हनुमान चालीसा (तात्विक अनुशीलन) भाग ५८

18 नवम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (474 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा (तात्विक अनुशीलन) भाग ५८

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *अट्ठावनवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*सत्तावनवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*जय जय जय हनुमान गोसाई !*

*कृपा करहुं गुरुदेव की नांईं !!*


*के अंतर्गत*


*जय जय जय हनुमान गोसाईं*

*×××××××××××××××××××*


अब आगे :---


*जय जय जय हनुमान गोसाई !*

*कृपा करहुँ गुरुदेव की नाई !!*


के अंतर्गत :---


*कृपा करहुँ गुरुदेव की नाई*

*×××××××××××××××××*


*कृपा करहुँ*

*×××××××*


*गोस्वामी तुलसीदास जी महाराज* कहते हैं *हे हनुमान जी* आप हम पर *कृपा* करो ! *कृपा* के प्रकार की होती है किस प्रकार की *कृपा* की कामना *तुलसीदास जी* कर रहे हैं आगे लिखते हुए स्पष्ट करते हैं कि *गुरुदेव की तरह* अर्थात जैसी *कृपा गुरुजी करते हैं* वैसी ही *कृपा* आप मुझ पर कीजिए क्योंकि भवसागर से पार उतार देने की *कृपा गुरु* ही कर सकते हैं | *गुरु* के अतिरिक्त और कौन है जो ऐसी *कृपा* कर सके | माता-पिता जन्म देंगे , स्नेह देंगे तो पोषण करेंगे , पितरों के रूप में *कृपा* करेंगे तो वंश वृद्धि कर देंगे | भगवान बिना *गुरु* के *कृपा* करता नहीं एवं करता तो वो बंधन में डालता ही क्यों ? देवता तो स्वयं बेचारे कर्माधीन हैं वे देंगे तो अपने क्षेत्र का सुख दे देंगे , समृद्धि दे देंगे | *गुरुजी* इन सब से विरक्त तो कर सकते हैं पर भवबन्धन से भी मुक्त होने का मार्ग दिखा देंगे |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*गुरुदेव*

*×××××*


*गुरु* और *देव* दोनों शब्द यहां दिए गए हैं | जिसके भाव कुछ इस प्रकार कहे जा सकते हैं :--

*गुरु* की दिव्यता के लिए *देव* का विशेषण *तुलसीदास जी महाराज* ने दिया है |

*गुरु* शब्द के साथ सम्मान सूचक शब्द *देव* देकर अपने *गुरु* के प्रति शिष्टाचार की भावना प्रकट की गई है | *गुरु* शब्द के अन्य अर्थ भी होते हैं यथा :- भारी , गरिष्ठ आदि | अतः निश्चित दिव्य भावार्थ को प्रकट करने के लिए *देव* शब्द के साथ कहा गया | *गुरु* का देह सान्निध्य जहां लौकिक है वही *कृपा* प्रभाव की अलौकिकता दैविक , शक्तिवत् है अतः दोनों को दोनों शब्दों से स्पष्ट कर दिया गया है | देवताओं में आप *गुरु* अर्थात महान देव है , कोई अन्य देवता आपकी समता नहीं कर सकता अतः है , आप *गुरुदेव महादेव* हैं | देवता का क्षेत्र सीमित होता है परंतु महादेव विभु हैं , महादेव आशुतोष है | ये सभी भाव *गुरुदेव* शब्द के लेखन में आ गए |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*गुरुदेव की नाई*

*××××××××××*


*हनुमान चालीसा* के प्रथम दोहे में *श्री गुरु चरण* की व्याख्या करने में हमने एक बात कही थी कि *गुरु* मनुष्येतर प्राणी नहीं हो सकता | आजकल कुछ साधुओं व उपदेशकों के द्वारा *गुरु* परंपरा की सनातन विधि की उपेक्षा की जाती है या कहा जाता है हमारे तो *गुरु हनुमान जी* हैं | आजकल *गुरु* योग्य तो मिलते नहीं हैं इससे तो अच्छा है कि *हनुमान जी* को ही *गुरु* बना लें | कहने वाले यह भी कहते हैं कि *गोस्वामी तुलसीदास जी* ने भी *हनुमान जी* को अपना *गुरु* माना था प्रमाण देने के लिए :-- *कृपा करहुँ गुरुदेव की नाई* यही चौपाई प्रस्तुत कर देते हैं | यहां मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि *तुलसीदास जी महाराज* ने *हनुमान जी* को *गुरु* नहीं बनाया बल्कि *गुरु* की भांति *कृपा* करने की प्रार्थना की है | अन्यथा *गुरुदेव की नाई* न लिखकर वह यहां यह लिख सकते थे कि *कृपा करहुँ गुरुदेव गोसाई* परंतु यहां *नाईं* शब्द लिख कर के *गुरुदेव* की तरह *कृपा* करने की प्रार्थना की है | पितृवत् व मातृवत् स्नेह करना व पिता माता होना दोनों में बड़ा भेद है | *गोस्वामी जी* के *गुरु* श्रुति परंपरा से *श्री स्वामी नरहरिदास* या *नरहर्यानंद जी* थे | *मानस* के मंगलाचरण में उन्होंने सुंदर ढंग से अपने *गुरु की वंदना* की है और लिख दिया है :---


*वन्दऊँ गुरु पद कंज , कृपासिंधु नर रूप हरि !*

*महामोह तम पुंज , जासु वचन रबि कर निकर !!*

*×××××××××××××××××××××*

यहां पर यदि *नरहर्यानंद जी* का नाम *नर रूप हरि* नहीं माना जाए तो *नर* रूप में *हरि* तो माना ही जाएगा | जिसका अभिप्राय है कि चाहे स्वयं हरि ही हो पर *गुरु* रुप में पधारे हैं | भवसागर से पार होने के लिए *गुरु* की आवश्यकता शास्त्रों ने भी माना है | यहां पर *गुरुदेव* क्यों लिखा है इसके लिए *एक अन्य भाव* भी प्रकट करने का प्रयास कर रहा हूं |


नर रूप में *गुरुदेव* का सानिध्य सुलभ होता है पर दिव्य देवताओं का दुर्लभ | *गुरुदेव* की भांति *हनुमान जी* का भी सानिध्य मुझे मिले ऐसी कामना की गई है |

माता जैसे वात्सल्य प्रधान होती है , पिता स्नेह प्रधान होता है वैसे ही *गुरु* हित प्रधान होता है | मेरा हित किसमें है यह मैं नहीं जानता आप *(हनुमान जी)* मेरे हित की रक्षा करते हुए *गुरुवत्* कृपा करते रहे |

देवता केवल प्रसन्न होकर वरदान देते हैं पर हित अनहित का दायित्व उनका नहीं होता और ना ही विचार करते हैं | पर *गुरु* ऐसा नहीं कर सकते यदि ऐसा करें तो धर्म नष्ट हो जाता है | *तुलसीदास जी महाराज* ने *गुरुदेव* की भाँति कहकर *गुरु व देव* से प्रार्थना की कि दोनों ओर से वरदान की रक्षा करते रहिए जिससे मनोरथ भी पूर्ण हो वह हमारा हित भी होता रहे `


*हनुमान जी* को *गुरुदेव की नाईं* लिखा इसके *एक अन्य भाव* पर भी दृष्टि डाला जाय


भगवान से जो मिला दे वही *गुरु* होता है और *हनुमान जी* राम जी से मिलाने में समर्थ है इसलिए *गुरुदेव* लिख दिया |

शंकर भगवान को *जगद्गुरु* कहा जाता है और *हनुमान जी* उन्हीं के अवतार हैं इसलिए *तुलसीदास जी* महाराज ने *गुरुदेव* लिखकर संकेत कर दिया है कि आप कौन हैं ? उसी प्रकार आप आशुतोष बने रहिए |

इस प्रकार कहां तक गिनायें ? कितने ही दिव्य भाव इस चौपाई के कथन में निहित है जिनका वर्णन कर पाना हम जैसे तुच्छ मनुष्यों के लिए संभव नहीं है |


*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६४



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इकसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*साठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जो य पढ़े हनुमान चाल
19 नवम्बर 2020
27 नवम्बर 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार से ज्ञानार्जन करने का प्रयास करता है | जब से मनुष्य का इस धरा धाम पर विकास हुआ तब से ही ज्ञान की महिमा किसी न किसी ढंग से , किसी न किसी रूप में मनुष्य के साथ जुड़ी रही है | मनुष्य की सभ्यता - संस्कृति , मनुष्य का जीवन सब कुछ ज्ञान की ही देन है | मनु
27 नवम्बर 2020
10 नवम्बर 2020
*इस धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का एक ही लक्ष्य होता है ईश्वर की प्राप्ति करना | वैसे तो ईश्वर को प्राप्त करने के अनेकों उपाय हमारे शास्त्रों में बताए गए हैं | कर्मयोग , ज्ञानयोग एवं भक्तियोग के माध्यम से ईश्वर को प्राप्त करने का उपाय देखने को मिलता है , परंतु जब ईश्वर को प्राप्त करने के सबसे
10 नवम्बर 2020
18 नवम्बर 2020
*आदिकाल में जब मनुष्य इस धरा धाम पर आया तो ईश्वर की दया एवं सनातन धर्म की छाया में उसने आचरण को महत्व देते हुए अपने जीवन को दिव्य बनाने का प्रयास किया | हमारे पूर्वजों एवं महापुरुषों ने मनुष्य के आचरण को ही महत्व दिया था क्योंकि जब मनुष्य आचरण युक्त होता है , जब उसके भीतर सदाचरण होते हैं तो उसमें स
18 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तिरसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बासठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
25 नवम्बर 2020
💥🌳🌳💥🌳🌳💥🌳🌳💥🌳🌳 *‼️ भगवत्कृपा हि केवलम् ‼️* 🚩 *एकादशी व्रत निर्णय* 🚩🍀🏵️🍀🏵️🍀🏵️🍀🏵️🍀🏵️🍀🏵️*दशम्येकादशी यत्र तत्र नोपवसद्बुध: !* *अपत्यानि विनश्यन्ति विष्णुलोकं न गच्छति !!*यह परमावश्यक है कि एकादशी दशमीविद्धा (पूर्वविद्धा) न हो ! हाँ द्वादशीविद्धा (
25 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x