जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओ

30 अक्तूबर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओ


जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओ


मनुष्य कहने के लिए तो प्राणियों में सबसे बुद्धिमान और समझदार कहलाता है। पर गहन अध्ययन व चिंतन करने पर पता चलता है कि उसके जैसा नासमझ व लापरवाह दूसरा कोई प्राणी नहीं है। विचारकों, चिंतकों, शिक्षाशास्त्रियों और मनीषियों ने बताया कि सीखने की कोई आयु और अवस्था नहीं होती है। मनुष्य आजीवन सीखता है और सीखने में ही जीवन की सार्थकता है। सच भी है सीखना तो आजीवन चलनेवाली प्रक्रिया है।(Learning is a Life long process) प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से मनुष्य जड़ व चेतन सभी से प्रभावित होता है और कुछ न कुछ सीखता है। उदाहरण के लिए चलते समय जब ठोकर लग जाती है तब उस पत्थर या राह के रोड़े से हमें सीख मिलती है। केले के छिलके पर पैर पड़ने पर चारो खाने चित होनें पर स्वानुभव की सीख अनोखी होती है।छोटे बच्चों की अनोखी आदत होती है, उन्हें जिस कार्य के लिए मना किया जाता है वे उसी ओर कटिबद्ध होते हैं। पर दीया या आग की चिनगारी से जलने पर उसे भी सीख मिल जाती है। प्रकृति की हर वस्तु हमें सीख देती है। हम बड़े बच्चों को सिखाते हैं तो दूसरी तरफ बच्चों से हम बहुत कुछ सीखकर अपने जीवन को उनकी तरह स्वस्थ व खुशहाल बना सकते हैं। पर मनुष्य के अंदर निहित घमंड और स्वार्थ उसे सरल व सहज बनने से रोकता है। उसके जीवन को और अधिक जटिल, कठिन और पेंचीदा बना देता है।
कहा जाता है कि बच्चों का मन कोरे कागज जैसे होता है उस पर जो चाहो वो लिख सकते हो। वैसे ही बच्चों को कच्चा घड़ा बताया जाता है जिसे कोई भी आकार दिया जा सकता है। हम बच्चों को सीख देते हैं, कई बार तो अपने विचारों को भी उन पर थोप देते हैं। दूसरी तरफ बच्चों के जीवन से भी हमें कई सीख मिलती है। उनके बचपन में अपने बचपन को निहारना, उसकी झलक पाकर प्रसन्न होना। बच्चे सबसे पहले हमें पारदर्शी बनना सिखाते हैं। उन्हें रोना आता है तो रोते हैं, गुस्सा आता है तो खूब गुस्सा करते हैं और खुश होने पर खिलखिलाकर हँसते हैं। वे अपने किसी भी संवेदना को दबाते नहीं हैं और न तो छिपाते हैं। आप सब जानते हैं कि बच्चे हर पल ऊर्जा से क्यों भरे रहते हैं..? दरअसल वे फालतू की बातें सोचकर अपनी सकारात्मक ऊर्जा को बर्बाद नहीं करते हैं। वे हमेशा मौजूदा क्षण में जीते हैं, वे विशुद्ध वर्तमान के प्राणी होते हैं। अतीत और भविष्य को लेकर अटकलें नहीं लगाते हैं फालतू व निरर्थक बातों में अपना समय बरबाद नहीं करते हैं। उन्हें जब भूख लगती है तब खाते हैं, नींद आती है तो सोते हैं। यदि हम बच्चों के जीवन से सीख लें और उसे अपने जीवन में अपनायें तो हम जीवन का असली आनन्द ले सकते हैं। गीता में भी तो कहा गया है अर्थात गीता का सार यही है। तुम क्या लेकर आये थे? क्या लेकर जाओगे? जो तुम्हारे पास नहीं है उसकी व्यर्थ चिंता करने से क्या फायदा? सांसारिक वस्तुएँ तो मोहमाया है पर मनुष्य इसी मोहमाया में फँसा हुआ है।
संत गोस्वामी तुलसीदास जी ने बताया है कि 'बड़े भाग मानुष तन पावा, सुर दुर्लभ सद ग्रंथनि गावा।'
मनुष्य का जीवन बहुत ही भाग्य से मिलता है, जो देवताओं के लिए भी दुर्लभ बतलाया गया है। अतः जीवन के मोल को समझकर रचनात्मकता में रुचि लेते हैं तो जीवन की नीरसता अपने आप खत्म हो जाती है।
राम कथा 'रामचरितमानस' और 'महाभारत' जैसे ग्रंथों से हमें जीवन की शैली ही तो सिखाई जाती है। गोस्वामी तुलसीदास जी यह भी कहते हैं कि 'परहित सरिस धरम नहीं भाई, पर पीड़ा सम नहीं अधमाई।' जीवन की सार्थकता तो दूसरों के भलाई के कार्य में है और दूसरों को कष्ट देने से बढ़कर कोई पाप नहीं है। अतः मनुष्य अर्थात हमारी समझदारी इसी में है कि जीवन के रहस्य को समझते हुए सहजता, सरलता, उदारता और पारदर्शिता के साथ जीवन का आनंद लेना चाहिए।
➖अशोक सिंह 'अक्स'
☎️ 9867889171

#अक्स
#पागल_पंथी_का_जुनून

अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 नवम्बर 2020
ऑर्गेनिक खेती और हैड्रोपोनिक खेती का बढ़ता चलनहालही में मैंने 4 नवंबर, 2020 के अंक में छपा एक लेख पढ़ा जिसका शीर्षक था 'लेक्चरर की नौकरी छोड़ बनें किसान' मिट्टी नहीं पानी में उगती हैं फल और सब्जियाँ। यह कारनामा गुरकीरपाल सिंह नामक व्यक्ति ने कर दिखाया। जो एक कंप्यूटर इंजीनियर थे और लेक्चरर पद पर नौकरी
07 नवम्बर 2020
19 अक्तूबर 2020
भक्तों ने पुकारा और मैया चली आईभक्तों ने पुकारा और मैया चली आईदर्शन देकर के मैया आपन कृपा बरसाई......जब-जब नवरात्रि आई, माई के दरबार सजाईघर में ही दरबार लगाई, स्वागत में मंगलाचार गाई....माँ के दरबार में..आज मंगलाचार है..सबका स्वागत सत्कार हैहो रही जयजयकार है माँ अंबे का सत्कार हैमाता भवानी आई हैं सं
19 अक्तूबर 2020
21 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में कन्या पूजन की प्रासंगिकता आजसभी ने माँ भगवती के छठे रूप – स्कन्दमाता – की उपासना की | शारदीय नवरात्र हों याचैत्र नवरात्र – माँ भगवती को उनके नौ रूपों के साथ आमन्त्रित करके उन्हें स्थापितकिया जाता है और फिर अन्तिम इन कन्या अथवा कुमारी पूजन के साथ उन्हें विदा कियाजाता है | कन्या पूजन किय
21 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
अहोईअष्टमी व्रतआश्विन शुक्लपक्ष आरम्भ होते ही पर्वों की धूम आरम्भ हो जाती है | पहले शारदीय नवरात्र, बुराई और असत्य परअच्छाई तथा सत्य की विजय का प्रतीक पर्व विजया दशमी उसके बाद शरद पूर्णिमा औरआदिकवि वाल्मीकि की जयन्ती, फिर कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा सेकार्तिक स्नान आरम्भ हो जाता है | कल कार्तिक कृष्ण प्र
31 अक्तूबर 2020
28 अक्तूबर 2020
अनमोल वचनश्रद्धा सम भक्ति नहीं, जो कोई जाने मोलहीरा तो दामों मिले, श्रद्धा-भक्ति अनमोल।दयावान सबसे बड़ा, जिय हिय होत उदारतीनहुँ लोक का सुख मिले, करे जो परोपकार।स्वार्थी सारा जग मिले, उपकारी मिले न कोयसज्जन से सज्जन मिले, अमन चैन सुख होय।सब कुछ होत है श्रम से, नित श्रम करो तुम धायसीधी उँगली घी न निकसे
28 अक्तूबर 2020
01 नवम्बर 2020
हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्नमहाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षण मंडल और बालभारती के संयुक्त तत्वावधान में बहुप्रतीक्षित बारहवीं की हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा संबंधित प्रशिक्षण कार्यक्रम दिनांक 1 नवंबर, 2020 को सुबह 11.30 बजे संपन्न हुआ
01 नवम्बर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
11 नवम्बर 2020
शिक्षक के व्यवसाय का महत्त्वशिक्षा के क्षेत्र में शिक्षक के व्यवसाय का ऐसा ही महत्त्व है जैसे कि ऑपरेशन करने के लिए किसी डॉक्टर अर्थात सर्जन का महत्त्व होता है। शिक्षक सिर्फ समाज ही नहीं बल्कि राष्ट्र की भी धूरी है। समाज व राष्ट्र सुधार और निर्माण के कार्य में उसकी महती भूमिका होती है। शिक्षक ही शिक
11 नवम्बर 2020
25 अक्तूबर 2020
बैंक में ऑडिट बहुत होता है. जितनी ज्यादा बिज़नेस होगा उतनी बड़ी ब्रांच होगी और उतने ही ज्यादा ऑडिटर आएँगे. एक तो घरेलू या इंटरनल ऑडिटर होते हैं ये साल में एक बार आते हैं. एक और इंटरनल ऑडिटर भी हैं जिन्हें कनकरंट ऑडिटर कहते हैं. ये बड़ी ब्रांच में बारहों महीने बैठे रहते हैं औ
25 अक्तूबर 2020
09 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 4दाता इतना रहमिए, कि पालन-पोषण होयपेट नित भरता रहे, अतिथि सेवा भी होय।दीनानाथ हैं अंतर्यामी, सहज करें व्यापारबिना तराजू के स्वामी, करें हैं सम व्यवहार।सबकुछ तेरा नाम प्रभु, इंसा की नहीं औकातपल में राजा तू बनाए, पल में रंक बनि जात।नाथ की लीला निराली,क्या स्वामी क्या मालीबाग की रक्षा माली
09 नवम्बर 2020
16 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में घट स्थापना और जौ उगाना कल आश्विनशुक्ल प्रतिपदा यानी शनिवार 17 अक्तूबर से समस्त हिन्दू समाज माँ भगवती की पूजा अर्चना के नव दिवसीयउत्सव शारदीय नवरात्र के आयोजनों में तल्लीन हो जाएगा | सर्वप्रथम सभी को शारदीयनवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...इसवर्ष आश्विन शुक्ल प्रतिपदा – प्रथम नवरात्
16 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x