निर्भयता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी :-

10 जनवरी 2021   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (411 बार पढ़ा जा चुका है)

निर्भयता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी :-

*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है , यह जीवन जितना ही सुखी एवं संपन्न दिखाई पड़ता है उससे कहीं अधिक इस जीवन में मनुष्य अनेक प्रकार के भय एवं चिंताओं से घिरा रहता है | जैसे :- स्वास्थ्य हानि की चिंता व भय , धन समाप्ति का भय , प्रिय जनों के वियोग का भय आदि | यह सब भय मनुष्य के मस्तिष्क में नकारात्मक भाव प्रकट करते हैं और मनुष्य नकारात्मक विचार करने लगता है | जबकि जीवन में आगे बढ़ने के लिए मनुष्य का सकारात्मक होना बहुत आवश्यक है परंतु मनुष्य जीवन भर किसी न किसी भय से ग्रसित ही रहता है जिसके कारण वह परिस्थितियों का सामना नहीं कर पाता | परिस्थितियों का भली प्रकार सामना वही कर पाते हैं जो निर्भय एवं निश्चिंत होते हैं | इतिहास साक्षी है कि आज तक जितने भी महापुरुष हुए हैं उन सभी में निर्भयता का गुण कूट-कूट कर भरा था | यह अकाट्य सत्य है कि जो व्यक्ति जितना निर्भय होता है वह उसी मात्रा में महान पथ पर अग्रसर हो पाता है क्योंकि निर्भयता ही जीवंत आत्मा का प्रमाण है | मानव जीवन पाकर जिसने अपने आत्म तत्व को जान लिया , जिसने आत्मिक अविनाशी तत्व का आभास कर लिया वह पूर्णतया निर्भय हो जाता है | भयभीत वही होते हैं जो अपने आत्म तत्व से दूरी बनाए रखते हैं , जिन्हें अपने आत्मा के अस्तित्व का आभास ही नहीं होता है , वह अपने आत्मा के बल को समझ ही नहीं पाते और भौतिक परिस्थितियों व आंतरिक दुर्बल मन:स्थिति के कारण जीवन भर भयभीत ही बने रहते हैं | इसलिए मनुष्य को अपने आत्मबल को बढ़ाते हुए आत्म तत्व का ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास करते हुए स्वयं को निर्भय बनाने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि भयभीत मनुष्य इस जीवन में कुछ भी करने में सक्षम नहीं होता इसलिए निर्भय बनने का प्रयास अवश्य करना चाहिए और निर्भय वही हो सकता है जिसने स्वयं को शरीर न मान करके अपने आत्म तत्व को जान लिया है |*


*आज संपूर्ण विश्व में एक अद्भुत भय का परिदृश्य देखने को मिलता है | इस भय का एक कारण मनुष्य के हृदय में प्रकट होने वाली व्यर्थ की शंका भी है क्योंकि किसी भी प्रकार की शॉका जब मन में प्रवेश करती है तो सारा वातावरण संदेह पूर्ण बन जाता है और फिर मनुष्य को अपने चारों ओर वही दिखाई पड़ता है जिससे कि वह भयभीत होता है | यहीं पर मनुष्य यदि अपने मन से भय की भावनाओं को पूर्ण रूप से निष्कासित कर दे तो वह निर्भय होकर सुखी रह सकता है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि सदैव आनंदित रहने के लिए भी यह परम आवश्यक है कि मनुष्य का अंतः करण भय की कल्पना से सर्वथा मुक्त रहें क्योंकि जब तक मनुष्य को किसी भी प्रकार का भय रहेगा तब तक वह आनंदित रह ही नहीं सकता है | वस्तुतः भय का अस्तित्व अज्ञान में ही है | मनुष्य के अंत स्थल में तो एक आत्मज्योति जगमग करती रहती है फिर भी यदि वहां भ्रम , शंका , संदेह , चिंता और अनिष्ट प्रसंग उथल-पुथल मचायें तो विचार करना चाहिए कि हम कहां पर कमजोर हो रहे हैं क्योंकि जब मनुष्य आत्मिक रूप से निर्बल होता है तभी उसे किसी अनजान भय से भयभीत होना पड़ता है | इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपनी कायरता का त्याग करना चाहिए और मनुष्य की कायरता का त्याग तभी हो सकता है जब वह अपने आत्मबल को बढ़ाने का प्रयास करें | आत्मबल में वृद्धि सद्गुरु की शरण में रहकर सत्संग के माध्यम से ही हो सकती है अन्यथा मनुष्य जीवन में कभी भी निर्भय नहीं हो सकता | सत्संग के माध्यम से ही मनुष्य आत्मतत्व को जान सकता है और आत्मतत्व को जान लेने के बाद मनुष्य को कोई भय नहीं रह जाता | मनुष्य जब भय , चिंता और अवसाद से ग्रस्त होता है तो भयरूपी दलदल में वह फंसता चला जाता है जो कि उसके लिए मनोविकार बन जाता है ! और इन मनोविकार से बाहर निकलने का कोई मार्ग उसको नहीं सूझता | इन मनो विकारों से बचने का एवं निर्भय बनने का एकमात्र मार्ग है सत्संग का ! इसलिए प्रत्येक मनुष्य को नित्य सत्संग अवश्य करना चाहिए |*


*यदि इस देव दुर्लभ मानव शरीर पा करके आनंदित एवं निर्भय रहने की कामना है तो मनुष्य को आध्यात्म की शरण में आना ही पड़ेगा |*

अगला लेख: मानस रोग :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जनवरी 2021
*जब से इस धरा धाम पर सृष्टि का विस्तार हुआ तभी से यहां सनातन धर्म का प्रसार हुआ | सनातन का अर्थ ही होता है शाश्वत अर्थात जो आदिकाल से है | सनातन धर्म अपने आप में अद्भुत इसलिए है क्योंकि सनातन धर्म के महापुरुषों ने जिस ज्ञान - विज्ञान का प्रसाद इस धरा धाम पर किया उसका लाभ मानव आज तक ले रहा है | सनातन
19 जनवरी 2021
01 जनवरी 2021
*सनातन धर्म एवं उसकी मान्यताएं इतनी दिव्य रही हैं कि वर्ष का प्रत्येक दिन , महीना एवं वर्षारंभ सब कुछ प्रकृति के अनुसार मनाए जाने की परंपरा सनातन धर्म में देखी जा सकती है | जब प्रकृति अपना श्रृंगार कर रही होती है तब सनातन धर्म का नव वर्ष मनाया जाता है | बारह महीनों में चैत्र माह को मधुमास कहा गया है
01 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*जब से इस धरा धाम पर मनुष्य का सृजन हुआ है तब से लेकर आज तक अनेकों प्रकार के मनुष्य इस धरती पर आये और चले गये | वैसे तो ईश्वर ने मानव मात्र को एक जैसा शरीर दिया है परंतु मनुष्य अपनी बुद्धि विवेक के अनुसार जीवन यापन करता है | ईश्वर का बनाया हुआ यह संसार बड़ा ही अद्भुत एवं रहस्यम है | यहाँ मनुष्य के म
10 जनवरी 2021
02 जनवरी 2021
*मानव जीवन में मनुष्य एक क्षण भी कर्म किए बिना नहीं रह सकता है क्योंकि यह सृष्टि ही कर्म प्रधान है | मनुष्य को जीवन में सफलता एवं असफलता प्राप्त होती रहती है जहां सफलता में लोग प्रसन्नता व्यक्त करते हैं वही असफलता मिलने पर दुखी हो जाया करते हैं और वह कार्य पुनः करने के लिए जल्दी तैयार नहीं होते | जी
02 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*इस धरा धाम में आने के बाद मनुष्य स्वयं को समाज में प्रतिष्ठित करने के लिए अपने व्यक्तित्व का विकास करना प्रारंभ करता है , परंतु कभी-कभी वह दूसरों के व्यक्तित्व को देखकर उसका मूल्यांकन करने लगता है | यहीं पर वह छला जाता है | ऐसा मनुष्य इसलिए करता है क्योंकि दूसरों के जीवन में तांक - छांक करने की मनु
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*इस धरा धाम में आने के बाद मनुष्य स्वयं को समाज में प्रतिष्ठित करने के लिए अपने व्यक्तित्व का विकास करना प्रारंभ करता है , परंतु कभी-कभी वह दूसरों के व्यक्तित्व को देखकर उसका मूल्यांकन करने लगता है | यहीं पर वह छला जाता है | ऐसा मनुष्य इसलिए करता है क्योंकि दूसरों के जीवन में तांक - छांक करने की मनु
10 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
10 जनवरी 2021
*ईश्वर द्वारा बनाया गया यह संसार बहुत की रहस्यमय है ` इस संसार को अनेक उपमा दी गई हैं | किसी ने इसे पुष्प के समान माना है तो किसी ने संसार को ही स्वर्ग मान लिया है | वेदांत दर्शन में संसार को स्वप्नवत् कहा गया है तो गोस्वामी तुलसीदास जी इस संसार को एक प्रपंच मानते हैं | गौतम बुद्ध जी के दृष्टिकोण से
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*सृष्टि के आदिकाल से ही इस धराधाम पर सनातन धर्म की नींव पड़ी | तब से लेकर आज तक अनेकों धर्म , पंथ , सम्प्रदाय जो भी स्थापित हुए सबका मूल सनातन ही है | जहाँ अनेकों सम्प्रदाय समय समय बिखरते एवं मिट्टी में मिलते देखे गये हैं वहीं सनातन आज भी सबका मार्गदर्शन करता दिखाई पड़ता है | सनातन धर्म अक्षुण्ण इसल
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*जब से इस धरा धाम पर मनुष्य का सृजन हुआ है तब से लेकर आज तक अनेकों प्रकार के मनुष्य इस धरती पर आये और चले गये | वैसे तो ईश्वर ने मानव मात्र को एक जैसा शरीर दिया है परंतु मनुष्य अपनी बुद्धि विवेक के अनुसार जीवन यापन करता है | ईश्वर का बनाया हुआ यह संसार बड़ा ही अद्भुत एवं रहस्यम है | यहाँ मनुष्य के म
10 जनवरी 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x