हनुमान चालीसा (तात्विक अनुशीलन) भाग ६०

18 नवम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (421 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा (तात्विक अनुशीलन) भाग ६०

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *साठवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*उनसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*यह सत बार पाठ कर जोई !*

*छूटै बंदि महा सुख होई !!*

*××××××××××××××××××*


अब आगे


*जो य पढ़े हनुमान चालीसा !*

*होहिं सिद्धि साखी गौरीसा !!*

*×××××××××××××××××××*


*जोय*

*×××*


*जोय* अर्थात जो यह | यहां पर *तुलसीदास जी महाराज* "जो" को पुन: दोहरा रहे हैं | इसमें कोई जाति - पाँत , राजा - रंक , विद्वान - निरक्षर आदि का भेद नहीं है | भेद है तो केवल आसुरी प्रवृत्ति व दैवी संपद् गुणों का | यह पहले कहा जा चुका है कि *हनुमान जी* क्या हैं ?? कहा गया है :- *साधु संत के तुम रखवारे* होते हुए भी *असुर निकंदन* हैं | अतः जो मैं अधर्मी , शास्त्र , वेद , गुरु , गौ , द्विज सज्जनों को दुखदायक व्यक्ति अपवाद हैं | पूरे *हनुमान चालीसा* में *जो* शब्द चार बार आया है जिसमें से दो बार स्वयं *श्री हनुमान जी* के लिए व दो बार इस स्तोत्र के लिए प्रयोग किया गया है |

*××××××××××××××××××××*

*संकट ते हनुमान छुड़ावें !*

*मन क्रम वचन ध्यान जो लावें !!*

*××××××××××××××××××××*

*संकट कटै मिटै सब पीरा !*

*जो सुमिरे हनुमत बलबीरा !*

*××××××××××××××××××××*

*यह सत बार पाठ कर जोई !*

*छूटै बंदि महा सुख होई !!*

*×××××××××××××××××××*

*जो य पढ़े हनुमान चालीसा !*

*होय सिद्धि साखी गौरीसा !!*

*×××××××××××××××××××××*


दोनों में ही साधारण विशेष दोनों विधि का उल्लेख किया गया है | यथा :- *हनुमान जी* का मन क्रम वचन से ध्यान करना विशेष साधना है | व *जो सुमिरै* के अनुसार स्मरण सामान्य बात है | *मन* बस में नहीं रजोगुण के कारण चंचल हो रहा है , *कर्म* की शक्ति नहीं , *बचन* का ज्ञान नहीं , पर *स्मरण* तो एन केन प्रकारेण हो ही सकता है | इसी प्रकार *सौ बार* पाठ का अनुष्ठान बंधन मुक्ति के लिए विशेष विधि है तो केवल *पढ़ना* व उसमें भी कोई संख्या का निर्देश नहीं | *सत* नहीं तो चाहे एक बार ही *पढ़े* यह साधारण विधि है कि आवश्यकता व योग्यता अनुसार कोई भी साधारण से साधारण विधि से , विशेष से विशेष विधि से अनुष्ठान की साधना कर सकता है दोनों ही फलदायी होंगे |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*पढ़ें*

*×××*


*पढ़े* अर्थात कंठस्थ भी ना हो तो देख कर *पढ़* लेने मात्र से ही *हनुमान चालीसा* फल प्रदान करता है | *पढ़े* शब्द आवृत्तियों की संख्या का भी कोई नियम नहीं दिखाई पड़ता है | वैसे पढ़ने व पाठ करने में साधारण अर्थ भले ही समान रूप से ग्रहण किया जाए पर गंभीर अर्थ में बहुत अंतर है | पाठ कण्ठस्थ की आवृत्तियों के स्वरूप में भी होता है पर *पढ़ना* तो देख कर *पढ़ना* या समझना या शिक्षा प्राप्त करना होता है | दोनों शब्दों का प्रयोग भी बड़े आभिप्राय पूर्ण उपयुक्त स्थानों पर सार्थक कर दिया गया है | मंत्र के सफल प्रयोग के लिए उसे पहले सिद्ध किया जाता है | एक बार स्तोत्र मंत्र प्रयोग करने के लिए उसका पाठ किया जाता है इसलिए पाठ करने की विधि के साथ *सत बार* आदि की विधि का संकेत दिया पर *पढ़े* के साथ यह सिद्ध होने का संकेत दिया कि जो इसको *पढ़ेगा* अर्थात गुरु मुख से गुरु द्वारा *पढ़ेगा* , समझेगा तो यह स्तोत्र सिद्ध हो जाएगा |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*होहिं सिद्धि*

*××××××××*


*होहिं सिद्धि* पाठ की सिद्धि (मंत्रात्मक स्तोत्र सिद्धि) व कार्य की सिद्धि दोनों अर्थों का प्रकाशक है |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*साखी गौरीसा*

*××××××××××*


*साखी गौरीसा* अर्थात साक्षी गौरीसा है | *सिद्धि की साक्षी* संदेह निवृत्ति के लिए दे रहे हैं | *गौरीस* अर्थात उमा पार्वती के इस स्वामी भगवान शंकर अथवा *गौरी एवं ईश* दोनों इस बात के साथ हैं कि इसे *पढ़ने* से यह स्तोत्र या मनोरथ सिद्ध होगा | ऐसा सुना जाता है कि *रामचरितमानस* लिखने के बाद *हनुमान जी* के स्तोत्र की रचना *भगवान शंकर* की आज्ञा या निर्देश से हुई | इसमें मंत्र शक्ति या मनोरथ सिद्धि *भगवान शंकर* ने भरी , *गोस्वामी तुलसीदास* को आश्वासन दिया कि जो भी कोई इसका पाठ करेगा उसके सब कार्य सिद्ध होंगे | अतः यह *साक्षी* उल्लेख *गोस्वामी जी* ने इसमें कर दिया है कि कार्य सिद्धि में ( पाठ से ) *साक्षी भगवान शिव पार्वती* हैं | *हनुमान चालीसा* कहकर *तुलसीदास जी* ने इस स्तोत्र का नामकरण कर दिया है | विशेष मंत्र , स्तोत्र , सिद्धपीठ , स्थान , व्यक्ति विशेष , गुण विशेष आदि का नामकरण कर दिया जाता है | यथा :- *श्रीरामचरितमानस* का नाम भी करते समय उसी ग्रंथ में उसका उल्लेख किया गया है | यथा :-

*××××××××××××××××××*

*रामचरितमानस येहि नामा !*

*××××××××××××××××××*

इसी प्रकार इस स्तोत्र का नामकरण करके बताया है यह *हनुमान चालीसा* को जो *पढ़ेगा* इससे यह सिद्ध हुआ कि यह सब मैं यहां स्तोत्र का नाम देकर उसके लिए प्रयोग किया गया |


*गौरीसा* अर्थात् *भगवान शंकर* की *साक्षी* में जो *हनुमान चालीसा* पढ़ेगा उसे सिद्धि प्राप्त होगी | कार्य की सिद्धि व स्तोत्र की सिद्धि दोनों ही का भाव है | यह *हनुमान चालीसा* का भाव है कि यदि कोई भी बाद में कवि *हनुमान जी* की स्तुति चालीस छन्दों में कर दे व वह भी *हनुमान चालीसा* कहला दे तो हम उससे सिद्धि की बात नहीं कह सकते की हो या ना हो ! क्योंकि इस स्तोत्र से *सिद्धि की साक्षी गौरीश भगवान शंकर* ने दी है | अन्य विषय में हम क्या कहे | यहां *गोस्वामी तुलसीदास जी* ने स्पष्ट लिख दिया *जो यह पढ़े हनुमान चालीसा* *भगवान शंकर विश्वास* एवं *भवानी गौरी श्रद्धा* स्वरूपा कही गई है | यथा :--

*"भवानी शंकरौ वन्दे श्रद्धा विश्वास रूपिणौ"*

जिसके बिना कोई भी प्राप्त नहीं हो सकती | जैसा कि *मानस* में *बाबा जी* ने स्वयं लिखा है :--

*××××××××××××××××××××××××*

*कवनिऊँ सिद्धि कि विनु विस्वासा !*

*××××××××××××××××××××××××*

एवं

*××××××××××××××××××*

*श्रद्धा बिना धर्म नहिं होई !*

*××××××××××××××××××*

तथा जिनके बिना सिद्ध असिद्ध हो जाते हैं वह हृदय स्थित ईश्वर को भी नहीं देख सकते | यथा :-- *"याभ्यां बिना न पश्यन्ति सिद्धा: स्वान्त:स्थमीश्वरम्"*

इस भाव से अभिप्राय है कि *श्रद्धा एवं विश्वास* पूर्वक पाठ करने पर ही कार्य सिद्धि होगी |



*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६४



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *उनसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*अट्ठावनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय जय जय हनुमान ग
18 नवम्बर 2020
18 नवम्बर 2020
*आदिकाल में जब मनुष्य इस धरा धाम पर आया तो ईश्वर की दया एवं सनातन धर्म की छाया में उसने आचरण को महत्व देते हुए अपने जीवन को दिव्य बनाने का प्रयास किया | हमारे पूर्वजों एवं महापुरुषों ने मनुष्य के आचरण को ही महत्व दिया था क्योंकि जब मनुष्य आचरण युक्त होता है , जब उसके भीतर सदाचरण होते हैं तो उसमें स
18 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बासठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इकसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*तुलसीदास सदा हरि चे
24 नवम्बर 2020
19 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इकसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*साठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जो य पढ़े हनुमान चाल
19 नवम्बर 2020
07 नवम्बर 2020
*सनातन धर्म में साधक की कई श्रेणियाँ कही गयी हैं इसमें सर्वश्रेष्ठ श्रेणी है योगी की ! योगी शब्द बहुत ही सम्माननीय है | योगी कौन होता है ? इस पर विचार करना परम आवश्यक है | योगी को समझने के लिए सर्वप्रथम योग को जानने का प्रयास करना चाहिए कि आखिर योग क्या है जिसे धारण करके एक साधारण मनुष्य योगी बनता ह
07 नवम्बर 2020
25 नवम्बर 2020
🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼*माता शक्ति क्रोध से भयभीत होकर मेधा ऋषि ने शरीर का त्याग करके धरती में समा गये एवं जौ तथा धान (चावल) के रूप में प्रकट हुए । इसलिए जौ एवं चावल को जीव माना गया है । जिस दिन यह घटना घटी उस दिन एकादशी थी ! जो लोग व्रत रहते हैं उनके लिए तो अन्न भ
25 नवम्बर 2020
15 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सत्तावनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छप्पनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*संकट कटै मिटै सब प
15 नवम्बर 2020
25 नवम्बर 2020
🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️ ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞*भगवान की निद्रा का रहस्य**जब भगवान ने वामन रूप में बलि का सर्वस्व हरण किया तो उसकी दानशीलता से प्रसन्न होकर भगवान ने उससे वरदान माँगने को कहा ! राजा बलि ने भगवान से कहा कि जब आपने हमें पाताल का राज्य दि
25 नवम्बर 2020
27 नवम्बर 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार से ज्ञानार्जन करने का प्रयास करता है | जब से मनुष्य का इस धरा धाम पर विकास हुआ तब से ही ज्ञान की महिमा किसी न किसी ढंग से , किसी न किसी रूप में मनुष्य के साथ जुड़ी रही है | मनुष्य की सभ्यता - संस्कृति , मनुष्य का जीवन सब कुछ ज्ञान की ही देन है | मनु
27 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तिरसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x