Sketches from life: देवियों और सज्जनों

18 अक्तूबर 2020   |  हर्ष वर्धन जोग   (412 बार पढ़ा जा चुका है)

Sketches from life: देवियों और सज्जनों

अखबार में कुछ दिनों पहले खबर छपी थी कि जापान एयरलाइन्स भविष्य में अपने हवाई जहाज़ में इस तरह से घोषणा नहीं करेंगे - गुड मोर्निंग लेडीज़ & जेंटलमेन. अब जापानी एयर होस्टेस दूसरी तरह से घोषणा करेगी - 'गुड मोर्निंग एवरीवन' या फिर 'गुड मोर्निंग पैस्सेंजर्स'. ब्रिटेन में भी 'हेलो एवरीवन' शुरू कर दिया गया है. इसका एक कारण तो यह बताया गया की सब बराबर हैं और लिंग भेद नहीं होना चाहिए. ये पुरुष प्रधान समाज को बदलने की लम्बी कोशिश की एक कड़ी है. दूसरा कारण यह की समाज में किन्नर भी हैं तो उन्हें भी गुड मोर्निंग पहुंचनी चाहिए. तीसरा इशारा यह भी था की अब लड़की-लड़की और लड़के-लड़के जैसी शादियाँ भी हो रही हैं तो जेंटलमैन और जेंटलवीमेन शब्द छोड़ ही दिए जाएं.

बैठे ठाले इन्टरनेट पर खोजबीन शुरू की तो पता लगा की सोलहवीं सदी में जेंटलमैन और जेंटलवीमेन दोनों शब्द चला करते थे. जेंटलमेन वो थे जो निकम्मे थे याने बड़े ज़मींदार या अमीर जो खुद कभी काम नहीं करते थे बल्कि लोग उनके लिए काम करते थे! लोग कमा कर देते थे और वो बैठ कर खाते थे! कैसे इस शब्द ने मतलब बदला की सभी आम-ओ-खास जेंटलमैन / जेंटलवीमेन हो गए! हालांकि आम जनता की जेब खाली की खाली ही रही. जनता जनार्दन को भाषण देते समय ये संबोधन 'लेडीज़ & जेंटलमैन' कहना कब और किसने शुरू किया ये कहीं भी लिखा नहीं पाया. पता लगा कि इस तरह का कोई रिकॉर्ड नहीं है.

कुछ समय पहले ऑक्सफ़ोर्ड विश्विद्यालय ने एक प्रयोग शुरू किया था कि छात्र छात्राएं 'ही' या 'शी' शब्द के बजाए ज़ी शब्द इस्तेमाल करें. कैसा चल रहा है ये प्रयोग? इस पर कोई जानकारी नहीं मिल पाई.

हमारे यहाँ मीटिंग या चुनावी रैली में 'लेडीज़ & जेंटलमेन' कहना हो तो 'महिलाओं और पुरुषों' ना कह कर 'देवियों और सज्जनों' कहा जाता है अर्थात मान सम्मान बढ़ा दिया जाता है. ये अलग बात है की असल में मान सम्मान बढ़ता है या नहीं. नेताओं के भाषणों में ज्यादातर संबोधन 'भाइयों और बहनों' का है. वोट लेने के लिए रिश्तेदारी गांठने की कोशिश रहती है! नेता जी जीतने के बाद में शक्ल दिखाएंगे या नहीं कह नहीं सकते.

मीटिंग या चुनावी रैली में मित्रों, साथियों, कॉमरेड, भारतवासियो जैसे संबोधन भी इस्तेमाल होते हैं. इन शब्दों में स्त्री, पुरुष और किन्नर सभी शामिल हैं कोई भेदभाव नहीं है. परन्तु इन संबोधनों का प्रचलन कम है.

पश्चिमी देशों के विपरीत आम तौर पर यहाँ पर किसी अनजान राहगीर से बात करनी हो तो 'सुनिए भाईसाहब, बहनजी, माताजी, अम्माजी' जैसा रिश्तेदारी वाला संबोधन ही करते हैं सुनिए श्रीमान या महाशय या साहब नहीं बोलते या काफी कम बोलते हैं. ज्यादातर पश्चिमी देशों में टीचर, बॉस या पड़ोसी को नाम से ही पुकारते हैं. नाम के साथ में सर, मैडम, जी, जनाब या साहब लगाने की जरूरत नहीं समझते हैं. हमारे यहाँ ऐसा होना मुश्किल ही लगता है की बच्चे अपनी टीचर गायत्री भट्ट को गायत्री कह कर पुकारें. चलती प्रथा का बदलना आसान नहीं है. और पुरुष प्रधानता को बदलना और भी मुश्किल है.

वैसे बराबरी का संबोधन तो राजस्थान में खूब चलता है जैसे राम राम भाई सा, भाभी सा, ससुर सा, सासू सा. हो सकता है ये 'सा' साहब या साहिबा या दोनों का संक्षिप्त संस्करण हो. जो भी हो इस 'सा' ने साहब और साहिबा का भेद समाप्त कर दिया. सा लगा कर सब बराबर! इसी सा को आगे भी बढ़ाया जा सकता है. हवाई जहाज वाली होस्टेस बोले - सभी यात्रियाँ ने राम राम सा. अपणा अपणा सामान संभालणा सा. संबोधन में तो बराबरी अच्छी है पर आम जीवन में तो वैसी बराबरी नहीं है.

वैदिक इतिहास में गार्गी और मैत्रेयि जैसी विदुशियाँ ज्ञानी पुरुषों से शास्त्रार्थ के लिए जानी जाती हैं. इससे लगता है की लिंग भेद नहीं रहा होगा या होगा तो बहुत कम रहा होगा. इसी तरह बौद्ध ग्रन्थ 'संयुक्त निकाय' में भिक्खु संघ के प्रमुख का नाम सारिपुत्त और मोगल्लना आता है तो भिक्खुनी संघ के प्रमुख का नाम खेम्मा( क्षेमा ) और उप्पल्वन्ना( उत्पलवर्णा ) लिखा मिलता है. ये सभी महिलाएं और पुरुष समान रूप से बिना भेद भाव के अरहंत बने या निर्वाण को प्राप्त हुए. पर भारतीय इतिहास में महिला राजा का नाम सुना नहीं.

लगभग तीन साल के लिए 1986 से 88 तक असम में पोस्टिंग हुई थी. आसपास के छोटे छोटे राज्यों में घूमने का मौका मिला. वहां बहुत से कबीले हैं - खासी, गारो, कूकी, बोडो, नागा, मिज़ो वगैरा. बहुत से कबीलों में प्रथा है की जमीन जायदाद लड़कियों को ही मिलती है. बेटियों में से भी सबसे छोटी बेटी को सबसे ज्यादा मिलती है. बूढ़े माँ बाप छोटी बेटी के साथ ही रहते हैं. इसी तरह कुछ आदिवासियों में शादी के बाद लड़का लड़की के घर चला जाता है. शादी भी स्वयम्वर की तरह ही हो जाती है. इन कारणों से वहां लड़की या महिला के प्रति पुरुषों का दृष्टिकोण अलग है. पैत्रक व्यवस्था या patriarchy का जोर कम है. पुरुष प्रधानता ज्यादातर मधुशाला में दिखती है!

हमारे पेंशनर मित्र हैं जिनके पास एक कीमती फ्लैट है और गाँव में एक आम का बाग़ और एक बड़ा पुश्तैनी मकान भी है. उनका कहना है की जमीन जायदाद तो मैं बेटे को ही दूंगा. हाँ सोना, चांदी, कैश और बैंक बैलेंस बेटी को दे जाऊँगा. जब उन्हें बताया कि अब तो बेटे बेटी का जमीन जायदाद पर बराबर का हक है तो वो बोले की जितने मर्ज़ी क़ानून बना लो पर मेरा वंश तो बेटे ने ही चलाना है. जैसे स्वर्गीय पिता जी से मुझे जायदाद मिली थी वैसे ही मैं भी बेटे को ही दे कर जाउंगा. जो प्रथा चल रही है वही चलेगी.

पिछले तीस पैंतीस साल के दौरान घूँघट की प्रथा का समाप्त होना, शादी ब्याह तय होने से पहले लड़का-लड़की का आपस में मिलना और महिलाओं का नौकरी पर जाना भी बहुत बड़े बदलाव हैं. फिर भी संसद और विधान सभाओं में महिलाएं काफी कम हैं. ऊँचे ओहदों पर भी महिलाएं कम हैं. पर आजकल के अखबार तो बलात्कार और महिलाओं पर अत्याचार की ख़बरों से रंगे रहते हैं. इन्हें पढ़ कर तो लगता है पुरुष प्रधानता कभी घटने वाली नहीं है. अर्थात हम पुरुषों की ऊँची गद्दी सुरक्षित है!

Patriarchy / पितृतंत्र / पुरुष प्रधानता की परिभाषाएँ :

* ऐसी सामाजिक व्यवस्था जिसमें सत्ता तथा नियंत्रण पुरुषों को प्राप्त होता है न कि महिलाओं को.

* Patriarchy is a social system in which men hold primary power and predominate in roles of political leadership, moral authority, social privilege and control of property. Some patriarchal societies are also patrilineal, meaning that property and title are inherited by the male lineage - Wikipedia.

* (i) Social organization marked by the supremacy of the father in the clan or family, the legal dependence of wives and children, and the reckoning of descent and inheritance in the male line. (ii) A society or institution organized according to the principles or practices of patriarchy - Merriam-Webster.

* A society in which the oldest male is the leader of the family, or a society controlled by men in which they use their power to their own advantage - Cambridge Dictionary.

Sketches from life: देवियों और सज्जनों

https://jogharshwardhan.blogspot.com/2020/10/blog-post_18.html

Sketches from life: देवियों और सज्जनों

अगला लेख: Sketches from life: लॉकर में बंद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अक्तूबर 2020
गीता और दुर्गा सप्तशतीआगामी 17 अक्तूबर सेशारदीय नवरात्र आरम्भ हो जाएँगे | लगभग सभी हिन्दू परिवारों में श्री दुर्गासप्तशती के पाठ के द्वारा माँ भगवती की पूजा अर्चना की जाएगी | दुर्गा सप्तशती याश्रीमद्भगवद्गीता का जब भी अध्ययन करते हैं तो बहुत से कथनों को पढ़कर कहीं न कहींदोनों में दृष्टि का और कथनों
06 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में घट स्थापना और जौ उगाना कल आश्विनशुक्ल प्रतिपदा यानी शनिवार 17 अक्तूबर से समस्त हिन्दू समाज माँ भगवती की पूजा अर्चना के नव दिवसीयउत्सव शारदीय नवरात्र के आयोजनों में तल्लीन हो जाएगा | सर्वप्रथम सभी को शारदीयनवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...इसवर्ष आश्विन शुक्ल प्रतिपदा – प्रथम नवरात्
16 अक्तूबर 2020
21 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में कन्या पूजन की प्रासंगिकता आजसभी ने माँ भगवती के छठे रूप – स्कन्दमाता – की उपासना की | शारदीय नवरात्र हों याचैत्र नवरात्र – माँ भगवती को उनके नौ रूपों के साथ आमन्त्रित करके उन्हें स्थापितकिया जाता है और फिर अन्तिम इन कन्या अथवा कुमारी पूजन के साथ उन्हें विदा कियाजाता है | कन्या पूजन किय
21 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x