देह की नश्वरता

09 जनवरी 2021   |  chander prabha sood   (389 बार पढ़ा जा चुका है)

देह की नश्वरता

मानव देह की नश्वरता के विषय में कोई सन्देह नहीं है। यह शरीर जीव को अपने पूर्वकृत कर्मो के अनुसार कुछ निश्चित समयावधि के लिए मिला है। जब भी यह समय सीमा समाप्त हो जाती है तो उसे इस भौतिक शरीर को त्यागना पड़ता है। इसके लिए उसकी राय का कोई मूल्य नहीं होता। वह चाहे अथवा न चाहे, कितना रोना-धोना कर ले, मिन्नतें कर ले उसे एक क्षण की भी मोहलत नहीं मिलती।
          वेद, उपनिषद् आदि महान ग्रन्थ हमें बार-बार चेतावनी देते हुए कहते हैं कि हे मानव, इस नश्वर देह का मोह बिल्कुल मत करो, यथाशीघ्र शुभकर्मो की ओर प्रवृत्त हो जाओ। यजुर्वेद का निम्न मन्त्र उद् घोष करता है-
वायुरनिलममृतमवेदं    भस्मान्तँ     शरीरम्। ऊँ ऋतो स्मर कृतँ स्मर ऋतो स्मर कृतं स्मर।
अर्थात् प्राणवायु शरीर में रहता है, वह मृत्यु के समय विश्व के प्राण में लीन हो जाता है। यह शरीर तभी तक है, जब तक भस्म नहीं हो जाता। हे मनुष्य! सत्कर्म को स्मरण कर। जो कर्म अब तक कर चुका है, उन्हें भी स्मरण कर।
        यह मन्त्र हमें स्पष्ट आदेश देता है कि यह शरीर नश्वर है। अपने भूतकाल में किए गए या जो कर्म वर्तमान में कर रहे हैं अथवा जो कर्म भविष्य में करने वाले हैं, उन सब कर्मों की ओर ध्यान देना चाहिए।
        यदि मनुष्य तन पाकर जीव शुभकर्म नहीं करता, तो निश्चित ही उसे आगामी जन्मों में मनुष्येतर योनियों में जन्म लेना पड़ता है। वे सभी केवल भोग योनियाँ ही कहलाती हैं, जहाँ जीव मात्र अपने किए गए दुष्कर्मो का भोग करके उनसे मुक्त होता है। उसे सुकर्म करने की बुद्धि ईश्वर नहीं देता। वहाँ उसे अपने कर्मो के अधीन रहने की विवशता होती है।
          भगवान श्रीकृष्ण 'श्रीमद्भगवद्गीता' में शरीर के नाशवान होने और कर्म करने पर बल देते हैं। उनका कथन है कि सृष्टि के आदि से लेकर आजतक जीव ने विभिन्न रूपों में अनेक जन्म लिए हैं। आत्मा अपने पुराने, रोगी और कटे-फटे शरीर ऐसे बदलती है जैसे हम लोग फटे-पुराने या बदरंग हुए वस्त्रों को फैंककर नए कपड़े पहनते हैं। सरल शब्दों में कहें तो शरीर परिवर्तन आत्मा का स्वभाव है। यही भाव निम्न श्लोक में है-
            जीर्णानि वासांसि यथा विहाय
            नवानि   गृह्णाति   नरोपराणि।
            तथा शरीराणि विहाय जीर्णा-
            न्यन्यानि संयाति नवानि देही।।
कहने का तात्पर्य है कि यह एक सतत प्रक्रिया है, जिससे गुजरते समय इस आत्मा को जरा भी दुख नहीं होता। वह तो परम पिता परमात्मा का एक अंश है, इसलिए आत्मा को उससे मिलने की इच्छा बलवती होती रहती है।
        श्रीकृष्ण ने गीता में निष्काम कर्म पर बल दिया है। वे कहते हैं-
कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्मफलहेतुर्मा ते संगोSस्त्वकर्मणि।।
अर्थात् कर्म करो पर कर्तापन का भाव न रखो। यदि मनुष्य स्वयं को कर्ता मानने लगता है, तो उसका अहंभाव प्रबल होने लगता है। वह उसके पतन का निमित्त बनता है। कर्म करके उसे ईश्वर को समर्पित कर देने से मनुष्य निरहंकार हो जाता है। तब उसकी आध्यात्मिक उन्नति होती है।
          भगवान श्रीकृष्ण स्पष्ट कहते हैं कि उन्हें वही भक्त प्रिय है, जो अपने कर्ता होने के मिथ्याभिमान को त्याग करके उनकी यानी ईश्वर की शरण में आ जाता है।
        इस संसार में हर जीव और पदार्थ विनाशी या नश्वर है, केवल एक ईश्वर ही है जो अविनाशी है। सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड इसी ईश्वर रूपी धुरी के इर्दगिर्द चक्कर लगाते रहते हैं।
        इसी कारण हर जीव का यह भौतिक शरीर भस्म होने वाला है। मानव चोला प्राप्त करके यदि मनुष्य सकाम कर्म करता है, तो उसकी भौतिक उन्नति होती है। इसके विपरीत निष्काम कर्म करता हुआ वह आध्यात्मिक उन्नति करके मालिक की कृपा का पात्र बन जाता है। 
चन्द्र प्रभा सूद

अगला लेख: वृद्धावस्था में सुखमय जीवन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जनवरी 2021
परीक्षा में सफलता परमात्मा सज्जनों की बहुत कड़ी परीक्षा लेता है किन्तु उनका साथ कभी नहीं छोड़ता। विद्यालय या कालेज में जब भी विद्यार्थियों की परीक्षा ली जाती है, तो उसका अर्थ यही होता है कि विद्यार्थी उस परीक्षा में सफल होकर अगली परीक्षा के लिए तैयार हो रहा है।         स्कूल की परीक्षाओं में सफल होने
04 जनवरी 2021
08 जनवरी 2021
पु
पुनर्जन्मपुनर्जन्म का अर्थ पुनः या फिर से जन्म। हम कह सकते हैं कि इस संसार में जीव के जन्म के अनन्तर अपने कर्मों के अनुसार प्राप्त समयावधि के पश्चात मृत्यु होती है। फिर उस मृत्यु के बाद जीव एक बार पुनः जन्म लेता है। यही पुनर्जन्म कहलाता है। पुनर्जन्म की इन घटनाओं की जानकारी हमें प्रायः अपने आसपास यद
08 जनवरी 2021
05 जनवरी 2021
बि
  बिनमाँगे परामर्श नहीं मनुष्य को बिनमाँगे किसी को परामर्श नहीं देना चाहिए अथवा कभी भी अनावश्यक रूप से किसी के कार्य में दखलअंदाजी नहीं करनी चाहिए। जन साधारण की आम भाषा में इसे किसी के फटे में टाँग अड़ाना कहते हैं। यदि मनुष्य ऐसा करता है तो उसे अपनी अवमानना के लिए तैयार हो जाना चाहिए। मनीषी कहते हैं
05 जनवरी 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x