प्रारब्ध अटल है :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 दिसम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (421 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रारब्ध अटल है :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में कर्मफल के सिद्धांत को शास्त्रों एवं समय समय पर ऋषियों के द्वारा प्रतिपादित किया गया है | कर्म को तीन भागों में विभाजित किया गया गया है जिन्हें क्रियमाण , संचित एवं प्रारब्ध कहा जाता है |इन्हें समझने की आवश्यकता है | क्रियमाण कर्म तत्काल फल प्रदान करते हैं | ये प्राय: शारीरिक होते हैं जैसे :- नशा किया और उन्माद चढ़ गया , विष खाया और उसका प्रभाव हो गया , अग्नि को स्पर्श करते ही हाथ का जल जाना आदि | क्रियमाण कर्म को खान पान के आधार पर स्वास्थ्य के बनने - बिगड़ने के रूप में भी देखा जा सकता है | कुल मिलाकर बिना किसी मानसिक ग्रंथि के शारीरिक कर्म क्रियमाण कर्म कहे जा सकते हैं | इसका दूसरा भाग है संचित कर्म , जो तत्काल फल नहीं प्रदान करते | अनुकूल वातावरण में यह कर्म फल देते हैं और यदि इनके प्रतिपक्षी कर्मों का सामना करना पड़े तो इनका प्रभाव नष्ट भी हो जाता है | ये एक प्रकार से अपरिपक्व एवं क्षीण कर्म होते हैं जिनके संस्कार हल्के होते हैं | प्राय: सतसंग , स्वाध्याय , दैनिक पूजा एवं तीर्थयात्रा आदि के माध्यम से जिन पापों के कटने की बात की जाती है वे ऐसे ही संचित कर्म होते हैं | इन्हीं दोनों कर्मों (क्रियमाण एवं संचित) के आधार पर मनुष्य भाग्यविधाता होता है | परंतु तीसरे प्रारब्ध कर्म पर किसी का भी वश नहीं होता है | प्रारब्ध तीव्रभाव एवं संवेग से किये गये कर्म होते हैं , जो अपरिपक्व अवस्था में होते हैं तथा अपनी परिणिति में अटल फल लिये होते हैं | प्रारब्ध कर्म कब फलित होंगे यह कुछ कहा नहीं जा सकता | इनका फल इस जन्म में भी मिल सकता है और किसी अन्य जन्म में भी | राजा धृतराष्ट्र को एक सौ आठवें जन्म में आँख फोड़ने का कर्म जन्मांध के रूप में भोगना पड़ा था | प्रारब्ध कर्म के फल को अखण्ड तप से कम तो किया जा सकता है परन्तु नष्ट कोई नहीं कर सकता | प्रारब्ध का सिद्धांत अटल है यह संचित और क्रियमाण की अपेक्षा अधिक शक्तिशाली होता है | प्रारब्ध कर्मों का फल अवश्य मिलता है |*


*आज मनुष्य आधुनिकता की चकाचौंध में इतना ज्यादा भ्रमित हो गया है कि वह कर्मों की ओर ध्यान ही नहीं दे रहा है | बिलासपूर्ण जीवन जीने के लिए आज मनुष्य कर्म , अकर्म , विकर्म , कुकर्म सब कर रहा है और जब कोई आकस्मिक घटना / दुर्घटना घट जाती है तो मनुष्य सोचता है कि हमने तो ऐसा कोई कर्म किया ही नहीं जिसका फल हमें मिला | वह संचित , क्रियमाण और प्रारब्ध के सिद्धांत को भूल जाता है | यह आवश्यक नहीं है इस जन्म में किए कर्मों का फल ही हमें मिले बल्कि यह सत्य है कि अन्यान्य जन्मों में किए गए कर्मों का फल भी हमें प्रारब्ध के रूप में भोगना ही पड़ता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि यह आवश्यक नहीं है कि सत्कर्म करने वालों को कष्ट ना मिले | इतिहास में अनेकों प्रमाण है , प्रारब्ध कर्मों का फल भोगने से स्वयं मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम एवं लीला पुरुषोत्तम श्री कृष्ण नहीं बच पाए हैं तो साधारण मनुष्य की क्या विचार है | यह संसार कर्म पर ही आधारित है जिसने जैसा कर्म किया है उसको उसका फल भोगना ही पड़ेगा चाहे वह इस जन्म के कर्म हों या किसी अन्य जन्म के प्रारब्ध का फल तो भोगना ही पड़ेगा परंतु आज मनुष्य किसी आकस्मिक घटना पर समाज , परिवार एवं ईश्वर को दोष लगाता हुआ अपना दोष छुपाने का प्रयास करता है | एक बात हमें ध्यान रखनी चाहिए कि ईश्वर कभी किसी के साथ अन्याय नहीं करता | उसने मनुष्य के हाथ में कर्म रूप में ऐसी चाबी दे दी है जिससे मनुष्य जैसा चाहे (चाहे सुख का या दुख का ) द्वार खोल सकता है परंतु आज के युग में मनुष्य इतना ज्यादा भ्रमित हो गया है कि वह ईश्वर तक को अन्यायकारी कहने लगता है | ईश्वर कभी अन्याय नहीं करता बल्कि जीव अपने किए गए कर्मों का फल भोगने के लिए ही इस धराधाम पर जन्म लेता है |*


*जिसने संचित , क्रियमाण एवं प्रारब्ध के रहस्य को समझ लिया वह जीवन में कभी भी दुखी नहीं होता है और किसी भी सुख एवं दुख के लिए अपने कर्मों का फल समझकर ईश्वर को धन्यवाद ही देता रहता है |*

अगला लेख: आत्म मूल्यांकन करना आवश्यक है :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



जय श्री हरि
प्रणाम आचार्य श्री

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
17 दिसम्बर 2020
*ईश्वर द्वारा बनाई हुई यह सृष्टि बहुत ही रहस्यमय है | इस रहस्यमय सृष्टि में अनेकों अनसुलझे प्रश्न मनुष्य को परेशान करते रहते हैं , इन सभी प्रश्नों का उत्तर तो वह किसी न किसी ढंग से ढूंढ लेता है परंतु सबसे जटिल प्रश्न यह है कि "मैं कौन हूँ ?" मनुष्य आज तक यह स्वयं नहीं जान पाया कि "मैं कौन हूँ ?" किस
17 दिसम्बर 2020
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है , यह जीवन जितना ही सुखी एवं संपन्न दिखाई पड़ता है उससे कहीं अधिक इस जीवन में मनुष्य अनेक प्रकार के भय एवं चिंताओं से घिरा रहता है | जैसे :- स्वास्थ्य हानि की चिंता व भय , धन समाप्ति का भय , प्रिय जनों के वियोग का भय आदि | यह सब भय मनुष्य के मस्तिष्क में नकारात्मक भाव प्र
10 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन अत्यनेत दुर्लभ है , इस सुंदर शरीर तो पाकरके मनुष्य के लिए कुछ भी करना असम्भव नहीं है | किसी भी कार्य में सफलता का सफल सूत्र है निरंतर अभ्यास | प्राय: लोग शिकायत करते हैं कि मन तो बहुत होता है कि सतसंग करें , सदाचरण करें परंतु मन उचट जाता है | ऐसे लोगों को स
28 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
10 जनवरी 2021
*जब से इस धरा धाम पर मनुष्य का सृजन हुआ है तब से लेकर आज तक अनेकों प्रकार के मनुष्य इस धरती पर आये और चले गये | वैसे तो ईश्वर ने मानव मात्र को एक जैसा शरीर दिया है परंतु मनुष्य अपनी बुद्धि विवेक के अनुसार जीवन यापन करता है | ईश्वर का बनाया हुआ यह संसार बड़ा ही अद्भुत एवं रहस्यम है | यहाँ मनुष्य के म
10 जनवरी 2021
02 जनवरी 2021
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना करके मनुष्य को धरती पर भेजा , सुंदर शरीर के साथ सुंदर एवं तर्कशील बुद्धि प्रदान कर दी परंतु मनुष्य इस संसार में आकर के तरह-तरह के आडंबर (छद्मवेष) करता है | अपने वास्तविक स्वरूप का त्याग करके आडंबर बनाकर समाज के साथ छल करता है | वह शायद नहीं जानता कि आडंबर
02 जनवरी 2021
05 जनवरी 2021
वैक्सीनपर सियासत क्यों?डॉशोभा भारद्वाज ईरानमें चाय पीने का अलग ढंग है घर में हर वक्त चाय हाजिर रहती है .वहाँ की चाय औरकहवा खाने मशहूर हैं शाम को कहवा खानों में किस्सा गोई चलती है घरों में भी ठंड केदिनों में अलादीन मिट्टी के तेल का स्टॉप जलता रहता है घर भी गर्म करता है उस परउबलने के लिए पानी रख देते
05 जनवरी 2021
19 दिसम्बर 2020
*ईश्वर ने इस सृष्टि की रचना की , अनेकों प्रकार के जीव उत्पन्न किये | इन्हीं जीवों में सर्वश्रेष्ठ मनुष्य को प्रकट किया | सृष्टि के कण-कण में ईश्वर व्याप्त है , मानव जीवन पाकर के मनुष्य में सद्गुण का आरोपण करने के उद्देश्य ईश्वर ने अपना ही एक स्वरूप बनाकर स्वयं के प्रतिनिधि के रूप में इस धरा धाम पर
19 दिसम्बर 2020
02 जनवरी 2021
*मानव जीवन में मनुष्य एक क्षण भी कर्म किए बिना नहीं रह सकता है क्योंकि यह सृष्टि ही कर्म प्रधान है | मनुष्य को जीवन में सफलता एवं असफलता प्राप्त होती रहती है जहां सफलता में लोग प्रसन्नता व्यक्त करते हैं वही असफलता मिलने पर दुखी हो जाया करते हैं और वह कार्य पुनः करने के लिए जल्दी तैयार नहीं होते | जी
02 जनवरी 2021
19 दिसम्बर 2020
*ईश्वर ने इस सृष्टि की रचना की , अनेकों प्रकार के जीव उत्पन्न किये | इन्हीं जीवों में सर्वश्रेष्ठ मनुष्य को प्रकट किया | सृष्टि के कण-कण में ईश्वर व्याप्त है , मानव जीवन पाकर के मनुष्य में सद्गुण का आरोपण करने के उद्देश्य ईश्वर ने अपना ही एक स्वरूप बनाकर स्वयं के प्रतिनिधि के रूप में इस धरा धाम पर
19 दिसम्बर 2020
17 दिसम्बर 2020
*ईश्वर द्वारा बनाई हुई यह सृष्टि बहुत ही रहस्यमय है | इस रहस्यमय सृष्टि में अनेकों अनसुलझे प्रश्न मनुष्य को परेशान करते रहते हैं , इन सभी प्रश्नों का उत्तर तो वह किसी न किसी ढंग से ढूंढ लेता है परंतु सबसे जटिल प्रश्न यह है कि "मैं कौन हूँ ?" मनुष्य आज तक यह स्वयं नहीं जान पाया कि "मैं कौन हूँ ?" किस
17 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन बड़ा ही रहस्यमय है | इस जीवन में दो चीजे मनुष्य को प्रभावित करती हैं पहला स्वार्थ और दूसरा परमार्थ | जहाँ स्वार्थ का मतलब हुआ स्व + अर्थ अर्थात स्वयं का हित , वहीं परमार्थ का मतलब हुआ परम + अर्थ अर्थात परमअर्थ | परमअर्थ के विषय में हमारे मनीषी बताते हैं कि जो आत्मा के हितार्थ , आत्मा के आ
28 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*इस धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के भोग भोगता हुआ पूर्ण आनंद की प्राप्ति करना चाहता है | मनुष्य को पूर्ण आनंद तभी प्राप्त हो सकता है जब उसका तन एवं मन दोनों ही स्वस्थ हों | मनुष्य इस धरा धाम पर आने के बाद अनेक प्रकार के रोगों से ग्रसित हो जाता है तब वह उसकी चिकित्सा किसी चिकित्सक स
28 दिसम्बर 2020
17 दिसम्बर 2020
*ईश्वर द्वारा बनाई हुई यह सृष्टि बहुत ही रहस्यमय है | इस रहस्यमय सृष्टि में अनेकों अनसुलझे प्रश्न मनुष्य को परेशान करते रहते हैं , इन सभी प्रश्नों का उत्तर तो वह किसी न किसी ढंग से ढूंढ लेता है परंतु सबसे जटिल प्रश्न यह है कि "मैं कौन हूँ ?" मनुष्य आज तक यह स्वयं नहीं जान पाया कि "मैं कौन हूँ ?" किस
17 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन बड़ा ही रहस्यमय है | इस जीवन में दो चीजे मनुष्य को प्रभावित करती हैं पहला स्वार्थ और दूसरा परमार्थ | जहाँ स्वार्थ का मतलब हुआ स्व + अर्थ अर्थात स्वयं का हित , वहीं परमार्थ का मतलब हुआ परम + अर्थ अर्थात परमअर्थ | परमअर्थ के विषय में हमारे मनीषी बताते हैं कि जो आत्मा के हितार्थ , आत्मा के आ
28 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन बड़ा ही रहस्यमय है | इस जीवन में दो चीजे मनुष्य को प्रभावित करती हैं पहला स्वार्थ और दूसरा परमार्थ | जहाँ स्वार्थ का मतलब हुआ स्व + अर्थ अर्थात स्वयं का हित , वहीं परमार्थ का मतलब हुआ परम + अर्थ अर्थात परमअर्थ | परमअर्थ के विषय में हमारे मनीषी बताते हैं कि जो आत्मा के हितार्थ , आत्मा के आ
28 दिसम्बर 2020
15 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है इसे पा करके सब कुछ प्राप्त किया जा सकता है | किसी भी इच्छित फल को प्राप्त करने के लिए श्रद्धा एवं विश्वास होना आवश्यक है इससे कहीं अधिक किसी भी कार्य में सफल होने के लिए आत्मविश्वास की आवश्यकता होती है | यदि मनुष्य का आत्मविश्वास प्रबल होता है तो उसे एक ना एक दिन सफलता
15 दिसम्बर 2020
02 जनवरी 2021
*मानव जीवन में मनुष्य एक क्षण भी कर्म किए बिना नहीं रह सकता है क्योंकि यह सृष्टि ही कर्म प्रधान है | मनुष्य को जीवन में सफलता एवं असफलता प्राप्त होती रहती है जहां सफलता में लोग प्रसन्नता व्यक्त करते हैं वही असफलता मिलने पर दुखी हो जाया करते हैं और वह कार्य पुनः करने के लिए जल्दी तैयार नहीं होते | जी
02 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन अत्यनेत दुर्लभ है , इस सुंदर शरीर तो पाकरके मनुष्य के लिए कुछ भी करना असम्भव नहीं है | किसी भी कार्य में सफलता का सफल सूत्र है निरंतर अभ्यास | प्राय: लोग शिकायत करते हैं कि मन तो बहुत होता है कि सतसंग करें , सदाचरण करें परंतु मन उचट जाता है | ऐसे लोगों को स
28 दिसम्बर 2020
19 दिसम्बर 2020
*ईश्वर ने इस सृष्टि की रचना की , अनेकों प्रकार के जीव उत्पन्न किये | इन्हीं जीवों में सर्वश्रेष्ठ मनुष्य को प्रकट किया | सृष्टि के कण-कण में ईश्वर व्याप्त है , मानव जीवन पाकर के मनुष्य में सद्गुण का आरोपण करने के उद्देश्य ईश्वर ने अपना ही एक स्वरूप बनाकर स्वयं के प्रतिनिधि के रूप में इस धरा धाम पर
19 दिसम्बर 2020
15 दिसम्बर 2020
जीवन की अबुझ पहेली✒️जीवन की अबुझ पहेलीहल करने में खोया हूँ,प्रतिक्षण शत-सहस जनम कीपीड़ा ख़ुद ही बोया हूँ।हर साँस व्यथा की गाथाधूमिल स्वप्नों की थाती,अपने ही सुख की शूलीअंतर में धँसती जाती।बोझिल जीवन की रातेंदिन की निर्मम सी पीड़ा,निष्ठुर विकराल वेदनासंसृति परचम की बीड़ा।संधान किये पुष्पों केमैं तुमको पु
15 दिसम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x