हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५१

07 अक्तूबर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (405 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५१

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *इक्यावनवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*पचासवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*साधु सन्त के तुम रखवारे !*

*असुर निकंदन राम दुलारे !!*

*--------------------------*


अब आगे :------


*अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता !*

*अस बर दीन्ह जानकी माता !!*

*----------------------------*


*अष्ट सिद्धि*

*----------*


यद्यपि *सिद्धि* का अर्थ है सफलता | किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति उसकी *सिद्धि* है | इस प्रकार *सिद्धियों* की संख्या अनंत होगी परंतु वर्गीकरण का आधार कोई न कोई दृष्टिकोण होता है | योग की *आठ सिद्धियां* प्रसिद्ध है शेष *सिद्धियां* इसी में समाहित हो जाने से उनकी अलग गिनती उनके विस्तृत प्रसंग में ही की जाती है | यह आठ प्रधान होने से इन्हीं को कहकर ऐश्वर्याधिकार बता दिया गया है | *आठों सिद्धियां* इस प्रकार हैं १- अणिमा २- गरिमा ३- लघिमा ४- महिमा ५- प्राप्ति ६- प्राकाम्य ७- ईशित्व एवं ८- वशित्व | यथा :--


*अणिमा लघिमा प्राप्ति प्राकाम्य महिमा तथा !*

*ईशित्व च वशित्वं च तथा कायानसायिता !!*


इनमें से प्रथम चार कायिक या दैहिक हैं व शेष चार मानसिक | संक्षेप में देह को अणु मात्र तक बना लेना *अणिमा सिद्धि* का लक्षण है , इससे वह पत्थर की शिला में भी आसानी से प्रवेश कर सकता है | देह की गुरुत्व (भारीपन) को अतिशय वृद्धि कर सकने में क्षमता का नाम ही *गरिमा* है | *लघिमा* अभिप्राय हल्केपन से है जिसमें देह इतनी हल्की की जा सकती है कि पुष्प की पंखुड़ी पर बैठ जाने पर भी वह मुड़ती नहीं है | *महिमा* में देह को इतना बड़ा बना लिया जाता है कि आकाश हमें ही समाती है | *अणिमा महिमा गरिमा लघिमा* को परस्पर विरोधी क्षमताएं कह सकते हैं | मानसिक *सिद्धियां* अत्यंत गोपनीय होती हैं वह मानसिक संकल्प से ही क्रियाशील होती है | इनके भी यथा नाम तथा गुण यद्यपि भगवद्माया के रूप है | सभी *सिद्धियां* भगवान में आश्रय पाती है | *हनुमान जी* में भी यह स्वयं सिद्ध थीं | प्रथम चार सिद्धियों के उदाहरण मानस में देखे जा सकते हैं | यथा :--


*मसक समान रूप कपि धरी*

या

*जस जस सुरसा बदन बढ़ावा !*


इसे *अणिमा* कहा जा सकता है |

वही *महिमा* की व्याख्या :-

*तूसु दून कपि रूप दिखावा*

के रूप में *तुलसीदास जी महाराज* ने की है |

*देह बिसाल परम हरुआई !*

*मंदिर तें मंदिर चढ़ धाई !!*

यह *लघिमा* का अनुपम उदाहरण है | वही यदि *गरिमा* को देखा जाय तो :--

*जेहि गिरि चरन देइ हनुमंता !*

*चलेउ सो गा पाताल तुरंता !!*

से सिद्ध हो जाता है | इस प्रकार *हनुमान जी* में चार दैहिक एवं चार मानसिक *सिद्धियां* अर्थात *अष्ट सिद्धियां* विद्यमान थीं |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*नव निधि*

*---------*


*सिद्धियों* की भाँति ही *निधियों* का यद्यपि सामान्य अर्थ आकर आशय आदि होता है | अतिशय सुखों की प्राप्ति के साधन स्वरूप इनकी संख्या भी पूर्णता की प्रतीक अर्थात नौ मानी गई है | *नौ निधियों* के नाम शास्त्रों में इस प्रकार कहा गए हैं :--


*महापद्मश्च पद्मश्च शंखो मकर कच्छपौ !*

*मुकुंद कुंद नीलश्च खर्वश्च निधयो नव !!*


अर्थात १- महपद्म , २- पद्म , ३- शंख , ४- मकर , ५- कच्छप , ६- मुकुंद , ७- कुन्द , ८- नील एवं ९- खर्व आदि यह नौ प्रकार की *निधियां* हनुमान जी में विद्यमान थीं |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*दाता*

*-----*


*अष्ट सिद्धियां* एवं *नव निधियां* स्वयं *हनुमान जी* को तो यह जन्म से ही प्राप्त थी किंतु स्वयं को उपलब्ध होना व अन्य किसी को दे देना दोनों भिन्न बाते हैं | उदाहरण के लिए हमें मनुष्य योनि तो प्राप्त है पर किसी भी अन्य योनि के प्राणी को क्या हम मानव उपलब्ध करा सकते हैं ? कदापि नहीं ! इसलिए *हनुमान जी* को इन *अष्ट सिद्धियों* एवं *नव निधियों* को किसी को भी अपनी ओर से दे सकने की क्षमता का वरदान देकर *दाता* कहा गया है | *हनुमानजी* की उपासना से इनके प्राप्त का वर्णन पुराणों में उपलब्ध होता है | योग साध्य तो यह पूर्व में भी थे इन्हें श्री सीताजी (योगमाया) योगियों को प्रदान करती हैं , परंतु इस वरदान के बाद *हनुमान जी* स्वयं सभी *सिद्धियों* और *निधियों* के दाता हुए | यह शक्ति *हनुमान जी* में सीता जी के द्वारा प्राप्त हुई | *दाता अस बर दीन* कहा गया है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*वर*

*---*


आशीर्वाद केवल स्नेह , उपचार , धार्मिक व्यवहार नीति को ही सूचित करता है धार्मिक विधि होने से प्रभावी भी होता है परंतु देश , काल , परिस्थिति के अनुसार आशीष देने वाले की आध्यात्मिक क्षमता पर यह प्रभाव सीमित होता है | *वर* भी आशीर्वाद वाक्य की तरह शब्दारूढ़ होकर ही संचरित या उपलब्ध होता है , किंतु यह अधिकार वाक्य व दिव्य क्षमता पर सीमित होकर सद्य यथावत् प्रभावी होता है | आशीर्वाद जहां भावनारूढ़ होकर संचरित होता है वहां वरदान शब्दारूढ़ होकर संचरित होता है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*अस वर दीन्ह*

*--------------*


*अस वर दीन्ह* कहकर *तुलसीदास जी* ने यहां स्पष्ट किया कि यह आशीर्वाद नहीं वरदान दिया गया है | अतः अमोघ है | *अस* शब्द का भी गूढार्थ है | *अस* कहकर वाक्य की या शब्दों की यथार्थता कह दी है कि यह वरदान दिया गया है | *भाव है कि* यदि *दाता* के साथ कोई शर्त लगी होती कि अमुक साधक साधन या काल में तुम दे सकते हो तो वह भी कृपा परिस्थिति सापेक्ष होती | पर *अस*;कहकर यह बताने का प्रयास किया गया है कि *दाता* बस ऐसा *वर* दिया गया अर्थात शेष सभी बातें स्वयं *हनुमान जी* की कृपा पर ही आधारित है , क्योंकि *दाता* शब्द के बाद *अस* कहकर विराम सूचित किया गया है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*जानकी माता*

*-------------*


*अस वर दीन्ह* लिखने के बाद *जानकी माता* कहा गया इसमें कोई यह न समझें कि यह तो *माता* का स्नेहवश आशीर्वाद है | *अस वर* कहकर वात्सल्य के साथ *सीता का ऐश्वर्य* भी कहने का प्रयास *तुलसीदास जी* ने किया है | *जानकी माता* कह कर देने वाले का परिचय स्पष्ट करते हुए स्पष्ट किया है कि इसे *अंजना माता* का वरदान न समझा जाय | यदि मात्र *माता* लिखा गया होता तो पाठकों को भ्रम हो सकता था कि कौन *माता* ? इसीलिए स्पष्ट रूप से *जानकी माता* लिख दिया है | *वर* से अधिकार , ऐश्वर्या *माता* से संबंध तथा वात्सल्य का दिव्य दर्शन *तुलसीदास जी महाराज* ने कराने का प्रयास किया है |


*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग १७



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पन्द्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौदहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान ज्ञान गुण सागर*अब आगे
23 सितम्बर 2020
26 सितम्बर 2020
*अपने कर्मानुसार अनेक योनियों में भ्रमण करता हुआ जीव मानवयोनि प्राप्त करता है | मानव योनि में आकर जीव का उद्देश्य होता है जन्म - जन्मातर के आवागमन से मुक्ति पाना अर्थात मोक्ष प्राप्त करना | जीव को मोक्ष बिना !! भगवत्कृपा !! के कदापि नहीं प्राप्त हो सकती | गर्भ में जिस
26 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सोलहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पन्द्रहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय कपीश तिहुँ लोक उजागर*अब आगे :
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सातवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छठवें भाग* में आपने पढ़ा :---*"बुद
23 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *उन्नीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*अठारहवें भाग* में आपने पढ़ा :*महावीर विक्रम बजरंगी* के अंतर्गत *
29 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पन्द्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौदहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय हनुमान ज्ञान गुण सागर*अब आगे
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *ग्यारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*दसवें भाग* में आपने पढ़ा :--*"हरहुँ कलेश विकार"* के अन्तर्गत *हर
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तेरहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बारहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*चौपाई* का भाव :-अब आगे :--- *जय हनु
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सातवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छठवें भाग* में आपने पढ़ा :---*"बुद
23 सितम्बर 2020
23 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सत्रहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*सोलहवें भाग* में आपने पढ़ा :--*राम दूत*अब आगे:---*अतुलित बल धामा
23 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इक्कीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कुमति निवार सुमति के संगी*अब आगे :--
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तेइसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बाईसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कानन कुंडल कुंचित केशा*अब आगे:--*हाथ
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
*जीव इस संसार में अनेक योनियों में भ्रमण करता हुआ जब मानव योनि प्राप्त करता है तो उसका परम लक्ष्य होता है मोक्ष प्राप्त करना अर्थात आवागमन से छुटकारा प्राप्त करना | आवागमन छुटकारा पाने के लिए हमारे धर्म ग्रंथों में अनेक अनेक उपाय बताये गये हैं | जप - तप , साधना , उपासना आदि अनेकों प्रकार के साधन य
29 सितम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x