आत्मतत्त्व से ही समस्त चराचर की सत्ता

09 अक्तूबर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (426 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्मतत्त्व से ही समस्त चराचर की सत्ता

आत्मतत्व से ही समस्त चराचर की सत्ता

प्रायः सभी दर्शनों की मान्यता है कि जितना भी चराचर जगत है, जितना भी दृश्यमान जगत है – पञ्चभूतात्मिका प्रकृति है – उस समस्त का आधार जीवात्मा – आत्मतत्त्व ही है | वही परम तत्त्व है और उसी की प्राप्ति मानव जीवन का चरम लक्ष्य है | किन्तु यहाँ प्रश्न उत्पन्न होता है कि आत्मतत्व है क्या ? क्या यह नाशवान अर्थात क्षर है ? अथवा नाश रहित अर्थात अक्षर है ? क्योंकि आत्मा तो प्रत्येक जीव में व्याप्त होती है | फिर इसका भेद – आत्मतत्व का भेद – किस प्रकार ज्ञात हो ?

वास्तव में तो शास्त्रों के अनुसार जीवात्मा चेतन है, अचल है, ध्रुव है, नित्य है, भोक्ता है, इसका क्षरण नहीं होता, इसीलिये यह अक्षर है द्वाविमौ पुरुषौ लोके क्षरश्चाक्षर एव च, क्षर: सर्वाणि भूतानि कूटस्थोSक्षर उच्यते | उत्तमः पुरुषस्त्वन्यः परमात्मेत्युदाहृतः | यो लोकत्रयमाविश्य बिभर्त्यव्यय ईश्वरः ||” (गीता – 15/16,17)

अर्थात, संसार में दो प्रकार के पुरुष होते हैं - क्षर और अक्षर – इनमें से नाशवान पुरुष क्षर कहलाता है तथा दूसरा पुरुष – जो कि नाश रहित है – जिसका कभी अन्त नहीं होता – वह अक्षर पुरुष कहलाता है - जो कि भगवान की परा शक्ति माया ही है | क्षर पुरुष की उत्पत्ति का साधन है बीज, तथा जो अनेक संसारी जीवों की कामना और कर्म आदि के संस्कारों का आश्रय है – जो अपनी माया से समस्त ब्रह्माण्ड को व्याप्त कर स्थित है - वह अक्षर पुरुष कहलाता है | कहने का अभिप्राय है कि समस्त भूत अर्थात् प्रकृति का सारा विकार तो क्षर पुरुष है और कूटस्थ अर्थात् जो कूट की भाँति स्थित है वह अन्त रहित होने के कारण अक्षर कहा जाता है | इसे इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि समस्त पञ्चभूतात्मिका प्रकृति क्षर है क्योंकि वह परिवर्तनशील तथा अन्तवान है, और कूटस्थ अर्थात जीवात्मा अर्थात परमात्मा अक्षर है |

वह परमात्मा सूर्य के प्रकाश और ताप, चन्द्रमा के शीतल प्रकाश, पृथ्वी की उर्वरा शक्ति, मनुष्य में ज्ञान, स्मृति तथा विस्मृति आदि की क्षमता के रूप में अभिव्यक्त होता है | और ऐसा होने पर ये सब भी परमात्मस्वरूप ही भासित होते हैं | ये सब विकारी हैं और इस कारण से जीवात्मा भी विकारी प्रतीत होने लगता है, किन्तु जीवात्मा विकारी नहीं है | उसी प्रकार जैसे स्वर्ण से बने सभी आभूषण स्वर्ण ही प्रतीत होते हैं, किन्तु वास्तव में वे विकारी होते हैं, क्योंकि स्वर्ण को अनेकों रूपों में ढाल कर अनेक प्रकार के आभूषण निर्मित कर दिए जाते हैं | और इस प्रकार इन आभूषणों के रूप में वह स्वर्ण परिच्छिन्न और परिवर्तनशील प्रतीत होता है | वास्तव में आत्मा अक्षर पुरुष है, किन्तु उसका अक्षरत्व इस चर जगत् की अपेक्षा से ही है | शरीर, मन और बुद्धि की परिवर्तनशील क्षर उपाधियों की अपेक्षा से ही आत्मा अक्षर पुरुष कहलाता है | क्षर अर्थात नाशवान की सत्ता होगी तभी तो अक्षर अर्थात नाशरहित – परिवर्तनरहित की सत्ता का भान होगा | पुरुष शब्द का अर्थ ही है पूर्ण | इसी अव्यय और अक्षर आत्मा को वेदान्त में कूटस्थ कहते हैं | कूट का अर्थ है निहाई - वह यन्त्र जिसके ऊपर स्वर्ण को रखकर कूटा जाता है – जिसके ऊपर एक स्वर्णकार स्वर्ण को रखकर उसे नवीन आकार प्रदान करता है | इस प्रक्रिया में स्वर्ण तो परिवर्तित होता है, किन्तु निहाई अर्थात कूट में कोई परिवर्तन नहीं होता | इसी प्रकार उपाधियों के समस्त विकारों में यह आत्मा अविकारी ही रहता है | इसलिये उसे कूटस्थ कहते हैं - इन क्षर और अक्षर पुरुषों से भिन्न तथा इनके दोषों से असंस्पृष्ट नित्य शुद्ध बुद्ध मुक्त स्वभाव का पूर्ण पुरुष |

क्षर अक्षर के विषय में पुराण संहिता में कहा गया है अव्याकृतविहारोSसौ क्षर इत्यभिधीयते, तत्परं त्वक्षरं ब्रह्म वेदगीतं सनातनम् |” – अव्याकृत का विहार, अर्थात् अव्यक्त से जो उदय-लय रूप में विकास पाता है उसे क्षर कहते हैं | उससे परे अक्षर ब्रह्म है, जिसे वेद सनातन कहता है | महाभारत के शान्ति पर्व में जब युधिष्ठिर भीष्म पितामह से क्षर व अक्षर पुरुष के विषय में पूछते हैं तो भीष्म पितामह उन्हें बताते हैं यच्चमूर्तिमयं किंचित्सर्वं चैतन्निदर्शनम्, जले भुवि तथाकाशे नान्यत्रेति विनिश्चयः | कृत्स्नमेतावतस्तात क्षरते व्यक्तसंज्ञितम्, अहन्यहनि भूतात्मा तत: क्षर इति स्मृत: ||” – जल स्थल तथा आकाश में जो कुछ मूर्तिमान दृष्टिगोचर होता है, समस्त विश्व में जो कुछ व्यक्त है वह सब निश्चित रूप से क्षर ही है | अक्षर के अतिरिक्त विश्व के सम्पूर्ण पदार्थ, समस्त प्राणिमात्र प्रतिदिन नष्ट होते हैं, अतः उन्हें क्षर कहा जाता है |

अक्षरं ध्रुवमेवोक्तं पूर्णं ब्रह्म सनातानम्, अनादिमध् निधनं निर्द्वंदं कर्त्तृ शाश्वतम् | कूटस्थं चैव नित्यं च यद्वदन्ति मनीषिण:, यत: सर्वा: प्रवर्तन्ते सर्गप्रलयविक्रिया ||” – निश्चित रूप से अविनाशी सनातन ब्रह्म का नाम अक्षर है | उसी को नित्य और कूटस्थ भी कहते हैं | उसी नित्य एवं शाश्वत कर्ता के द्वारा सृष्टि प्रलय आदि क्रियाएँ होती हैं | इस प्रकार अक्षर ब्रह्म का तात्पर्य उस कूटस्थ नित्य से है जो आत्मतत्व है | और इसी की प्रेरणा से यह व्यक्त विश्व प्रतीत होता है |

कहने का अभिप्राय यह है कि आत्मतत्व से ही विश्व की सत्ता है, समस्त चराचर की सत्ता है...

_______________डॉ पूर्णिमा शर्मा

अगला लेख: सोने से पहले कुछ गा दो



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अक्तूबर 2020
नवदुर्गा महात्म्य आश्विन शुक्ल प्रतिपदा यानी शनिवार17 अक्तूबर से शारदीय नवरात्रों का आरम्भ होने जा रहा है | महिषासुरमर्दिनी के मन्त्रों केउच्चार के साथ नवरात्रों में माँ भगवती के नौ रूपों की पूजा अर्चना आरम्भ हो जाएगी| इस अवसर पर स्थान स्थान पर देवी के पण्डाल सजाए जाएँगे जहाँ दिन दिन भर और देररात तक
10 अक्तूबर 2020
18 अक्तूबर 2020
अखबार में कुछ दिनों पहले खबर छपी थी कि जापान एयरलाइन्स भविष्य में अपने हवाई जहाज़ में इस तरह से घोषणा नहीं करेंगे - गुड मोर्निंग लेडीज़ & जेंटलमेन. अब जापानी एयर होस्टेस दूसरी तरह से घोषणा करेगी - 'गुड मोर्निंग एवरीवन' या फिर 'गुड मोर्निंग पैस्सेंजर्स'. ब्रिटेन में भी 'हेलो
18 अक्तूबर 2020
10 अक्तूबर 2020
प्रेमबन जाएगाध्यानप्रेम, एकऐसा अनूठा भाव जिसका न कोई रूप न रंग... जो स्वतः ही आ जाता है मन के भीतर...कैसे... कब... कहाँ... कुछ नहीं रहता भान... हाँ, करने लगे यदिमोल भाव... तो रह जाना होता है रिक्त हस्त... इसी प्रकार के कुछ उलझे सुलझे से भावहैं हमारी आज की रचना में... जो प्रस्तुत है सुधी पाठकों के लि
10 अक्तूबर 2020
09 अक्तूबर 2020
लि
उठाया है क़लम तो इतिहास लिखूँगामाँ के दिए हर शब्द का ऐहशास लिखूँगाकृष्ण जन्म लिए एक से पाला है दूसरे ने उसका भी आज राज लिखूँगापिता की आश माँ का ऊल्हाश लिखूँगा जो बहनो ने किए है त्पय मेरे लिए वो हर साँस लिखूँगाक़लम की निशानी बन जाए वो अन्दाज़ लिखूँगाकाव्य कविता रचना कर
09 अक्तूबर 2020
01 अक्तूबर 2020
नमस्कार... स्वागत है आज आप सबका WOW India के आओ कुछबात करें कार्यक्रम में... आज एक बार फिर से एक छोटी सी काव्य गोष्ठी... अभी तीनदिन पूर्व बिटिया दिवस था... हमारी कुछ सदस्यों ने बिटिया और नारी के विविध रूपोंपर कुछ रचनाएँ रचीं और उनकी वीडियो रिकॉर्डिंग्स हमें भेजीं,जिन्हें हमने काव्य गोष्ठी के रूप में
01 अक्तूबर 2020
21 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में कन्या पूजन की प्रासंगिकता आजसभी ने माँ भगवती के छठे रूप – स्कन्दमाता – की उपासना की | शारदीय नवरात्र हों याचैत्र नवरात्र – माँ भगवती को उनके नौ रूपों के साथ आमन्त्रित करके उन्हें स्थापितकिया जाता है और फिर अन्तिम इन कन्या अथवा कुमारी पूजन के साथ उन्हें विदा कियाजाता है | कन्या पूजन किय
21 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
सप्तक के स्वरों की स्थापना सर्वप्रथम महर्षि भरत के द्वारा मानीजाती है | वे अपने सप्त स्वरों को षड़्ज ग्रामिक स्वर कहते थे | षड़्ज ग्राम सेमध्यम ग्राम और मध्यम ग्राम से पुनः षड़्ज ग्राम में आने के लिये उन्हें दो स्वरस्थानों को और मान्यता देनी पड़ी, जिन्हें ‘अंतर गांधार’ और ‘काकली निषाद’ कहा गया| महर्
11 अक्तूबर 2020
27 सितम्बर 2020
आज Daughter’s day है, यानी बिटिया दिवस... सर्वप्रथम सभी को Daughter’s day की बधाई... आज एक बार अपनी उलझी सुलझी सी बातों के साथ आपके सामने हैं...हमारी आज की रचना का शीर्षक है तू कभी न दुर्बल हो सकती... अपनी आज की रचनाप्रस्तुत करें उससे पहले दो बातें... हमारी प्रकृति वास्तव में नारी रूपा है...जाने कित
27 सितम्बर 2020
06 अक्तूबर 2020
का
कान की व्यथा कान की जुबानी इस दुनिया में कोई पूर्ण नहीं है… सभी अपूर्ण हैं। कोई सुखी नहीं है सभी दुखी हैं। जिसके पास सबकुछ है फिर भी वो उसका भोग आनन्द पूर्वक न करके जो नहीं है या जो अप्राप्य है उसके लिए दुखी है। सभी के मन में कोई न कोई व्यथा है जिसने आहत कर रखा है। औरों की बात तो छोड़ो एक दिन कान बेच
06 अक्तूबर 2020
06 अक्तूबर 2020
गीता और दुर्गा सप्तशतीआगामी 17 अक्तूबर सेशारदीय नवरात्र आरम्भ हो जाएँगे | लगभग सभी हिन्दू परिवारों में श्री दुर्गासप्तशती के पाठ के द्वारा माँ भगवती की पूजा अर्चना की जाएगी | दुर्गा सप्तशती याश्रीमद्भगवद्गीता का जब भी अध्ययन करते हैं तो बहुत से कथनों को पढ़कर कहीं न कहींदोनों में दृष्टि का और कथनों
06 अक्तूबर 2020
06 अक्तूबर 2020
गीता और दुर्गा सप्तशतीआगामी 17 अक्तूबर सेशारदीय नवरात्र आरम्भ हो जाएँगे | लगभग सभी हिन्दू परिवारों में श्री दुर्गासप्तशती के पाठ के द्वारा माँ भगवती की पूजा अर्चना की जाएगी | दुर्गा सप्तशती याश्रीमद्भगवद्गीता का जब भी अध्ययन करते हैं तो बहुत से कथनों को पढ़कर कहीं न कहींदोनों में दृष्टि का और कथनों
06 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में घट स्थापना और जौ उगाना कल आश्विनशुक्ल प्रतिपदा यानी शनिवार 17 अक्तूबर से समस्त हिन्दू समाज माँ भगवती की पूजा अर्चना के नव दिवसीयउत्सव शारदीय नवरात्र के आयोजनों में तल्लीन हो जाएगा | सर्वप्रथम सभी को शारदीयनवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...इसवर्ष आश्विन शुक्ल प्रतिपदा – प्रथम नवरात्
16 अक्तूबर 2020
22 अक्तूबर 2020
सप्तम नवरात्र – देवी केकालरात्रि रूप की उपासनात्रैलोक्यमेतदखिलं रिपुनाशनेन त्रातंसमरमूर्धनि तेSपि हत्वा ।नीता दिवं रिपुगणाभयमप्यपास्तमस्माकमुन्मदसुरारि भवन्न्मस्ते ।।कल आश्विन शुक्ल सप्तमी – सप्तमनवरात्र – माँ भगवती के सप्तम रूप कालरात्रि की उपासना का दिन | सबका अन्त करनेवाले काल की भी रात्रि अर्थात
22 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x