ईश्वरप्राप्ति का सबसे सरल साधन है भक्ति

10 नवम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (439 बार पढ़ा जा चुका है)

ईश्वरप्राप्ति का सबसे सरल साधन है भक्ति

*इस धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का एक ही लक्ष्य होता है ईश्वर की प्राप्ति करना | वैसे तो ईश्वर को प्राप्त करने के अनेकों उपाय हमारे शास्त्रों में बताए गए हैं | कर्मयोग , ज्ञानयोग एवं भक्तियोग के माध्यम से ईश्वर को प्राप्त करने का उपाय देखने को मिलता है , परंतु जब ईश्वर को प्राप्त करने के सबसे सरल मार्ग को खोजा जाय तो वह भक्तियोग ही दृष्टिगत होता है | ईश्वर प्राप्ति के समस्त साधनों में , सभी मार्गों में भक्ति का मार्ग अत्यंत सरल और सुगम है | भक्ति ईश्वर के प्रति परम प्रेम है | यह निष्कपट भावना है | प्रेम के बिना भक्ति का उद्भव नहीं हो सकता | भगवान के प्रति उत्कट प्रेम ही भक्ति है | जब मनुष्य इसे प्राप्त कर लेता है तो सभी उसके प्रेमपात्र बन जाते हैं और वह किसी से घृणा नहीं करता तथा वह सदा के लिए संतुष्ट हो जाता है | इस प्रेम से किसी काम्य वस्तु की प्राप्ति की कामना नहीं रह जाती क्योंकि जब तक मन में सांसारिक कामनाएं , वासनायें रहती है तब तक दिव्य प्रेम का उदय नहीं हो सकता | जब भक्ति करते हुए मनुष्य के चित्त के सारे मल धुल जाते हैं तब साधक का रोम-रोम प्रेमोन्मत्त हो जाता है और इस परम प्रेम को धारण करते ही साधक का हृदय समुद्र सा गहरा और विशाल हो जाता है और उसमें प्रत्येक क्षण प्रेम की ऊंची ऊंची लहरें उठने लगती है और यह सागर देखते ही देखते स्वयं साधक को अपने प्रेम पाश में भर लेता है | तब साधक को सारी सृष्टि ईश्वरमय दिखने लगती है और उसका रोम-रोम पुलकित होता है | भगवान ने गीता में स्वयं कहा है :- "समो$हम् सर्वभूतेषु न में द्वेष्यो$स्ति न प्रिय: ! ये भजन्ति तु मां भक्त्या मयि ते तेषु चाप्यहम् !! अपि चेत्सुदुराचारो भजते मामनन्यभाक् ! साधुरेव स मन्तव्य: सम्यग्व्यवसितो हि स: !!" अर्थात :- भगवान कहते हैं कि मैं सभी भूतों में समभाव से व्यापक हूं न कोई मेरे लिए अप्रिय है और ना ही प्रिय है , परंतु जो भक्त मुझको प्रेम से भजते हैं वे मुझमें है और मैं भी उनमें प्रत्यक्ष प्रकट रहता हूं | यदि कोई अतिशय दुराचारी भी अनन्य भाव से मेरा भक्त हो कर मुझको भजता है तो साधु ही मानने योग्य है क्योंकि वह यथार्थ निश्चय वाला है अर्थात उसे भली-भांति यह निश्चित हो गया है कि परमेश्वर के भजन के समान और कुछ दूसरा नहीं है | मनुष्य ईश्वर के प्रति प्रेम भाव तभी रख सकता है जब उसके हृदय में भक्ति हो और भक्ति का प्राकट्य सत्संग के माध्यम से ही हो सकता है , क्योंकि नवधा भक्ति के विषय में बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी लिख देते हैं "प्रथम भगति संतन कर संगा" जब तक सत्संग नहीं होगा तब तक भक्ति का प्राकट्य नहीं हो सकता है और जब तक हृदय में भक्ति नहीं होगी तब तक ईश्वर की प्राप्ति नहीं हो सकती | इसलिए ईश्वर प्राप्ति का सबसे सरल साधन भक्ति को कहा गया है |*



*आज के आधुनिक युग में मनुष्य के द्वारा ईश्वर प्राप्ति के लिए अनेकानेक उपाय किए जा रहे हैं परंतु इन उपायों में जो सबसे आवश्यक है अर्थात प्रेम वह कहीं भी नहीं दिखाई पड़ रहा है | आज मनुष्य के मन में अनेकों प्रकार की कामनाएं एवं वासनायें ही भरी हुई हैं , और जहां कामना एवं वासना होती है वहां प्रेम का होना संभव नहीं है , क्योंकि वासना एवं कामना यदि अमावस की काली रात है तो प्रेम को पूर्णिमा की चांदनी कहा गया है और दोनों एक साथ कदापि नहीं रह सकते | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि जिसके हृदय में कामना एवं वासना है उसके हृदय में भगवान की भक्ति कदापि नहीं हो सकती और जहां भगवान की भक्ति का प्राकट्य हो गया वहां ना तो कामना शेष रहती है और ना ही वासना | आज अनेकों मठाधीश दिन भर माला जपा करते कुछ लोग घंटों बैठकर पूजन किया करते हैं परंतु उनके हृदय में भगवान के प्रति प्रेम है कि नहीं यह उनके आचरण को देखकर आकलन किया जा सकता है | कुछ लोग ऐसा भी पूछ सकते हैं कि मन से वासनाओं एवं कामनाओं को निकालने का कोई सरल उपाय तो होगा ? तो इसका उत्तर यही होगा कि कामना एवं वासना को जड़ से समाप्त करने का यदि कोई साधन है तो वह भी भक्ति ही है क्योंकि भक्ति यदि साधना है तो साध्य भी वही है यदि हृदय में वासना एवं कामना भरी है और उसी के मध्य भक्ति का दीपक जल उठे तो उस भक्ति के उजियारे में चित्त में व्याप्त वासनाओं , कामनाओं व कुसंस्कारों का अंधियारा मिल सकता है | यदि ईश्वर को प्राप्त करना है तो सबसे सरल उपाय भक्ति का मार्ग अपनाना चाहिए क्योंकि जब मनुष्य ईश्वर की भक्ति करने लगता है उसके प्रति हृदय में प्रेम का प्राकट्य हो जाता है तो ना तो जप करने की आवश्यकता होती है ना ही तप करने की आवश्यकता होती है | सिर्फ भगवान के प्रेम में निरंतर आकुल व्याकुल होकर सारे संसार को ईश्वरमय देखते हुए साधक ईश्वर को प्राप्त कर सकता है | भगवान का नित्य पूजन स्मरण आदि भी करना आवश्यक है क्योंकि इससे चित्त की शुद्धि होती है तथा भगवददृष्टि विकसित होती है और इसी से ही ईश्वर के प्रति मनुष्य के हृदय में प्रेम का प्राकट्य होता है जो कि भक्ति का प्रथम सोपान कहा गया है |*


*भक्तिमार्ग की सबसे सरल बात यह है कि यदि स्थूल भौतिक सामग्रियों से भगवान का पूजन करना सम्भव न हो तो मानसिक पूजन करके भी ईश्वर को रिझाकर अपना बनाया जा सकता है | यही भक्तियोग की दिव्यता है |*

अगला लेख: ज्ञान को जीवन में उतारें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अक्तूबर 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻 *भगवान की शरण में जाने के लिए मनुष्य को अपना समस्त कामना , वासना एवं अहंकार का त्याग करना पड़ता है ! जब तक यह दुर्गुण मनुष्य के भीतर विद्यमान हैं तब तक वह कारुण्य
31 अक्तूबर 2020
15 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सत्तावनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छप्पनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*संकट कटै मिटै सब प
15 नवम्बर 2020
28 अक्तूबर 2020
*मानव जीवन बड़ी ही विचित्रताओं से भरा हुआ है | ब्रह्मा जी की सृष्टि में सुख-दुख एक साथ रचे गए हैं | मनुष्य के सुख एवं दुख का कारण उसकी कामनाएं एवं एक दूसरे से अपेक्षाएं ही होती हैं | जब मनुष्य की कामना पूरी हो जाती है तब वह सुखी हो जाता है परंतु जब उसकी कामना नहीं पूरी होती तो बहुत दुखी हो जाता है |
28 अक्तूबर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तिरसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बासठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
30 अक्तूबर 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻 *इस संसार में प्रत्येक प्राणी एक निश्चित समय एवं गिनती की साँसें लेकर आया हुआ है ! विशेषकर मनुष्य को इस सृष्टि का युवराज कहा जाता है समय का सकारात्मक सदुपयोग करके हमारे पू
30 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
*इस संसार में मनुष्य अपना जीवन यापन करने के लिए अनेकानेक उपाय करता है जिससे कि उसका जीवन सुखमय व्यतीत हो सके | जीवन इतना जटिल है कि इसे समझ पाना सरल नहीं है | मनुष्य का जन्म ईश्वर की अनुकम्पा से हुआ है अत: मनुष्य को सदैव ईश्वर के अनुकूल रहते हुए उनकी शरण प्पाप्त करने का प्रयास करते रहना चाहिए | इसी
31 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x