वृद्धावस्था में सुखमय जीवन

10 जनवरी 2021   |  chander prabha sood   (424 बार पढ़ा जा चुका है)

वृद्धावस्था में सुखमय जीवन

वृद्धावस्था में सुखमय जीवन व्यतीत करने के लिए हर व्यक्ति को बहुत ही सावधानी बरतनी चाहिए। यद्यपि इस अवस्था में हर मनुष्य शारीरिक और मानसिक रूप से कमजोर हो जाता है। शारीरिक अस्वस्थता के कारण वह किसी प्रकार का कठोर परिश्रम नहीं कर पाता। चलने-फिरने और काम-काज करने उसे में असुविधा होने लगती है। इस समय उसे अपनों के सहारे की बहुत आवश्यकता होती है। 
         वृद्धावस्था  में व्यक्ति को स्वतन्त्रता की भी आवश्यकता होती है। वे पूर्ववत खाना-पीना, सोना-जागना, उठना-बैठना, घूमना-फिरना आदि अपनी इच्छानुसार करना चाहते हैं। जीवन के इस पड़ाव में ये सुविधाएँ मिल जाएँ, तो उनका जीवन सुखद हो सकता है। इस अवस्था में  कुछ लोगो में खाने-पीने की ललक बढ़ जाती हैं। उन्हें अपनी इच्छा से जीवन यापन की सुविधा मिलना बहुत जरूरी है।
        इस आयु में व्यक्ति बहुत संवेदनशील हो जाता है। उसे सभी अपनों से सहानुभूति पूर्वक व्यवहार की अपेक्षा होती है। यदि ऐसे हालात में अपने बच्चे उपेक्षा करने लगें, तो बुजुर्ग व्यक्ति टूटने लगता है। उसे यही लगता है कि जिन बच्चों के लिए उसने अपना सारा सुख-आराम छोड़कर उनकी जिन्दगी बनाई, वही विमुख हो रहे हैं। यह बात उन्हें पच नहीं पाती।
        अपनी वृद्धावस्था का समय बिना कष्ट के सुविधापूर्वक व्यतीत हो, उसके लिए सबसे पहले अपने आप को मानसिक रूप से मजबूत बनाना होगा। सबसे पहले अपने बच्चों पर निर्भर रहने का विचार त्याग देना चाहिए। यदि बच्चे अपना कर्तव्य समझकर वृद्धावस्था में माता-पिता की सेवा करें तो बहुत अच्छा है अन्यथा उनसे किसी प्रकार की कोई आशा नहीं रखनी चाहिए। समय के साथ-साथ उनकी प्राथमिकताएँ भी बदल जाती है।
          अपने व्यवहार को यथासम्भव सन्तुलित रखने का प्रयास करना चाहिए। कभी यह विचार मन में नहीं रखना चाहिए कि अपनी वृद्धावस्था को आधार बनाकर किसी से सेवा करवा ली जाए अथवा सम्मान प्राप्त कर लिया जाए। यदि किसी सेवक से अपने कार्य करवाए, तो उसे पूरा पारिश्रमिक देना चाहिए ताकि दोबारा उसे काम कहा जाए, तो वे कभी आनाकानी न करें।
          बड़ों को चाहिए कि वे अपने बच्चों के जीवन में दखलअंदाजी न करें। इस बात का सदा ध्यान रखना चाहिए कि उन्होंने ने अपना जीवन जब अपनी इच्छा व शर्तो पर जिया है, तो बच्चों को भी उनका जीवन अपने तरीके से जीने देना चाहिए।
        अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों के साथ नहीं करनी चाहिए और अपने बच्चों, बन्धु-बान्धवों किसी से कोई उम्मीद नहीं रखनी चाहिए। ऐसा करने से निराशा हाथ लगती है और मन उदास होने लगता है। सबसे वितृष्णा होने लगती है, जो मनुष्य को नकारात्मक बनाती है।
        यदि बच्चे साथ न रहना चाहें, तो उन पर दबाव नहीं डालना चाहिए और न ही उन्हें भला-बुरा कहकर अपने मन को व्यथित करना चाहिए। यत्न यही करना चाहिए कि अपनी स्वतन्त्रता बनाए रखने के लिए, अपने उसी घर मे रहा जाए जहाँ जीवनभर की यादें जुड़ी हुई हों। वहाँ जीवन सुविधा से जिया जा सकता है।
          इस आयु में उन लोगों को अपना मित्र बनाना चाहिए, जो उनकी मनोस्थिति को भली-भाँति समझते हों तथा उनके जीवन के कठिन पलों में सहयोगी बन सकें। सब लोगों की बातें सुन लेने में कोई हर्ज नहीं है। पर निर्णय सदा अपने विवेक को ही आधार बनाकर लेना चाहिए।
      अपने जीवन में थककर कभी हारना नहीं चाहिए। अकेले रहते हुए स्वयं ही सदा अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। समय-समय पर डाक्टर के पास जाकर स्वास्थ्य सम्बन्धी परामर्श लेते रहना चाहिए। यदि आवश्यक हो तो चिकित्सीय परीक्षण भी करवाते रहना चाहिए। जहाँ तक हो सके पौष्टिक भोजन खाना चाहिए और हर सम्भव प्रयास करना चाहिए कि अपने काम अपने हाथों से करने चाहिए, किसी पर भी निर्भर नहीं रहना चाहिए।
        यह हमेशा याद रखना चाहिए कि अपनी जिजीविषा को बनाए रखें ताकि जीवन में उत्साह बना रहे। निराशा को किसी भी कारण से अपने मन में स्थान नहीं देना चाहिए। किसी के भी समक्ष अपनी असहायता का रोना रोकर सम्बन्धों की भीख नहीं माँगनी चाहिए।
      सबसे अहं बात यह है कि बच्चों को अपना व्यापार, अपनी धन-सम्पति अवश्य सौंपिए, परन्तु अपने पास इतना बैंक बेलेंस और भौतिक संपत्ति रख लेनी चाहिए, जिससे अपनी वृद्धावस्था का समय अपने साथी के साथ सुविधापूर्वक व्यतीत हो सके। किसी के भी समक्ष अपनी जरूरतों को पूरा करने हेतु पैसे के लिए हाथ न पसारना पड़े।
         अपने समय का सदुपयोग सामाजिक कार्यो, ईश्वर भजन, स्वाध्याय, योग आदि में करना चाहिए। उस जगज्जननी माता यानी ईश्वर से अपने कुशल-क्षेम के लिए प्रार्थना करनी चाहिए। वही रक्षक है और हर कदम पर सहयता करने वाला है।
चन्द्र प्रभा सूद

अगला लेख: मूड के गुलाम हम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जनवरी 2021
जगत में पूर्णसंसार में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जिसे हम पूर्ण कह सकें क्योंकि उसमेँ अच्छाई और बुराई दोनों का ही समावेश होता है। इसीलिए कभी वह गलतियाँ या अपराध कर बैठता है, तो कभी महान कार्य करके अमर हो जाता है। यानी कि उसमें हमेशा स्थायित्व की कमी रहती है। यदि वह पूर्ण हो जाए, तो भगवान ही बन जाएगा
03 जनवरी 2021
01 जनवरी 2021
स्
आप सभी बन्धुजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ। यह नूतन वर्ष सभी के लिए उत्साह और उल्लास लेकर आए।नववर्ष पर एक के कविता-स्वागत नववर्षस्वागत है नववर्षतुम एक बार फिर से मुस्कुराते हुए आ रहे होअपनी मनमोहिनी छटा बिखेरते हुए।तुम्हारे आने काउल्लास धरती परचहुँ ओर दिखाई देता हैहर मन नई आस लिए बाट जोहता है।
01 जनवरी 2021
06 जनवरी 2021
मनुष्य गुणों का भण्डारहर व्यक्ति की इस संसार में अपनी एक पहचान होती है। उसी के अनुरूप उसका व्यवहार तथा चरित्र होता है। मनुष्य का जैसा चरित्र होता है उसके मित्र भी वैसे ही होते है। यानी मनुष्य अपने चरित्र के अनुसार ही अपने मित्रों का चयन कर लेता है। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि सज्जन को
06 जनवरी 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x