हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५४

11 अक्तूबर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (400 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५४

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *चौवनवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*तिरपनवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*तुमरो भजन राम को भावै !*

*जनम जनम के दुख विसरावै !!*

*------------------------------*


अब आगे :------



*अंतकाल रघुबर पुर जाई !*

*जहां जन्म हरि भक्त कहाई !!*

*----------------------------*


इसके पहले की चौपाई में *तुलसीदास जी* महाराज ने *जनम जनम के दुख बिसरावैंं* कह कर के यह बताया है कि पुनर्जन्म के दुखों से निवृत्त होने के कारण जीव जन्म जन्मांतरों के दुख को भूल जाता है और वह *राम को भावै* अर्थात प्रिय लगने लगता है | अब *तुलसीदास जी महाराज* लिखते हैं कि तब प्राणी अंत समय में *रघुपति पुर*( अयोध्यापुरी ) में चला जाता है | यहां कहने का भाव *प्रियता* के बाद *अतिप्रियता* का है क्योंकि *अयोध्यापुरी* के निवासी राम जी को अतिशय प्रिय हैं | यद्यपि भगवान ने कहा है *सब मम प्रिय सब मम उपजाए* प्रिय तो भगवान को सभी हैं परंतु *अतिप्रिय* कौन है ? इसका वर्णन *गोस्वामी तुलसीदास जी* करते हैं मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम स्वयं अपने मुखारविंद से *अयोध्यावासियों* के लिए कहते हैं :--


*अति प्रिय मोहि इहां के वासी !*

*मम धामदा पुरी सुख रासी !!*


*अयोध्या* के निवासी भगवान को *अति प्रिय* हैं | जहां पूर्व में *गोस्वामी जी* ने लिखा *राम को भावैं* वहीं अब लिख रहे हैं *रघुबर पुर जाई* अर्थात *अति भावे* क्योंकि भगवान को यहां की वासी *अत प्रिय* है | कहने का तात्पर्य है *अंतकाल* अर्थात देहावसानोपरांत *रघुवर पुर*( साकेत धाम ) चला जाता है | *पुर जाई* अर्थात कहा जाता है कि यदि प्राणी जन्म लेगा भी तो हरि का भक्त होगा | भावार्थ है कि जब राम अवतार लेंगे तभी उनकी पुरी में वह प्राणी भक्त के रूप में जन्म लेता है | *अंत काल* में उस *रघुवर पुर* को जाता है जहां जन्म लेने मात्र से ही राम के प्रिय होने से वह भक्त कहा जाता है | यहां *गोस्वामी तुलसीदास जी* महाराज ने *अयोध्या* के प्रभाव का वर्णन किया है | *श्री रामचरितमानस* में *गोस्वामी जी* ने लिखा है :---


*अवध प्रभाव जान तब प्रानी !*

*जब उर बसहिं राम धनुपानी !!*


*अयोध्या* का प्रभाव मनुष्य तभी जान पाता है जब उसके हृदय में *मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम* का निवास होता है | हमारे शास्त्रों में मुक्ति प्रदान करने वाली सात पुरियों की व्याख्या की गई है इन सात पुरियों में प्रथम स्थान *अयोध्या* को ही प्राप्त है | यथा:---


*अयोध्या मथुरा माया " काशी कांची अवञ्तिका !*

*पुरी द्वारावती चैव , सप्तै: मुक्ति प्रदायिका !!*


प्राणी के मानव जीवन की सर्वोत्कृष्ट उपलब्धियां दो ही होती हैं भक्ति या मुक्ति | *हनुमान जी* के भजन से इन दोनों की प्राप्ति हो जाती है |


*राम को भावै*

तथा

*जहां जन्म हरि भक्त कहाई !!*


से भक्ति व राम दोनों को प्राप्त कर लेता है , व *अंत काल रघुवर पुर जाई* से साकेत धाम की प्राप्ति हो जाती है , जिसका अर्थ हुआ सालों के मुक्ति इसीलिए गोस्वामी तुलसीदास जी ने स्पष्ट लिख दिया है :-- *अंत काल रघुबर पुर जाई ! जहां जन्म हरि भक्त कहाई !!*



*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ३२



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तेइसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बाईसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कानन कुंडल कुंचित केशा*अब आगे:--*हाथ
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*उन्नीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*महाव
29 सितम्बर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बत्तीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इकतीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*सूक्ष्म रूप धरि सियहि देखावा !**वि
04 अक्तूबर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इक्कीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कुमति निवार सुमति के संगी*अब आगे :--
29 सितम्बर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इक्कीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कुमति निवार सुमति के संगी*अब आगे :--
29 सितम्बर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *छब्बीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पच्चीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*तेज प्रताप महा जगवन्दन**---------
04 अक्तूबर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *अट्ठाइसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*सत्ताइसवें भाग* में आपने पढ़ा :*विद्यावान गुणी अति चातुर**-----
04 अक्तूबर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बाईसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इक्कीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*कंचन वर्ण विराज सुवेशा*अब आगे :----
29 सितम्बर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *छब्बीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पच्चीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*तेज प्रताप महा जगवन्दन**---------
04 अक्तूबर 2020
29 सितम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *अठारहवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*सत्रहवें भाग* में आपने पढ़ा :*अतुलित बल धामा ! अञ्जनिपुत्र पवनसुत
29 सितम्बर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *उन्तीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*अट्ठाइसवें भाग* में आपने पढ़ा :*राम काज करिबे को आतुर**---------
04 अक्तूबर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *पच्चीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौबीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*शंकर सुवन केसरी नंदन**------------
04 अक्तूबर 2020
04 अक्तूबर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तीसवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*उनतीसवें भाग* में आपने पढ़ा :*प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया**-------
04 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x