हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६२

24 नवम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (459 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६२

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *बासठवाँ - भाग* 🩸


🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*इकसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--


*तुलसीदास सदा हरि चेरा !*

*कीजै नाथ हृदय महं डेरा !!*

*××××××××××××××××××*


अब आगे :--


*पवन तनय संकट हरण मंगल मूरति रुप !*

*राम लखन सीता सहित हृदय बसहुँ सुरभूप !!*

*×××××××××××××××××××××××××××××*


के अन्तर्गत :--


*पवन तनय संकट हरण*

*××××××××××××××××*


*पवन तनय*

*××××××××*


*पवन* = वायु , हवा , शुद्धता , शोधक !

*तनय* = पुत्र !

*तन*= शरीर !

*य* = ज = जन्म लेने वाला !

*तन + ज*= देह से उत्पन्न अर्थात पुत्र !

पुत्र के समानार्थक शब्द और भी बहुत है पर यहां पर *तनय* विशेष अभिप्राय से *तुलसीदास जी महाराज* ने लिखा है | इसके पूर्व जहां *पवन* का संबंध दिया गया है वहां *बल* की विशेषता भी दर्शाई गई है | यथा :--

*×××××××{××××××××××*

*अंजनी पुत्र पवनसुत नामा !*

*××××××××××××××××××*

एवं तुरंत बाद लिखा

*×××××××××××××××*

*महावीर विक्रम बजरंगी !*

*×××××××××××××××*

इस प्रकार *पवनसुत नामा* कह कर तुरंत *महावीर* विशेषण दिया क्योंकि *बल एवं विक्रम* का आधार निमित्त *पवन* ही होता है | *पवन तनय* से अभिप्राय है कि आप परम पवित्र हैं *पवन का पुत्र* पावन होता है | *पवन का पुत्र* पावक भी है | अग्नि का पवित्र करता होने से ही पावक नाम है यह भी *पवन* ( वायु ) से ही उत्पन्न होता है | यथा :- *वायोरग्नि:* | स्वर्ण को अग्नि का संयोग ही पावन करता है | *हनुमान जी* तो पावनता के मूर्तिमान रूप हैं | इसीलिए स्वयं पावन का पावक क्या करें ! अत: अग्नि *हनुमान जी* को जला नहीं सकता |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*संकट हरण*

*××××××××*


*संकट* के निवृत्ति के संबंध में *हनुमान चालीसा* में तीन बार उल्लेख किया गया है व तीनों बार पुनरावृत्तियों में भिन्न भिन्न परिस्थितियों में भिन्न-भिन्न परिणाम बताने के लिए ऐसा किया गया है | केवल सामान्य नाम मात्र *हनुमान* प्रथम बार कह कर बताया कि *मन क्रम वचन* से *हनुमान* का ध्यान करने से *संकट* छूट जाता है | यथा :--

*×××××××××××××××××××*

*संकट से हनुमान छुड़ावैं !*

*मन क्रम वचन ध्यान जो लावैं !!*

*××××××××××××××××××××*

यहां छुड़ाने की बात ध्यान देने की है | छुड़ाना तो तभी होता है जब *संकट* से कोई जूझ रहा हो | दो व्यक्ति लड़ रहे हों एक प्रबल है तो उससे निर्बल की सहायता करके या दोनों को पकड़ कर अलग कर देना छुड़ाना होता है | यदि पकड़ा ही नहीं गया तो छुड़ाना क्या हुआ ? यहां नाम *हनुमान* मात्र दिया दूसरी बार कहा :--

*×××××××××××××××××××*

*संकट हटे मिटे सब पीरा !*

*जो सुमिरे हनुमत बलबीरा !!*

*×××××××××××××××××××*

यहां *संकट* से छुड़ाना नहीं कहा क्योंकि *संकट* से युद्ध करना ही नहीं पड़ा वह तो स्वमेव हट गया | यहां *हनुमान* नाम मात्र नहीं देकर *हनुमत बलबीरा* कहा गया | *बलबीरा* विशेषण से छुड़ाना नहीं पड़ा | *संकट* स्वयं ही हट गया | हट कर कहां गया ? कहीं भी गायब हो गया | सामने आने का साहस नहीं आता सामने से हट गया | तीसरी बार *संकट* का उल्लेख करते हुए *तुलसीदास जी* अब लिख रहे हैं *पवन तनय संकट हरण* अर्थात *पवन तनय* की विशेषता से *संकट* कहीं छद्म रूप धारण कर छिप नहीं सकता | भाग कर कहां जाएगा , *हरण* कर लिया जाएगा , अर्थात *संकट* अपहृत हो जाएगा | जिससे बस में हो जाएगा | व पुनः बिना छूटे बाधक कैसे हो सकता है ? *हरण* करने में *पवन तनय* लिखा है क्योंकि सबकी गति *पवन* से ही है *पवन तनय* के आगे भागने की क्षमता किसमें है अतः *पवन तनय संकट हरण* में कहा गया कि *हनुमान जी* यदि कृपा करें तो *संकट हरण* ही हो जाएगा *संकट* से सदा के लिए झंझट ही मिट जाएगा |


*शेष अगले भाग में :---*



🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩⚜️🚩

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६५



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 नवम्बर 2020
🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️ ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞*भगवान की निद्रा का रहस्य**जब भगवान ने वामन रूप में बलि का सर्वस्व हरण किया तो उसकी दानशीलता से प्रसन्न होकर भगवान ने उससे वरदान माँगने को कहा ! राजा बलि ने भगवान से कहा कि जब आपने हमें पाताल का राज्य दि
25 नवम्बर 2020
27 नवम्बर 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार से ज्ञानार्जन करने का प्रयास करता है | जब से मनुष्य का इस धरा धाम पर विकास हुआ तब से ही ज्ञान की महिमा किसी न किसी ढंग से , किसी न किसी रूप में मनुष्य के साथ जुड़ी रही है | मनुष्य की सभ्यता - संस्कृति , मनुष्य का जीवन सब कुछ ज्ञान की ही देन है | मनु
27 नवम्बर 2020
18 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *साठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*उनसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*यह सत बार पाठ कर जोई
18 नवम्बर 2020
18 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *उनसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*अट्ठावनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय जय जय हनुमान ग
18 नवम्बर 2020
29 नवम्बर 2020
*आदिकाल से इस धरा धाम पर प्रतिष्ठित होने वाला एकमात्र धर्म सनातन धर्म मानव मात्र का धर्म है क्योंकि सनातन धर्म ही ऐसा दिव्य है जो मानव मात्र के कल्याण की कामना करते हुए एक दूसरे को पर्व त्योहारों के माध्यम से समीप लाने का कार्य करता है | सनातन धर्म में वर्ष के प्रत्येक माह में कुछ ना कुछ पर्व ऐसे मन
29 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तिरसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
19 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इकसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*साठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जो य पढ़े हनुमान चाल
19 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तिरसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बासठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
15 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सत्तावनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छप्पनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*संकट कटै मिटै सब प
15 नवम्बर 2020
25 नवम्बर 2020
🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼*माता शक्ति क्रोध से भयभीत होकर मेधा ऋषि ने शरीर का त्याग करके धरती में समा गये एवं जौ तथा धान (चावल) के रूप में प्रकट हुए । इसलिए जौ एवं चावल को जीव माना गया है । जिस दिन यह घटना घटी उस दिन एकादशी थी ! जो लोग व्रत रहते हैं उनके लिए तो अन्न भ
25 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x