साधना का दर्पण हैं वृक्ष :- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 जनवरी 2021   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (403 बार पढ़ा जा चुका है)

साधना का दर्पण हैं वृक्ष :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में प्रकृति का बहुत ही सराहनीय योगदान होता है | बिना प्रकृति के योगदान के इस धरती पर जीवन संभव ही नहीं है | यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाए तो प्रकृति का प्रत्येक कण मनुष्य के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत करता है | प्रकृति के इन्हीं अंगों में एक महत्वपूर्ण एवं विशेष घटक है वृक्ष | वृक्ष का मानव जीवन में क्या महत्व है इस को बताने की आवश्यकता नहीं है | दैनिक जीवन में मनुष्य इन वृक्षों से फल , फूल , पत्तियां , लकड़ी एवं छाया आदि प्राप्त करके अपना जीवन संचालित करता है | देखने में साधारण से लगने वाली ये वृक्ष साधारण नहीं हैं | इनको यदि गहनता से देखा जाय तो इसमें पूरा मानव जीवन दर्शन समाया हुआ है | आध्यात्मिक दृष्टि से देखने पर यह एक साधक की भांति ही दिखाई पड़ता है | यदि कोई साधक अपनी साधना में सफल होकर जीवन लाभ लेना चाहता है तो उसे एक वृक्ष का एवं उसके जीवन का मनन चिंतन अवश्य करना चाहिए | जिस प्रकार एक वृक्ष अकेला अपने जीवन पथ पर आगे बढ़ता है उसे किसी के सहयोग की आशा और अपेक्षा नहीं रहती उसी प्रकार एक साधक भी किसी से कोई आशा न रखकर मात्र प्रकृति एवं परमेश्वर के संसर्ग की चाह रखता है तथा उन्हीं से सतत पोषण प्राप्त करता है | जिस प्रकार वृक्ष अपने लिए कुछ भी नहीं करता उसका जीवन दूसरों के लिए ही होता है उसके फूल , फल , पत्ते , टहनियां , बीज , तनी , जड़ , छाया , शीतलता , हरियाली और सुंदरता सब दूसरे के ही काम आती है ठीक उसी प्रकार एक साधक भी साधना की ओर उन्मुख होकप राग , द्वेष से निरपेक्ष अस्तित्व के परम सत्य की ओर बढ़ते हुए अपनी मूल प्रकृति में विकसित होता है तथा वृक्ष की भांति एक वरदान बनकर जीता है और पूर्ण विकसित हो जाने पर उसके अंतर में दया , करुणा एवं संवेदना का एक सागर प्रवाहित होने वाली लगता है जो प्राणी मात्र के कल्याण की चाहत से आप्लावित रहता है | इसलिए प्रत्येक साधक को वृक्ष की भांति किसी से कोई अपेक्षा न रखते हुए नित्य अपने साधना पथ पर अग्रसर रहना चाहिए क्योंकि साधक की साधना लोक कल्याण के लिए ही होती है किसी से कोई अपेक्षा रखने वाला कभी कोई साधना नहीं कर सकता क्योंकि अपेक्षाये पूरी न होने पर वह निराश होकप साधनापथ से अलग हट जाता है |*


*आज अनेकों युवा साधना पथ के पथिक बन रहे हैं या बनने की चाह रखते हैं परंतु उनको यह नहीं समझ में आता कि वे किससे मार्गदर्शन प्राप्त करें | बिना मार्गदर्शन के वे स्वयं को निर्बल एवं असहाय पाते हैं | साधक के मन में कभी निर्बलता का भाव नहीं आना चाहिए यदि उसे किसी से यथेष्ट मार्गदर्शन नहीं प्राप्त हो पा रहा है तो उसे दुखी न होकर प्रकृति से मार्गदर्शन लेने का प्रयास करना चाहिए | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा कि इस धरा धाम पर अनेकों वृक्ष है कुछ एक वृक्षों की सेवा हो सकता है कि माली करता हो परंतु अनगिनत वृक्ष ऐसे भी हैं जो स्वयं इस धरा धाम पर प्रकट होते हैं और बिना किसी देखरेख के फल - फूल कर प्रकृति का सहयोग करने लगते हैं | पूर्णता को प्राप्त होने के बाद एक वृक्ष जीवो का कल्याण ही करता है , उसी प्रकार साधक को भी बिना किसी सहायता के प्रकृति एवं परमात्मा का संसर्ग प्राप्त करने का प्रयास करते हुए लोक कल्याण के लिए अपनी साधना को सफल करने का प्रयास करना चाहिए | वृक्ष का जीवन एवं उनके अंग उपांग स्वयं में अनेकों रहस्य समेटे हुए रहते हैं आवश्यकता है इनको गहनता से अध्ययन करने की | यदि ध्यानपूर्वक देखा जाय तो वृक्ष के तने जीवन का प्रत्यक्ष स्थूल स्वरूप होते हैं जिनमें भौतिक जीवन के निर्वाह के लिए उपयुक्त भोजन एवं लकड़ी आदि मिलती है ! उनकी जड़ें अदृश्य , रहस्यमय , अवचेतन अस्तित्व के रूप में देखी जा सकती है जो सपनों से लेकर जीवन के सूक्ष्मतम रहस्यमय स्थिति के लिए जिम्मेदार होते हैं | वृक्ष की पत्तियाँ वाह्य आच्छादन एवं आकाश की ओर उन्मुख टहनियां ईश्वरोन्मुख जीवन की तरह होती है | इस प्रकार वृक्ष को माध्यम बना करके उनसे सीख लेते हुए परम सत्य का चिंतन एवं मनन करते रहना चाहिए | यदि एक साधक अपना आदर्श एक वृक्ष को मानकर उसके सम्पूर्ण जीवन दर्शन का अध्ययन करते हुए उसी की भाँति परहित के लिए साधना करना प्रारम्भ कर दे तो वह कभी भी असफल नहीं हो सकता |*


*वृक्षों का मानव से गहरा सम्बन्ध है इसीलिए सनातन धर्म वृक्षों की पूजा करने का निर्देश देते हुए उनसे सीख भी लेने की प्रेरणा कथाओंके माध्यम से देता रहा है |*

अगला लेख: मानस रोग :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन बड़ा ही रहस्यमय है | इस जीवन में दो चीजे मनुष्य को प्रभावित करती हैं पहला स्वार्थ और दूसरा परमार्थ | जहाँ स्वार्थ का मतलब हुआ स्व + अर्थ अर्थात स्वयं का हित , वहीं परमार्थ का मतलब हुआ परम + अर्थ अर्थात परमअर्थ | परमअर्थ के विषय में हमारे मनीषी बताते हैं कि जो आत्मा के हितार्थ , आत्मा के आ
28 दिसम्बर 2020
19 जनवरी 2021
*जब से इस धरा धाम पर सृष्टि का विस्तार हुआ तभी से यहां सनातन धर्म का प्रसार हुआ | सनातन का अर्थ ही होता है शाश्वत अर्थात जो आदिकाल से है | सनातन धर्म अपने आप में अद्भुत इसलिए है क्योंकि सनातन धर्म के महापुरुषों ने जिस ज्ञान - विज्ञान का प्रसाद इस धरा धाम पर किया उसका लाभ मानव आज तक ले रहा है | सनातन
19 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*इस धरा धाम में आने के बाद मनुष्य स्वयं को समाज में प्रतिष्ठित करने के लिए अपने व्यक्तित्व का विकास करना प्रारंभ करता है , परंतु कभी-कभी वह दूसरों के व्यक्तित्व को देखकर उसका मूल्यांकन करने लगता है | यहीं पर वह छला जाता है | ऐसा मनुष्य इसलिए करता है क्योंकि दूसरों के जीवन में तांक - छांक करने की मनु
10 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन अत्यनेत दुर्लभ है , इस सुंदर शरीर तो पाकरके मनुष्य के लिए कुछ भी करना असम्भव नहीं है | किसी भी कार्य में सफलता का सफल सूत्र है निरंतर अभ्यास | प्राय: लोग शिकायत करते हैं कि मन तो बहुत होता है कि सतसंग करें , सदाचरण करें परंतु मन उचट जाता है | ऐसे लोगों को स
28 दिसम्बर 2020
15 जनवरी 2021
*इस संसार में आने के बाद मनुष्य जीवन भर विभिन्न प्रकार की संपदाओं का संचय किया करता है | यह भौतिक संपदायें मनुष्य को भौतिक सुख तो प्रदान कर सकती हैं परंतु शायद वह सम्मान ना दिला पायें जो कि इस संसार से जामे के बाद भी मिलता रहता है | यह चमत्कार तभी हो सकता है जब मनुष्य का चरित्र श्रेष्ठ होता है , क्
15 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन अत्यनेत दुर्लभ है , इस सुंदर शरीर तो पाकरके मनुष्य के लिए कुछ भी करना असम्भव नहीं है | किसी भी कार्य में सफलता का सफल सूत्र है निरंतर अभ्यास | प्राय: लोग शिकायत करते हैं कि मन तो बहुत होता है कि सतसंग करें , सदाचरण करें परंतु मन उचट जाता है | ऐसे लोगों को स
28 दिसम्बर 2020
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है , यह जीवन जितना ही सुखी एवं संपन्न दिखाई पड़ता है उससे कहीं अधिक इस जीवन में मनुष्य अनेक प्रकार के भय एवं चिंताओं से घिरा रहता है | जैसे :- स्वास्थ्य हानि की चिंता व भय , धन समाप्ति का भय , प्रिय जनों के वियोग का भय आदि | यह सब भय मनुष्य के मस्तिष्क में नकारात्मक भाव प्र
10 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन बड़ा ही रहस्यमय है | इस जीवन में दो चीजे मनुष्य को प्रभावित करती हैं पहला स्वार्थ और दूसरा परमार्थ | जहाँ स्वार्थ का मतलब हुआ स्व + अर्थ अर्थात स्वयं का हित , वहीं परमार्थ का मतलब हुआ परम + अर्थ अर्थात परमअर्थ | परमअर्थ के विषय में हमारे मनीषी बताते हैं कि जो आत्मा के हितार्थ , आत्मा के आ
28 दिसम्बर 2020
02 जनवरी 2021
*मानव जीवन में मनुष्य एक क्षण भी कर्म किए बिना नहीं रह सकता है क्योंकि यह सृष्टि ही कर्म प्रधान है | मनुष्य को जीवन में सफलता एवं असफलता प्राप्त होती रहती है जहां सफलता में लोग प्रसन्नता व्यक्त करते हैं वही असफलता मिलने पर दुखी हो जाया करते हैं और वह कार्य पुनः करने के लिए जल्दी तैयार नहीं होते | जी
02 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
02 जनवरी 2021
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना करके मनुष्य को धरती पर भेजा , सुंदर शरीर के साथ सुंदर एवं तर्कशील बुद्धि प्रदान कर दी परंतु मनुष्य इस संसार में आकर के तरह-तरह के आडंबर (छद्मवेष) करता है | अपने वास्तविक स्वरूप का त्याग करके आडंबर बनाकर समाज के साथ छल करता है | वह शायद नहीं जानता कि आडंबर
02 जनवरी 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x