सबसे सरल, सहज और दुर्बल प्राणी शिक्षक

05 नवम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (426 बार पढ़ा जा चुका है)

सबसे सरल, सहज और दुर्बल प्राणी शिक्षक

सबसे सरल, सहज और दुर्बल प्राणी 'शिक्षक'


आप हमेशा से ही इस समाज में एक ऐसे वर्ग, समुदाय या समूह को देखते आये हैं जो कमजोर, दुर्बल या स्वभाव से सरल होता है और दुनिया वाले या अन्य लोग उसके साथ कितनी जटिलता, सख्ती या बेदर्दी से पेश आते हैं। वो बेचारा अपना दुःख भी खुलकर व्यक्त नहीं कर पाता है। वैसे तो उसे समाज का निर्माता, देश का निर्माण करने वाला, विश्वबंधुत्व की भावना को विकसित करने वाला आदि..आदि कहा जाता है।

बेचारा शिक्षक कोरोना काल में भी भेदभाव व निरीहता का शिकार हो रहा है। एकतरफ ऑनलाइन शिक्षा की चुनौतियों को स्वीकार कर अच्छे से शिक्षण कार्य को अंजाम दे रहा है तो दूसरी तरफ संस्थाओं में जाकर उपस्थिति देने के लिए विवश किया जा रहा है। पहले संस्था वालों ने विवश किया और अब तो प्रशासन का निर्देश भी आ गया। एक तरफ कोरोना काल के जानलेवा घातक विषाणुओं का खतरा तो दूसरी तरफ उपस्थित न होने पर सैलरी काटने की धमकी। शिक्षक हमेशा भलाई के कार्य में संलिप्त रहते हैं। चाहे वे विद्यालय में रहें या विद्यालय के बाहर हमेशा समाज व देश के भलाई के कार्य को बखूबी अंजाम देते हैं। आज शिक्षकों की जो ज्वलंत समस्याएं हैं उस तरफ आपलोगों का ध्यान आकर्षित करना चाहता हूँ।

प्रशासन ने पिछले सप्ताह से ही एक अधिसूचना उपस्थिति के संबंध में जारी किया और उसके बाद संस्थाओं ने नोटिस निकालकर उपस्थित होने के लिए बाध्य किया। पर जो संस्थान से दूर या मुंबई से सटे उपनगरों में रहते हैं उन्हें ऐसी गम्भीर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति नहीं है। ऐसे में निजीवाहनों से सफर करना व ट्राफिक का सामना करना किसी युद्ध से कम नहीं है।

पिछले दिन अर्थात 3/11/2020 को काफी जद्दोजहद अर्थात 3 घण्टे संघर्षपूर्ण सफर तय करके संस्था तक पहुँचे और उपस्थिति दर्ज कराई। हालाँकि वहाँ कोई कार्य नहीं करना था, तीन घंटे तक कुर्सी तोड़ने व गॉसिप के अलावा कोई कार्य नहीं था। जब ऑनलाइन शिक्षा का कार्य घर से ही अच्छे से हो रहा है तो अनावश्यक रूप से तबतक बुलाना उचित नहीं है जबतक लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति नहीं मिल जाती है।

ऐसे भयंकर व विषम परिस्थितियों में और सहजता प्रदान करने की आवश्यकता है। शिक्षक अपने कार्य अर्थात अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन करना अच्छी तरह से जानते हैं फिर इस तरह का मानसिक दबाव व तनाव पैदा करना बिल्कुल उचित नहीं है। अतः प्रकरण की गंभीरता को समझते हुए तत्काल प्रभाव से शिक्षकों को भी लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति दी जाए। इतना ही नहीं आमलोगों के लिए भी आवश्यकता को ध्यान में रखकर सफर करने की अनुमति देनी चाहिए।

अभीतक देखा गया कि लोकल ट्रेन में अतिआवश्यक सेवा प्रदान करनेवालों के अलावा पुलिसकर्मी, वॉचमैन, सिक्यूरिटी गार्ड, वकील व उनके क्लर्क सहित बैंक कर्मचारियों को सफर करने की अनुमति दी गई है। जब शिक्षकों को लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति नहीं दी गई तो उन्हें संस्थाओं में उपस्थित होने की अधिसूचना किस आधार पर जारी किया गया। क्या शिक्षकों के साथ ही सौतेलापन का व्यवहार हमेशा से ही प्रशासन करती आई है। बहुत से संस्थान तो जून माह से लगातार बुला रहे हैं, ऐसे में कर्मचारियों की जेब पर आवश्यकता से अधिक बोझ बढ़ गया है। एक तरफ बढ़ती महँगाई और दूसरी तरफ ऐसे तुगलकी निरंकुश तानाशाही फरमानों के कारण लोंगों में तनाव की स्थिति बनी हुई है। लोग सहमें और डरे हुए हैं।

अतः प्रशासन को परिस्थितियों व समस्याओं को ध्यान में रखते हुए तत्काल प्रभाव से शिक्षकों व अन्य को लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति प्रदान करना चाहिए अन्यथा अपनी तुगलकी फरमान को वापस ले। बेशक आज के दौर में इस तरह की हरकतों के कारण लोंगों में प्रशासन व व्यवस्था के प्रति असंतोष की भावना पनपने लगी है। ऐसी स्थिति में निश्चित ही आगे की कार्यप्रणाली भी प्रभावित होगी। शिक्षकों की गरिमा को ध्यान में रखते हुए उन्हें भी लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति तत्काल प्रभाव से मिलनी चाहिए।

शिक्षक बेचारा हमेशा से ही प्रशासन के हाथ में हाथ मिलाता रहा है, जो भी कार्य सौंपा गया उसने हमेशा ही उसे उचित अंजाम दिया। चाहे सर्वे का कार्य हो या इलेक्शन, आधार कार्ड हो या राशनकार्ड, वोटिंग कार्ड हो या कोविड सर्वेक्षण के कार्य सभी में शिक्षक मुस्तैदी से कार्य को अंजाम देते दिखाई देता है। फिर उसे प्रशासन अनदेखा व नजरअंदाज कैसे कर सकती है.... अब उसके द्वारा घर से किया जाने वाला ऑनलाइन शिक्षा का कार्य लोंगों की आँखों की किरकिरी बनी हुई है। सो क्या किया जाए.. हर किसी को संतुष्ट नहीं किया जा सकता है। पर अब भी खतरा टला नहीं है, वैक्सीन आने तक सावधानी बरतनी जरूरी है। ये बात हर एक व्यक्ति को समझ लेनी चाहिए। इस कोरोना काल ने हमें इस बात की सीख दी है कि पैसा ही सबकुछ नहीं है, भौतिक सुख के बिना भी जिया जा सकता है, आवश्यकताएँ कम की जा सकती हैं। बिखरी हुई जिंदगी को समेटा जा सकता है। पिछले आठ महीनें में हमने जीवन को समेटने की पूरी कोशिश किए हैं।

गुरुओं की गरिमा व महिमा को समझो, पहचानों और उन्हें सम्मान दो..उनके साथ न्याय करो। भले ही वो आवाज नहीं उठता है तो इसका मतलब ये नहीं होता है कि वो मूक है... या वो बोलना नहीं जानता है। वह तो शिक्षित और समझदार होने का परिचायक है पर लोग उसकी सरलता और सहजता को दुर्बलता मानकर उसका भरपूर फायदा उठाने से भी नहीं चूकते हैं।


➖ अशोक सिंह 'अक्स'


#अक्स


अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 नवम्बर 2020
शिक्षक के व्यवसाय का महत्त्वशिक्षा के क्षेत्र में शिक्षक के व्यवसाय का ऐसा ही महत्त्व है जैसे कि ऑपरेशन करने के लिए किसी डॉक्टर अर्थात सर्जन का महत्त्व होता है। शिक्षक सिर्फ समाज ही नहीं बल्कि राष्ट्र की भी धूरी है। समाज व राष्ट्र सुधार और निर्माण के कार्य में उसकी महती भूमिका होती है। शिक्षक ही शिक
11 नवम्बर 2020
16 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 5दीप से दीप की ज्योति जलाई, दिवाली की ये रीति निभाईएक कतार में रखि के सजाई, फिर सब कुशल क्षेम मनाई।पाँच दिनों का त्योहार अनोखा, भाऊबीज तक सजे झरोखापकवानों का खुशबू हो चोखा, हर कोई रखता है लेखा-जोखा।धनतेरस की बात निराली, करते हैं सब अपनी जेबें खालीकोई खरीदे सोना-चाँदी तो, कोई बर्तन शुभ दि
16 नवम्बर 2020
09 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 4दाता इतना रहमिए, कि पालन-पोषण होयपेट नित भरता रहे, अतिथि सेवा भी होय।दीनानाथ हैं अंतर्यामी, सहज करें व्यापारबिना तराजू के स्वामी, करें हैं सम व्यवहार।सबकुछ तेरा नाम प्रभु, इंसा की नहीं औकातपल में राजा तू बनाए, पल में रंक बनि जात।नाथ की लीला निराली,क्या स्वामी क्या मालीबाग की रक्षा माली
09 नवम्बर 2020
22 अक्तूबर 2020
अष्टमनवरात्र – देवी के महागौरी रूप की उपासना के लिए कुछ मन्त्र या श्री: स्वयं सुकृतीनाम् भवनेषु अलक्ष्मी:, पापात्मनां कृतधियांहृदयेषु बुद्धि: |श्रद्धा सतां कुलजनप्रभवस्य लज्जा, तां त्वां नताः स्म परिपालय देविविश्वम् ||शनिवार 24 अक्तूबर - आश्विन शुक्लअष्टमी - देवी के अष्टम रूप महागौरी की उपासना का दि
22 अक्तूबर 2020
24 अक्तूबर 2020
कोरोना की वो काली भयावह रातमाना कि आज है कोरोना की काली भयावह रातदरअसल मिली है अपने कट्टर पड़ोसी से सौगातयूँ ही कोई देता है अर्जित अपनी थाती व विरासतसच पूछो तो ये है करनी यमराज के साथ मुलाक़ात..।नींद भी आती नहीं, आते नहीं सपनेंबेसब्री बढ़ती जाती है याद आते हैं अपनेंसमाचारपत्रों में पढ़कर भयावहता की खबरे
24 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
अहोईअष्टमी व्रतआश्विन शुक्लपक्ष आरम्भ होते ही पर्वों की धूम आरम्भ हो जाती है | पहले शारदीय नवरात्र, बुराई और असत्य परअच्छाई तथा सत्य की विजय का प्रतीक पर्व विजया दशमी उसके बाद शरद पूर्णिमा औरआदिकवि वाल्मीकि की जयन्ती, फिर कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा सेकार्तिक स्नान आरम्भ हो जाता है | कल कार्तिक कृष्ण प्र
31 अक्तूबर 2020
23 अक्तूबर 2020
मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं...मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं..दुनिया के सताए लोग यहाँ सीने से लगाए जाते हैं।मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं।संसार मिला है रहने को यहाँ दुःख ही दुःख है सहने कोपर भर-भर के अमृत के प्याले यहाँ रोज पिलाये जाते हैं।मातारानी
23 अक्तूबर 2020
19 नवम्बर 2020
भारत का स्विट्जरलैंडएक लंबे अरसे के बाद मातारानी के यहाँ से बुलावा आ ही गया। हमनें मातारानी वैष्णोदेवी का दर्शन करने के पश्चात दूसरे दिन हमनें कटरा से ही अगले सात दिन के लिए ट्रैवलर फोर्स रिजर्व कर लिया था। कटरा से सुबह हम सब डलहौजी के लिए रवाना हुए थे। नवंबर माह का अंतिम सप्ताह चल रहा था। सैलानियो
19 नवम्बर 2020
14 नवम्बर 2020
आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँआओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँदीप बनाने वालों के घर में भी दीये जलाएँचीनी हो या विदेशी हो सबको ढेंगा दिखाएँअपनों के घर में बुझे हुए चूल्हे फिर जलाएँअपनें जो रूठे हैं उन्हें हम फिर से गले लगाएँ।आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँजो इस जग में जगमग-जगमग जलता जाएजो अपनी आभा को इस जग म
14 नवम्बर 2020
15 नवम्बर 2020
जननायक बिरसा मुंडावैसे तो हम हजारों समाजसुधारकों और स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हैं, उनका जन्मदिन मनाते हैं। पर कुछ ऐसे होते हैं जो अल्पायु जीवनकाल में ही महान कार्य कर जाते हैं पर उनको स्मरण करना सिर्फ औपचारिकता रह जाती है या फिर क्षेत्रीय स्तर पर ही उनकी पहचान सिमटकर रह जाती है। आज मैं बात क
15 नवम्बर 2020
30 अक्तूबर 2020
जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओमनुष्य कहने के लिए तो प्राणियों में सबसे बुद्धिमान और समझदार कहलाता है। पर गहन अध्ययन व चिंतन करने पर पता चलता है कि उसके जैसा नासमझ व लापरवाह दूसरा कोई प्राणी नहीं है। विचारकों, चिंतकों, शिक्षाशास्त्रियों और मनीषियों ने बताया कि सीखने की कोई आयु और अवस्था नहीं होती है।
30 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
महाप्रसाद के बदले महादानआप सभी जानते हैं कि कोरोना विषाणु के कारण जनजीवन बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। व्यापार, कारोबार और रोजगार भी अछूता नहीं रहा। कोरोना के कारण पूरे विश्व में भय व्याप्त है। ऐसे में पड़ने वाले त्योहारों का रंग भी फीका पड़ता गया। राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का आयोजन तो कि
31 अक्तूबर 2020
08 नवम्बर 2020
'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। जहाँ एक तरफ दावा किया जा रहा था कि अब कोरोना का खात्मा होने को आया है और सबकुछ खोल दिया गया, भले ही कुछ शर्तें रख दी गई। हमेशा सरकार प्रशासन सूचना जारी करने तक को अपनी जिम्मेदारी मानती है और उसीका निर्वहन करती है। जैसे सिगरेट के पैकेट प
08 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x