एकादशी में चावल क्यों वर्जित है ? :- आचार्य अर्जुन तिवारी

25 नवम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

एकादशी में चावल क्यों वर्जित है ? :- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻🌳🌻


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


*माता शक्ति क्रोध से भयभीत होकर मेधा ऋषि ने शरीर का त्याग करके धरती में समा गये एवं जौ तथा धान (चावल) के रूप में प्रकट हुए । इसलिए जौ एवं चावल को जीव माना गया है । जिस दिन यह घटना घटी उस दिन एकादशी थी ! जो लोग व्रत रहते हैं उनके लिए तो अन्न भी वर्जित है , परंतु जो व्रत नहीं रहते हैं उनको भी एकादशी के दिन जौ एवं चावल नहीं खाना चाहिए ! क्योंकि ऐसी मान्यता है कि एकादशी के दिन चावल खाना मेधा ऋषि के मांस एवं मज्जा के बराबर है ।*


*सभी प्रकार के अन्न की तुलना में चावल में जल तत्व अधिक रहता है।*


*उपवास में मन का निग्रह होना अति आवश्यक है।*


*मन का देवता है चंद्रमा।*


*एकादशी पर चंद्रमा पृथ्वी के नजदीक होने से हमारे शरीर पर ज्यादा प्रभाव डालता है।*


*अधिक जलमय अनाज (चावल) का भोजन करने से चंद्रमा की आकर्षण शक्ति से हमारा मन अधिक चंचल हो सकता है।*


*मन अधिक चंचल होने से उपवास के दिन भगवान के भजन में वह (मन) सुचारु रूप से नहीं लग सकता।*


*अत: चावल के भोजन का एकादशी को हमारे ऋषियों ने निषेध किया गया है।*


*अन्य विद्वानों के मत भी आमंत्रित है।*


🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽🙏🏽


*(लेकिन जगन्नाथपुरी में यह अपवाद है। वहाँ चावल का भोग लगता है)।*


🍃♨🍃♨🍃♨🍃♨🍃♨🍃


*यथा सम्भव प्रयास*


🌲🍂🌲🍂🌲🍂🌲🍂🌲🍂🌲

अगला लेख: हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६५



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 नवम्बर 2020
🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️ ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞*भगवान की निद्रा का रहस्य**जब भगवान ने वामन रूप में बलि का सर्वस्व हरण किया तो उसकी दानशीलता से प्रसन्न होकर भगवान ने उससे वरदान माँगने को कहा ! राजा बलि ने भगवान से कहा कि जब आपने हमें पाताल का राज्य दि
25 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *विश्राम - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौंसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
25 नवम्बर 2020
🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️🏵️⚜️ ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞🎈🌞*भगवान की निद्रा का रहस्य**जब भगवान ने वामन रूप में बलि का सर्वस्व हरण किया तो उसकी दानशीलता से प्रसन्न होकर भगवान ने उससे वरदान माँगने को कहा ! राजा बलि ने भगवान से कहा कि जब आपने हमें पाताल का राज्य दि
25 नवम्बर 2020
18 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *उनसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*अट्ठावनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जय जय जय हनुमान ग
18 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x