विद्वता या अहंकार :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 जनवरी 2021   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (398 बार पढ़ा जा चुका है)

विद्वता या अहंकार :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*जब से इस धरा धाम पर मनुष्य का सृजन हुआ है तब से लेकर आज तक अनेकों प्रकार के मनुष्य इस धरती पर आये और चले गये | वैसे तो ईश्वर ने मानव मात्र को एक जैसा शरीर दिया है परंतु मनुष्य अपनी बुद्धि विवेक के अनुसार जीवन यापन करता है | ईश्वर का बनाया हुआ यह संसार बड़ा ही अद्भुत एवं रहस्यम है | यहाँ मनुष्य के मन में एक भावना बैठी होती है कि मैं जो हूं या मैं जो कर सकता हूं वह कोई दूसरा नहीं कर सकता | इतिहास साक्षी है , हमारे पुराणों में अनेक कथानक मिलते हैं जहां मनुष्य "एकोहम द्वितीयो नास्ति" की भावना से ग्रसित होकर पतन को प्राप्त हुआ है | लीला बिहारी भगवान श्री कृष्ण की नकल करते हुए स्वयं को वासुदेव कहने वाला पौण्ड्रक यह समझता था कि वह स्वयं कृष्ण हो गया है परंतु उसकी क्या दुर्गति हुई यह सभी जानते हैं | मनुष्य जब भी यह मान लेता है कि मेरे बराबर किसी को ज्ञान ही नहीं है तो समझ लेना चाहिए कि उसको तनिक भी ज्ञान नहीं है क्योंकि विद्या का एक मुख्य प्रभाव होता है कि वह मनुष्य को विनयशील बना देती है "विद्या ददाति विनयम" परंतु यह प्रकृति का प्रभाव ही है कि विद्या के साथ-साथ मनुष्य में कब अहंकार का उदय हो जाता है यह वह स्वयं नहीं जानता और स्वयं को ज्ञानी समझने के अहंकार में यह सभी को मूर्ख समझने लगता है | मनुष्य का यह कृत्य उसको समाज के उच्च पद से निम्न पद पर लाकर खड़ा कर देता है और वह हंसी का पात्र भी बन जाता है | प्रत्येक मनुष्य को यह समझना चाहिए कि इस संसार में कोई भी पूर्ण नहीं है जिसके भीतर गंभीरता एवं विनयसीलता नहीं है वह विद्वान होकर भी विद्वान नहीं कहा जा सकता | स्वघोषित विद्वान तो वह हो सकता है परंतु समाज उसे कभी सम्मान की दृष्टि से नहीं देखता | जिस पर भगवान की कृपा होती है वही इस अहंकार से बच पाता है अन्यथा ज्ञान प्राप्त कर लेने के बाद प्राय: अधिकतर लोग इसके चक्रव्यूह मैं इस प्रकार उलझ जाते हैं कि उन्हें निकलने का मार्ग नहीं मिलता और इसी चक्रव्यूह उनका अंत हो जाता है |*


*आज के आधुनिक समाज में विद्वत समाज इस रोग से कुछ अधिक ही पीड़ित दिखाई पड़ रहा है | आज मनुष्य विचार करता है कि मैं जो जानता हूं वह कोई दूसरा नहीं जानता , मैं जो पढ़ सकता हूं वह और किसी के बस की बात नहीं है , जबकि यह उनका अहंकार ही होता है | इस संसार में एक से एक विद्वान है , एक से एक बलवान हैं कोई किसी से कम नहीं परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि जिन्हें समाज उनके ज्ञान , उनकी आयु एवं उनकी योग्यता के लिए उनका सम्मान करता है वही लोग अपने अतिरिक्त सभी विद्वानों को तथा अपने सेवकों को मूर्ख समझने लगते हैं | यह वही लोग जो कहने को विद्वान होते हैं | जिस प्रकार बाबा जी ने मानस में लिखा है :- छुद्र नदी भरि चली तोराई ! जिमि थोरेहुं धन खल इतराई !! अर्थात :- छोटी नदियां भी बरसात में उफान मारने लगती हैं तो उनको ऐसा लगता है कि मुझसे बड़ी नदी अब कोई है कि नहीं ठीक इसी प्रकार आज समाज में कुछ विद्वान ऐसे हैं जो थोड़ा सा ज्ञान प्राप्त कर लेने पर यह समझने लगते हैं कि मुझसे बड़ा विद्वान कोई दूसरा नहीं है | भरे समाज में अन्य विद्वानों की परीक्षा लेना उनका स्वभाव बन जाता है जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि विद्वान वही होता है जो सब का सम्मान करना जानता हो | फलों से लदे हुए वृक्ष सदैव झुके होते हैं जिस वृक्ष में कोई फल ही ना आए वह झुकना भला कैसे जान सकता है ? ज्ञानवान मनुष्य सदैव दूसरों का सम्मान करना जानता है तथा जो दूसरों का सम्मान करना जानता है यह समाज उसी को सम्मानित करता है अन्यथा ऐसे लोग कहीं भी किसी भी समाज में सम्माननीय होकर भी सम्मान नहीं पाते और अपनी गलतियों का ठीकरा पूरे समाज पर फोड़ने का प्रयास करते हैं | विचार कीजिए कि जो वास्तव में ज्ञानी होगा वह पूज्यनीय क्यों नहीं होगा ! कुछ लोग अपनी चर्चा में लोगों को उलझाकर अपने ज्ञान का प्रदर्शन करने का प्रयास करते हैं | ऐसे लोग आने वाली पीढ़ियों के लिए क्या आदर्श स्थापित करेंगे यह स्वयं में विचारणीय है |*


*विद्वता एवं अहंकार दोनों परस्पर विरोधी हैं परंतु यदि दोनों मिल जाते हैं तो मनुष्य को पतित करके ही छोड़ते हैं इसलिए प्रत्येक मनुष्य को यही प्रयास करना चाहिए कि इनमें विरोध बना ही रहे |*

अगला लेख: मानस रोग :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 दिसम्बर 2020
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त किया गया :- ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सन्यास का लक्ष्य होता है परमात्मा की प्राप्ति , सन्यास लेना बहुत ही कठिन है | प्रायः मनुष्य को जब किसी भावनात्मक चोट से , स्वयं के विचार से वाह्य भौतिक जगत से मोहह टूटता है तो व्यक्ति स्वयं औ
29 दिसम्बर 2020
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है , यह जीवन जितना ही सुखी एवं संपन्न दिखाई पड़ता है उससे कहीं अधिक इस जीवन में मनुष्य अनेक प्रकार के भय एवं चिंताओं से घिरा रहता है | जैसे :- स्वास्थ्य हानि की चिंता व भय , धन समाप्ति का भय , प्रिय जनों के वियोग का भय आदि | यह सब भय मनुष्य के मस्तिष्क में नकारात्मक भाव प्र
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन में प्रकृति का बहुत ही सराहनीय योगदान होता है | बिना प्रकृति के योगदान के इस धरती पर जीवन संभव ही नहीं है | यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाए तो प्रकृति का प्रत्येक कण मनुष्य के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत करता है | प्रकृति के इन्हीं अंगों में एक महत्वपूर्ण एवं विशेष घटक है वृक्ष | वृक्ष का मानव
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*ईश्वर द्वारा बनाया गया यह संसार बहुत की रहस्यमय है ` इस संसार को अनेक उपमा दी गई हैं | किसी ने इसे पुष्प के समान माना है तो किसी ने संसार को ही स्वर्ग मान लिया है | वेदांत दर्शन में संसार को स्वप्नवत् कहा गया है तो गोस्वामी तुलसीदास जी इस संसार को एक प्रपंच मानते हैं | गौतम बुद्ध जी के दृष्टिकोण से
10 जनवरी 2021
22 जनवरी 2021
*ईश्वर का बनाया हुआ यह संसार प्रेममय है | परमात्मा प्रेम के बिना नहीं मिल सकता , परमात्मा ही नहीं इस संसार में बिना प्रेम के कुछ भी नहीं प्राप्त हो सकता है | आप किसी से लड़ाई करके वह नहीं प्राप्त कर सकते जो प्रेम से प्राप्त हो सकता है | प्रेम को कई रूप में देखा जाता है मोह एवं आसक्ति इसी का दूसरा रू
22 जनवरी 2021
15 जनवरी 2021
*इस संसार में आने के बाद मनुष्य जीवन भर विभिन्न प्रकार की संपदाओं का संचय किया करता है | यह भौतिक संपदायें मनुष्य को भौतिक सुख तो प्रदान कर सकती हैं परंतु शायद वह सम्मान ना दिला पायें जो कि इस संसार से जामे के बाद भी मिलता रहता है | यह चमत्कार तभी हो सकता है जब मनुष्य का चरित्र श्रेष्ठ होता है , क्
15 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है , यह जीवन जितना ही सुखी एवं संपन्न दिखाई पड़ता है उससे कहीं अधिक इस जीवन में मनुष्य अनेक प्रकार के भय एवं चिंताओं से घिरा रहता है | जैसे :- स्वास्थ्य हानि की चिंता व भय , धन समाप्ति का भय , प्रिय जनों के वियोग का भय आदि | यह सब भय मनुष्य के मस्तिष्क में नकारात्मक भाव प्र
10 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन अत्यनेत दुर्लभ है , इस सुंदर शरीर तो पाकरके मनुष्य के लिए कुछ भी करना असम्भव नहीं है | किसी भी कार्य में सफलता का सफल सूत्र है निरंतर अभ्यास | प्राय: लोग शिकायत करते हैं कि मन तो बहुत होता है कि सतसंग करें , सदाचरण करें परंतु मन उचट जाता है | ऐसे लोगों को स
28 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
10 जनवरी 2021
*इस धरा धाम में आने के बाद मनुष्य स्वयं को समाज में प्रतिष्ठित करने के लिए अपने व्यक्तित्व का विकास करना प्रारंभ करता है , परंतु कभी-कभी वह दूसरों के व्यक्तित्व को देखकर उसका मूल्यांकन करने लगता है | यहीं पर वह छला जाता है | ऐसा मनुष्य इसलिए करता है क्योंकि दूसरों के जीवन में तांक - छांक करने की मनु
10 जनवरी 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x