असीम उर्जाकोष मन

19 फरवरी 2021   |  chander prabha sood   (400 बार पढ़ा जा चुका है)

असीम ऊर्जाकोष मन

मनुष्य यदि अपने अन्तस में झाँककर देख सके और अपनी असीम शक्तियों को पहचानकर उनका भरपूर लाभ उठा सके, तो अपने किसी भी सपने को पूरा करने से उसे कोई नहीं रोक सकता।
          इसका कारण है कि मानव मन को ईश्वर ने असीम ऊर्जाकोष का उपहार दिया है। प्रत्येक मनुष्य में इतनी सामर्थ्य होती है कि वह जो भी चाहे हाथ बढ़ाकर पा सकता है। उसके लिए कुछ भी असम्भव दुःख इस बात का है कि उसे अपनी इन विशिष्ट शक्तियों पर विश्वास ही नहीं होता।
      अपनी स्वयं की शक्तियों को ढूँढने के लिए मनुष्य को पर्वतों, गुफाओं, जंगलों, तीर्थ स्थानों में जाकर भटकने की कोई आवश्यकता नहीं होती। उसे तथाकथित गुरुओं और तान्त्रिकों-मान्त्रिकों के पास जाकर माथा रगड़ने की भी जरूरत नहीं होती। फिर भी वह कस्तूरी मृग की तरह स्थान-स्थान पर भटकता हुआ वह इन शक्तियों को ढूँढता फिरता है।
        ये सारी शक्तियाँ उसे आपने भीतर ही मिल सकती हैं। एकान्त में बैठकर, मनन करते हुए उसे अपने अन्तस में ही तलाश करनी चाहिए। तभी वह अपनी शक्तियों को पहचान सकता है और उन्हें और अधिक निखार सकता है। 
          एक बोधकथा कहीं पढ़ी थी कि किसी समय देवताओं में परस्पर विवाद हुआ कि मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाली गुप्त चमत्कारी शक्तियों को कहाँ छुपाया जाए। सभी देवता इस पर अपना-अपना मत रख रहे थे। एक देवता ने सुझाव दिया, "इन शक्तियों को जंगल की किसी एक गुफा में छिपाकर रख देते हैं।"
        दूसरे देवता ने उसका विरोध करते हुए कहा, "इन्हें पर्वत की चोटी पर छिपा देते हैं।"
उस देवता की बात अभी पूरी भी नहीं हुई थी अन्य तीसरे देवता ने कहा, "इन्हें समुद्र की गहराइयों में छिपाकर रख देते हैं। यह स्थान इसके लिए सबसे उपयुक्त रहेगा और मानव की पहुँच से दूर भी रहेगा।"
          इस प्रकार सबने अपना-अपना मत रखा। अन्त में एक बुद्धिमान देवता ने बड़ा अच्छा उपाय बताते हुए कहा, "मानव की चमत्कारिक शक्तियों को मानव-मन की गहराइयों में ही छिपा देते हैं। बचपन से ही मनुष्य का मन इधर-उधर दौड़ता रहता है। उसे कभी कल्पना भी नहीं होगी कि इतनी अदभुत और विलक्षण शक्तियाँ उसके अपने अंतस में छिपी हो सकती हैं।"
        "मानव बाह्य जगत में इन शक्तियों को ढूँढता रहेगा, भटकता रहेगा, पर अपने मन में झाँककर इन्हें नहीं देखेगा। इन बहुमूल्य शक्तियों को यदि उसके मन की निचली सतह में छिपा दिया जाए तो केवल वही उन्हें पा सकेगा, जो वास्तव में अपने मन को साधेगा।"
          सभी देवताओं को यह विचार बहुत पसन्द आया और फिर मनुष्य के मन में ही इन चमत्कारी शक्तियों का भण्डार छिपा दिया गया। इसीलिए मानव के अपने मन में ही अद्भुत असीम शक्तियाँ निहित हैं, जिन्हें उसे स्वयं ही खोजना होता है।
        बिल्ली की तरह हथेलियों से आँखें बन्द कर लेने से केवल अंधकार ही दिखाई देता है। इसे दूर करने के लिए मनुष्य को अपने मन को साधना होता है जो असाध्य नहीं है।
        जब तक मनुष्य अपने ही मन में विद्यमान अहंकार, ईर्ष्या, द्वेष, लोभ, मोह, क्रोध आदि दुर्गुणों को दूर नहीं करता, तब तक उसका मन शुद्ध और पवित्र नहीं हो सकता। इस कारण उसका मन मन्दिर नहीं बन सकता। उसे न तो सिद्धियाँ प्राप्त हो सकती हैं और न ही वह ईश्वर की स्थापना वहाँ कर सकता है।
        जितना वह अपनी शक्तियों को पहचानता जाता है, उतनी ही सरलता से अपनी आध्यात्मिक उन्नति करता जाता है। उस परमपिता परमात्मा के और अधिक करीब आ जाता है।
        इस संसार में रहते हुए जीवन रूपी रथ को चलाने के लिए इस मन को साधकर, अपनी इन शक्तियों का सदुपयोग करते हुए मनुष्य इहलोक और परलोक सुधार सकता है। जन्म-मरण के बन्धनों से मुक्त होकर मालिक का प्रिय बन सकता है। चन्द्र प्रभा सूद

अगला लेख: डिप्रेशन या अवसाद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 फरवरी 2021
मनुष्य को उपहारआश्चर्य की बात है कि बहुत-से ऐसे गुण हैं, जो ईश्वर की ओर से हमें उपहार स्वरूप अर्थात् नि:शुल्क मिलते हैं जिनके विषय में हम जानकर भी अनजान बने रहना चाहते हैं। इस संसार में रहने वाले हम मनुष्य ऐसे कृतघ्न हैं, जो सदा उनकी अवहेलना करते हैं, उन्हें अपने जीवन में उतारना ही नहीं चाहते। यदि उ
02 फरवरी 2021
31 जनवरी 2021
मा
माँ के रूप में ईश्वर की उपासनापरमपिता परमात्मा की उपासना हर व्यक्ति अपनी तरह से करता है। मेरा यह मानना है कि ईश्वर के किसी रूप की उपासना यदि माँ के रूप में की जाए, तो अधिक उपयुक्त होगा। माँ से बढ़कर और कौन है जो सन्तान के विषय में उससे अधिक भली-भाँति समझता है। इसलिए यदि मनुष्य परमेश्वर से अपनी निकटता
31 जनवरी 2021
28 जनवरी 2021
  सन्तान से हारनाप्रत्येक मनुष्य में इतनी सामर्थ्य होती है कि वह सम्पूर्ण जगत को जीत सकता है। सारे संसार पर आसानी से अपनी धाक जमा सकने वाला मजबूत इन्सान भी अपनी औलाद से हार जाता है। उसके समक्ष वह बेबस हो जाता है।           यहाँ प्रश्न यह उठता है कि सर्वसमर्थ होते हुए भी आखिर मनुष्य अपनी सन्तान के स
28 जनवरी 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x