हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न

01 नवम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (588 बार पढ़ा जा चुका है)

हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न


हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न


महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षण मंडल और बालभारती के संयुक्त तत्वावधान में बहुप्रतीक्षित बारहवीं की हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा संबंधित प्रशिक्षण कार्यक्रम दिनांक 1 नवंबर, 2020 को सुबह 11.30 बजे संपन्न हुआ। प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुवात बोर्ड अध्यक्षा श्रीमती शकुंतला काले के स्वागत वचन, अभिनन्दन व शुभकामनाओं के साथ हुआ। उसके बाद डायरेक्टर डॉ. दिनकर पाटिल के शुभकानाओं की प्रस्तुति हुई और उन्होंने प्रशिक्षण सावधानीपूर्वक लेने की आवश्यकता पर जोर दिया। बेशक कोरोना प्रकोप के कारण प्रशिक्षण कार्य में विलंब हो चुका है। दरअसल नई पाठ्यपुस्तक होने के कारण उसका मूल्यमापन व पुस्तक परिचय का प्रशिक्षण सत्र के प्रारंभ में ही होना चाहिए था पर 60 प्रतिशत पाठ्यक्रम की समाप्ति पर कृतिपत्रिका व मूल्यमापन संबंधी जानकारी प्रस्तुत की गई जिससे प्राध्यापकों का कार्य व दायित्व और अधिक बढ़ गया है।

संयोजन की भूमिका में डॉ. मिलिंद कांबले ने महती भूमिका निभाते हुए सतही परिचय व तकनीकी सहायकों का आभार व योगदान को प्रोत्साहित करते हुए सबसे पहले आभासी मंच पर कार्यक्रम की प्रस्ताविकी के लिए मुंबई की डॉ. दीप्ति सावंत को आमंत्रित किया। डॉ. दीप्ति सावंत ने बाबा नागर्जुन की कविता का वाचन करते हुए प्रशिक्षण कार्यक्रम की प्रस्ताविकी व महत्त्व को प्रस्तुत किया। पाठ्यपुस्तक की उपयोगिता व उसके बहुआयामी उद्देश्यों को मुखरित किया। प्राचीनतम व नवीनतम विधाओं के संगम के स्वरूप में निर्मित पाठ्यपुस्तक को नवोचार का महत्ती का कार्य बतलाया। उनके कथनानुसार नये रूप में नई विधाओं का संयोजन आकर्षक है।

दूसरी तासिका में प्रा. धन्यकुमार विराजदार ने पुस्तक परिचय के दायित्व को बखूबी निभाया। राज्यस्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम को उदबोधित करते हुए बताए कि 'किताबें कुछ कहना चाहती हैं।' पुस्तक के मुखपृष्ठ और मलपृष्ठ का अवलोकन व संबंधित उचित विवेचना प्रस्तुत की गई। अनुक्रमणिका को लक्षित करते हुए सभी निहित गद्य पाठों व विधाओं का संक्षिप्त परिचय व शामिल किए जाने के उद्देश्यों का सुंदर तरीके से प्रस्तुति की गई। पद्यविभाग में कविताओं व काव्य प्रकार के मुख्य विचारों व संदेशों को बखूबी संचरित किया। विशेष अध्ययन कनुप्रिया काव्य के माध्यम से बताने का प्रयास किया कि वर्तमानसमय में कितना प्रासंगिक है, अतः आज युद्ध की नहीं बल्कि बुद्ध की जरूरत है। व्यावहारिक हिंदी में शामिल सभी पाठों को रोजगारपरक व रोजगार की संभावनाओं को उजागर व प्रशस्त करने वाला बतलाया। पाठ्यपुस्तक में समाहित अंतिम पाठ के माध्यम से छात्रों को शोध कार्य की तरफ आकर्षित करने का उद्देश्य बतलाया। व्याकरण से भाषा पर प्रभुत्व स्थापित होता है। पाठ्यपुस्तक संबंधित केंद्रीय तत्वों की चर्चा करके यह विश्वास दिलाने का प्रयास किया कि पाठ्यपुस्तक की निर्मिति समस्त मूल्यों, संस्कृतियों व रूढ़ियों को लक्षित करके किया गया है। जीवन कौशल की विवेचना करते हुए भी पुस्तक को अपेक्षित उद्देश्यों को पूर्ण करनेवाला, उपर्युक्त, प्रासंगिक और समसामयिक बतलाने का प्रयास किया।

तीसरी तासिका में मुंबई की डॉ. ममता झा ने अध्ययन-अध्यापन की पद्धतियों पर मंतव्य प्रकट किया। 'गुरू कुंभार शिष्य कुंभ है….' से प्रारंभ करके गुरू के दायित्व को याद दिलाने का प्रयास किया। भाषा की शुद्धता, सही उच्चारण, विधाओं को पढ़ाने की विशिष्ट शैली व पद्धति को अपनाना चाहिए। कविता या गीत को गाकर, तुकांत को ध्यान में रखकर, जोश व उत्साह के साथ पढ़ाना चाहिए, जिससे कि छात्रों में रुचि निर्माण हो सके। आवश्यकतानुसार विभिन्न पद्धतियों का प्रयोग आवश्यक व उपयुक्त है। 'शिक्षा एक अनमोल रतन, पढ़ाते समय करो जतन..' की विचारधारा रखने वाली प्राध्यापिका ममताजी ने बतलाने का प्रयास किया कि शिक्षा एक उपकरण के समान है जो सफलता पाने में मदद करता है। प्राध्यापक आवश्यकतानुसार व्याख्यान पद्धति, चर्चा व प्रश्नोत्तरी पद्धति, सामूहिक चर्चा और पर्यवेक्षिक अध्यापन पद्धति आदि के प्रयोग कर सकते हैं। अपेक्षित उद्देश्यों को पूर्ण करना, अच्छे अंक लाना व साहित्य के प्रति रुचि निर्माण करना स्वभाविक है। अतः छात्रों के स्वास्थ्य व उत्तम चरित्र पर विशेष ध्यान देते हुए एक अच्छा नागरिक बनाने का प्रयास करना चाहिए और उन्हें अभिव्यक्ति का अवसर प्रदान करना चाहिए।

चौथी तासिका में बारामती के डॉ. मिलिंद कांबले ने मूल्यमापन व आराखड़ा संबंधित महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ प्रदान कर उचित मार्गदर्शन किया। उन्होंने कृतिपत्रिका (80 अंक) के प्रारूप की विस्तार से चर्चा किए साथ ही विविध विभागों के अंक विभाजन व अपेक्षित कृतियों की चर्चा किए। मौखिक परीक्षा जिसके लिए कुल 20 अंक निर्धारित होते हैं, उसकी कृतिपत्रिका का प्रारूप, नमूना कृतिपत्रिका और आदर्श नमूना उत्तर की भी चर्चा किए। बेशक कृतिपत्रिका के निर्माण कार्य में छात्रों को केंद्र में रखकर उनके हित के लिए अत्यंत सरल, सहज व आसान बनाया गया है। अतः कृतिपत्रिका छात्रोपयोगी है जिससे उनको अच्छे अंक अर्जित करने में सहूलियत होगी।

पाँचवी तासिका प्रा. विभा राठौड़ द्वारा गद्य विभाग (20 अंक) और पद्य विभाग (20 अंक) के लिए कृतिपत्रिका का नमूना और नमूना उत्तर कृतिपत्रिका की प्रस्तुति की गई। कृतिपत्रिका का निर्माण कार्य करते समय विधाओं का ध्यान, कृतियों का ध्यान, शब्दसंपदा और अभिव्यक्ति का चयन करने संबंधी सावधानियां बरतने पर जोर दिया।

जिसमें गद्यांश व पद्यांश से संबंधित शब्दों की सीमा, लघूत्तरी व साहित्य संबंधी कृति से जुड़ी अहम सूचनाएँ प्रस्तुत की गई।

छठी तासिका में मुंबई की वरिष्ठ प्राध्यापिका डॉ. वंदना पावसकर जी ने तीसरा विभाग विशेष अध्ययन (10 अंक), चौथा विभाग व्यावहारिक हिंदी (20 अंक) और पाँचवा विभाग व्याकरण (10 अंक) से संबंधित नमूना कृतिपत्रिका व नमूना उत्तर कृतिपत्रिका का उचित व आवश्यक मार्गदर्शन प्रस्तुत किया। जिसमें अहम मुद्दे ये रहे कि कनुप्रिया से विशेष अध्ययन के अंतर्गत रसास्वादन नहीं पूछा जाएगा, व्यावहारिक में लघूत्तरी में प्रश्न छात्रों के लिए व्यावहारिक प्रयोग पर आधारित होने चाहिए, 6 अंक के लिए अपठित गद्यांश पूछा जाएगा, 4 अंक के लिए पारिभाषिक शब्दावली पाठ्यपुस्तक में पृष्ठ क्रमांक 108 / 109 से ही होने चाहिए। व्याकरण के सारे प्रश्न पुस्तक में से ही होने चाहिए। मुहावरे भी पाठ पर आधारित या पुस्तक में दिए गए हैं उसी में से होना चाहिए। कालपरिवर्तन व वाक्यशुद्धिकरण के वाक्य पाठ्यपुस्तक में से ही होने चाहिए। बारहवीं कक्षा में पढ़ाए गए रस और अर्थालंकार के उदाहरण पहचानने के लिए पाठ्यपुस्तक में दिए गए उदाहरण में से ही पूछे जाएंगे।

इसके पश्चात प्रश्नोत्तरी सत्र रखा गया जिसमें प्राध्यापकों के द्वारा चैटबॉक्स में पूछे गए कुछ चुने गए प्रश्नों का समाधान करने का प्रयास किया गया। कुलमिलाकर कोरोना काल में आभासीय मंच के माध्यम से यूट्यूब पर प्रसारण करके प्रशिक्षण कार्यक्रम को सुंदर तरीके से संपन्न किया। प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंत में श्री प्रभाकर पंचाल ने आभार प्रदर्शन किया और प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन की घोषणा कर दी गई।


➖ प्रा. अशोक सिंह 'अक्स'

☎️ 9867889171

#अक्स


हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न

अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 5दीप से दीप की ज्योति जलाई, दिवाली की ये रीति निभाईएक कतार में रखि के सजाई, फिर सब कुशल क्षेम मनाई।पाँच दिनों का त्योहार अनोखा, भाऊबीज तक सजे झरोखापकवानों का खुशबू हो चोखा, हर कोई रखता है लेखा-जोखा।धनतेरस की बात निराली, करते हैं सब अपनी जेबें खालीकोई खरीदे सोना-चाँदी तो, कोई बर्तन शुभ दि
16 नवम्बर 2020
09 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 4दाता इतना रहमिए, कि पालन-पोषण होयपेट नित भरता रहे, अतिथि सेवा भी होय।दीनानाथ हैं अंतर्यामी, सहज करें व्यापारबिना तराजू के स्वामी, करें हैं सम व्यवहार।सबकुछ तेरा नाम प्रभु, इंसा की नहीं औकातपल में राजा तू बनाए, पल में रंक बनि जात।नाथ की लीला निराली,क्या स्वामी क्या मालीबाग की रक्षा माली
09 नवम्बर 2020
22 अक्तूबर 2020
अष्टमनवरात्र – देवी के महागौरी रूप की उपासना के लिए कुछ मन्त्र या श्री: स्वयं सुकृतीनाम् भवनेषु अलक्ष्मी:, पापात्मनां कृतधियांहृदयेषु बुद्धि: |श्रद्धा सतां कुलजनप्रभवस्य लज्जा, तां त्वां नताः स्म परिपालय देविविश्वम् ||शनिवार 24 अक्तूबर - आश्विन शुक्लअष्टमी - देवी के अष्टम रूप महागौरी की उपासना का दि
22 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
महाप्रसाद के बदले महादानआप सभी जानते हैं कि कोरोना विषाणु के कारण जनजीवन बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। व्यापार, कारोबार और रोजगार भी अछूता नहीं रहा। कोरोना के कारण पूरे विश्व में भय व्याप्त है। ऐसे में पड़ने वाले त्योहारों का रंग भी फीका पड़ता गया। राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का आयोजन तो कि
31 अक्तूबर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
18 अक्तूबर 2020
अखबार में कुछ दिनों पहले खबर छपी थी कि जापान एयरलाइन्स भविष्य में अपने हवाई जहाज़ में इस तरह से घोषणा नहीं करेंगे - गुड मोर्निंग लेडीज़ & जेंटलमेन. अब जापानी एयर होस्टेस दूसरी तरह से घोषणा करेगी - 'गुड मोर्निंग एवरीवन' या फिर 'गुड मोर्निंग पैस्सेंजर्स'. ब्रिटेन में भी 'हेलो
18 अक्तूबर 2020
08 नवम्बर 2020
'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। जहाँ एक तरफ दावा किया जा रहा था कि अब कोरोना का खात्मा होने को आया है और सबकुछ खोल दिया गया, भले ही कुछ शर्तें रख दी गई। हमेशा सरकार प्रशासन सूचना जारी करने तक को अपनी जिम्मेदारी मानती है और उसीका निर्वहन करती है। जैसे सिगरेट के पैकेट प
08 नवम्बर 2020
05 नवम्बर 2020
सबसे सरल, सहज और दुर्बल प्राणी 'शिक्षक'आप हमेशा से ही इस समाज में एक ऐसे वर्ग, समुदाय या समूह को देखते आये हैं जो कमजोर, दुर्बल या स्वभाव से सरल होता है और दुनिया वाले या अन्य लोग उसके साथ कितनी जटिलता, सख्ती या बेदर्दी से पेश आते हैं। वो बेचारा अपना दुःख भी खुलकर व्यक्त नहीं कर पाता है। वैसे तो उसे
05 नवम्बर 2020
30 अक्तूबर 2020
जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओमनुष्य कहने के लिए तो प्राणियों में सबसे बुद्धिमान और समझदार कहलाता है। पर गहन अध्ययन व चिंतन करने पर पता चलता है कि उसके जैसा नासमझ व लापरवाह दूसरा कोई प्राणी नहीं है। विचारकों, चिंतकों, शिक्षाशास्त्रियों और मनीषियों ने बताया कि सीखने की कोई आयु और अवस्था नहीं होती है।
30 अक्तूबर 2020
28 अक्तूबर 2020
बैंकों में आजकल लोन के अलावा सोने के सिक्के, इन्शोरेन्स, मेडिक्लैम, म्यूच्यूअल फण्ड भी मिलने लगे हैं. पहले ये सब झमेला नहीं था. अब इसे झमेला ना कह कर 'फाइनेंशियल लिटरेसी' कहा जाने लगा है. याने पैसे कहाँ लगाने हैं और ब्याज ज्यादा कहाँ मिलेगा ये बताया जाता है. चालीस बरस बै
28 अक्तूबर 2020
27 अक्तूबर 2020
शरद पूर्णिमासोमवार तीस अक्तूबर को आश्विन मास की पूर्णिमा, जिसेशरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है - का मोहक पर्व है | औरइसके साथ ही पन्द्रह दिनों बाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल आरम्भ हो जाएगी |सोमवार को सायं पौने छह बजे के लगभग पूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी जो 31अक्तूबर को रात्रि 8:19 तक रहेगी | इस दिन
27 अक्तूबर 2020
21 अक्तूबर 2020
नवरात्रों में कन्या पूजन की प्रासंगिकता आजसभी ने माँ भगवती के छठे रूप – स्कन्दमाता – की उपासना की | शारदीय नवरात्र हों याचैत्र नवरात्र – माँ भगवती को उनके नौ रूपों के साथ आमन्त्रित करके उन्हें स्थापितकिया जाता है और फिर अन्तिम इन कन्या अथवा कुमारी पूजन के साथ उन्हें विदा कियाजाता है | कन्या पूजन किय
21 अक्तूबर 2020
30 अक्तूबर 2020
जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओमनुष्य कहने के लिए तो प्राणियों में सबसे बुद्धिमान और समझदार कहलाता है। पर गहन अध्ययन व चिंतन करने पर पता चलता है कि उसके जैसा नासमझ व लापरवाह दूसरा कोई प्राणी नहीं है। विचारकों, चिंतकों, शिक्षाशास्त्रियों और मनीषियों ने बताया कि सीखने की कोई आयु और अवस्था नहीं होती है।
30 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x