उद्गम कहानी का।

31 अक्तूबर 2020   |  जानू नागर   (409 बार पढ़ा जा चुका है)

उद्गम कहानी का।


कहानी समाज से पैदा होने वाली बीज हैं।

जो उन्ही के दरम्यान रहकर उन्हीं के बीच दफन हो जाती हैं।

पर अपनी अभिब्यक्ति से एक नए इतिहास की रचना करती हैं, उसे बदलती नहीं हैं उसके अधूरेपन मे भराव करती हैं। अगर वह ऐसा नहीं करती तो समझो, वह बदलाव के नाम पर इतिहास को नहीं, उसके पात्र को नष्ट करती हैं ।

जब पात्र ही मर जाएगा तो उसमे पनपती तस्वीर पहले ही दफन हो जाएगी।

जिस तरह किसी पेड़ के साथ काट-छाट करना बदलाव हैं, लेकिन उसे काट देना बदलाव नहीं विनाश हैं । जड़ का खोना मतलब उसके अस्तित्व को खोना हैं।

अगला लेख: कहानी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x