लेख

14 नवम्बर 2020   |  AYESHA MEHTA   (437 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रिय बच्चों आपलोगों के साथ बिताया हुआ हर पल हमारे लिए किसी दिवाली से कम नहीं है

आपलोगों के आँखों में जो आसमान छू लेने का ख्वाब देखती हूँ तो लगता है जैसे वो ख्वाब सिर्फ आपलोगों के नहीं है

वो ख्वाब मेरे भी है अगर कभी भी हमारी जरूरत हो तो हम आपके साथ है

मुश्किलें तो आती जाती रहेंगी लेकिन अपने लक्ष्य की ओर हमेशा अग्रसर रहना इन बाधाओं और मुश्किलों के आगे कभी हारना मत

ज़िन्दगी एक स्केच की तरह है और आप लोगों की मुस्कान रंगों की तरह है जो ब्लैक एंड वाइट ज़िन्दगी में घुलकर ज़िन्दगी को और भी रंगीन बनाती है

अंत में बस इतना कहूँगी जो की मैं अक्सर कहती हूँ - ज़िन्दगी में कुछ बनो या न बनो लेकिन एक सच्चा और ईमानदार इंसान जरूर बनना क्यूँकि आज हमारे समाज और राष्ट्र को सबसे ज्यादा इसी की जरूरत है

अगला लेख: जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x