अपने लिए समय निकालें

20 फरवरी 2021   |  chander prabha sood   (420 बार पढ़ा जा चुका है)

अपने लिए समय निकालें

आज की व्यस्त दिनचर्या में से अपने लिए थोड़ा-सा समय निकाल पाना सबसे कठिन कार्य लगता है। चाहे कार्यक्षेत्र की थकान की अधिकता हो अथवा कोई छोटी-मोटी बिमारी, उन सबको नजरअंदाज करते हुए मनुष्य बस जुटा रहता है। उसके पास आराम करने का समय ही नहीं होता।
          मनुष्य अपने दायित्वों को निभाने के लिए कोल्हू के बैल की तरह दिन-रात खटता रहता है। और वे दायित्व हैं कि सुरसा की तरह मुँह फैलाए बढ़ते ही जाते हैं और उसे चैन नहीं लेने देते।
        हर मनुष्य अपने घर और दफ्तर के कार्यों में इतना अधिक उलझा रहता है कि वह अपने सामाजिक, पारिवारिक, धार्मिक दायित्वों के निर्वहण करने में पिछड़ता जा रहा है। इस तरह वह सबसे कटता हुआ बस अकेला होता जा रहा है।
          कंक्रीट के जंगलों में रहता हुआ मशीन बनता जा रहा मानव मानो संवेदना शून्य हो रहा है। घर के पड़ोस में क्या हो रहा है, इससे अनजान रहने लगा है। देश-दुनिया की तो चर्चा करना ही व्यर्थ है।
          आज के भौतिक युग में हर इन्सान को आराम की हर उस वस्तु की कामना रहती है जो बाजार में उपलब्ध है या उसके पड़ोसी अथवा उसके भाई-बन्धुओं के पास है। वह किसी से हीन कहलाना पसन्द नहीं करता। आयुपर्यन्त वह रेस में दौड़ता रहता है, पर हारना नहीं चाहता।
            इसलिए एक के बाद एक नई और मँहगी चीजों को खरीदने की होड़ उसे बेचैन करती रहती है। इसी तरह दूसरों की देखादेखी होड़ करते हुए बच्चों को अच्छे और मँहगे स्कूलों में शिक्षा दिलाना, मोटी रकम देकर ट्यूशन के लिए भेजना भी एक फैशन-सा बनता जा रहा है।
          इन सब चक्करों में अधिक और अधिक कमाने की जिद उसके दिलो-दिमाग पर हावी होती जा रही है। इसलिए भी उसे अपनी सामर्थ्य से अधिक धन जुटाने के लिए हाड़तोड़ श्रम करना पड़ता है।
          यह अनथक परिश्रम उसके लिए बिमारियों की सौगात लेकर आ रहा है। ये बिमारियाँ मनुष्य के शरीर को अपना घर बनाती जा रही हैँ। वे हैं- बी पी, शूगर, हार्ट अटैक कलस्ट्रोल, मोटापा आदि की समस्याएँ। तब न चाहते हुए भी डाक्टरों के चक्कर लगाने पड़ते हैं।
          फिर यहाँ भी स्टेटस आड़े आ जाता है। इलाज भी मँहगे अस्पतालों में करवाना होता है, जहाँ जाकर उसे बहुत-सा धन और समय को व्यय करना पड़ता है।
          इन सब परिस्थितियों के कारण मनुष्य को मानसिक तनाव झेलना पड़ता है। वह दवा की गोलियाँ खाता रहता है और अपना काम करता रहता है। इसका एक ही कारण है कि उसके पास सिर खुजाने के लिए भी बिल्कुल समय नहीं है।
          जिस शरीर की बदौलत मनुष्य सारे क्रिया-कलाप करता है, उसी के प्रति बहुत अधिक लापरवाही बरतता रहता है। जिन्दगी की भागमभाग में वह भूल जाता है कि यदि एक बार इस शरीर ने साथ देने से इन्कार कर दिया तो सारे कामकाज धरे रह जाएँगे।
          मनुष्य को चाहिए कि वह थोड़ा-सा समय अपने और अपने परिवार के लिए निकाले। ऐसा नहीं होना चाहिए कि वह घर से जाए तो बच्चे सो रहे हों और जब रात को वापिस लौटे तो भी बच्चे सो गए हों। ऐसी स्थिति में वह घर न रहकर एक सराय बन जाता है जहाँ आकर रात बिताई और सवेरे उठते ही अगली यात्रा के लिए तैयार हो गए।
          वीक एंड में परिवार को समय देना चाहिए जो बच्चों के समुचित विकास के लिए आवश्यक है। कभी-कभी उनके साथ मनचाहे स्थानों की यात्रा के लिए भी जाना चाहिए। केवल पैसा कमाने की मशीन बनने से बचना चाहिए।
          हो सके तो मानसिक तनाव कम करने के लिए ध्यान लगाएँ, योगासन करें। ईश्वर की उपासना करनी चाहिए, इससे आत्मिक बल बढ़ता है। बच्चों के साथ गपशप लगाते हुए समय व्यतीत करें। इससे बच्चे भी खुश रहते हैं और अपना मन भी प्रसन्न रहता है। इन्सान सारी कटुताओं से परे रहकर तरोताजा हो जाता है।
चन्द्र प्रभा सूद

अगला लेख: डिप्रेशन या अवसाद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 फरवरी 2021
जन्म-मृत्यु के दो पाटों में जीवनयह संसार चक्की के दो पाटों की भाँति निरन्तर चलायमान है। इसका एक पाट जन्म है और दूसरा पाट मृत्यु है। इस जन्म और मृत्यु के दोनों पाटों में जीव आजन्म पिसता रहता है। इस क्षणभंगुर संसार में जन्म और मृत्यु के दो पाटों में पिसते हुए मनुष्य का विनाश निश्चित है। अतः इस असार सं
09 फरवरी 2021
04 फरवरी 2021
प्
प्रैशर से खो रहा बचपनछोटे-छोटे बच्चों पर भी आज प्रैशर बहुत बढ़ता जा रहा है। उनका बचपन तो मानो खो सा गया है। जिस आयु में उन्हें घर-परिवार के लाड-प्यार की आवश्यकता होती है, जो समय उनके मान-मुनव्वल करने का होता है, उस आयु में उन्हें स्कूल में धकेल दिया जाता है। अपने आसपास देखते हैं कि इसलिए कुकु
04 फरवरी 2021
05 फरवरी 2021
ना
नामी स्कूलों का मोहसब माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे किसी नामी स्कूल में पढ़कर अपना जीवन संवार लें और बड़ा आदमी बन सकें। अपनी तरफ से वे हर सम्भव प्रयास भी करते हैं। स्कूल में दी जाने वाली मोटी फीस आदि का प्रबन्ध करते हैं। इस तथ्य को हम झुठला नहीं सकते कि पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाले सभी बच्चे होशियार
05 फरवरी 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x