आत्महत्या हल नहीं

15 अक्तूबर 2020   |  chander prabha sood   (419 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्महत्या हल नहीं

आजकल आत्महत्याएँ कुछ अधिक होने लगी हैं। समाचार पत्रों, टी वी, सोशल मीडिया पर इनकी चर्चा प्रायः होती रहती है। सभी वर्गों और आयु के लोग इस घृणित कृत्य को कर रहे हैं। किसान, व्यापारी वर्ग, नौकरी पेशा लोग, विद्यार्थी, नेता,अभिनेता, बच्चे, युवा, वृद्ध आदि सभी आत्महत्या का रास्ता अपना रहे हैं। उन सब लोगों को शायद अपनी समस्या या परेशानी से बचने का यही एक सरल-से मार्ग दिखाई दे रहा होता है।
आत्महत्या करना समस्या से भागना कहलाता है। इतने शुभकर्मों के पश्चात प्राप्त इस मानव जीवन का ऐसा दुखद अन्त वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है। पूर्वजन्मों में किए गए प्रारब्ध कर्मों के अनुसार ही जीवन देकर, ईश्वर जीव को इस संसार में भेजता है। आत्महत्या करना मानो ईश्वर के विधान को चुनौती देना कहलाता है। आत्महत्या करने को किसी भी प्रकार से उचित नहीं ठहराया जा सकता।
आखिर मनुष्य आत्महत्या क्योंकर करता है? इस आत्महत्या के पीछे उसका मनोविज्ञान क्या होता है? इन प्रश्नों के उत्तर में यही कह सकते हैं कि मनुष्य किसी भी कारण से जब अपने दुखों और परेशानियों को सहन नहीं कर सकता, तब वह टूटने लगता है। उसे लगता है कि उन दुखों से छूट जाने का एक ही मार्ग है। वह है केवल आत्महत्या कर लेना। इस तरह वह अपने असहनीय भीषण कष्टों से सदा के लिए मुक्त हो जाएगा।
'ईशोपनिषद्' के निम्न मन्त्र में ऋषि ने बताया है कि आत्महत्या करने वाले कहाँ जाते हैं-
असूर्या नाम ते लोका अन्धेन तमसावृताः।
तांस्ते प्रेत्यभिगच्छन्ति ये के चात्महनो जनाः।।
अर्थात् सर्वत्र व्याप्त ईश्वर को देखने की दृष्टि जिन लोगों के पास नही होती, जो अकर्मण्यता से ग्रस्त है, ऐसे ही लोग हैं जो आत्महत्या करते है। वे मरणोपरान्त ऐसे लोकों को प्राप्त करते हैं, जो अन्धकार से आच्छादित है ।
मनीषी कहते हैं कि मृत्यु के पश्चात मनुष्य को नया जन्म मिलता है। पर मृत्यु से पहले जीवन का आत्महत्या करके विनाश करने वाले लोग ऐसे लोकों में भटकते है, जो अन्धकार से युक्त होते हैं। जब तक प्रारब्ध के अनुसार उनके जीवन की निश्चित अवधि समाप्त नहीं हो जाती, तब तक उन्हें नया जन्म नहीं मिल पाता। वहाँ पर भटकते हुए उन लोगों को अनेक कष्टों का सामना करना पड़ता है।
जिन दुखों के कारण मनुष्य जीवन की बाजी हार जाता है, वे कष्ट अगले जन्म में भी उसका पीछा नहीं छोड़ते। वे तो उसे भोगने ही पड़ते हैं, तभी उसे उनसे मुक्ति मिल सकती है। जो भी कर्म मनुष्य ने अपने पूर्वजन्मों में किए होते हैं, उनसे उसे तभी छुटकारा मिलता है, जब वह उन्हें भोग लेता है। यही ईश्वरीय विधान भी है। कर्म का यह सिद्धान्त बहुत ही जटिल है, जो हम मनुष्यों की समझ में नहीं आता।
आत्महत्या जैसा जघन्य अपराध करने के लिए मनुष्य स्वतन्त्र है। परन्तु ऐसा दुष्कृत्य करके मनुष्य अपने प्रियजनों का अनजाने में अहित कर बैठता है। वह स्वयं तो अपने कष्टों से तथाकथित रूप से मुक्त हो जाता है, पर पीछे वालों को नरक की भट्टी में झौंक जाता है। अपने प्रियजन के बिछोह के साथ-साथ उन्हें समाज के तानों और उलाहनों का सामना करना पड़ता है। न्याय व्यवस्था के सवालों का भी उत्तर देना पड़ता है।
मनुष्य यदि ईश्वर पर पूरा भरोसा रखे, तो वास्तव में उसके कठिन समय में वह उसकी सहायता कर रहा होता है। जिस प्रकार सांसारिक माता-पिता अपने बच्चे को दुखी नहीं देख सकते, उसी प्रकार वह परमपिता परमात्मा भी नहीं चाहता कि उसके बच्चे कभी दुखी रहें। यह हम मनुष्यों की गलतियाँ होती हैं, जिनके कारण उन अशुभ कर्मों का दण्ड हमें समयानुसार अवश्य ही भुगतना पड़ता है।
मनुष्य को अपने कष्टकारी समय में सहारा प्राप्त करने के लिए सज्जनों की संगति में जाना चाहिए। उसे मानसिक शान्ति पाने के लिए अपने घर में बैठकर सद् ग्रन्थों का अध्ययन करना चाहिए। यदि अपने मन में परेशानियों से हारकर कभी आत्महत्या का विचार आ भी जाए, तो उस पर पुनः विचार करना चाहिए। परिवारी जनों से विचार-विमर्श करना चाहिए। कोई न कोई सकारात्मक हल अवश्य ही निकल आता है।
चन्द्र प्रभा सूद

अगला लेख: जीवन का अनुभव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 सितम्बर 2020
कर्मफल का खेलसंसार कर्मों की मण्डी है। इस संसार को हम कर्म प्रधान कह सकते हैं। यानी मनुष्य जैसे कर्म करता है, तदनुरूप ही वह फल पाता है। इसीलिए हमारे सभी ग्रन्थ कर्मों की शुचिता पर बल देते हैं। चाहे रामचरित मानस हो या गीता हो, दोनों में ही कर्म को प्रधान बताया गया है। यह सत्य है कि कर्म करने के लिए ह
27 सितम्बर 2020
07 अक्तूबर 2020
चु
चुगलखोर आँसूखुशी का समय हो अथवा दुख से परेशानी हो, ये आँसू बिना कहे मनुष्य की आँखों से अनायास ही बहने लगते हैं। हर मनुष्य के जीवन में कुछ उत्तेजित करने वाली चीजें या घटनाएँ होती है, जो उसे यदा कदा रुला देती हैं। मनुष्य को किस कारण से रोना आता है, इसके उत्तर बहुत अलग-अलग हो सकते हैं। रोने के उदगम के
07 अक्तूबर 2020
03 अक्तूबर 2020
मृ
मृत्यु मनुष्य का मित्रमनुष्य के जन्म लेने से लेकर इस संसार से विदा लेने तक मृत्यु सदा उसके साथ रहती है। वह मनुष्य का साथ पल भर के लिए भी नहीं छोड़ती। वह एक मित्र की तरह सदा उसके साथ-साथ चलती है यानी मृत्यु का साया सदैव मनुष्य के साथ ही रहता है या उसके ऊपर मँडराता रहता है। यह सत्य है कि चाहकर भी इससे
03 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x