं भक्तवत्सलता है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*तासु अमित जीवन फल पावे*

*----------------------------*


*तासु* अर्थात उससे ! प्रश्न उठेगा कि किससे ? हनुमान जी से ? तो उत्तर होगा नहीं बल्कि उस *मनोरथ* से | पुन: प्रश्न हो सकता है कि जीव *मनोरथ* से कैसे जीवन का फल प्राप्त कर सकता है ? इसका जवाब यही होगा कि कर सकता है | यूं तो जीव स्वभाव बस स्वार्थी होता है जैसा कि मानस में दर्शाया गया है :--


*सुर नर मुनि सब कर यह रीती !*

*स्वारथ लाई करइं सब प्रीती !!*


इसमें केवल *हनुमान जी* जैसे राम भक्त या स्वयं भगवान ही अपवाद है क्योंकि इनका अपना कोई स्वार्थ होता ही नहीं | यथा :- *स्वारथ रहित परम हितकारी ! तुम तुम्हार सेवक असुरारी !!* फिर *मनोरथ* शब्द तो है ही स्वार्थ के लिए | जीव की स्वाभाविक प्रवृत्तियां वाह्य इंद्रिय सुखों में आशक्त रहती हैं उसके लिए वह भगवान को तो क्या देव दानव किसी को भी पूज सकता है | उसे सांसारिक विरक्ति पूर्वक भगवान की भक्त के मूल्य महत्व का अनुभव जो नहीं है | *हनुमान जी* जीव के परम हितकारी ठहरे ! जीव अपने हित अहित को पहचानता नहीं है वह तो अपने सांसारिक सुख की रुचि जी को जानता है `| भगवान ने इसीलिए भोगों की प्राप्ति के लिए आध्यात्मिक अनुष्ठानों की परिकल्पना की थी | *श्रीमद्भागवत महापुराण* में इसीलिए कहा गया है कि *रोचनार्था: फल श्रुति:* | कहने का अभिप्राय है कि जीव *हनुमान जी* के पास यदि अपना *और कोई* सांसारिक *मनोरथ* भी लेकर आएगा तो भी आएगा तो सही स्थान पर ना ? उसका वह *मनोरथ* पूर्ण होगा ही , पर उसके अतिरिक्त *अमित जीवन फल* जो कहीं प्राप्त नहीं कर सकता था उसका लाभ अलग से मिल जाएगा | आया तो था वह किसी *अन्य मनोरथ* के बहाने से व उसे *अमित जीवन फल* भी मिला तो उसमें भी हेतु कौन हुआ ? वह *मनोरथ* ही तो हुआ | इसीलिए कहा गया था *अमित जीवन फल पावे*


यहां मार्मिक तथ्य तो यह है कि यहाँ यह नहीं कहा गया कि जो *मनोरथ* कोई लाएगा वह ही पूरा होगा या जो कोई मांगेगा वही फल मिलेगा बल्कि यहाँ कहने का भाव यह है कि *अमित जीवन फल* का निमित्त मात्र बन सकता है | वस्तुतः तो जो हितकर है वही मिलेगा | *तासु* अर्थात *हनुमान जी* से किसी अनिष्ट फल की प्राप्ति नहीं हो सकती | *मनोरथ* अर्थात मन की इच्छा प्राप्त नहीं हो कर हितकर *अमित जीवन फल* भक्ति मुक्ति आदि की प्राप्ति ही होगी ऐसी बात नहीं है | *मनोरथ* तो मिलेगा ही उसके अतिरिक्त यह सब कुछ और भी मिलेगा जैसे सुग्रीव विभीषण आदि को केवल उनकी अभिलषित वस्तु राज्य , वैभव आदि तो मिले ही बल्कि अयाचित भक्ति भगवद्प्राप्ति आदि भी मिल गई | यही भाव मन में रखते हुए *तुलसीदास जी महाराज* ने *हनुमान चालीसा* के क्रम में राम जी के काज संवारने की बात , सजाने की बात लिखने के तुरंत बाद लिख दिया कि :- *और मनोरथ जो कोई लावे ! तासु अमित जीवन फल पावे !!*


*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग १७



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 सितम्बर 2020
*इस सकल सृष्टि में समय निरंतर गतिशील है , समय का चक्र कभी नहीं रुकता है | हमारे विद्वानों ने समय को तीन भागों में विभाजित किया है | जो बीत गया वह "भूतकाल" , जो चल रहा है वह "वर्तमान काल" एवं जो आने वाला है उसे भविष्य काल कहा गया है | मनुष्य को सदैव अपने वर्तमान पर ध्यान देना चाहिए | प्रायः कुछ लोग
22 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पन्द्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौदहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान ज्ञान गुण सागर*अब आगे
23 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बाईसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इक्कीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कंचन वर्ण विराज सुवेशा*अब आगे :----
29 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*ग्यारहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सोलहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पन्द्रहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय कपीश तिहुँ लोक उजागर*अब आगे :
23 सितम्बर 2020
25 सितम्बर 2020
*ब्रह्मा जी के द्वारा बनाई गई इस सृष्टि में मानव मात्र के लिए सब कुछ सुलभ है | अपने कर्मों के अनुसार मनुष्य दुर्लभ से दुर्लभ वस्तु को भी सुलभ कर सकता है | इस संसार में दुर्लभ क्या है ? जो मनुष्य प्राप्त करने का प्रयास करने के बाद भी नहीं प्राप्त कर पाता है | इसके विषय में
25 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *विश्राम - भाग* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*जब भगवान श्रीराम ने दुर्वासा जी को विदा किया उसके बाद उनको अपनी प्रतिज्ञा का स्मरण हुआ | प्रिय भाई *लक्ष्मण* का वियोग सोचकर
23 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इक्कीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कुमति निवार सुमति के संगी*अब आगे :--
29 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *आठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*सातवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"सुमिरौं पवन कुमार"*अब आगे:----*"बल ब
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पन्द्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौदहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान ज्ञान गुण सागर*अब आगे
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *ग्यारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*दसवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *हर
23 सितम्बर 2020
21 सितम्बर 2020
*सृष्टि में परमात्मा अनेक जीवों की रचना की है , छोटे से छोटे एवं बड़े से बड़े जीवो की रचना करके परमात्मा ने इस सुंदर सृष्टि को सजाया है | परमात्मा की कोई रचना व्यर्थ नहीं की जा सकती है | कभी कभी मनुष्य को यह लगता है कि परमात्मा ने आखिर इतने जीवों की रचना क्यों की | इस सृष्टि में जितने भी जीव हैं अप
21 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सातवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छठवें भाग* में आपने पढ़ा :---*"बुद
23 सितम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x