महाप्रसाद के बदले महादान

31 अक्तूबर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (407 बार पढ़ा जा चुका है)

महाप्रसाद के बदले महादान


आप सभी जानते हैं कि कोरोना विषाणु के कारण जनजीवन बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। व्यापार, कारोबार और रोजगार भी अछूता नहीं रहा। कोरोना के कारण पूरे विश्व में भय व्याप्त है। ऐसे में पड़ने वाले त्योहारों का रंग भी फीका पड़ता गया। राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का आयोजन तो किया गया पर हर साल के जैसे उत्साह व उमंग नही था। ईद, बकरीद और रक्षाबंधन भी इसी तरह सादगी से बिना किसी समारोह के आया और चला गया अर्थात बीत गया। इतनी भयावह स्थिति बनी हुई थी कि 'गणेशोत्सव' की भी अनुमति नहीं मिली। सभी आयोजकों ने भी जनकल्याण हेतु इसका समर्थन किया। चारो तरफ अनहोनी का भय व्याप्त था। पर प्रशासन ने शर्तानुसार सादगी से गणेशोत्सव की अनुमति प्रदान की। वो भी सिर्फ डेढ़ से पाँच दिन के लिए। इसके लिए भी हमारे यहाँ से महेश दवे महाराज और रंजीत भाई तीन दिन तक महानगरपालिका व पुलिस स्टेशन का चक्कर काटते रहे तब कहीं जाकर पाँच दिन की अनुमति मिली। दरअसल सार्वजनिक गणेशोत्सव पर पाबंदी लगा दी गई थी। जबकि व्यक्तिगत रूप से बप्पा को घर ला सकते थे। जब जल में रहना है तो मगरमच्छ से बैर नहीं कर सकते अर्थात प्रशासन के निर्देशों का पालन करना ही है। इसी में सबकी भलाई है।

समिति द्वारा आयोजन के संबंध में विचार-विमर्श हेतु आम सभा बुलाई गई थी, जबकि कोरोना काल में ये कार्य गैरकानूनी था फिर भी सामाजिक दूरियाँ बनाए रखकर आमसभा साधारण रुप से की गई। जिसमें सिर्फ और सिर्फ दस सदस्य शामिल हुए। कोरोना का ऐसा दहशत कि तीन सौ सदस्यों में से सिर्फ दस सदस्य उपस्थित हुए। हालांकि समर्थन सभी ने दिया था। जिसके फलस्वरूप मुसीबत से छुटकारा पाने के लिए बप्पा की आराधना पर सहमति बनी और सादगीपूर्ण तरीके से आयोजन की अनुमति भी थी।

पंडाल बना दिया गया। साधारण सी सजावट भी कर दी गई। नियत तिथि, मुहूर्त व समय पर बप्पा को विराजमान कर दिया गया। पुरोहित महेश दवे महाराज व मुख्य यजमान पकिया भाई ने स्थापना अनुष्ठान संपन्न करके पूजा अर्चना किए। उसके बाद नियमित रूप से सुबह नौ बजे सेवा, दोपहर बारह बजे आरती, शाम की सेवा और रात्रि नौ बजे की आरती संपन्न की जाती थी। वैसे तो आम दिनों में चहल पहल रहता था, भजन-कीर्तन होता था। भक्तों व श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगा रहता था पर इस बार लोगबाग प्रसाद व आरती से भी कतराते थे।

हर साल विसर्जन से दो दिन पूर्व अखण्ड रामायण-पाठ का आयोजन किया जाता था और उसके समापन पर श्रीसत्यनारायण जी की पूजा का आयोजन होता था और शाम को महाप्रसाद भंडारा होता था। परंपरा का निर्वहन करते हुए इस वर्ष भी अत्यंत सादगी पूर्ण तरीके से बिना ढोल-ताशे के अखण्ड रामायण-पाठ का आयोजन किया गया व श्रीसत्यनारायण जी की पूजा भी संपन्न हुई। पर हर साल महाप्रसाद भंडारे के लिए जो एक हजार लोगों की व्यवस्था की जाती थी उसमें थोड़ा सा परिवर्तन किया गया। समय की नज़ाकत को देखते हुए भंडारा संभव नहीं था सो निर्णय लिया गया कि जितनी राशि भंडारे के लिए खर्च की जाती है उतनी ही राशि का अन्नदान किया जाए। इस फैसले पर आम सहमति बन गई और जरूरत मन्दों को बुलाकर सौ से अधिक लोंगों को अन्नदान किया गया। जरूरत मन्दों की मदद करके जो तृप्ति व आनंद मिली वैसी तृप्ति भंडारे से भी नहीं मिलती थी। सब बप्पा की कृपा थी। मानव तो सिर्फ साधन मात्र है, बाकी करने व कराने वाले तो स्वयं बप्पा हैं। समिति की सहमति व सहयोग की ही देन थी कि 'महाप्रसाद' के बदले 'महादान' हो गया। इस तरह श्री दीपेश्वर समिति निरंतर अपनें सिद्धांत 'सेवा-त्याग-समर्पण' का पालन करते हुए जनकल्याण का कार्य करती है।

दरअसल महेश दवे महाराज की ही सोच थी। वे भले ही पुरोहित हैं पर उनमें दया व सहानुभूति की भावना कूट-कूटकर भरी हुई है। उन्होंने ही 'महाप्रसाद' के बदले अन्नदान का 'महादान' करने का सुझाव दिया था। समिति व हम सभी उनके परमार्थ व परोपकारी स्वभाव और कृति के प्रति सदैव कृतज्ञ रहेंगे।

➖ अशोक सिंह 'अक्स'

#अक्स

अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अक्तूबर 2020
अखबार में कुछ दिनों पहले खबर छपी थी कि जापान एयरलाइन्स भविष्य में अपने हवाई जहाज़ में इस तरह से घोषणा नहीं करेंगे - गुड मोर्निंग लेडीज़ & जेंटलमेन. अब जापानी एयर होस्टेस दूसरी तरह से घोषणा करेगी - 'गुड मोर्निंग एवरीवन' या फिर 'गुड मोर्निंग पैस्सेंजर्स'. ब्रिटेन में भी 'हेलो
18 अक्तूबर 2020
21 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में कन्या पूजन की प्रासंगिकता आजसभी ने माँ भगवती के छठे रूप – स्कन्दमाता – की उपासना की | शारदीय नवरात्र हों याचैत्र नवरात्र – माँ भगवती को उनके नौ रूपों के साथ आमन्त्रित करके उन्हें स्थापितकिया जाता है और फिर अन्तिम इन कन्या अथवा कुमारी पूजन के साथ उन्हें विदा कियाजाता है | कन्या पूजन किय
21 अक्तूबर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
28 अक्तूबर 2020
बैंकों में आजकल लोन के अलावा सोने के सिक्के, इन्शोरेन्स, मेडिक्लैम, म्यूच्यूअल फण्ड भी मिलने लगे हैं. पहले ये सब झमेला नहीं था. अब इसे झमेला ना कह कर 'फाइनेंशियल लिटरेसी' कहा जाने लगा है. याने पैसे कहाँ लगाने हैं और ब्याज ज्यादा कहाँ मिलेगा ये बताया जाता है. चालीस बरस बै
28 अक्तूबर 2020
09 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 4दाता इतना रहमिए, कि पालन-पोषण होयपेट नित भरता रहे, अतिथि सेवा भी होय।दीनानाथ हैं अंतर्यामी, सहज करें व्यापारबिना तराजू के स्वामी, करें हैं सम व्यवहार।सबकुछ तेरा नाम प्रभु, इंसा की नहीं औकातपल में राजा तू बनाए, पल में रंक बनि जात।नाथ की लीला निराली,क्या स्वामी क्या मालीबाग की रक्षा माली
09 नवम्बर 2020
22 अक्तूबर 2020
सप्तम नवरात्र – देवी केकालरात्रि रूप की उपासनात्रैलोक्यमेतदखिलं रिपुनाशनेन त्रातंसमरमूर्धनि तेSपि हत्वा ।नीता दिवं रिपुगणाभयमप्यपास्तमस्माकमुन्मदसुरारि भवन्न्मस्ते ।।कल आश्विन शुक्ल सप्तमी – सप्तमनवरात्र – माँ भगवती के सप्तम रूप कालरात्रि की उपासना का दिन | सबका अन्त करनेवाले काल की भी रात्रि अर्थात
22 अक्तूबर 2020
05 नवम्बर 2020
सबसे सरल, सहज और दुर्बल प्राणी 'शिक्षक'आप हमेशा से ही इस समाज में एक ऐसे वर्ग, समुदाय या समूह को देखते आये हैं जो कमजोर, दुर्बल या स्वभाव से सरल होता है और दुनिया वाले या अन्य लोग उसके साथ कितनी जटिलता, सख्ती या बेदर्दी से पेश आते हैं। वो बेचारा अपना दुःख भी खुलकर व्यक्त नहीं कर पाता है। वैसे तो उसे
05 नवम्बर 2020
25 अक्तूबर 2020
बैंक में ऑडिट बहुत होता है. जितनी ज्यादा बिज़नेस होगा उतनी बड़ी ब्रांच होगी और उतने ही ज्यादा ऑडिटर आएँगे. एक तो घरेलू या इंटरनल ऑडिटर होते हैं ये साल में एक बार आते हैं. एक और इंटरनल ऑडिटर भी हैं जिन्हें कनकरंट ऑडिटर कहते हैं. ये बड़ी ब्रांच में बारहों महीने बैठे रहते हैं औ
25 अक्तूबर 2020
30 अक्तूबर 2020
जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओमनुष्य कहने के लिए तो प्राणियों में सबसे बुद्धिमान और समझदार कहलाता है। पर गहन अध्ययन व चिंतन करने पर पता चलता है कि उसके जैसा नासमझ व लापरवाह दूसरा कोई प्राणी नहीं है। विचारकों, चिंतकों, शिक्षाशास्त्रियों और मनीषियों ने बताया कि सीखने की कोई आयु और अवस्था नहीं होती है।
30 अक्तूबर 2020
23 अक्तूबर 2020
मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं...मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं..दुनिया के सताए लोग यहाँ सीने से लगाए जाते हैं।मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं।संसार मिला है रहने को यहाँ दुःख ही दुःख है सहने कोपर भर-भर के अमृत के प्याले यहाँ रोज पिलाये जाते हैं।मातारानी
23 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
अहोईअष्टमी व्रतआश्विन शुक्लपक्ष आरम्भ होते ही पर्वों की धूम आरम्भ हो जाती है | पहले शारदीय नवरात्र, बुराई और असत्य परअच्छाई तथा सत्य की विजय का प्रतीक पर्व विजया दशमी उसके बाद शरद पूर्णिमा औरआदिकवि वाल्मीकि की जयन्ती, फिर कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा सेकार्तिक स्नान आरम्भ हो जाता है | कल कार्तिक कृष्ण प्र
31 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x