द्वितीय नवरात्र

17 अक्तूबर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (430 बार पढ़ा जा चुका है)

द्वितीय नवरात्र

द्वितीया ब्रह्मचारिणी

नवदुर्गा – द्वितीय नवरात्र - देवी के ब्रह्मचारिणी रूप की उपासना

कल आश्विन शुक्ल द्वितीया – दूसरा नवरात्र – माँ भगवती के दूसरे रूप की उपासना का दिन | देवी का दूसरा रूप ब्रह्मचारिणी का है – ब्रह्म चारयितुं शीलं यस्याः सा ब्रह्मचारिणीअर्थात् ब्रह्मस्वरूप की प्राप्ति करना जिसका स्वभाव हो वह ब्रह्मचारिणी | यह देवी समस्त प्राणियों में विद्या के रूप में स्थित है...

या देवी सर्वभूतेषु विद्यारूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः |

इस रूप में भी देवी के दो हाथ हैं और एक हाथ में जपमाला तथा दूसरे में कमण्डल दिखाई देता है | जैसा कि नाम से ही स्पष्ट होता है, ब्रह्मचारिणी का रूप है इसलिये निश्चित रूप से अत्यन्त शान्त और पवित्र स्वरूप है तथा ध्यान में मग्न है | यह रूप देवी के पूर्व जन्मों में सती और पार्वती के रूप में शिव को प्राप्त करने के लिये की गई तपस्या को भी दर्शाता है | पार्वती के रूप में शिव को पुनः प्राप्त करने के लिए तपस्या करते समय ऐसा समय भी आया जब उन्होंने समस्त प्रकार के भोज्य पदार्थों के साथ ही बिल्व पत्रों तक का भी सेवन बन्द कर दिया और तब उन्हें अपर्णा कहा जाने लगा | इतनी कठोर तपश्चर्या के कारण देवी के इस रूप को तपश्चारिणी भी कहा जाता है...

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलौ, देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा

जो लोग भगवती के नौ रूपों को नवग्रह से सम्बद्ध करते हैं उनकी मान्यता है कि यह रूप मंगल का प्रतिनिधित्व करता है तथा मंगल ग्रह की शान्ति के लिए माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा अर्चना करनी चाहिए | किसी व्यक्ति की कुण्डली में प्रथम और अष्टम भाव से सम्बन्धित कोई समस्या हो तो उसके समाधान के लिए भी इनकी उपासना का विधान है | जो लोग ध्यान का अभ्यास करते हैं उनके लिए भी इस रूप की उपासना अत्यन्त फलदायक मानी जाती है | ऐसा भी माना जाता है कि अगर आप प्रतियोगिता तथा परीक्षा में सफलता चाहते हैं – विशेष रूप से छात्रों को – माँ ब्रह्मचारिणी की आराधना अवश्य करनी चाहिये । इनकी कृपा से बुद्धि का विकास होता है और प्रतियोगिता आदि में सफलता प्राप्त होती है | इसके लिए निम्न मन्त्र के जाप का विधान है:

विद्याः समस्तास्तव देवि भेदास्त्रियः समस्ताः सकला जगत्सु |

त्वयैकया पूरितमम्बयैतत् का ते स्तुतिः स्तव्यपरा परोक्तिः ||

इसके अतिरिक्त ऐं ह्रीं श्रीं अम्बिकायै नमः” माँ ब्रह्मचारिणी के इस बीज मन्त्र के साथ भी देवी की उपासना की जा सकती है | कुछ स्थानों पर इस दिन तारा देवी और चामुण्डा देवी की उपासना भी की जाती है |

माँ भगवती का ब्रह्मचारिणी रूप हम सबकी रक्षा करते हुए सबकी मनोकामनाएँ पूर्ण करे और सबके ज्ञान विज्ञान में वृद्धि करे…

ध्यान

वन्दे वांच्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम् |

जपमालाकमण्डलुधरां ब्रह्मचारिणीं शुभाम् ||
गौरवर्णां स्वाधिष्ठानास्थितां द्वितीय दुर्गां त्रिनेत्राम् |

धवलपरिधानां ब्रह्मरूपां पुष्पालंकारभूषिताम् ||
पद्मवदनां पल्लवाराधरां कातंकपोलां पीनपयोधराम् |

कमनीयां लावण्यां स्मेरमुखीं निम्ननाभिं नितम्बिनीम् ||

स्तोत्र

तपश्चारिणीं त्वां हि तापत्रयनिवारिणीम् |

ब्रह्मरूपधरां ब्रह्मचारिणीं प्रणमाम्यहम ||
नवचक्रभेदिनीं त्वां नवैश्वर्यप्रदायनीम् |

धनदां सुखदां ब्रह्मचारिणीं प्रणमाम्यहम् ||
शंकरस्य प्रिया त्वं हि भुक्तिमुक्तिप्रदायिनी |

शान्तिदामानन्दां ब्रह्मचारिणीं प्रणमाम्यहम् ||

कवच

त्रिपुरा हृदये पातु ललाटे शिवभामिनी |

अपर्णा मे सदा पातु नेत्रेSधरे कपोलके ||

पंचदशी कण्ठे पातु मध्यदेशे महेश्वरी |

षोडशी मे सदा पातु नाभौ गुदं च पादयोः |
अंगं च सततं पातु प्रत्यंगं ब्रह्मचारिणी ||

अगला लेख: नवरात्रों में घट स्थापना और जौ उगाना



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 अक्तूबर 2020
मेरा अन्तर इतना विशाल समुद्र से गहरा / आकाश से ऊँचा /धरती सा विस्तृत जितना चाहे भर लो इसको / रहता हैफिर भी रिक्त ही अनगिन भावों का घर है ये मेराअन्तर कभी बस जाती हैं इसमें आकर अनगिनतीआकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता है मुझे विश्वास औरसाहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं है कोई सीमा इस मन की...पूरी रचना सुन
04 अक्तूबर 2020
10 अक्तूबर 2020
नवदुर्गा महात्म्य आश्विन शुक्ल प्रतिपदा यानी शनिवार17 अक्तूबर से शारदीय नवरात्रों का आरम्भ होने जा रहा है | महिषासुरमर्दिनी के मन्त्रों केउच्चार के साथ नवरात्रों में माँ भगवती के नौ रूपों की पूजा अर्चना आरम्भ हो जाएगी| इस अवसर पर स्थान स्थान पर देवी के पण्डाल सजाए जाएँगे जहाँ दिन दिन भर और देररात तक
10 अक्तूबर 2020
20 अक्तूबर 2020
पञ्चम नवरात्र – देवी के स्कन्दमाता रूप की उपासना केलिए मन्त्रसौम्या सौम्यतराशेष सौम्येभ्यस्त्वति सुन्दरी,परापराणां परमा त्वमेव परमेश्वरी |कल आश्विन शुक्ल पञ्चमी – पञ्चमनवरात्र – देवी के पञ्चम रूप की उपासना - स्कन्दमाता रूप की उपासना - देवी कापञ्चम स्वरूप स्कन्दमाता के रूप में जाना जाता है और नवरात्र
20 अक्तूबर 2020
13 अक्तूबर 2020
स्नेह बिना जीवन वास्तव में सूना है...स्नेह चाहे मित्र का हो... जीवन साथी का हो... ईश्वर के प्रति हो... स्नेहदान सेही जीवन ज्योति प्रज्वलित रहती है... तथा जीवन का पथ प्रकाशमान बना रहता है... कुछइसी प्रकार के उलझे सुलझे से भावों के साथ प्रस्तुत है हमारी आज की रचना,,, सोने से पहले कुछ गा दो...कात्यायनी
13 अक्तूबर 2020
08 अक्तूबर 2020
अपना क्या है कभीकभी यों ही दार्शनिक सा बना मन सोचने लगता है कि इस असत् जगत में उसका है क्या...?जो कुछ है वो सब उसी का तो दिया हुआ है... कुछ इसी तरह के उलझे सुलझे से विचारोंके साथ प्रस्तुत है हमारी आज की रचना... अपना क्या है... सुनने के लिए कृपयावीडियो पर जाएँ... धन्यवाद... कात्यायनी... https://youtu
08 अक्तूबर 2020
07 अक्तूबर 2020
शारदीय नवरात्र 2020 की तिथियाँ (कैलेण्डर)आश्विन शुक्ल प्रतिपदा यानी 17 अक्तूबर शनिवार से शारदीय नवरात्र आरम्भ होने जा रहेहैं | यों पितृविसर्जनी अमावस्या यानी महालया के दूसरे दिन से शारदीय नवरात्रों काआरम्भ हो जाता है | महालया अर्थात पितृविसर्जनी अमावस्या को श्राद्ध पक्ष का समापन होजाता है | महालया क
07 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
छायावाद के चार प्रमुख स्तम्भोंमें से एक महानकवि निराला... नवगीत केउद्भावक और प्रवर्तक... कल महाप्राण निराला जी की पुण्य तिथि के अवसर पर कुछ पंक्तियाँ श्रद्धांजलिस्वरूप प्रस्तुत की थीं... जो आज आप सबों के साथ साँझा कर रहे हैं... निराला जीजैसा भावुक और उदारमना कवि वास्तव में समस्त जगती के प्राणों में
16 अक्तूबर 2020
22 अक्तूबर 2020
अष्टमनवरात्र – देवी के महागौरी रूप की उपासना के लिए कुछ मन्त्र या श्री: स्वयं सुकृतीनाम् भवनेषु अलक्ष्मी:, पापात्मनां कृतधियांहृदयेषु बुद्धि: |श्रद्धा सतां कुलजनप्रभवस्य लज्जा, तां त्वां नताः स्म परिपालय देविविश्वम् ||शनिवार 24 अक्तूबर - आश्विन शुक्लअष्टमी - देवी के अष्टम रूप महागौरी की उपासना का दि
22 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
सप्तक के स्वरों की स्थापना सर्वप्रथम महर्षि भरत के द्वारा मानीजाती है | वे अपने सप्त स्वरों को षड़्ज ग्रामिक स्वर कहते थे | षड़्ज ग्राम सेमध्यम ग्राम और मध्यम ग्राम से पुनः षड़्ज ग्राम में आने के लिये उन्हें दो स्वरस्थानों को और मान्यता देनी पड़ी, जिन्हें ‘अंतर गांधार’ और ‘काकली निषाद’ कहा गया| महर्
11 अक्तूबर 2020
05 अक्तूबर 2020
मैडम जीकुछ देर खामोशकहीं खोई सी बैठी रहीं नीलिमा जी... फिर एक लम्बी साँस भरकर बोलीं “ये बाहर जातेथे तो मैं यहाँ देहरादून आ जाती थी | बेटी भी बाहर ही पढ़ रही थी न, तो मैं अकेलीबम्बई में क्या करती ? अब ये जितने भी हाइली एजुकेटेड लोग होते हैं उनकी तोमीटिंग्स विदेशों में होती ही रहती हैं | आप भी जाती हों
05 अक्तूबर 2020
15 अक्तूबर 2020
सूर्य का तुलामें गोचरशनिवार 17 अक्तूबर आश्विनशुक्ल प्रतिपदा को प्रातः सात बजकर छह मिनट के लगभग किन्स्तुघ्न करण और विषकुम्भयोग में सूर्यदेव कन्या राशि से निकल कर तुला राशि में प्रविष्ट हो जाएँगे | तुलाराशि आत्मकारक सूर्य की नीच राशि भी होती है | भगवान भास्कर इस समय चित्रा नक्षत्रपर होंगे | साथ ही चन्
15 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x