मैडम जी कहानी

05 अक्तूबर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

मैडम जी कहानी

मैडम जी

कुछ देर खामोश कहीं खोई सी बैठी रहीं नीलिमा जी... फिर एक लम्बी साँस भरकर बोलीं “ये बाहर जाते थे तो मैं यहाँ देहरादून आ जाती थी | बेटी भी बाहर ही पढ़ रही थी न, तो मैं अकेली बम्बई में क्या करती ? अब ये जितने भी हाइली एजुकेटेड लोग होते हैं उनकी तो मीटिंग्स विदेशों में होती ही रहती हैं | आप भी जाती होंगी मीटिंग्स के लिए | आपके हसबेंड भी जाते होंगे | अच्छा एक बात बताइये, आप इतनी सुन्दर हैं – गोरी चिट्टी, तो आपकी बेटी तो और भी ख़ूबसूरत दिखती होगी | लड़कियाँ तो अपनी माँ से ज़्यादा ही ख़ूबसूरत होती हैं | वो तो बिल्कुल विदेशी लगती होगी | हम तो ख़ूबसूरत नहीं हैं... न ही हमें अच्छे से पहनना ओढ़ना आता है... इसीलिए भी वे अपनी असिस्टेंट को ही अपने साथ ले जाना पसन्द करते हैं...” और फिर कहीं खो गईं |

“किसने कहा नीलिमा जी आप सुन्दर नहीं हैं... हमें तो आप सच में बहुत सुन्दर लग रही हैं... और ड्रेस सेन्स तो हर किसी का अपना अपना होता है, उसके लिए किसी को कुछ बोलने की ज़रूरत ही नहीं...” हमने उन्हें सान्त्वना देते हुए कहा...

कुछ पति पत्नी के उलझे सुलझे से रिश्तों को प्रदर्शित करती एक कहानी... सुनने के लिए कृपया वीडियो पर जाएँ...

https://youtu.be/DcepwRviTvc

अगला लेख: प्रेम बन जाएगा ध्यान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 सितम्बर 2020
गीता औरदेहान्तरप्राप्तिश्राद्ध पक्ष में श्रद्धा के प्रतीक श्राद्ध पर्व काआयोजन प्रायः हर हिन्दू परिवार में होता है | पितृविसर्जनीअमावस्या के साथ इसका समापन होता है और तभी से माँ दुर्गा की उपासना के साथ त्यौहारोंकी श्रृंखला आरम्भ हो जाती है – नवरात्र पर्व, विजयादशमी,शरद पूर्णिमा आदि करते करते माँ लक्
24 सितम्बर 2020
02 अक्तूबर 2020
आज दो अक्टूबर है - राष्ट्रपिता महात्मागाँधी और जय जवान जय किसान का नारा देने वाले श्री लाल बहादुर शास्त्री जी काजन्मदिवस... गाँधी जी और शास्त्री जी दोनों ही मौन के समर्थक और साधक थे... बापूके तो कहना था मौन एक ईश्वरीय अनुकम्पा है, उससे मुझे आन्तरिक आनन्द प्राप्त होता है...वास्तव में सब कुछ मौन हो नि
02 अक्तूबर 2020
10 अक्तूबर 2020
प्रेमबन जाएगाध्यानप्रेम, एकऐसा अनूठा भाव जिसका न कोई रूप न रंग... जो स्वतः ही आ जाता है मन के भीतर...कैसे... कब... कहाँ... कुछ नहीं रहता भान... हाँ, करने लगे यदिमोल भाव... तो रह जाना होता है रिक्त हस्त... इसी प्रकार के कुछ उलझे सुलझे से भावहैं हमारी आज की रचना में... जो प्रस्तुत है सुधी पाठकों के लि
10 अक्तूबर 2020
06 अक्तूबर 2020
गीता और दुर्गा सप्तशतीआगामी 17 अक्तूबर सेशारदीय नवरात्र आरम्भ हो जाएँगे | लगभग सभी हिन्दू परिवारों में श्री दुर्गासप्तशती के पाठ के द्वारा माँ भगवती की पूजा अर्चना की जाएगी | दुर्गा सप्तशती याश्रीमद्भगवद्गीता का जब भी अध्ययन करते हैं तो बहुत से कथनों को पढ़कर कहीं न कहींदोनों में दृष्टि का और कथनों
06 अक्तूबर 2020
21 सितम्बर 2020
अभी दो तीन पूर्व हमारी एक मित्र के देवर जी का स्वर्गवास हो गया... असमय...शायद कोरोना के कारण... सोचने को विवश हो गए कि एक महामारी ने सभी को हरा दिया...ऐसे में जीवन को क्या समझें...? हम सभी जानते हैं जीवन मरणशील है... जो जन्माहै... एक न एक दिन उसे जाना ही होगा... इसीलिए जीवन सत्य भी है और असत्य भी...
21 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x