हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५०

06 अक्तूबर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५०

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *पचासवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*उनचासवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*चारों युग परताप तुम्हारा !*

*है पर सिद्ध जगत उजियारा !!*

*--------------------------*


अब आगे :---


*साधु सन्त के तुम रखवारे !*

*असुर निकंदन राम दुलारे !!*

*--------------------------*


*साधु सन्त के तुम रखवारे*

*--------------------------*


*साधु संत* दोनों शब्दों को एक साथ देना भी एक अभिप्राय है क्योंकि *साधु* साधक को कहा जा सकता है परंतु *सन्त* सात्विक प्रवृति से संबंध रखता है | प्रायः लोक कल्याण के निमित्त दोनों का पर्याय समान भाव में प्रयोग किया जाता है परंतु गंभीरता से विचार करने पर *गोस्वामी तुलसीदास जी* ने कुछ अंतर रखकर वर्णन किया है | यथा:-


*साधु चरित शुभ चरित कपासू !*

*निरस विसद गुनमय फल जासू !!*


और दूसरी ओर *संत* के लिए लिखा है :--


*मुद मंगलमय संत समाजू !*

*जो जग जंगम तीरथ राजू !!*


अंतर की बात यह है कि *साधु* किसी का अहित तो नहीं करते पर हितकर दंड भी दुष्टों को देने में नहीं चूकते , जबकि *संत* हित कामना में भी दंड देने में प्रयुक्त नहीं होते | उदाहरण के लिए *हनुमान जी साधु* तो हैं पर दुष्ट दलन में संकोच नहीं करते | यथा :--

*कियेउ कुवेष साधु सनमानू !*

*जिमि जग जामवंत हनुमानू !!*

*××××××××××××××××××××*

*जिन्ह मोहि मारा ते मैं मारे*


अर्थात जो हमें मारेगा वह हमसे मार खाएगा हम खड़े होकर मार थोड़े ही खाएंगे ? कालनेमि धोखा देना चाहता है तो हनुमान जी कह देते हैं :---

*पहले मुनि गुरु दक्षिणा लेहूं !*

*पाछे हमहिं मंत्र तुम देहू !!*

और फिर *सिर लंगूर लपेटि पछारा* आदि |

परंतु *संतों* के लक्षण तो यह है कि दुष्ट कुठार की भांति *संत* चंदन को काट भी देता है तो संग की सुगंध तो अवश्य लग जाती है पर कुठार को दंड चंदन नहीं लोहार ही देता है | यथा:--

*संत असंतन्हिं कै असि करनी !*

*जिमि कुठार चंदन आचरनी !!*

*××××××××××××××××××××*

*काटइ परसु मलय सुनु भाई !*

*निजगुन देइ सुगन्ध बसाई !!*

*××××××××××××××××××*

*ताते सुर सीसन्ह चढ़त जग वल्लभ श्रीखंड !*

*अनल दाह पीटत घनहिं परसु वदन यह दण्ड !!*


उपरोक्त प्रकार से *हनुमान जी* के साधु होने से संबोधन भी मानने का भाव हो सकता है कि हे *साधु हनुमान जी* ! आप *संतो के रखवारे* हो अथवा *साधु एवं संतों रखवारे हनुमान जी* ही हैं या फिर यह भी कहा जा सकता है कि *हनुमानजी* संत प्रवृत्ति के *साधुओं* के ही *रखवाले* हो | असुरों को तो नष्ट ही करने वाले हो कपटीवेशधारी साधु तो दंडनीय ही होता है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*असुर निकंदन*

*--------------*


इसी *हनुमान चालीसा* में पहले *तुलसीदास जी महाराज* ने लिख दिया है *राम काज करने को आतुर* इस पर विचार कर लिया जाए कि *राम काज* है क्या ? इसका दर्शन भी हमें *मानस* में ही होता है | यथा :--


*असुर मारि थापहिं सुरन्ह , राखहिं जग श्रुति सेतु !*

*जग विस्तारहिं विसद जस , रामजनम कर हेतु !!*


यही *रामकाज* है और आप भी *असुर निकंदन* होकर राम काज करते हो | असुरों को नष्ट करने में हनुमान जी सिद्धहस्त हैं | प्रभु राम रुख ही ना हो तो भले ही युद्ध वा मल्ल लीला करते रहें | यथा :- *भिरे जुगल मानहुँ गजराजा* पर यदि खेलने की इच्छा और ना हो तो अक्षय अर्थात अ + क्षय को क्षय करने में क्षण नहीं लगता | भगवान राम का *असुर संहार* एवं *साधु संत* की रक्षा का कार्य केवल त्रेतायुग को लीला काल में ही मात्र थोड़े ही था | अतः लीला संवरण के समय यह कार्य *हनुमान जी* को सौंप गए कि मेरे भक्तों *(साधु संतों)* की रक्षा अब चिरंजीवी होकर तुम करना | अब यह कार्य *हनुमान जी* करते हैं इसलिए इन्हें *असुर निकंदन* कहा गया है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*राम दुलारे*

*-----------*


*राम दुलारे* अर्थात *हनुमान जी* राम जी के परम प्रिय हैं | *दुलारे* शब्द यहां बड़ा ही मार्मिक है | जननी (माँ) का शिशु पर जो प्रेम होता है वह *दुलार* कहलाता है | यथा :-- *मातु दुलारइ कहि प्रिय ललना* यहां *रामजी का दुलारा हनुमान जी को* कहा गया है | ध्यान दीजिए कितना वात्सल्य पूर्ण प्रेम का संबोधन है | यह सब राम जी के साथ संभवत: ही कहीं आया हो | एक विशेष बात यह है कि *असुर निकंदन* के तुरंत बाद यह शब्द कहा गया है जिससे यह भाव प्रकट होता है कि शिशु यदि पालने में हाथ पैर मारता है व उससे यदि किसी को लग भी जाय और उससे कोई (कीड़ा) मर भी जाय तो माँ शिशु को अपराधी मानकर कोई प्रतिक्रिया नहीं करती है , वह तो गोद में उठाकर *दुलार* ही करेगी | अतः यदि *साधु संत* की रक्षा में किसी *असुर का निकंदन* भी होता है तो भी आप तो *राम के दुलारे* ठहरे ! आपको तो प्यार भरा चुंबन एवं *दुलार* आदि ही मिलेगा | *श्रीरामचरितमानस* में यदि किसी से प्रेम हुआ है तो प्रिय मित्र आदि का भाव ही प्रदर्शन रामजी ने किया है चाहे *जोरी प्रीति दृढ़ाई* या फिर *कीन्हि प्रीति कछु बीच न राखा* आदि | सुग्रीव से मित्रता की हो चाहे विभीषण को भी प्राण प्रिय बनाकर :- *तुरत विभीषण पाछे मेला ! सन्मुख राम सहेउ सो सैला !!* यह सब भाव तो देखने को मिल सकता है परंतु *दुलार* का पात्र केवल *हनुमान जी* ही बन सके , जिसे माता (सीता) व पिता (राम) दोनों ने ही प्यार दिया | सीता जी ने प्रथम पुत्र कहकर संबोधन किया :- *सुनु सुत करहिं विपिन रखवारी ! परम सुभट रजनीचर भारी !!* वही मात्र सीता जी ने ही नहीं बल्कि भगवान श्रीराम ने भी *हनुमान जी* को पुत्र कह कर संबोधित किया :-- *सुनु सुत तोहि उरिन मैं नाहीं ! देखेउँ करि बिचार मन माहीं !!* इससे यह सिद्ध हो जाता है कि *हनुमान जी राम के दुलारे थे* क्योंकि राम जी ने अपना पुत्र किसी को भी नहीं कहा अब यदि *हनुमान जी* किसी पर प्रसन्न हो कृपा कर दें तो अपने *दुलारे* के प्रिय के साथ जो व्यवहार होता है वही तो रामजी वात्सल्य भाव में विवश होकर करेंगे ? यही भाव मन में रखते हुए *तुलसीदास जी महाराज* ने अपनी दिव्य लेखनी से लिख दिया *असुर निकंदन राम दुलारे* |


*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग १७



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तेरहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बारहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*चौपाई* का भाव :-अब आगे :--- *जय हनु
23 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*उन्नीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*महाव
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *उन्नीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*अठारहवें भाग* में आपने पढ़ा :*महावीर विक्रम बजरंगी* के अंतर्गत *
29 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौदहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तेरहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान*अब आगे:---*ज्ञान गुन सागर
23 सितम्बर 2020
22 सितम्बर 2020
*इस सकल सृष्टि में समय निरंतर गतिशील है , समय का चक्र कभी नहीं रुकता है | हमारे विद्वानों ने समय को तीन भागों में विभाजित किया है | जो बीत गया वह "भूतकाल" , जो चल रहा है वह "वर्तमान काल" एवं जो आने वाला है उसे भविष्य काल कहा गया है | मनुष्य को सदैव अपने वर्तमान पर ध्यान देना चाहिए | प्रायः कुछ लोग
22 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इक्कीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कुमति निवार सुमति के संगी*अब आगे :--
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौबीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तेईसवें भाग* में आपने पढ़ा :*हाथ वज्र औ ध्वजा विराजेे**काँधे मूँज
29 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*ग्यारहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पन्द्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौदहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान ज्ञान गुण सागर*अब आगे
23 सितम्बर 2020
26 सितम्बर 2020
*अपने कर्मानुसार अनेक योनियों में भ्रमण करता हुआ जीव मानवयोनि प्राप्त करता है | मानव योनि में आकर जीव का उद्देश्य होता है जन्म - जन्मातर के आवागमन से मुक्ति पाना अर्थात मोक्ष प्राप्त करना | जीव को मोक्ष बिना !! भगवत्कृपा !! के कदापि नहीं प्राप्त हो सकती | गर्भ में जिस
26 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सातवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छठवें भाग* में आपने पढ़ा :---*"बुद
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *ग्यारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*दसवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *हर
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सातवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छठवें भाग* में आपने पढ़ा :---*"बुद
23 सितम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x